ये बन सकते है आज के 7 बेस्ट बिजनेस आइडिया

अगर आप अपनी पढ़ाई कंप्लीट करने के बाद अपना बिजनेस करना चाहते है और लोगों को भी रोजगार देना चाहते हैं तो हम आपको बता रहे हैं कुछ एेसे ही बिजनेस के बारे में जिन्हें अाप छोटे लेवल से शुरु करके बहुत अागे जा  सकते हैं। इनमें से कई पर सरकार भी लोन दे रही है। छोटी रकम से शुरू हो सकते हैं ये बिजनेस

पार्टी मैनेजमेंट बिजनेस  

पार्टी मैनेजमेंट बिजनेस को आप छोटी पूंजी में शुरू कर सकते हैं। इसके लिए आपके पास एक छोटा ऑफिस काफी है। ऐसा इसलिए है कि यह बिजनेस कॉन्टैक्ट पर डिपेंड करता है। इसके लिए आपको बैंक्वेट हॉल, होटल, रेस्टोरेंट से जुड़े लोगों के साथ कांटैक्ट डेवलप करना होगा। साथ ही कस्टमर को भी अपने बारे में बताना होगा। जिसके लिए सोशल मीडिया को प्रमुख जरिया बना सकते हैं। इसकी शुरुआत  आप घर से भी कर सकते हैं।

रेडीमेड गारमेंट का बिजनेस 

रेडीमेड गारमेंट के बिजनेस में बहुत स्‍कोप है। अगर आपके पास 80 हजार रुपए हैं तो आप बाकी पैसा मुद्रा स्कीम से लोन के चलते मिल सकता है। इस स्कीम में 1 लाख 10 हजार रुपए टर्म लोन और 2 लाख 25 हजार रुपए वर्किंग कैपिटल लोन के तौर पर मिल सकता है। इन पैसों से आप 6 मशीनें, 6 मोटर और एक ओवरलॉक मशीन ले सकते हैं। इसके अलावा वर्किंग टेबल, कटिंग टेबल, फाइबर स्टूल, स्टील अलमारी, स्टील रेक, आयरन बॉक्स पर लगभग 50 हजार रुपए खर्च होंगे। बिजनेस सेट होने के बाद सालाना लगभग 5 लाख रुपए से ज्यादा का प्रॉफिट हो सकता है।

फूड सर्विस बिजनेस

अगर अाप की खाना बनाने में  रुचि है तो  आप इस बिजनेस में अच्छी तरह सैटल हो सकते हैं। रेडी टू ईट और फास्‍ट फूड की बढ़ती डिमांड ने मोबाइल फूड सर्विस के क्षेत्र में भी कारोबार की संभावना बढ़ा दी है। टेस्‍टी फूड ऑन डिमांड की वजह से वैन फूड सर्विस भी एक बेहतरीन बिजनेस आइडिया में से एक है, जिसे आप चलती-फिरती फूड सर्विस यानी मोबाइल वैन के जरिए लोगों को खाना  उपलब्ध करा सकते हैं।

पैकर्स एंड मूवर्स का बिजनेस

मेट्रो शहरों में जॉब करने वाले एक जगह से दूसरी जगह और एक शहर से दूसरे शहर अपने समान को जॉब चेंज होने या ट्रांसफर  होने पर ले जाते हैं। ऐसे लोग घर का समान खुद से पैक करने की बजाय इस काम के लिए पैसा देने को तैयार रहते हैं। ऐसे में पैकर्स एंड मूर्वस का बिजनेस भी एक बेहतरीन बिजनेस है। इसके लिए आपके पास विशेष तौर पर स्‍कील्‍ड लेबर की जरूरत होगी।

बेकरी का बिजनेस

 इस बिजनेस के लिए आपके पास 85 हजार रुपए होना चाहिए। बाकी रकम मु्द्रा स्कीम से मिल जाएगी। स्कीम से लगभग 2 लाख 95 हजार रुपए का टर्म लोन और एक लाख 50 हजार रुपए का वर्किंग कैपिटल लोन ले सकते हैं। इससे किसी शहर में बेकरी प्रोडक्‍ट्स बनाने का काम शुरू कर सकते हैं। बिजनेस में आप अपना सारा खर्च निकाल कर लगभग 4 लाख रुपए सालाना बचा सकते हैं।

सेनेटरी, नैपकिन का बिजनेस

आपके पास 15 हजार रुपए हैं तो आप सेनेटरी नैपकिन बनाने की यूनिट शुरू कर सकते हैं। इस प्रोजेक्‍ट पर आपका लगभग 1 लाख 50 हजार रुपए का इंवेस्‍टमेंट होगा। जिसमें 1 लाख 35 हजार रुपए आपको मुद्रा स्कीम के तहत लोन मिल जाएगा। मुद्रा स्कीम के तहत आप फिक्‍सड कैपिटल लोन के रूप में 73 हजार रुपए और वर्किंग कैपिटल लोन के तौर पर 57 हजार रुपए के लोन के लिए अप्‍लाई कर सकते हैं। इस बिजनेस में सभी खर्चे निकालकर साल के 1 लाख 80 हजार रुपए बचा सकते हैं।

वीडियो कॉन्फ्रेंस फै‍सलिटिज

बहुत सारे छोटे बिजनेसमैन के पास वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग और बोर्ड रूम की सुविधा आमतौर पर नहीं होती है। ऐसे में बोर्ड रूम और वीडियो कॉन्फ्रेंस सर्विस प्रोवाइडर का बिजनेस शुरू कर सकते हैं। इसके तहत आपके पास छोटा ऑफिस स्पेस और वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से जुड़े इक्वीपमेंट्स होने चाहिए। जिनके जरिए यह सर्विस रेंटल बेसिस पर शुरू कर सकते हैं।

आ गया पोर्टेबल गैस स्टोव,अब घर के बाहर कहीं भी बनायें खाना

जब हम कहीं घूमने जाते है जा फिर किसी दूसरी जगह पर रहने के लिए जाते है तो सबसे बड़ी प्रॉब्लम खाने की होती है क्योंकि बाहर का खाना खाने से सेहत बिगाड़ने के साथ साथ पैसे भी बहुत खर्च होते है ।

