आपके LPG कनेक्शन से जुड़ी 5 फायदे की बातें, सिलेंडर लेते वक्त जरूर ध्यान दें

सरकार समय-समय पर गैस कनेक्शन से जुड़े नियमों में बदलाव करती रहती है. केंद्र सरकार ने डीबीटीएल योजना और ऑनलाइन प्रोसेसिंग के जरिए लोगों की कई परेशानियां कम की हैं. फिर भी ऐसी कई चीजें हैं, जिन्हें लोग नहीं जानते हैं. हम आज आपको LPG कनेक्शन से जुड़ी फायदे की 5 बातें बता रहे हैं, जो कभी भी आपके काम आ सकती हैं.

फायदे की बात: 1

सिलेंडर खरीदते वक्त ही उसका इन्श्योरेंस हो जाता है. 50 लाख रुपए तक होने वाले इस इन्श्योरेंस की जानकारी लोगों को नहीं होती. सिलेंडर का इन्श्योरेंस इसकी एक्सपायरी से जुड़ा होता है. अक्सर लोग सिलेंडर की एक्सपायरी डेट की जांच किए बिना ही इसे खरीद लेते हैं. ऐसे में इस बात को आप ध्यान में रखें.

ऐसे करें एक्सपायरी डेट की पहचान

  • सिलेंडर की पट्टी पर ए, बी, सी, डी में से एक लेटर के साथ नंबर होते हैं.
  • गैस कंपनियां 12 महीनों को चार हिस्सों में बांटकर सिलेंडर्स का ग्रुप बनाती हैं.
  • ‘ए’ ग्रुप में जनवरी, फरवरी, मार्च और ‘बी’ ग्रुप में अप्रैल, मई जून होते हैं. ‘सी’ ग्रुप में जुलाई, अगस्त, सितंबर और ‘डी’ ग्रुप में अक्टूबर, नवंबर और दिसंबर होते हैं.
  • सिलेंडर पर इन ग्रुप लेटर के साथ लिखे नंबर एक्सपायरी या टेस्टिंग ईयर दर्शाते हैं. जैसे- ‘बी-12’ का मतलब सिलेंडर की एक्सपायरी डेट जून, 2012 है. ऐसे ही, ‘सी-12’ का मतलब सितंबर, 2012 के बाद सिलेंडर का इस्तेमाल खतरनाक है.

फायदे की बातः 2

शहर बदलने पर ट्रांसफर करें गैस कनेक्शन

अब आपको शहर बदलने पर गैस कनेक्शन की टेंशन नहीं होगी. आप अपना गैस कनेक्शन किसी भी शहर में जाने पर बदल सकते हैं. इसके लिए आपको थोड़ी सी मेहनत करनी होगी. यह सेवा पूरे देश में लागू है.

क्या है प्रोसेस

  • अभी आप जिस शहर में रह रहे हैं, वहां अपनी गैस एजेंसी पर जाएं. यहां अपना गैस सिलेंडर और रेग्युलेटर जमा करा दें.
  • ऐसा करने पर गैस एजेंसी डिस्ट्रीब्यूटर आपको जमा किए हुए पैसे लौटा देगा.
    इसके साथ ही वह आपको एक फॉर्म देगा, जिसमें आपके गैस कनेक्शन होने का प्रूफ होगा.
  • अब यदि आप शहर बदलते हैं, तो जिस शहर में रहना है वहां की गैस एजेंसी पर जाएं.
  • उस गैस एजेंसी को वह फॉर्म दिखाएं, जो आपको पुराने शहर की गैस एजेंसी से मिला है.
  • जो पैसे आपको लौटाए गए थे, वो नई एजेंसी पर जमा करवाकर आप कनेक्शन वापस पा सकते हैं.

फायदे की बातः 3

दूसरे के नाम पर ट्रांसफर करें गैस कनेक्शन

अब आप परिवार के किसी भी सदस्य के नाम पर गैस कनेक्शन ट्रांसफर कर सकते हैं. इसके साथ ही यह भी सुविधा है कि आप किसी दूसरे का कनेक्शन उपयोग कर रहे हैं, तो वह भी अपने नाम पर ट्रांसफर कराया जा सकता है. गैस कनेक्शन ट्रांसफर कर रहे हैं तो दो शपथ पत्र की जरूरत होगी. दोनों व्यक्तियों को एक-एक शपथ पत्र भरना होगा.

