घर के लिए LED बल्ब खरीदते वक्त जरूर चेक करें ये निशान, बचेंगे पैसे

घर के लिए LED बल्ब खरीद रहे हैं, तो अब आप आसानी से इनकी क्वालिटी का पता कर सकेंगे. ऊर्जा दक्षता ब्यूरो ने LED बल्ब पर भी ‘स्टार लेबलिंग’ अनिवार्य कर दी है. इसके अनिवार्य होने का फायदा ये होगा कि अब आपको पता चल जाएगा कि कौन सा बल्ब कितनी ब‍िजली खर्च करता है.

जारी हो चुकी है अध‍िसूचना

LED बल्ब पर स्टार रेटिंग अनिवार्य करने के लिए ब्यूरो ने दिसंबर में ही अध‍िसूचना जारी कर दी थी. ऊर्जा दक्षता ब्यूरो (बीईई) के एक वरिष्ठ अधिकारी ने पीटीआई से कहा कि 1 जनवरी से LED बल्बों पर स्टार लेबिल‍िंग अनिवार्य कर दी गई है. बिजली मंत्रालय भी इस संदर्भ में अधिसूचना जारी कर चुका है.

स्टार लेबल‍िंग कार्यक्रम बिजली मंत्रालय की तरफ से चलाया जाता है. यह ऊर्जा दक्षता ब्यूरो (बीईई) का ऊर्जा संरक्षण का एक अहम कार्यक्रम है. इसके तहत घर में इस्तेमाल होने वाले ज्यादातर इलेक्ट्रोनिक उत्पादों पर स्टार लेबल‍िंग की जाती है.

किसी उत्पाद पर जितने ज्यादा स्टार होंगे, वह उतना ही बिजली की खपत कम करने वाला होगा. किसी उत्पाद पर अगर कम स्टार हैं, तो इसका मतलब है कि उसकी बिजली खपत काफी ज्यादा है.

ऐसे में अब आप जब भी दुकान पर जाएं तो वही LED बल्ब खरीदें, जिस पर सबसे ज्यादा स्टार हों. ध्यान रख‍िये जितने ज्यादा स्टार होंगे, बिजली की खपत उतनी ही कम होगी. इसका फायदा आपको कम बिजली के बिल के तौर पर मिलेगा.

बता दें कि अन्य बल्ब के मुकाबले LED बल्ब पहले ही ऊर्जा बचत वाले होते हैं. इन्हें इस्तेमाल करने से अन्य बल्बों के मुकाबले ज्यादा बिजली की बचत होती है. अब स्टार लेबलिंग होने के बाद आप आसानी से जान सकेंगे कि कौन सा बल्ब आपके ज्यादा पैसे बचाएगा.

घर छोड़कर शुरू किया यह बिजनेस, आज हैं करोड़ों का मालिक

तमिलनाडु राज्य के एक छोटे से कस्बे में रहने वाला एक 22 साल का नौजवान सिर्फ 15,000 रुपये लेकर अपने घर से निकला था. जिसका सपना था कि वह खुद का एक बिजनेस शुरू करें. आज अपनी मेहनत और मजबूत इरादों की बदौलत वह करोड़ों के मलिक हैं.

जानें एक सफल बिजनेसमैन की कहानी.

सी.के रंगनाथन शैंपू चिक बनाने वाली कंपनी केवनिकेयर प्राइवेट लिमिटेड के मालिक हैं. उनकी कंपनी शैंपू के अलावा, डेयरी, बेवरेज और सलून के बिजनेस में भी काम कर रही है.

…जब छोड़ा घर

शैंपू का बिजनेस उनका एक फैमिली बिजनेस है. लेकिन पिता के निधन के बाद उनके भाई और उनके बीच अनबन हो गई थी जिस वजह से उन्हें बाहर निकलना पड़ा. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक वह घर से केवल 15,000 रुपये निकले थे. घर से निकलने के बाद उन्होंने सबसे पहले अपने रहने का इंतजाम किया.

उन्होंने बताया कि हैं, ‘यह एक कमरे का एक छोटा सा घर था जिसका किराया सिर्फ 250 रुपये महीना था. मैंने एक केरोसिन स्टोव खरीदा और एक साइकिल भी ली. उन्होंने कहा ‘मैं अपने कंफर्ट जोन से बाहर निकल चुका था और अब मैं जिंदगी में आने वाली हर एक चुनौती को स्वीकारने के लिए तैयार था’ .कुछ समय बाद उन्होंने चिक ब्रैंड के नाम से शैंपू बनाना शुरू किया जिसका एक छोटा सा 7ml का शैशे सिर्फ 75 पैसे में मिला करता था. जो लोगों के लिए काफी सस्ता था.