ऐसे में आ गया है यह पोर्टेबल ब्यूटेन गैस स्टोव (Portable Butane Gas Stove) । इस स्टोव का फ़ायदा यह है की इसको आप कहीं भी लेकर जा सकते है इसका वजन सिर्फ 2 किल्लो के करीब है।इसके साथ एक सूटकेस भी आता है जिसके साथ इसको कहीं भी लेकर जाना और भी आसान हो जाता है ।

 

इसके साथ एक 250 ग्राम का ब्यूटेन गैस का सिलेंडर आता है जिसका वजन सिर्फ 250 ग्राम होता है छोटे से इस ब्यूटेन गैस के सिलेंडर के साथ आप ढाई घंटे तक लगातार खाना बना सकते है । इस छोटे से सिलेंडर की कीमत सिर्फ 150 रुपये है एक बार ख़तम हो जाने के बाद इसको फेंक सकते है और दूसरा ब्यूटेन गैस का सिलेंडर डाल सकते है । इसके साथ आप एलपीजी वाला सिलेंडर भी जोड़ सकते है ।

अगर आप इसको खरीदना चाहते है ऐमज़ॉन से ख़रीद सकते है ज्यादा जानकारी के लिए निचे दिए हुए लिंक पर क्लिक कर सकते है ।
https://www.amazon.in/Hans-Portable-stove-butane-

इसकी कीमत  2600 रुपये के करीब है । इसके इलावा भी और बहुत सी जगह है जहाँ से आप यह खरीद सकते है ज्यादा जानकारी के लिए गूगल पर सर्च कर सकते है।

नोट: हमारा मकसद सिर्फ नए प्रोडक्ट की जानकारी देना है कोई भी प्रोडक्ट खरीदने से पहले अपनी तसल्ली जरूर करें ।

यह स्टोव कैसे काम करता है उसके लिए वीडियो भी देखें

अब चलते-फिरते Google से कमाएं 3000 रु महीना ,यह है तरीका

गूगल सर्च इंजन से अभी तक आपने ढ़ेर सारी जानकारियां सर्च की होंगी लेकिन अब आप इसके जरिए पैसे भी कमा सकते हैं. तीन ऐसे तरीके हैं जिनके जरिए आप गूगल से जुड़ कर चलते-फिरते पैसे कमा सकते हैं.

पहला तरीका-गूगल ने जुलाई में भारत में गूगल ओपीनियन रिवॉर्ड्स लॉन्च किया है. इसमें कुछ सर्वे के आपको अपनी राय देनी होती है जिसके बदले आपको प्रति सर्वे 10 रुपये मिलते हैं. सोचिए यदि आप रोज 10 सर्वे करते हैं, तो आप एक महीने में 3000 रुपये की इनकम कर सकते हैं.

ये पैसे आपके एकाउंट में क्रेडिट हो जाते हैं जिसका यूज आप गूगल प्ले स्टोर से गेम, म्यूजिक सहित कई ऐप खरीदने के लिए कर सकते हैं. इस ऐप को आप गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड कर सकते हैं.

दूसरा तरीका-स्‍क्रीनवाइज मीडिया पैनल नाम का ऐप है. इस ऐप को डाउनलोड करने पर आपको पैसे मिलेंगे. इसके लिए आपको सिर्फ यह ऐप अपने फोन में रखना है. इस पर साइनअप करने के लिए आपको 300 रुपये मिलेंगे. इसमें हर महीने 10-10 रुपये बढ़ाए जाएंगे.

 

क्या काम करता है ऐप

दरअसल इस ऐप के जरिये गूगल ये ट्रैक करता है कि आप किन साइट्स पर जा रहे हैं और क्या सर्च कर रहे हैं. अगर आपको ये जानकारी गूगल से साझा करने में दिक्कत नहीं है, तो इस ऐप से आप पैसे कमा सकते हैं. इस ऐप को यूज करने से आपके एकाउंट में जो पैसे आएंगे इन्हें गूगल आपको कैशमिंत्रा, शॉपर्स स्टॉप और लाइफस्टाइल के कूपन के तौर पर देता है. इनका इस्तेमाल आप शॉपिंग करने के लिए कर सकते हैं.

तीसरा तरीका-इस तरीके में आप गूगल मैप्स पर फोटो अपलोड कर पैसे कमा सकते हैं. गूगल मैप्स गाइड के जरिये आपको ‘गूगल मैप्‍स’पर कुछ सवालों का जवाब देना होता है. इसके अलावा दूसरों को गाइड करने के लिए आप मार्केट प्लेस के फोटो और रिव्यू भी अपलोड कर सकते हैं. दरअसल इससे गूगल मैप्स पर सर्च करने वाले दूसरे लोगों को मदद मिलती है. नए प्रॉडक्ट को सार्वजनिक तौर लॉन्च करने से पहले आपको एक्सेस मिलेगी.

इसमें टॉप लोकल गाइड्स को ‘ओला सेलेक्‍ट एक्‍सेस’ कूपन भी दिया जाता है जिससे कि आप ओला की प्राइम कार को कम किराये में बुक कर सकते हैं. साथ ही आपको ओला एयरपोर्ट लाउंज एक्सेस भी मिल सकता है. इसके लिए वैसे आपको 539 रुपये चुकाने पड़ते हैं.