फायदे की बात: 4

ऑनलाइन लें गैस कनेक्शन

अब आप (MyLPG.in) वेबसाइट के जरिए ऑनलाइन गैस कनेक्शन ले सकते हैं. यह योजना लागू की जा चुकी है.

ऐसे बुक करें ऑनलाइन कनेक्शन

  • MyLPG.in वेबसाइट खोलने के बाद कॉर्नर पर ‘सहज’ पोर्टल का लिंक मिलेगा. पहले इस लिंक पर क्लिक करें. यहां आपको ‘ऑनलाइन कनेक्शन’ का ऑप्शन मिलेगा, इस पर क्लिक करें.
  • आवेदक को अपनी फोटो के साथ आधार नंबर व बैंक खाता संख्या अपलोड करना होगा.
  • आईडी प्रूफ का डिटेल देने के बाद रजिस्ट्रेशन कराना होगा.
  • रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया पूरी होने के बाद ऑनलाइन पेमेंट का विकल्प आएगा.
  • भुगतान करते ही आवेदक के ई-मेल पर संदर्भ संख्या आएगी. पेमेंट का डेक्लेरेशन भी ई-मेल पर मिलेगा.
  • गैस कंपनी द्वारा कनेक्शन जारी करते ही एक कॉपी कस्टमर के ई-मेल पर पहुंच जाएगी.

फायदे की बात: 5

ऐसे पूरा करें सब्सिडी का ऑनलाइन प्रोसेस

स्टेप-1:
सबसे पहले इस वेबसाइट पर क्लिक करें https://rasf.uidai.gov.in/seeding/User/ResidentSplash.aspx क्लिक करने के बाद आपके सामने आधार कार्ड की वेबसाइट खुलकर आएगी. इसमें एक स्टार्ट नाउ का बटन होगा. इस पर क्लिक करने से एक और पेज खुलेगा.
स्टेप-2:
इस पेज पर आपसे आपकी डिटेल्स मांगी जाएंगी. इनमें तीन ऑप्शन होंगे. पहला कौन से राज्य के निवासी हैं, कौन से शहर के निवासी हैं. इसके बाद किस बेनेफिट के लिए आप आधार कार्ड को लिंक करा रहे हैं. इसमें एक ही ऑप्शन आएगा LPG. इसके बाद इसमें कंपनी का नाम भरना होगा.
स्टेप-3:
तीसरे स्टेप में आपको अपना डिस्ट्रीब्यूटर, कंज्यूमर नंबर भरना होगा. इसके बाद ई-मेल आईडी, फोन नंबर और आधार नंबर देना होगा.

https://rasf.uidai.gov.in/seeding/User/ResidentSelfSeedingpds.aspx
स्टेप-4:
वेरिफिकेशन: मोबाइल, ई-मेल आईडी रजिस्ट्रर कराने के बाद आपके पास एक OTP नंबर आएगा. वेरिफिकेशन कोड की जगह ये नंबर एंटर कीजिए और फिर बॉक्स में बनी इमेज को अल्फा न्यूमरिक कोड भरना होगा. इसके बाद आखिरी में सब चेक करने के बाद सबमिट बटन दबाना होगा. इसके कुछ दिन बाद ही आपकी रिक्वेस्ट अप्रूव हो जाएगी. इसके बाद सब्सिडी सीधे आपके बैंक अकाउंट में पहुंच जाएगी.

सावधान : फ्रॉड का नया तरीका, आपके SIM से ही मिनटों में खाली हो सकता है अकाउंट

अगर आपके पास कोई ऐसी कॉल आती है जिसमें कॉलर आपसे कहता है यदि आप अपना सिम अपडेट नहीं करते हैं तो यह डिऐक्टिवेट हो जाएगा, तो आपको सावधान रहने की जरूरत है. जी हां, आजकल सिम डिऐक्टिवेट का डर दिखाकर लोगों को लाखों की चपत लगाई जा रही है.