उनके चिक शैंपू का नाम धीरे-धीरे पूरे देश में होने लगी. दक्षिण भारत में बनने वाला शैंपू पूरे भारत में बिकने लगा था. इतना ही नहीं ये शैंपू श्री लंका, बांग्लादेश, नेपाल, मलेशिया और सिंगापुर जैसे देशों में भी बिकने लगा. आज उनकी कंपनी में 4,000 से भी ज्यादा लोग काम करते हैं. उनका ये प्रॉडक्ट जबरदस्त तरीके से मशहूर हुआ. उनके इस प्रॉडक्ट ने उन्हें इतनी सफलता दी कि आज उनकी कंपनी टर्नओवर 1450 करोड़ जा पहुंचा है.

खो गया है पैन तो नहीं लेना पड़ेगा नया नंबर, ऐसे करवाएं रीप्रिन्‍ट

पैन कार्ड आज हमारी फाइनेंशि‍यल लाइफ का अहम हि‍स्‍सा बन गया है। दर्जनों ऐसे काम हैं जो अब पैन नंबर के बि‍ना नहीं कि‍ए जा सकते जैसे बैंक एकाउंट खोलना, गाड़ी खरीदना, शेयर, डि‍बेंचर या म्‍युचुअल फंड खरीदना, लोन लेना वगैरा। ब्‍लैक मनी के फ्लो को कंट्रोल करने के इरादे से सरकार नियमों को लगातार सख्‍त करती जा रही है।

पहले पैन कार्ड खो जाने पर दोबारा बनवाने में काफी मशक्‍कत करनी पड़ती थी, पर अब ऐसा नहीं है। सरकार ने इसे काफी सुवि‍धाजनक बना दि‍या है। आपको नया नंबर लेने की कतई जरूरत नहीं है आप पुराने पैन का ही री प्रिंट करा सकते हैं। इसके लि‍ए आपको कहीं जाने की जरूरत नहीं है, सबकुछ मोबाइल पर घर बैठे हो सकता है।

कब करा सकते हैं री प्रिंट

अगर आपका कार्ड खो गया है, कहीं रखकर भूल गए हैं, चोरी हो गया है या खराब हो गया है तो आप डुपलीकेट पैन कार्ड के लि‍ए अप्‍लाई कर सकते हैं। इसके अलावा अगर उसमें कुछ गलती है तो आप उसे ठीक भी करा सकते हैं। जानें इसका प्रोसेस

ये है प्रोसेस

  • इसके लि‍ए आप इस वेब पेज पर जाएं-  https://www.onlineservices.nsdl.com/paam/endUserRegisterContact.html
  • यहां अप्‍लाई ऑनलाइन में एप्‍लीकेशन टाइप के ड्रॉप डाउन मेन्‍यू में आखि‍री ऑप्‍शन करेक्‍शन कराने व री प्रिंट कराने का है, उसे चुनें।
  • कैटेगरी में इंडीवि‍जुअल चुनें।
  • इसके बाद आपको नाम, मोबाइल नंबर और जन्‍म ति‍थि‍ देनी होगी। यहां वही फोन नंबर दें जो आपने पैन कार्ड बनवाते वक्‍त दि‍या था।
  • आखि‍री ऑप्‍शन में आपको पैन नंबर देना होगा। यह डि‍टेल देने के बाद आपसे यह पूछ जाएगा कि आप क्या करना चाहते हैं।
  • आपको री प्रिंट करना है इसलि‍ए आपक करेक्‍शन की डि‍टेल वाले ऑप्‍शन को छोड़ दें। इसके बाद फीस देकर सबमि‍ट कर दें। कार्ड आपके द्वारा दि‍ए गए पते पर आ जाएगा।

एक एकड़ जमीन से 6 लाख तक कमाएं, मोरिंगा की खेती का ये है गणित

अगर आपके पास एक एकड़ जमीन है तो फि‍र आपको नौकरी तलाशने की जरूरत नहीं आप इसी से अच्‍छी खासी इनकम कर सकते हैं। इतनी जमीन में आप सहजन की खेती कर 6 लाख रुपए सालाना तक कमा सकते हैं। सहजन को अंग्रेजी में ड्रमस्टिक भी कहा जाता है।