नए दौर में शुरू करे फ़ूड ट्रक का बिज़नेस,पहले साल में ही होगा प्रॉफिट

नए दौर में लाइफ में बदलाव के साथ लोगों की प्राथमिकताएं भी बदल गई हैं। जिंदगी में इसी बदलाव की वजह से नए बिजनेस आइडिया भी सामने आ रहे हैं। खास बात ये है कि इसमें से कुछ बिजनेस आइडिया नए दौर के कारोबारियों के लिए काफी फिट भी हैं। जो अपनी शर्तों पर काम करना चाहते हैं, फिक्स ऑफिस ऑवर से दूर रहते हैं और साथ ही चाहते हैं कि उनके काम को अपनी पहचान भी मिले। मैगजीन एंट्रप्रेन्योर के द्वारा नई पीढ़ी के लिए जारी बिजनेस आइडिया की लिस्ट में ऐसे कई बिजनेस आइडिया शामिल किए गए हैं । जिसमे से फ़ूड ट्रक बिज़नेस एक है

एंट्रप्रेन्योर मैगजीन के मुताबिक लोगों की आदतें बदलने का सबसे बड़ा असर उनकी फूड हैबिट्स पर पड़ा है। लोग हेल्दी खाना चाहते हैं लेकिन समय की कमी से भी जूझते हैं। इसी वजह से फूड ट्रक लगातार सफल हो रहे हैं। क्योंकि ये सीधे आपकी ऑफिस से सटी पार्किंग में भी स्वादिष्ट खाना ऑफर कर सकते हैं।फ़ूड ट्रक का एक फ़ायदा यह है के आप को किसी एक फिक्स जगह पर नहीं रुकना पड़ता । ग्राहक के हिसाब से अपनी स्थिति बदल सकते है मतलब यहाँ ग्राहक वहां आपका ट्रक ।


फूड ट्रक विदेशों में काफी पहले से चल रहा एक आम बिजनेस आइडिया है। हालांकि भारत में अब ये धीरे धीरे अपने कदम बढ़ा रहा है। मीडिया में छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक अमेरिका में कई फूड ट्रक सेलेब्रिटी का दर्जा पा चुके हैं और इन ट्रक के अपने पहले से तय जगह पर पहुंचने से काफी पहले इनके ग्राहक लाइन में खड़े रहते हैं।

ऐसे ही एक फूड ट्रक मिस चीजियस को शुरू करने वाले ब्रायंस मलिंस न केवल मीडिया में काफी मशहूर हैं साथ ही 2015 में अपने एक छोटे से ट्रक से शुरूआत करने के बाद फिलहाल वो 2 बड़े फूड ट्रक और दो रेस्टोरेंट के मालिक बन चुके हैं। साथ ही उनका फूड ट्रक अब एक कंपनी बन चुका है।

एंट्रप्रेन्योर के मुताबिक स्वाद, सर्विस और सफाई 3 फैक्टर पर खरे उतरने वाले फूड ट्रक साल भर में निवेश निकाल कर प्रॉफिट में आ जाते हैं। इसके लिए अगर आप अच्छा खाना बना लेते है तो आप को सिर्फ एक हेल्पर की जरूरत होगी । इसके इलावा आप आइस क्रीम और किसी ड्रिंक का भी फ़ूड ट्रक शुरू कर सकते है । शुरुआत एक पुराना ट्रक और मिनी ट्रक लेकर कर सकते है ।बहुत सारी कंपनी फाइनेंस से पर ट्रक खरीद सकते है ।

ट्रक के अंदर की सेटिंग्स आप अपने त्यार होने वाले फ़ूड के हिसाब से कर सकते है । इस लिए शुरआत में 2 -3 लाख में आप अपना बिज़नेस शुरू कर सकते है। बहुत सी जगह पर ट्रक से फ़ूड बेचने के लिए परमिशन लेनी पड़ती है लेकिन ज्यादातर शहरों में आप को कोई खास परमिशन की जरूरत नहीं पड़ती । अगर आप अपना ब्रांड नेम बनाने में सफल रहते है तो आप का बिज़नेस एक नई ऊंचाई पर पहुँच सकता है ।

बीस हज़ार से एक लाख तक शुरू करें यह 10 बिजनेस लाखों की होगी कमाई

आज कल हर कोई अपना अपनी नौकरी छोड़ कर अपना बिजनेस शुरु करना चाहता हैं । क्योंकि अब युवाओं की सोच बदल चुकी है । वह किसी कि नौकरी करने की अपेक्षा खुद रोजगार के अवसर पैदा करने की सोच रखते हैं । इसके इलावा बढ़ते स्टार्ट-अप्स और सस्ते होते लोन्स के कारण युवा बिजनेस के ओर काफी आकर्षित हो रहे हैं। सभी चाहते हैं कि वह अपनी खुद की कंपनी बनाएं।

लेकिन इतनी जानकारी होने के कारण में काफी लोगों को लगता है कि बिजनेस शुरू करने के लिए लाखों या करोड़ों रुपयों की जरूरत पड़ती है। ये महज एक गलतफहमी है।अगर अाप भी अपना बिजनेस शुरु करना चाहते है तो ,बस जरूरत है आइडिया की।

हम आपको बता रहे हैं कुछ एेसे बिजनेस के बारे में जिन्हें आप बहुत कम लागत से शुरु कर सकते हैं और लाखों रुपए कमा सकते हैं। इसके लिए आपको अपनी स्किल डेवलप करने की भी जरूरत नहीं पड़ेगी।

क्या करना होगा

आपको अपना बिजनेस शुरू करने से पहले आपको ये देखना होगा कि आपकी रुचि किस फील्ड में है। आप अपनी शौक को भी बिजनेस बना सकते हैं। बस ये देखना होगा कि बिजनेस शुरू करने में कितनी रकम लग रही है।

मोबाइल गैरेज सर्विस

शहरों में कारों की संख्या तेजी से बढ़ती जा रही है। ऐसे में कार ब्रेकडाउन की समस्या भी आम हो गई है। मोबाइल गैरेज सर्विस के लिए आपको एक वैन और एक अच्छा मैकेनिक अपने साथ रखना होगा। यह सुविधा आप ऐसे इलाकों में दे सकते हैं, जहां गैरेज उपलब्ध नहीं होते। अगर आप खुद यह काम जानते है तो सोने पर सुहागे वाली बात हो जाती है। अगर आप के पास वैन नहीं है तो मोटरसाइकिल पर भी यह काम शुरू कर सकते है । मोबाइल गैरेज के जरिए आप 2-3 हजार रुपए प्रतिदिन तक कमाई कर सकते है।