युवक को 4 लाख रुपये का चूना लगा

पिछले दिनों दिल्ली के एक शख्स को सिम स्वैपिंग के जरिये ही करीब 4 लाख रुपये का चूना लगा दिया गया. इससे पहले भी पुणे के एक व्यक्ति के साथ करीब एक लाख रुपये की धोखाधड़ी का मामला सामने आ चुका है.

अगर आपके या आपके किसी मित्र के पास ऐसा कोई भी कॉल आता है तो आपको सावधान रहने की जरूरत है. इसके साथ ही आपको यह भी जानने की जरूरत है कि सिम स्वैपिंग आखिर होती क्या है और हैकर किस तरह आपको शिकार बनाते हैं.

क्या है सिम स्वैप

सिम स्वैप का सीधा सा मतलब है सिम एक्सचेंज. इसमें आपके फोन नंबर से एक नए सिम का रजिस्ट्रेशन कर लिया जाता है. ऐसा होने पर आपका सिम कार्ड तुरंत काम करना बंद कर देता है और आपके फोन में सिग्नल आना बंद हो जाता है.

यह इतना जल्दी होता है कि आप कुछ देर के लिए समझ ही नहीं पाते कि आपके साथ क्या हुआ. जब तक आप समझ पाते हैं तब तक काफी देर हो चुकी होती है. हैकर आपके नंबर से रजिस्टर हुए दूसरे सिम पर आने वाले ओटीपी का यूज कर पैसे अपने अकाउंट में ट्रांसफर कर लेता है.

ऐसे होती है सिम स्वैपिंग की शुरुआत

सिम स्वैपिंग की शुरुआत होती है एक कॉल से, जिसमें कॉलर यह दावा करता है वह टेलीकॉम कंपनी का एक्जिक्यूटिव बोल रहा है. वह आपको बताता है कि आपका सिम अपडेट नहीं है. सिम अपडेट होने पर आपकी कॉल ड्रॉपिंग की समस्या ठीक हो जाएगी और इंटरनेट की स्पीड भी बढ़ जाएगी.

इसी बातचीत के दौरान वह आपसे आपके सिम का 20 डिजिट का यूनिक नंबर मांगता है. कई बार आप विश्वास में आकर सिम के पीछे लिखा यूनिक नंबर उससे शेयर कर देते हैं.

यूनिक नंबर मिलने के बाद यह कॉलर आपके 1 प्रेस करने के लिए कहता है. जिससे ऑथेन्टिकेशन होता है और सिम स्वैप का प्रोसेस पूरा हो जाता है. सिम स्वैप होते ही आपके नंबर के सिग्नल गायब हो जाते हैं और दूसरी ओर आपके नंबर वाले स्कैमर के सिम कार्ड वाले फोन में सिग्नल आने लगते हैं.

अधिकतर केस में स्कैमर के पास आपकी बैकिंग आईडी और पासवर्ड होता है. अब उसे बस ओटीपी की जरूरत होती है, जो सिम पर आता है.

डायबिटीज के मरीजों के लिए बहुत ही फायदेमंद है ये सॉक्स, कीमत सिर्फ 100 रुपए

डायबिटीज आज के समय की सबसे घातक बीमारी है। इसे कंट्रोल करने के लिए मरीज क्या-क्या नहीं करते हैं। डायबिटीज के मरीज के लिए इंटरनेशनल ट्रेड फेयर में सॉक्स की बिक्री हो रही है। इसका नाम हेल्दी सॉक्स है। सॉक्स विक्रेता का दावा है कि यह सॉक्स दो से तीन महीनों में डायबिटीज को कंट्रोल करता है।

दुकानदार राहुल शर्मा बताते हैं, डायबिटीज के मरीजों को डाक्टर इसे पहनने के लिए रिकमेंड करते हैं। राहुल बताते हैं, ‘अब तक कई लोगों ने इसको खरीदा है और इस्तेमाल किया है।