इसका वैज्ञानि‍क नाम मोरिंगा ओलीफेरा है। इसकी खेती में पानी की बहुत जरूरत नहीं होती और रखरखाव भी कम करना पड़ता है। एग्रोग्रेन फार्फिंग के एक्‍सपर्ट राकेश सिंह के मुताबि‍क, सहजन की खेती काफी आसान पड़ती है और आप बड़े पैमाने नहीं करना चाहते तो अपनी सामान्‍य फसल के साथ भी इसकी खेती कर सकते हैं।

सहजन का करीब करीब हर हि‍स्‍सा खाने लायक होता है। इसकी पत्‍तियों को भी आप सलाद के तौर पर खा सकते हैं। सहजन के पत्‍ते, फूल और फल सभी काफी पोषक होते हैं। इसमें औषधीय गुण भी होते हैं। इसके बीज से तेल भी नि‍कलता है। आगे पढ़ें इसकी खेती का हर पहलू
और देखने के लिए नीचे की स्लाइड क्लिक करें

सहजन की खेती

यह गर्म इलाकों में आसानी से फल फूल जाता है। इसको ज्‍यादा पानी की भी जरूरत नहीं होती। सर्द इलाकों में इसकी खेती बहुत प्रॉफि‍टेबल नहीं हो पाती क्‍योंकि इसका फूल खि‍लने के लि‍ए 25 से 30डिग्री तापमान की जरूरत होती है।

यह सूखी बलुई या चिकनी बलुई मिट्टी में अच्छी तरह बढ़ता है। पहले साल के बाद साल में दो बार उत्‍पादन होता है और आमतौर पर एक पेड़ 10 साल तक अच्‍छा उत्‍पादन करता है। इसकी प्रमुख कि‍स्‍में हैं – कोयम्बटूर 2, रोहित 1, पी.के.एम 1 और पी.के.एम 2 आगे पढ़ें लागत और कमाई का गणि‍त

इतनी हो सकती है कमाई

एक एकड़ में करीब 1500 पौधे लग सकते हैं। सहजन के पेड़ मोटे तौर पर 12 महीने में उत्‍पादन देते हैं। पेड़ अगर अच्‍छी तरह से बढ़े हैं तो 8 महीने में ही तैयार हो जाते हैं। कुल उत्‍पादन 3000 कि‍लो तक हो जाता है।

सहजन का फुटकर रेट आमतौर पर 40 से 50 रहता है। थोक में इसका रेट 25 रुपए के आसपास होता है। इस तरह से 7.5 लाख का उत्‍पादन हो सकता है। अगर इसमें से लागत निकाल दें तो 6 लाख तक का फायदा हो सकता है।

रेल टिकट बेच करें कमाई, रेलवे के साथ बिजनेस का मौका

आप रेल टिकट बेचकर अच्‍छी खासी कमाई कर सकते हैं। इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्‍म कॉरपोरेशन लिमिटेड (आईआरसीटीसी) यह मौका दे रहा है।

आईआरसीटीसी द्वारा रेल ट्रेवल सर्विस एजेंट (आरटीएसए) की नियुक्ति की जाती है, जो अपने अपने शहर में ऑनलाइन रेल टिकट बुकिंग कर सकते हैं, जिसके बदले उन्‍हें आकर्षक कमीशन दिया जाता है। आप भी इसके लिए अप्‍लाई कर सकते हैं। आज हम आपको इस पूरे प्रोसेस के बारे में बताएंगे।

क्‍या है आरटीएसए एजेंट

आईआरसीटीसी द्वारा हर शहर में कई ऑथराइज्‍ड एजेंट नियु‍क्‍त किए जाते हैं, जो आईआरसीटीसी की वेबसाइट पर ऑनलाइन टिकट बुकिंग कर सकते हैं। इसके बदले में उन्‍हें कमीशन दिया जाता है।

क्‍या आएगा खर्च

रेल ट्रेवल सर्विस एजेंट बनने के लिए आपको पहली बार केवल 20 हजार रुपए देने होंगे, जिसका आईआरसीटीसी के नाम पर डिमांड ड्राफ्ट बनाना होगा। इसमें 10 हजार रुपए रिफंडेबल होंगे। इसके बाद आपको हर साल रिन्‍यूअल के लिए 5000 रुपए देने होंगे।