फोटोग्राफर

फोटोग्राफर बनने के लिए बस आपको एक कैमरे की जरूरत होगी। अपने आसपास से इसकी शुरूआत कर सकते हैं। लोगों के फैमिली फंक्शन, शादी, पार्टी में आप फोटोग्राफी सर्विस दे सकते हैं। किसी भी इवेंट को यादगार बनाने के लिए फोटोग्राफी जरुरत बन गई है। ऐसे में आप फोटोग्राफी के जरिए अच्छा पैसा कमा सकते हैं। इसमें कमाई आपकी काबिलियत और काम के आधार पर तय होती है।

ट्रांसलेशन सर्विसेज

आज दुनियाभर में कई ऐसी कंपनियां है जो ऑनलाइन ट्रांसलेशन का काम देती हैं। कुछ कंपनियां घंटे के हिसाब से भुगतान करती हैं, जबकि कुछ शब्दों के हिसाब से भुगतान करती हैं। अगर आपकी अंग्रेजी के साथ किसी दूसरी भाषा में पकड़ है तो आप अच्छी कमाई कर सकते हैं। गूगल अंग्रेजी से किसी दूसरी भाषा में ट्रांसलेट करने के 5-10 रुपए प्रति शब्द तक देता है, वहीं कई कंपनियां भी 5 रुपए प्रति शब्द तक का भुगतान करती हैं। काम पाने के लिए आप किसी ट्रांसलेशन वेबसाइट पर अपने आप को रजिस्टर्ड करवा सकते हैं।

आइस क्रीम पार्लर

आइस क्रीम पार्लर शुरू करने के लिए आपको ज्यादा निवेश की जरूरत नहीं है। इसके लिए आपको एक फ्रीजर खरीदना होगा जो 10 हजार रुपए में आ जाता है। पुराना आपको इससे भी कम में मिल जाएगा। अगर आप निवेश नहीं करना चाहते तो बड़ी आइसक्रीम कंपनियों की फ्रेंचाइजी भी ले सकते हैं। इनमें क्वालिटी वडीलाल जैसी बड़ी आइसक्रीम कंपनियां शामिल हैं। ये कंपनियां आइसक्रीम बिक्री का 10-20 फीसदी तक कमीशन के रुप में देती हैं।

मेडिकल टूर सर्विसेज

विदेशों की तुलना में भारत में इलाज कराना काफी आसान होता है। अमेरिका और यूरोपीय देशों से कई लोग भारत में इलाज कराने आते हैं। आप विदेशी टूरिस्ट को भारत में इलाज कराने की मेडिकल सेवाएं उपलब्ध करा सकते हैं। देश के कई बड़ी अस्पतालों में हर साल विदेश से लोग सर्जरी और दूसरी बीमारियों के इलाज कराने आते हैं।

सोशल मीडिया सर्विस

सोशल मीडिया की ताकत दिनो दिन बढ़ती जा रही है। आज हर छोटी-बड़ी कंपनियो का सोशल मीडिया पर पेज है, जिसे मैनेज करने के लिए सोशल मीडिया मैनेजर की जरूरत होती है। इसके लिए हर कंपनी अपने हिसाब से भुगतान करती है। इस काम के लिए आपको सोशल मीडिया की जानकारी होनी चाहिए। आप एक साथ कंई कंपनियों के सोशल मीडिया को मैनेज कर सकते हैं।

यूज्ड कार डीलरशिप

भारत में कारों का बिजनेस लगातार बढ़ता जा रहा है। नई कारों के साथ सेकंड हैंड कारों का बाजार भी हमेशा डिमांड में रहता है। आप पुरानी कारों की डीलरशिप लेकर कमिशन के आधार पर बिजनेस शुरू कर सकते हैं। डीलरशिप के अलावा भी एक्सट्रा कमाई कर सकते हैं। 2-3 लाख की कार पर डीलर के 10-20 हजार रुपए तक बच जाते हैं।

वर्चुअल असिस्टेंट

कई कंपनियां अपना रोजमर्रा के कामों को हैंडल करने के लिए वर्चुअल असिस्टेंट को हायर करती हैं। वह कंपनी या किसी व्यक्ति के मीटिंग, यात्रा और दूसरे कामों का मैनेज करता है। इस काम के लिए आपको ऑफिस जाने की जरूरत नहीं होती है बल्कि फोन और इंटरनेट पर ये काम हो जाते हैं। इसमें आप एक साथ कई कंपनियों के लिए वर्चुअल असिस्टेंट का रोल निभा सकते हैं।

क्रेच सर्विस

मेट्रो शहरों में पति-पत्नी दोनो वर्किंग होते हैं ऐसे में उनके छोटे बच्चों को संभालने की समस्या रहती है। इसके लिए आप अपने घर में ही बच्चों को संभालने के लिए क्रेच खोल सकते हैं। इसके लिए आपको किसी तरह के निवेश की जरूरत नहीं होती है। दिल्ली-एनसीआर जैसे शहरों में एक बच्चे को संभालने के लिए 5 हजार रुपए तक महीने के मिल जाते हैं।

ड्राइविंग स्कूल

ड्राइविंग स्कूल एक एवरग्रीन बिजनेस है, जो कभी मंदा नहीं पड़ेगा। हर रोज सड़कों पर कारों की संख्या बढ़ती जा रही है। ज्यादा से ज्यादा लोग ड्राइविंग सीखना चाहते हैं। ड्राइविंग स्कूल के जरिए आप 10 हजार रुपए प्रतिदिन तक कमा सकते हैं।

एक माँ ने शुरू क्या अनोखा बिज़नेस, ब्रेस्ट मिल्क को बदल दिया खूबसूरत ज्वेलरी में

बच्चे की आंखें भी नहीं खुलती हैं, वो अपनी मां की छाती से चिकप जाता है और मां उसको स्तनपान कराती है.इस पल और बॉन्ड को और मजबूत करने की कोशिश करते हुए, चेन्नई की प्रीथी विजय , जो एक मां भी हैं, ब्रेस्ट मिल्क को ख़ूबसूरत ज्वेलरी में बदलने का काम कर रहीं हैं, ताकि वो पल और रिश्ता हमेशा के लिए खूबसूरत यादों के रूप में कैद हो जाए.