हम ग्राहकों से फीडबैक भी लेते रहते हैं, 60 फीसदी लोगों ने पॉजिटिव फीडबैक दिया है। ’ हेल्दी सॉक्स की कीमत सिर्फ 100 रुपए है। 14 नवंबर से दिल्ली के प्रगति मैदान में अंतरराष्ट्रीय व्यापार मेले की शुरुआत हो चुकी है। मेला 27 नवंबर तक चलेगा।

जानें क्या है इस हेल्दी सॉक्स की खासियत

डिजाइन के मामले में यह आम सॉक्स से बिल्कुल अलग है। इसमें प्रेशर को कंट्रोल करने के लिए लाइन बनाई गई है। हड्डी वाली जगहों पर अलग से डिजाइन बनाई गई है जिसमें प्रेशर कंट्रोलर लाइन है, जो सभी सेंसेटिव प्वॉइन्ट्स को प्रोटेक्ट करती है।

साथ ही यह एंटी बैक्टेरियल सॉक्स है इसमें एयर पैनल भी है। मैक्सिमम स्ट्रेच होने वाली ये पैरों के दर्द को भी आराम देती है। इसे आप प्रगति मैदान में चल रहे ट्रेड फेयर से खरीद सकते हैं।

ये है मारुति जिप्सी के 10 खूबसूरत मॉडिफिकेशन, देखें तस्वीरें

भारत में प्रतिष्ठित Gypsy के उत्पादन को बंद करने का फैसला ले ही लिया. डीलर्स भी इस नवम्बर माह के बाद Gypsy की बुकिंग्स लेना बंद कर देंगे. तो अगर आपको जंगल सफारी पर जाने के लिए यह गाड़ी लेनी है तो यही आखिरी मौका है.

Gypsy पिछले तीन दशक से ज्यादा समय से देश में बेची जा रही है और यह एक तरह से एक युग का अंत है. इस गाड़ी में AC या पॉवर स्टीयरिंग जैसा कोई फीचर नहीं है.

मगर जो आता है वो है ऑफ-रोडिंग की असीम क्षमता और यही कारण है कि इस गाड़ी पर अनेकों कार प्रेमी जान छिड़कते हैं. इस आइकॉन को विदाई के तौर पर हम पेश कर रहे हैं 10 सबसे खूबसूरत मॉडिफाइड Gypsy जो हिंदुस्तान की सड़कों पर घूम रहीं हैं.

Subtle Charmer

Yellow Menace

Red Fury

Zebra

Off Road King

Escapade

Green Hell

Black Beauty

MKraft’s Gypsy

बुलेट को टक्कर देने के लिए भारत में आई jawa की मोटरसाइकिल, जाने फीचर और कीमत

महिंद्रा की जावा आज मुंबई में लॉन्च हो गई। इसकी शुरुआती कीमत 1.55 लाख रुपए है। इसे तीन वैरिएंट में लॉन्च किया गया है। जावा, जावा फोर्टि टू, जावा पेरॉक। जावा फोर्टि टू की कीमत 1.55 लाख रुपए है तो जावा पेरॉक की कीमत 1.89 लाख रुपए है।

जावा फोर्टि टू की कीमत 1.55 लाख रुपए रखी गई है। जावा पेरॉक 334 सीसी की बाइक है वहीं जावा और जावा फोर्टि टू 293 सीसी की बाइक है। इसमें सिंगल सिलिंडर, 4 स्ट्रोक है। इसकी मैक्सिमम पावर 27 बीएचपी है। जावा का वजन 170 किलो है।

15 नवंबर से इसकी बुकिंग शुरू हो गई है जावा की साइट पर जाकर इसकी बुकिंग की जा सकती है। कंपनी ने जावा को 3 कलर ( ब्लैक, ग्रे, मैरून)में उतारा है । कंपनी ने जावा पेरॉक को केवल ब्लैक कलर में निकाला है। यह कस्टमाइज्ड बाइक है जिसे अपनी इच्छा के मुताबिक संवारा जा सकता है।