क्‍या करना होगा

सभी रेल ट्रेवल सर्विस एजेंट को क्‍लास पस्रनल डिजिटल सर्टिफिकेट लेना होगा। यह सर्टिफिकेट किसी भी इंडियन सर्टिफाइंग अथॉरिटी से मिल जाएगा।

कितना मिलेगा कमीशन

आईआरसीटीसी ने रेट तय किए हुए हैं, जो आप रेल ट्रेवल सर्विस एजेंसी के तौर पर कमीशन के रूप में ले सकते हैं। आप स्लिपर क्‍लास की टिकट पर अधिकतम 30 रुपए और एसी टिकट पर अधिकम 60 रुपए प्रति टिकट कस्‍टमर्स से एक्‍सट्रा वसूल सकते हैं। इसमें सर्विस टैक्‍स अलग होगा। आगे पढ़ें : ​कैसे कर सकते हैं अप्‍लाई

कैसे कर सकते हैं अप्‍लाई

आपको 100 रुपए के स्‍टाम्‍प पेपर पर एग्रीमेंट बनवाना होगा। 20 हजार रुपए का डिमांड ड्राफ्ट लगाना होगा। आईआरसीटीसी का रजिस्‍ट्रेशन फॉर्म भर उसकी कॉपी भी लगानी होगी।रजिस्‍ट्रेशन फॉर्म यहां से डाउनलोड कर सकते है http://contents.irctc.co.in/en/RegistrationForm.pdf इसके अलावा क्‍लास थर्ड पसर्नल डिजिटल सर्टिफिकेट भी लेना होगा। संबंधित जोनल रेलवे से भी लैटर लेना होगा। पैन कार्ड, पिछले सालों की इनकम टैक्‍स रिटर्न और एड्रेस प्रूफ भी देना होगा।

600 रुपए में घर ले जा सकेंगे ये कार, केवल 50 पैसे प्रति‍ Km चलाने का खर्च

दि‍ल्‍ली की स्‍टार्टअप कंपनी हरि‍मन मोटर्स एलएलपी एक टू सीटर इलेक्‍ट्रि‍क कार को बनाने पर काम कर रही है जि‍सकी बैटरी को कभी भी बदलने की जरूरत नहीं पड़ेगी। RT90 4जी कनेक्‍टि‍ड IoT प्‍लेटफॉर्म के साथ एक बार चार्ज होने पर 200 कि‍मी तक ट्रैवल करने का ऑफर देगी।

10 मि‍नट में होगी चार्ज

इतना ही नहीं यह कार एक बार चार्ज होने के लि‍ए फास्‍ट डीसी चार्ज पर केवल 10 मि‍नट का वक्‍त ही लगाएगी और एसी चार्ज पर 1 से 2 घंटे। इसके अलावा, हरि‍मन मोटर्स दि‍ल्‍ली एनसीआर की सभी सोसाइटीज को चार्जिंग स्‍टेशन लगाने के लि‍ए आमंत्रि‍त कर रही है ताकि‍ सोसाइटी कॉम्‍पलैक्‍स के भीतर ही स्‍टेशन लगाया जा सकता है।

2019 तक आएगी कार

मौजूदा समय में इस कार की सड़क पर टेस्‍टिंग चल रही है और उम्‍मीद है कि‍ इस कार को 2019 में पेश कि‍या जाएगा। आप इसे खरीद सकते हैं और 50 पैसे प्रति‍ कि‍मी के खर्च पर चला सकते हैं या आप ओनरशि‍प मॉडल की टोटल कॉस्‍ट को चुन सकते हैं

जहां आप इलेक्‍ट्रि‍क कार को अपने घर पर मात्र अनुमानि‍त 6 से 8 रुपए प्रति‍ कि‍मी के भुगतान पर ले सकेंगे और आपको कोई छुपी लागत नहीं देनी होगी और जीरो डाउन पेमेंट करना होगा। जि‍न लोगों का क्रेडि‍ट स्‍कोर अच्‍छा है वह डीलरशि‍प पर जाकर क्रेडि‍ट कार्ड से 600 रुपए देकर कार घर ले जा सकते हैं और इसके बाद हर दि‍न भुगतान कर सकते हैं।