प्रीथी ने बताया कि कैसे उनके दिमाग में ये विचार आया:

मैं एक कार्यक्रम में गई थी, जहां मां के लिए आयोजित किया गया था. वहां किसी ने पूछा कि क्या यहां कोई ऐसा है, जो इंडिया में ऐसा करता है. मैं पिछले 5 सालों से हस्तशिल्प (handicrafts) बनाने के साथ उसका काम भी करती हूं, और जब मुझे इसके बारे में पता चला तो सबसे पहले मेरे दिमाग में यही ख़्याल आया कि मैं भी ये कर सकती हूं.ब्रेस्ट मिल्क या स्तन का दूध एक खराब होने वाला पदार्थ है, इसलिए ये काम करना बिलकुल भी आसान नहीं था.

‘जब मैंने ये करना शुरू किया, तो मैंने हर प्रकार के प्रिज़र्वेटिव्स का इस्तेमाल किया. लेकिन कुछ महीनों में ही ब्रेस्ट मिल्क का रंग बदल जा रहा था. फिर मैंने कुछ दोस्तों से इसमें मदद मांगी और आखिरकार इसे बरकरार रखने का एक तरीका मिल ही गया.’

जब उनको दूध को संरक्षित रखने का तरीका मिल गया, तब उन्होंने ब्रेस्ट मिल्क, गर्भनाल, बच्चे के बाल और बच्चे के पहले दांत को भी ज्वेलरी बनाने के लिए यूज़ करना शुरू कर दिया.इसी साल मई महीने के बाद से, देश के अलग-अलग राज्यों से हर हफ़्ते इनको कम से कम 12 ऑर्डर मिल चुके हैं. झुमके से लेकर पेंडेंट्स तक, आप जो चाहें और जैसी डिज़ाइन चाहें प्रीथी आपको वो सब बना कर दे सकती हैं.

हर आइटम की कीमत उसको बनाने में इस्तेमाल किये गए मेटेरियल के आधार पर बदलती रहती है. लेकिन इनकी कीमत 1000 से 4000 रुपये के बीच रहती है. उनके पास आने वाले ज़्यादातर ऑर्डर्स उनके Facebook page के माध्यम से आते हैं और लोगों द्वारा भी आते हैं.

प्रीथी, जो खुद एक मां हैं, का मानना है कि इस प्रकार का उपहार दुनिया की हर जगह मां के लिए अनमोल है.वो कहती हैं कि ‘बहुत लोगों के लिए ये ज्वेलरी सोना-चांदी-हीरे से भी ज़्यादा कीमती होती है. बहुत सी मांओं ने ये ज्वेलरी इस लिए बनवाई है कि वो इसे अपने बेटे या बेटी को दे देंगीं, तो कुछ का मानना है कि वो ये अपने बच्चे के लाइफ पार्टनर को देंगी. ये माता-बच्चे के रिश्ते का एक प्रतीक है और ये अनमोल है.’

हमें पूरा यकीन है कि नई मां के लिए इससे अच्छा और बेहतर कोई दूसरा तोहफ़ा हो ही नहीं सकता. और हो भी क्यों न, क्योंकि ये बच्चे को जन्म देने के दौरन होने वाली असहनीय पर सुखद पीड़ा और उसका यादगार अनुभव है, जिसे ही मातृत्व कहा जाता है.

ऐसे शुरू करें कम्‍प्‍यूटर एसेम्‍बलिंग का बिजनेस, हर महीने होगा 25 हजार तक का मुनाफा

कम्‍प्‍यूटर आजकल डेली लाइफ के लिए एक बेहद ही जरूरी इक्विपमेंट बन गया है। कम्‍प्‍यूटर की जरूरत और डिमांड को देखते हुए सरकार इसमें बिजनेस करने का भी मौका दे रही है।

यदि आपके पास 2 लाख रुपए हैं, तो आप सरकार की मदद से कम्‍प्‍यूटर एसेम्‍बलिंग का बिजनेस शुरू कर सकते हैं। इस बिजनेस को शुरू करने में सरकार की तरफ से आपको 70 फीसदी फंड यानी 6 लाख रुपए से ज्‍यादा की मदद मिल जाएगी।

छोटे और मझोले इंडस्ट्री को बढ़ावा देने के लिए सरकार मुद्रा स्‍कीम के तहत यह बिजनेस मौका दे रही है। कम्‍प्‍यूटर एसेम्‍बलिंग बिजनेस के लिए सरकार जो स्ट्रक्चरिंग की है, उस हिसाब से आपको सभी खर्च काटने के बाद सालाना 3.01 लाख रुपए यानी हर महीने करीब 25 हजार रुपए तक शुद्ध मुनाफा हो सकता है। बिजनेस शुरू करने में पूरा खर्च 8-9 लाख रुपए होगा।

प्रोजेक्‍ट का टोटल खर्च: 8.99 लाख रुपए

फिक्स्‍ड कैपिटल: 1 लाख रुपए (इसमें किराए का लैंड या बिल्डिंग और हर तरह की मशीनरी व इक्यूपमेंट का खर्च शामिल है।)

वर्किंग कैपिटल: 7.99 लाख रुपए

नोट: इसमें  रॉ-मटेरियल जैसेकि मदर बोर्ड, एटीएक्‍स कैबनेट, माउस, की-बोर्ड, मॉनिटर और लेबर कॉस्‍ट, पैकेजिंग, इलेक्ट्रिसिटी चार्ज, रेंट, ट्रांसपोर्टिंग आदि का खर्च शामिल है।

सरकार से कैसे मिलेगी मदद 

कम्‍प्‍यूटर एसेम्‍बलिंग का बिजनेस शुरू करने के लिए आपको अपने पास से 2,69,700 रुपए लगाने पड़ेंगे। यह कुल प्रोजेक्‍ट कॉस्‍ट का 30 फीसदी है। वहीं, 70 फीसदी रकम यानी 6,29,300 रुपए आपको बैंक लोन के रूप में मिल जाएंगे। इस लोन पर इंटरेस्‍ट रेट 13 फीसदी होगा।