इन सभी बाइक्स की डिलीवरी अगले साल की जाएगी। इसमें 293 सीसी का लिक्विड कूल्ड सिंगल सिलिंडर इंजन मिलने वाला है। यह इंजन 27hp का पावर और 28 न्‍यूटन मीटर का टॉर्क जनरेट करता है। अभी 64 डिलर्स ने बाइक की डिलीवरी के लिए समझौता किया है।

बीमारी के समय है पैसों की जरूरत तो यहां से मिल जायेगा बिना ब्याज के 20 लाख तक का लोन

अगर आप अचानक बीमार हो जाते हैं और अस्पताल में भर्ती होना पड़ता है, लेकिन पैसा न होने के कारण अस्पताल का बिल कैसे चुकाएं, यह बड़ी समस्या बन जाता है। ऐसे में, यदि कोई आपको अस्पताल में ही 12 घंटे के भीतर बिना ब्याज का लोन दे दे तो आपके लिए इससे बड़ी राहत क्या हो सकती है।

जी हां, एक LetsMD (फाउंडर व सीईओ निवेश खंडेलवाल) नाम के स्टार्ट अप ने यह काम शुरू किया है। यह स्टार्ट अप अस्पताल में भर्ती मरीजों को बहुत सामान्य सी शर्तों पर लोन दे देता है।

कितना ले सकते हैं लोन

निवेश बताते हैं कि मेडिकल इमरजेंसी होने पर 20 हजार से लेकर 20 लाख रुपए तक का लोन देते हैं। हालांकि लोन देने की शर्त वही होती है, जो बैंक की होती है। यानी कि पेइंग कैपेसिटी के आधार पर लोन राशि मंजूर की जाती है। यानी कि आपकी इनकम के आधार पर लोन दिया जाता है।

कितनी देनी होती है प्रोसेसिंग फीस

निवेश के मुताबिक, हम लोन पर कोई ब्याज नहीं लेते, लेकिन प्रोसेसिंग फीस ली जाती है। जो 1 से 2 फीसदी हाती है। लोन राशि अधिक होने पर प्रोसेसिंग फीस 0.5 फीसदी तक की जा सकती है।

400 अस्पतालों में नेटवर्क

निवेश ने बताया कि उन्होंने जुलाई 2017 में अपना बिजनेस शुरू किया था और अब तक उनके नेटवर्क में 400 अस्पताल शामिल हो चुके हैं।

पहले बनवा सकते हैं कार्ड

निवेश के मुताबिक, कई लोग अपनी हेल्थ को लेकर जागरूक रहते हैं और चाहते हैं कि अस्पताल में भर्ती होने के बाद उन्हें लोन मिलने में कोई दिक्कत न हों तो वे प्री अप्रूव कार्ड पहले बनवा सकते हैं।

यह कार्ड 999 रुपए में बनवाया जा सकता है, जिसे हर साल रिन्यू करवाया जा सकता है। ये कार्ड धारक अपने परिवार के 8 सदस्यों का साल भर में 5 लाख रुपए तक का ईलाज करा सकते हैं।

कैसे लौटाना होगा लोन

लोन लौटाने की प्रक्रिया मासिक होगी। यानि कि आपको मंथली ईएमआई देनी होगी। आपको लोन का पैसा 12 माह से 48 माह के बीच में लौटाना होगा।

कौन ले सकता है लोन

निवेश ने कहा कि लोन लेने की शर्तें काफी आसान हैं। आपकी सैलरी 15 हजार रुपए मंथली से अधिक हो। आपके पास आधार कार्ड और पैन कार्ड है। आपको सैलरी स्लिप और बैंक स्टेटमेंट दिखानी होगी। इसके बाद अगर आप की क्रेडिट हिस्ट्री ठीक है तो आप लोन ले सकते हैं।