कार को आराम से कर सकेंगे ट्रैक

भारत में कई कारणों की वजह से सेल्‍फ ड्राइव सेगमेंट को पेश नहीं कि‍या जा सकता है लेकि‍न यह जल्‍द ही वास्‍तवि‍कता में बदल जाएगा। वैसे भी यह कार 4जी प्‍लेटफॉर्म से जुड़ी हुई है तो इसे आसानी से ट्रेक और सेंट्रलाइज्‍ड कंट्रोल फ्रेमवर्क के जरि‍ए मैनेज कि‍या जा सकता है। कि‍राए पर ले सकते हैं कार जो लोग मेट्रो से आते हैं वह एक कार को कि‍राए पर लेकर शॉपिंग कर सकते हैं और फि‍र ड्रॉप प्‍वाइंट पर वापस कर सकते हैं।

पोस्ट ऑफिस की ये 5 स्कीमें देती है सेविंग अकाउंट से ज्यादा ब्याज

भविष्य की बुनियादी जरूरतों को ध्यान में रखते हुए लोग बचत के लिए तरह-तरह के निवेश विकल्प का इस्तेमाल करते हैं। हालांकि लोग आमतौर पर बैंक के सेविंग अकाउंट को ही सुरक्षित और बेहतर मानते हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि इसमें पैसा तो सुरक्षित रहता ही है साथ ही जमा पैसे पर 4 से 6 फीसद का ब्याज भी मिलता है।

मगर आपको जानकर हैरानी होगी कि डाकघर यानी पोस्ट ऑफिस में भी ऐसी तमाम स्कीम चलती हैं तो बैंक के सेविंग अकाउंट से भी ज्यादा ब्याज देती हैं। हम अपनी इस रिपोर्ट के माध्यम से आपको इनके बारे में ही बताने की कोशिश करेंगे।

डाकघर मासिक बचत आय (Post Office Monthly Income Scheme Account -MIS): डाकघर की मासिक आय खाता योजना ऐसे निवेशकों के लिए होती है जो एकमुश्त राशि का निवेश कर मासिक आधार पर ब्याज पाना चाहते हैं। यह योजना रिटायर्ड कर्मचारियों और वरिष्ठ नागरिकों के लिए बेहद उपयोगी होती है। इस खाते में म्योच्योरिटी पीरियड पांच साल होता है। इसमें खाता धारक को जमा पर हर महीने ब्याज मिलता है।

मौजूदा समय में इस योजना में 7.50 फीसद की दर से ब्याज मिल रहा है। इसे सिंगल या फिर ज्वाइंट दोनों तरह से खोला जा सकता है, दोनों में ही जमा की सीमा अलग अलग है। जैसा कि सिंगल में अधिकतम निवेश 4.5 लाख है तो ज्वाइंट खाते में आप 9 लाख रुपए तक जमा करा सकते हैं।

पब्लिक प्रोविडेंट फंड (पीपीएफ): पीपीएफ अकाउंट वेतनभोगी और व्यापारी वर्ग दोनों के लिए ही होता है। इसमें एक वित्तवर्ष में अधिकतम एक लाख रुपए तक के निवेश पर कर छूट का लाभ मिलता है। इसे या एकमुश्त या फिर 12 किश्तों में जमा किया जा सकता है। यह अकाउंट नाबालिग और बालिग दोनों का हो सकता है। इसका म्योच्योरिटी पीरियड 15 साल है। इसमें जमा पर 7.9 फीसद का ब्याज मिलता है।

राष्ट्रीय बचत पत्र (एनएससी):अगर आप सुरक्षित निवेश के साथ बेहतर रिटर्न भी चाहते हैं तो आपको इसका चयन करना चाहिए। इस योजना को सरकारी कर्मचारी, बिजनेसमैन और कर अदा करने वाले अन्य वेतन भोगियों की जरूरतों को मद्देनजर रखते हुए जारी किया गया है। इसमें निवेश की कोई सीमा नहीं होती है।

राष्ट्रीय बचत पत्र दो तरह के होते हैं पहल है, टाइप-1 (VIII इश्यू) और दूसरा, टाइप-2 (IX इश्यू)।इस पर टीडीएस नहीं कटता है। ट्रस्ट और एचयूएफ इसमें निवेश नहीं कर सकते हैं। इसमें जमा पर 7.9 फीसद की दर से ब्याज मिलता है। इसमें जमा पर आयकर की धारा 80सी के तहत छूट मिलती है।

पांच वर्षीय डाकघर आवर्ती जमा खाता:यह भी निवेश का एक बेहतर टूल्स है। इसमें आपका पैसा पांच साल के लिए जमा रहता है। इस खाते में जमा पर 7.2 फीसद की दर से ब्याज मिलता है। साथ ही इस बचत योजना में एक साल के बाद 50 फीसदी रकम निकलाने की व्यवस्था है। ध्यान दें कि प्रति माह इसमें 10 रुपये का निवेश जरूरी है।