3 साल में पूरा इन्वेस्टमेंट निकल आएगा

कम्‍प्‍यूटर की डिमांड हर छोटी-बड़ी रोजमर्रा के काम में है। ऐसे में यह बिजनेस शुरू करना अच्छा आइडिया साबित हो सकता है। अच्छी बात यह है कि इसमें ज्यादा खर्च भी नहीं आएगा और इनकम अच्छी होगी। 3 साल में आपका पूरा खर्च निकल जाएगा।

इस तरह करें अप्लाई

कम्‍प्‍यूटर एसेम्‍बलिंग का बिजनेस शुरू करने के लिए प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के तहत आप किसी भी बैंक में अप्लाई कर सकते हैं। इसके लिए आपको एक फॉर्म भरना होगा। इसमें आपको नाम, पता, बिजनेस एड्रेस, एजुकेशन, मौजूदा इनकम और कि‍तना लोन चाहिए, की जानकारी देनी होगी। इसमें किसी तरह की प्रोसेसिंग फीस या गारंटी फीस भी नहीं देनी होती है।

क्या होना चाहिए जरूरी

इसके लिए आपके पास एक किराए की जमीन या बिल्डिंग होनी चाहिए। किराए के लिए आपको 5 हजार रुपए महीने तक रेंट देना होगा। यह खर्च वर्किंग कैपिटल में ऐड है।

आपके पास भी है पेट्रोल पंप खोलने का मौका ,हर महीने 4-5 लाख रुपए की कमाई

अगर आप भी पेट्रोल पम्‍प खोलने के इच्‍छुक हैं तो इंडीजल ब्रांड से बायो फ्यूल बेचने वाली कंपनी माय इको एनर्जी आपको यह मौका दे रही है। कंपनी की वेबसाइट पर उपलब्‍ध जानकारी के अनुसार 6 राज्‍यों में बायो फ्यूल स्‍टेशन खोलने के साथ-साथ डीलरशिप और शॉप इन शॉप मॉडल के तहत बिजनेस करने का मौका लेकर आई है।

कंपनी का दावा है कि यूपी में फ्यूल स्‍टेशन और शॉप इन शॉप खोलने पर हर महीने 4-5 लाख रुपए की कमाई हो सकती है। अलग-अलग राज्‍य में हर महीने कमाई के आंकड़े बदल भी सकते हैं।

कंपनी के स्‍टैंडअलोन बिजनेस मॉडल के तहत कंपनी नेशनल हाइवे, राज्‍यों से जुड़े हाइवे व तहसील, मुख्‍य सड़क और शहरों व ग्रामीण इलाकों में किसी भी जगह पर फ्यूल स्‍टेशन खोलने का मौका दे रही है। इस मॉडल के तहत ऐसी जगहों पर मौजूद किसी भी जगह को इंडीजल फ्यूल स्‍टेशन बनाया जा सकता है।

शॉप इन शॉप मॉडल के तहत आप अपने मौजूदा बिजनेस के साथ-साथ फ्यूल स्‍टेशन भी खोल सकते हैं। इसके लिए उन्‍हें इंडीजल को अपनी जगह का कुछ हिस्‍सा किराए पर देना होगा। इसके अलावा कंपनी आपको इंडीजल की डीलरशिप लेने का भी मौका दे रही है।

सबसे पहले जानिए इंडीजल के बारे में

  • इंडीजल माय इको एनर्जी नामक कंपनी का ब्रांड है। कंपनी मुख्‍य तौर पर बायो ईंधन से तैयार डीजल बेचती है।
  • कंपनी का दावा है कि इंडीजल भारत का पहला और एकमात्र यूरो 6 (यूरो 5, यूरो 4) एमिशन नॉर्म्‍स के अनुरूप फ्यूल है।
  • यह ज्‍यादा पावर, बेहतर माइलेज के साथ-साथ साधारण डीजल से ज्‍यादा किफायती है।
    कंपनी का कहना है कि इंडीजल फ्यूल इंजन की उम्र बढ़ता है। इससे डीजल की कारें पेट्रोल जैसा परफॉर्मेंस देती है।

ऐसे करें अप्‍लाई

  • अगर आप भी इंडीजल के पेट्रोल पम्‍प खोलना चाहते हैं तो आपको सबसे पहले कंपनी की वेबसाइट www.myecoenergy.in पर जाना होगा।
  • वेबसाइट के मेन पेज से ही आप एप्लिकेशन फॉर्म डाउनलोड कर सकते हैं।
  • कंपनी ने नियम और शर्तों के साथ यहां पूरी जानकारी मुहैया कराई है। यहां आप फीलिंग पम्‍प और
  • आउटलेट दोनों खोलने के लिए अलग-अलग तरीके से अप्‍लाई कर सकते हैं।
  • अप्‍लाई करने की कॉस्‍ट 5,900 रुपए पड़ेगी और यह नॉन रिफंडेबल होगी।

चुने गए ऐप्‍लीकेंट्स के लिए पेमेंट के तीन मोड

  • फ्यूल स्‍टेशन के लिए चुने गए ऐप्‍लीकेंट्स के लिए पेमेंट के तीन मोड हैं।
  • इनके तहत आप इंस्‍टॉलमेंट्स में पेमेंट कर सकेंगे।
  • पहला इंस्‍टॉलमेंट आपको एग्रीमेंट वाले दिन ही देना होगा।
  • पेमेंट व इंस्‍टॉलमेंट शहर, गांव व कस्‍बे के हिसाब से अलग-अलग होगा।

सिक्‍योरिटी डिपॉजिट व बैंक गारंटी 

 