नाड़े वाले अंडरवियर की वजह से केस हार गयी रेप पीड़िता, जज ने दिया यह कारण

एक किशोर लड़की के साथ कथित बलात्कार के मामले में अदालत ने उसके अंडरवियर को ही सबूत मान लिया। इसके बाद अदालत ने लड़की के खिलाफ अपना फैसला सुनाया। अदालत ने कहा कि 17 वर्षीय लड़की ने रेप की कथित घटना के वक्त एक ऐसा अंडरवियर पहन रखा था जिसमें स्ट्रिप्स लगे हुए थे और उसे कस कर बंधा गया था, इसलिए वह खोला नहीं जा सकता था।

आयरलैंड की अदालत के इस फैसले के बाद देश भर में जमकर प्रदर्शन हो रहे हैं। अंडरवियर को सबूत के रूप में स्वीकार करने के विरोध में कॉर्क सिटी सेंटर में एक के बाद कई रैलियां आयोजित की जा रही हैं।

क्या हैं मामला

दक्षिण पश्चिम आयरलैंड में एक शहर में किशोरी से बलात्कार करने वाले व्यक्ति का प्रतिनिधित्व करने वाली बैरिस्टर ने अदालत में सुझाव दिया कि इस मामले में जूरी 17 वर्षीय लड़की द्वारा पहने अंडरवियर पर ध्यान दे।

वकील की इस अपील के बाद 27 वर्षीय व्यक्ति जिस पर कॉर्क शहर में किशोरी से बलात्कार करने का आरोप था, उसे केंद्रीय आपराधिक न्यायालय में आठ पुरुषों और चार महिलाओं की जूरी द्वारा दोषी नहीं पाया गया।

मुकदमें के समापन भाषण में वरिष्ठ वकील एलिजाबेथ ओ’कोनेल ने जूरी से कहा कि उन्हें इस तथ्य का सम्मान करना चाहिए कि महिला फीते वाले अंडरवियर पहने हुई थी। इस मामले में अभियुक्त का कहना था कि उसके और पीड़िता के बीच संबंध सहमति से बने थे।

आयरलैंड में जमकर प्रदर्शन

17 साल की पीड़िता से बलात्कार के अभियुक्त के बरी होने के बाद आयरलैंड में सेक्स के लिए सहमति और अंडरवियर को सबूत मानने जैसे मुद्दों पर कई जगहों पर विरोध प्रदर्शन होने लगे हैं।

इसके विरोध में आयरलैंड की एक महिला सांसद सदन में अंडरवियर लेकर आ गईं। महिला सांसद रुथ कैपिंगर में संसद में फीतों वाला अंडरवियर दिखाते हुए कहा, “यहां इसे दिखाना शर्मनाक हो सकता है।लेकिन आपको सोचना होगा कि जब एक महिला के अंडरवियर को अदालत में दिखाया गया तो उसे कैसा लगा होगा।”

लोगों को सबसे ज्यादा आपत्ति आरोपी की वकील के उस कमेंट पर थी जिसमें उन्होंने लड़की के अंडरवियर में फीते लगे होने को उसके चरित्रहीन होने का प्रमाण मान लिया। आयरलैंड के लोगों ने इस मामले को लेकर सोशल मीडिया पर बेहद कड़ी टिप्पड़ियां की हैं।

#ThisIsNotConsent हैशटैग के साथ बहुत से लोगों ने इस मामले के विरोध में ट्वीट किया है। बहुत सी महिलाओं ने अपने अंडरवियर की तस्वीरें भी सोशल मीडिया पर पोस्ट की हैं।

इस शख्स की हैं तीन पत्नियां, गलती होने पर देता है ऐसी अजीबोगरीब सजा

रूस के ऑब्लास्ट रीजन में इवान सुखोव अपनी तीन पत्नियों के साथ रहते हैं। 34 वर्षीय इवान का सपना है कि उनकी और भी ज्यादा पत्नियां हों और कम से कम 50 बच्चे हों। यह शख्स पत्नियों से गलतियां होने पर या उनसे नाराजगी होने पर उन्हें अजीबोगरीब सजा देता है, जिसे सुनकर आप हैरान रह जाएंगे।