डाकघर सावधि जमा खाता (Post office fixed deposit account): डाकघर सावधि जमा खाता भी निवेश का एक बेहतर माध्यम है, जिसमें आपको 6.8 से 7.6 फीसद की दर से ब्याज मिलता है। यह ब्याज दर आपको पांच वर्षीय खाते पर मिलता है। यह खाता व्यक्तिगत तौर पर खोला जा सकता है। सावधि जमा खाते पर आयकर अधिनियम 80c के तहत आयकर से छूट मिलती है।

वरिष्ठ नागरिक बचत खाता (एससीएसएस): यह बचत योजना खासतौर पर 60 साल से अधिक उम्र के लोगों के लिए है। ये 60 की उम्र पार कर चुके लोगों के लिए निवेश का शानदार विकल्प है। हालांकि, 55 साल से 60 साल की उम्र के बीच में रिटायर होने वाले या वीआरएस (स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति) लेने वाले व्यक्ति भी रिटायरमेंट के तीन माह पहले यह खाता खोल सकते हैं।

एक हजार रुपए से यह खाता खोला जा सकता है। इसमें अधिकतम निवेश की सीमा 15 लाख रुपए है। इस अकाउंट का म्योच्योरिटी पीरियड पांच साल है। इस खाते को अपनी पत्नी के साथ ज्वाइंट अकाउंट के रुप में भी खोला जा सकता है। इस पर 8.4 फीसद की दर से ब्याज मिलता है

न मिनिमम बैलेंस-न लेनदेन पर शुल्क, घर बैठे खोलें इस बैंक में खाता

भारतीय स्टेट बैंक ने पिछले साल सिर्फ मिनिमम बैलेंस चार्ज के तौर पर 1771 करोड़ रुपये वसूले थे. बैंक आप से तब मिनिमम बैलेंस चार्ज वसूलते हैं, जब आप न्यूनतम बचत अपने खाते में नहीं रखते.

लेक‍िन एक ऐसा भी बैंक है, जहां आपको किसी भी तरह का मिनिमम बैलेंस नहीं रखना पड़ता. यही नहीं, ऑनलाइन लेनदेन के लिए भी आपको किसी भी तरह का शुल्क नहीं देना होता है और इस बैंक में आप घर बैठे ही दो मिनट में अपना बचत खाता खोल सकते हैं.

हम बात कर रहे हैं पेटीएम पेमेंट्स बैंक की. यहां आपको अन्य बैंकों की तरह ही आपकी बचत पर ब्याज मिलता है, लेक‍िन दूसरे बैंकों के मुकाबले आपको यहां कई और सुव‍िधाएं भी मिलती हैं.

पेटीएम पेमेंट्स बैंक में आप घर बैठे खाता खोल सकते हैं. इसके लिए आपको सिर्फ पेटीएम ऐप डाउनलोड करना है और बिना कोई कागजी दस्तावेज जमा किए आप खाता खोल सकते हैं. ई- वेरीफिकेशन के जरिये केवाईसी नॉर्म्स पूरे किये जाते हैं.

इतना मिलेगा ब्याज

पेटीएम पेमेंट्स बैंक के साथ आपको 4 फीसदी ब्याज मिलता है. इसमें आप चाहे एक रुपये भी रखें, तो उस पर भी आपको ब्याज मिलेगा. क्योंक‍ि इसमें आपको किसी भी तरह का मिनिमम बैलेंस रखने की शर्त नहीं है.

फ्री फंड ट्रांसफर

जहां ज्यादातर बैंक सेविंग्स अकाउंट से फंड ट्रांसफर करने के लिए चार्ज करते हैं, वहीं पेटीएम पेमेंट्स बैंक ये सुविधा फ्री दे रहा है. पेटीएम के सेविंग्स अकाउंट से आप फ्री में एनईएफटी, आईएमपीएस और आरटीजीएस व यूपीआई कर पाएंगे.

मिलेगा वर्चुअल डेबिट कार्ड

पेटीएम पेमेंट्स बैंक के साथ आपको वर्चुअल डेबिट कार्ड भी मिलेगा. चेकबुक, डिमांड ड्राफ्ट समेत अन्य बैंकिंग सुविधाएं भी पेटीएम देगा. हालांकि इसके लिए आपको एक नॉमिनल फी देनी पड़ेगी.