  • स्‍टैंडअलोन व शॉप इन शॉप बिजनेस मॉडल्‍स के लिए बैंक गारंटी आउटलेट की प्रतिदिन की एवरेज सेल के हिसाब से अलग-अलग है। यह 30 लाख रुपए से 80 लाख रुपए तक है।
  • वहीं सिक्‍योरिटी डिपॉजिट में भी एवरेज सेल के हिसाब से भिन्‍नता है। सिक्‍योरिटी डिपॉजिट 15 लाख से 30 लाख रुपए तक है।
  • विस्‍तृत जानकारी, नियम और शर्तें आप कंपनी की वेबसाइट www.myecoenergy.in पर जाकर जान सकते हैं।

किन राज्‍यों में कंपनी खोलेगी स्‍टेशन

  • कंपनी की वेबसाइट पर दी गई जानकारी के मुताबिक, वह अभी महाराष्‍ट्र, गुजरात, उत्‍तर प्रदेश, तेलंगाना, राजस्‍थान और आंध्र प्रदेश में अपने पम्‍प खोलेगी।
  • बाद में देश के अन्‍य हिस्‍सो में भी अपने पम्‍प खोलने का प्‍लान है।

डीलरशिप भी दे रही है कंपनी

  • अगर आप कंपनी के डीलर बनाना चाहते हैं तो उसके लिए भी मौका है।
  • इसके लिए कंपनी की वेबसाइट पर दिए गए नंबर पर डीलरशिप के बारे में पूरी जानकारी ले सकते हैं।
  • यूपी के लिए यह नंबर 7878780244 है।

सरसों के साग को विदेशों में बेच कर लाखों रुपया कमा रहा है पंजाब का यह किसान

अमृतसर के पास वेरका गांव को फतेहपुर शुकराचक से जोड़ने वाली लिंक रोड पर चलते हुए तकरीबन आधे एकड़ में फैले फ़ूड प्रोसेसिंग की एक इकाई गोल्डन ग्रेन इंक को शायद ही कोई नोटिस कर पाता है लेकिन इसने सरसों की पत्तियों से बनने वाली पंजाब की सुप्रसिद्ध व्यंजन – सरसों दा साग की धमक से पंजाब के बाहर ही नहीं बल्कि भारत के बाहर भी हलचल मचा दी है।

इस गोल्डन ग्रेन इंक यूनिट के लिए कच्ची सामग्री की कोई कमी नहीं है। इसकी खरीद आमतौर पर यहां के इच्छुक किसानों से बाजार की खुदरा कीमतों से भी ज्यादा दर पर की जाती है। हालांकि इसे तैयार करने का कार्य इतना आसान नहीं है जितना कि दिखता है, यही वजह है कि इस यूनिट के मालिक 59 साल के जगमोहन सिंह हर वक्त व्यस्त नजर आते हैं। वह ब्रिटेन के बर्मिंघम विश्वविद्यालय से इंजीनियरिंग और अनाज पिसाई में डिग्री हासिल करने के बाद 1986 में जगमोहन अपने गृह नगर अमृतसर लौटे।

वो मोबाइल फोन पर लगातार किसानों से बात करते रहते हैं जो ज्यादातर गुरदासपुर जिले के आसपास के रहनेवाले हैं। ये किसान उन्हें सरसों के तोड़े जाने की जानकारी देते हैं। इसके बाद उनकी यूनिट में सरसों की पत्तियों की साग तैयार कर, कैन में बंद कर दुबई, इंग्लैंड और यहां तक कि कनाडा और अमेरिका जैसे देशों में भेजा जाता है।

वो अपना कारोबार संपर्क के जरिए करते हैं। वो बताते हैं, ”सरसों पैदा करनेवाले बटाला इलाके के गावों के करीब 30 किसानों से मेरा मौखिक समझौता है। सभी छोटे और सीमांत किसान हैं और उनके पास पांच एकड़ से भी कम जमीन है।”

हिसार किस्म की औसत ऊपज 80 क्विंटल प्रति एकड़ है, जबकि स्थानीय पंजाबी किस्म महज 50 क्विंटल प्रति एकड़ की ऊपज दे पाती है और वो भी दो बार तुड़ाई के बाद। अमृतसर के बाजार में साग की पत्तियों की कीमत घटती-बढ़ती रहती है।

इसलिए अगर अमृतसर के खुदरा बाजार में इसकी औसत दर 7 रुपये प्रति किलो है तो एक एकड़ से किसान को 56,000 रुपये की तक कमाई हो जाती है। लेकिन अगर गोल्डन ग्रेन के लिए दो रुपये ज्यादा मिल रहा है तो कमाई बढ़कर 72,000 रुपये प्रति एकड़ हो जाती है।

प्राथमिक तौर पर साग के प्रसंस्करण का दो हिस्सा होता है, पहला- अलग करना और दूसरा- उबालना जो कि स्टीम बॉयलर में किया जाता है। एक दिन में दो टन साग तैयार किया जाता है। टिन के जार में पैक रेडी टू ईट यानी तैयार साग में किसी प्रिजर्वेटिव या परिरक्षक का इस्तेमाल नहीं किया जाता है। दूसरे उत्पाद के साथ इन जार को नरैन फूड के ब्रांड नाम(जगमोहन के पिता का नाम नरैन सिंह है) के साथ निर्यात कर दिया जाता है।

मार्ग की कठिनाइयां

उन्हें इस बात का अफसोस है कि अमृतसर से कोई कार्गो या मालवाहक विमान नहीं है और जो यात्री विमान यहां से उड़ान भरते हैं उसमें माल ढुलाई के लिए जगह बहुत सीमित होता है। जगमोहन बताते हैं कि उन्होंने मध्य पूर्व के बाजार का अध्ययन किया है और ये पाया कि “अमृतसर से ताजी तोड़ी गई हरी सब्जियों और फल के निर्यात की बड़ी संभावना है।” ”फ्लाइट से अमृतसर से दुबई का रास्ता महज दो घंटे का है, अगर यहां से प्रतिदिन कार्गो या मालवाहक उड़ान की सेवा मिल जाए तो किसानों, खासकर छोटे और सीमांत किसान की जिंदगी में अच्छा बदलाव आ सकता है।”

सिर्फ 35 हज़ार में इस मशीन के साथ शुरू करें मसाला बनाने का उद्योग

भारतीय खाने में मसालों का स्थान हमेशा से ही महत्वपूर्ण रहा हैं. विश्व में भारतीय खाने की पहचान इसमें डालें गये मसालें ही हैं इसलिए मसालों की मांग हमेशा मार्किट में बनी रहती हैं. अगर आप अपना व्यवसाय शुरू करना चाहते हैं तो आप आसानी से मसाले बनाने की यूनिट लगा सकते हैं. इस बिज़नस में लागत कम आती हैं और प्रॉफिट आपको ज्यादा मिल सकता हैं.