गलती करने पर पत्नियों को देता है एेसी सजा

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, सुखोव नाम के इस शख्स ने खुलासा किया कि अगर उनकी कोई पत्नी उन्हें परेशान करती हैं तो वह सजा के तौर पर एक महीने तक उसके साथ शारीरिक संबंध नहीं बनाते हैं। बहुविवाह से पहले सुखोव अपनी पहली पत्नी नटालिया सुखोवा के साथ 11 सालों तक रहे।

9 बच्चों का बाप है सुखोव

हॉस्पिटल में नर्स के तौर पर काम करने वाली नटालिया का कहना है कि पहले तो मैं इसके खिलाफ थी, लेकिन फिर मैंने अपना मन बदल दिया, क्योंकि वह वास्तव में बड़ा परिवार चाहते थे।

सुखोव के अब तक 9 बच्चे हैं। इनमें से 6 बच्चे नटालिया से और 3 एना से हैं।  एना अब उनके 10वें बच्चे को जन्म देने वाली हैं। यह परिवार 3 कमरे के फ्लैट में रहता है। सुखोव का एक अलग कमरा है और वह हर शाम अपनी एक पत्नी के साथ गुजारते हैं।

आैर बीवी आैर बच्चे चाहता है सुखोव

बता दें,सुखोव और उनकी तीनों पत्नियां नौकरी करती हैं। सुखोव कहते हैं, ‘मेरी पत्नियां अपने बच्चों का और अपना खर्च उठाने में पूरी तरह सक्षम हैं।’ सुखोव ने कहा कि वह अपने बढ़ते परिवार में और पत्नियों को स्वीकार करने के लिए तैयार हैं, लेकिन उनकी कुछ शर्तें हैं। सुखोव ने कहा कि मुझे लंबी, पतली और प्यार करने वाली लड़कियां पसंद हैं।

इस किसान ने तुलसी और आवला की खेती से सिर्फ 2 साल में कमा लिए 45 लाख रूपये

बिजनेस करने का पहला उसूल है कुछ नया करने की चाह रखना। गोरखपुर के अविनाश कुमार ने दो साल पहले इस बात को समझ लिया था। तभी तो उन्होंने पारंपरिक खेती को छोड़कर जड़ी-बूटी एवं दवाई के रूप में इस्तेमाल होने वाले पौधों की खेती की तरफ रुख किया, जिससे न सिर्फ इनकी किस्मत चमकी बल्कि और भी किसानों को इससे फायदा मिला है।

सरकारी नौकरी छोड़कर शुरू की खेती

40 वर्षीय अविनाश कुमार एक अच्छी सरकारी नौकरी कर रहे थे। 2005 में उन्होंने नौकरी छोड़कर गोखरपुर और मधुबनी में अपने पुश्तैनी खेतों में खेती करना शुरू किया। लेकिन पारंपरिक खेती में अधिक मेहनत और लागत के बाद भी मुनाफा कम मिलता था।

ऐसे में उन्होंने कुछ और करने की सोची। 2016 में उन्होंने मेडिसनल पौधों की खेती करनी शुरू की। इन जड़ी-बूटियों की बाजार में काफी मांग है। कई बड़ी कंपनियां इन्हें हाथों-हाथ खरीदती हैं। लिहाजा अपने 22 एकड़ खेतों में उन्होंने तुलसी, ब्रह्मी, कौंच, आंवला, शंखपुष्पी, मंडूकपर्णी समेत कई जड़ी बूटियां उगानी शुरू की।

दो साल में ही मिलने लगा मुनाफा

अविनाश ने बताया कि इस काम में उनकी पत्नी ने उनका साथ दिया। उन्होंने 32 प्रकार की जड़ी-बूटियों पर शोध किया कि कौन सा पौधा किस जगह के लिए उपयुक्त रहेगा। दोनों ने इस खेती करने के लिए 1.20 लाख रुपए की पूंजी लगाई।

अपनी मेहनत के दम पर दो साल में ही उन्होंने अपनी सालाना कमाई 40 से 45 लाख रुपए तक पहुंचा दी। फिलहाल वे लोग 14 प्रकार की जड़ी-बूटियां उगा रहे हैं। इसमें वे जैविक खाद का प्रयोग करते हैं। उन्होंने बताया कि पिछले साल उनके खेतों में तुलसी की पैदावार 800 क्विंटल हुई, कौंच की फसल 200 क्विंटल हुई।