पेटीएम पेमेंट्स बैंक आपको ये सुविधा देता है कि आप जब चाहें अपने मोबाइल के जरिये अपना बैलेंस चेक कर सकते हैं. इसके अलावा यह आपको अपने मोबाइल से ही अपनी सभी बैंक‍िंग जरूरतों को पूरा करने का मौका भी देता है.पेटीएम पेमेंट्स बैंक के साथ अगर आप फिक्स डिपोजिट शुरू कर रहे हैं, तो इस पर आपको बैंक 7.03 फीसदी ब्याज मिलेगा.

मुफ्त बीमा

नियम और शर्तों के मुताबिक आपको आपके खाते के साथ मृत्यु या स्थाई रूप से पूर्ण अपंगता की स्थिति में 2 लाख रुपये तक का मुफ्त बीमा कवर भी मिलता है.

3 से 4 लाख के निवेश में हो सकती है 50 हजार तक मंथली इनकम, यहां है मौका

स्‍कूलों में नए सेशन के लिए एडमीशन शुरू हो चुके हैं। ऐसे में अगर आप भी एजुकेशन सेक्‍टर में बिजनेस करना चाहते हैं तो देश का एक प्री-स्‍कूल ब्रांड आपको यह मौका दे रहा है। इस प्री-स्‍कूल ब्रांड की आप फ्रेंचाइजी लेकर बच्‍चों को क्‍वालिटी एजुकेशन तो प्रोवाइड करा ही सकते हैं,

साथ ही महीने में अच्‍छी-खासी कमाई भी कर सकते हैं। यह प्री-स्‍कूल अपनी फ्रेंचाइजी 3 से 4 लाख रुपए में दे रही है। अगर आपके पास निवेश के लिए पूंजी है तो आप इस मौके को भुना सकते हैं। आज हम आपको बता रहे हैं इस प्री-स्‍कूल के बारे में जिसके साथ जुड़कर आप महीने में 50 हजार तक की कमाई कर सकते हैं…

यह प्री-स्कूल दे रही है फ्रेंचाइजी

3 से 4 लाख में लें हैलो किड्स की फ्रेंचाइजी

– हैलो किड्स प्री-स्कूल की फ्रेंचाइजी हेड प्रज्ञान रे ने बताया कि देश भर में हैलो किड्स भारत और बांग्लादेश में प्री-स्कूल की फ्रेंचाइजी 525 से ज्यादा है। बेंगलुरू मे 90 से ज्यादा सेंटर हैं और देश भर में 25 जगहों पर ट्रेनिंग देने की सुविधा है। – हैलो किड्स के दो फ्रेंचाइजी मॉड्यूल हैं।

पहले फ्रेंचाइजी का कॉस्ट 2.99 लाख रुपए है जबकि दूसरे फ्रेंचाइजी का कॉस्ट 3.99 लाख रुपए है। हमारा फ्रेंचाइजी मॉडल नो रॉयल्टी मॉड्यूल पर काम करता है।

कितने साल के लिए मिलेगी फ्रेंचाइजी 

हैलो किड्स की फ्रेंचाइजी 2 साल के लिए होगी। 2 साल के बाद अगले दो साल की फ्रेंचाइजी रिनूअल के तौर पर 60 हजार रुपए देने होंगे। अगर आप 5 साल के लिए फ्रेंचाइजी लेना चाहते हैं तो आपको 50 हजार रुपए अतिरिक्त अदा करने होंगे।

फ्रेंचाइजी ओनर को देगी टेक्निकल सपोर्ट

हैलो किड्स फ्रेंचाइजी ओनर को पूरा सपोर्ट देगी। मसलन स्कूल के एंटीरियर और एक्सटीरियर सपोर्ट, टेक्निक्ल एंड ट्रेनिंग सपोर्ट, मार्केटिंग सपोर्ट के साथ एडवरटाइजिंग सपोर्ट फ्रेंचाइजी ओनर को मिलेगी।

फ्रेंचाइजी के लिए क्या है जरूरी 

कंपनी के मुताबिक, इसके लिए आपके पास कम से कम 1000 से 400 स्क्वायर फुट का स्पेस होना चाहिए। ये स्पेस ग्राउंड फ्लोर पर होने चाहिए। फ्रेंचाइजी ऐसी जगह खोलनी चाहिए जहां जनसंख्या ज्यादा होता। मतलब फ्रेंचाइजी रेजिडेंशल इलाके में हो तो बेहतर है।