आप अपनी कैपिटल अमाउंट के अनुसार मसाले मैन्युफैक्चरिंग के बिज़नस को शुरू कर सकते हैं. आप इस बिज़नस को लघु स्तर पर, मध्यम स्तर पर और बड़े पैमाने पर शुरू कर सकते हैं. अत्यंत लघु स्तर पर मसाले मैन्युफैक्चरिंग इकाई आप अपने घर पर शुरू कर सकते हैं. हमारे यहाँ मसालों की मांग इतनी हैं कि लघुतम इकाई भी आपको लाभ ही पहुंचाएगी.

आज के आर्टिकल में हम आपको मसालों की मैन्युफैक्चरिंग यूनिट छोटे स्तर पर लगाने के विषय में जानकारी देंगे. भारत में सभी प्रकार के मसालों को उगाया जाता हैं. पहलें घरों में ही मसालों को कुटा जाता था लेकिन अब लोगों के पास इतना समय ही नहीं हैं. ऐसे में अगर आप ठीक रेट पर अच्छी क्वालिटी का मसाला उपभोक्ताओं को उपलब्ध करायेंगे तो आपके बिज़नस में आपको फायदा ही होगा.

ऐसे करें अपने बिज़नस का रजिस्ट्रेशन

आप अपनी मसाला मैन्युफैक्चरिंग यूनिट को छोटे स्तर पर लगायें या बड़े स्तर पर आपको रजिस्ट्रेशन की सारी प्रक्रिया को फॉलो करनी पड़ेगी. इस बिज़नस के रजिस्ट्रेशन का प्रोसेस कुछ इस तरह से हैं.

सबसे पहले आपको ROC का रजिस्ट्रेशन कराना होगा. छोटे स्केल पर या घर से ही मसाला मैन्युफैक्चरिंग यूनिट शुरू करने पर आप one person company रजिस्ट्रेशन भी करा सकते हैं.
आपको लोकल म्युनिसिपल अथॉरिटी से ट्रेड लाइसेंस भी लेना होगा.
फ़ूड ऑपरेटर लाइसेंस भी लेना आवश्यक हैं..

आपको BIS सर्टिफिकेट भी लेना होगा. मसालों के लिए आपको ये ISI के विभिन्न दिशा निर्देश उपलब्ध है .

  • Black whole and ground (काली मिर्च) ISI-1798-1961
  • Chilli powder (मिर्च पाउडर) ISI-2445-1963
  • Coriander powder (धनिया पाउडर) ISI-2444-1963
  • Curry powder (करी पाउडर) ISI-1909-1961
  • Turmeric powder (हल्दी पाउडर ) ISI-2446-1963
  • Methods of sampling and test of Spices and condiment ISI-1997-196

CFTRI, Mysore,ने एक तकनीकी दिशा निर्देश की जानकारी विकसित की है ,जो AGMARK की सर्टिफिकेशन के लिए आवश्यक मानीं जाती है .

मशीनरी व Raw मटेरियल

मसालों के प्रोडक्शन एरिया के लिए लगभग 75 स्क्वायर फीट की जगह की आवश्यकता होती हैं. पैकिंग एरिया और गोडाउन के लिए 150 स्क्वायर फीट की जगह चाहिए होगी. मसाले ग्राइंड करने के लिए और उन्हें प्रोसेस करने के लिए सिंपल मशीनरी और उपकरणों की आवश्यता होती हैं.

मसालों की मैन्युफैक्चरिंग के लिए आपको dis integrator इंस्टाल कराना होगा. इसके साथ ही स्पाइस ग्राइंडर और पाउच सीलिंग मशीन की भी आवश्यता होगी. मसालों का भार तौलने के लिए वेट मशीन का होना भी आवश्यक हैं. इसके लिए आप पूरी तरह से आटोमेटिक मशीन भी ले सकते हैं. जिसमें ग्राइंडिंग, वेट मापना ओर पैकिंग सब एक प्रोसेस में अपने आप होता रहेगा.

कच्चे माल में आपको साबुत हलदी, साबुत काली मिर्च,मिर्ची,साबुत धनिये आदि की जरूरत होगी. जितना अच्छा आपका कच्चा माल होगा उतनी ही अच्छी क्वालिटी आपके प्रोडक्ट की भी होगी.

मसाले बनाने का प्रोसेस

मसाले बनाने के प्रोसेस में साबुत मसालों को साफ़ करना फिर उन्हें सुखाना, साफ़ व सूखे हुए मसालों में मसालों से कंकर या मिटी निकली जाती हैं. फिर मसालों को धुप में सुखाया जाता हैं. उसके बाद मसालों को ग्राइंड किया जाता हैं. मसाले ग्राइंड करने की मशीन 35000 रूपये से 85000 में मिल सकती हैं.जो एक दिन में 35 किलो से लेकर 70 किलो तक मसाला त्यार करती है . मसाला बनाने की क्षमता मशीन के आकार के साथ-साथ मसाले के ऊपर भी निर्भर करती है

यह मशीन कैसे काम करती है उसके लिए वीडियो देखें

और ज्यादा जानकारी के लिए आप निचे दिए पते पर संपर्क करें

M/s. Jas Enterprises ,Ahmedabad 380023 Gujarat India
Phone:– +91-79-22743454, 55
E mail:– info@jasenterprise.com
website :http://www.jasenterprise.com/

नोट:इस कंपनी के इलावा भी बहुत सारी कंपनी यह मशीन त्यार करती है आप कहीं से भी खरीद सकते है .