2000 किसानों को जोड़ा अपने साथ

इन दो सालों के दौरान प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से उत्तर प्रदेश, बिहार, उत्तराखंड, झारखंड, छत्तीसगढ़ और राजस्थान के 2000 किसान उनसे जुड़े, जिन्हें अविनाश कुमार औषधीय खेती की बारीकियां भी सिखाते हैं और पारंपरिक खेती में ज्यादा मुनाफा कैसे पाया जाए इस बारे में भी सलाह देते हैं।

जल्द ही शुरू करेंगे एक्सपोर्ट का काम

अविनाश कुमार ने बताया कि 2019 से वे इन औषधीय पौधों को एक्सपोर्ट करेंगे। अमेरिका और खाड़ी देशों में इन जड़ी-बूटियों की बड़ी मांग है।

अासान नहीं रहा सफर

जब उन्होंने पारंपरिक खेती छोड़कर औषधीय पौधों की खेती के बारे में सोचा तो लोगों ने हतोत्साहित भी किया, डराया और आज भी डराते हैं कि इस काम में नुकसान होगा। इसके बावजूद अविनाश कुमार डटे रहे।

भारत सरकार के कृषि विश्वविद्वालयों के वैज्ञानिकों ने उनका मार्गदर्शन किया। जिसके बाद अपनी मेहनत से उन्होंने आैषधियों की खेती को फायदे का सौदा बना दिया। अब वे कई कृषि विद्यालयों में लेक्चर देने भी जाते हैं।

5 रुपये का टूथपेस्ट आपके मोबाइल की टूटी स्क्रीन को कर देगा फिक्स

अक्सर स्मार्टफोन को यूज करते हुए उसकी स्क्रीन गंदी हो जाती है। ऐसे में उसे साफ करने के लिए गिले कपड़े या फिर हाथ का इस्तेमाल करते हैं लेकिन इन सबके बाद भी आपके फोन का डिस्प्ले नए स्मार्टफोन की तरह नहीं चमकता है।

ऐसे में आज हम आपको एक ऐसी टिप देंगे जिसकी मदद से आप अपने स्क्रीन को पहले की तरह बिल्कुल नया बना सकते हैं। साथ ही टूटी स्क्रीन को भी जोड़ सकते हैं।

5 रुपये में मिलने वाला टूथपेस्ट सिर्फ टूथब्रश करने में ही नहीं बल्कि स्मार्टफोन को साफ करने में भी इस्तेमाल कर सकते हैं। सुनने में जरा अजीब लेगा लेकिन सच यह है कि इसकी मदद से आप अपने स्मार्टफोन की स्क्रीन को साफ करके पहले की तरह नया बना सकते हैं।

इसके लिए सबसे पहले पेस्ट को डिस्प्ले पर अच्छी तरह से लगाए और फिर कॉटन के किसी सॉफ्ट कपड़े से उसे अच्छी तरह से साफ करें। जिसके बाद डिस्प्ले नया दिखने लगेगा।

अगर स्मार्टफोन का डिस्प्ले टूट गया है तो उसे जोड़ने में भी टूथपेस्ट का इस्तेमाल कर सकते हैं। इसके लिए सबसे पहले पूरे डिस्प्ले पर अच्छे तरह से पेस्ट को लगाए और पर कपड़े की मदद से उसे दबा कर पूरे स्क्रीन पर फैलाते हुए साफ करें।

ऐसे करने से पेस्ट आपके टूटे हुए डिस्प्ले के दरारों में पूरी तरह से भर जाएगा और स्क्रीन के शीशे बाहर नहीं आएंगे। गौरतलब है कि हर व्यक्ति स्क्रीन टूटने और उसके गंदे होने से परेशान है।

ऐसे में यह टिप आपके बड़े काम का है। तो आज ही अपने फोन के डिस्प्ले को साफ करें और जोड़े ताकी फोन पहले की तरह नया दिखने लगे।