ऐसे होगी इनकम

हैलो किड्स की फ्रेंचाइजी लेने वाले को महीने में 50 हजार रुपए तक की इनकम हो सकती है। अगर आपके स्कूल से 50 बच्चे जुड़ जाते हैं और सालाना फीस 20 हजार रुपए है, तो आपकी सालाना इनकम 10 लाख रुपए हुई।

इसमें 40 फीसदी खर्च को घटा दिए जाए तो 6 लाख रुपए की सालाना बचत होगी। हालांकि यह आपकी मेहनत पर निर्भर करेगा कि आप कितना कमाना चाहते हैं। बच्चों की संख्या बढ़ने पर आपकी आमदनी में भी बढ़ोतरी होगी।

इमरजेंसी में चाहिए 2 लाख से ज्‍यादा रुपए, यहां से कुछ ही घंटों में होंगे ट्रान्‍सफर

अक्‍सर ऐसा होता है कि हमें इमरजेंसी में पैसों की जरूरत होती है। इसके लिए हम अपने दोस्‍तों या रिश्‍तेदारों से पैसे उधार ले लेते हैं। लेकिन कई बार उनके पास भी उतनी धनराशि नहीं होती कि वे हमारी मदद कर सकें। ऐसे में इंस्‍टैंट लोन हमारे काफी काम आ सकते हैं। जी हां, देश में कुछ बैंक व कंपनी ऐसी हैं जो मिनटों में आपका लोन अप्रूव कर कुछ ही घंटों में आपके अकाउंट में ट्रान्‍सफर कर देती हैं। इनके जरिए आप आसानी से अपनी जरूरत के मुताबिक पर्सनल लोन इंस्‍टैंटली ले सकते हैं।

बजाज फिनसर्व

बजाज फिनसर्व केवल 5 मिनट के अंदर आपको 25 लाख तक का लोन दे रही है। इसे 24 से लेकर 60 महीनों में चुकाया जा सकता है। बजाज फिनसर्व की पूरी प्रोसेस भी ऑनलाइन है और जरूरी डॉक्‍यूमेंट्स उपलब्‍ध कराकर केवल 5 मिनट में लोन अप्रूव हो जाता है। लोन की राशि अगले 24 घंटों में आपके अकाउंट में ट्रान्‍सफर कर दी जाती है। अधिक जानकारी bajajfinserv.in पर ली जा सकती है।

HDFC बैंक

एचडीएफसी बैंक में आप सिर्फ एक मिनट के अंदर अपनी पर्सनल लोन एलिजिबिलिटी चेक कर लोन के लिए अप्‍लाई कर सकते हैं। इसके बाद बैंक आपका लोन मिनटों में अप्रूव कर देता है और अप्रूवल के 4 घंटों के अंदर आपके बैंक अकाउंट में लोन की राशि आ जाती है। हालांकि 4 घंटों में लोन पाने के लिए आपके सारे जरूरी डॉक्‍यूमेंट्स पूरे होना जरूरी है।

ICICI बैंक

ICICI बैंक भी आपको इंस्‍टैंट पर्सनल लोन की सुविधा दे रहा है। आप इसके लिए ऑनलाइन या फिर ICICI एटीएम के जरिए आवेदन कर सकते हैं। ICICI बैंक से केवल 72 घंटों के अंदर आपका लोन अप्रूव हो जाता है।

टाटा कैपिटल

टाटा कैपिटल आपको 25 लाख रुपए तक का इंस्‍टैंट लोन मुहैया करा रही है। आप इसके लिए ऑनलाइन ही अप्‍लाई कर सकते हैं। कंपनी की ओर से आपका लोन सारी डॉक्‍यूंमेंटेशन पूरी हो जाने के बाद अप्रूव हो जाता है और 72 घंटों के अंदर आपके अकाउंट में ट्रांसफर कर दिया जाता है।
स्‍टैंडर्ड चार्टर्ड बैंक

स्‍टैंडर्ड चार्टर्ड

बैंक में आप 1 लाख रुपए से 30 लाख रुपए का लोन इंस्‍टैंटली पा सकते हैं। हालांकि यह लोन चुका सकने की आपकी योग्‍यता पर आधारित होता है। स्‍टैंडर्ड चार्टर्ड बैंक सभी जरूरी डॉक्‍यूमेंट मिलने के बाद लोन को 4-7 वर्किंग डेज में आपके अकाउंट में ट्रान्‍सफर कर देता है।