सट्टा बाजार में तय हो गया देश का अगला प्रधानमंत्री, भाजपा को बड़ा झटका!

लोकसभा चुनाव 2019 के अंतिम चरण का मतदान हो चुका है। अब 23 मई को ईवीएम में कैद प्रत्याशियों की किस्मत का फैसला होगा। वहींं, सट्टा बाजार गर्म हो गया है। एक तरफ जहां वेस्ट यूपी में गठबंधन और भाजपा प्रत्याशियों पर बड़ा दांव लग रहा है। वहीं, सट्टा बाजार में इस बार भी भाजपा की पूर्ण बहुमत सरकार पर भाव लग रहा है।

वेस्ट यूपी में गाजियाबाद, हापुड़, ग्रेटर नोएडा में सटोरिये एक्टिव है। बताया जा रहा है कि सट्टा बाजार का अनुमान मुंबई स्थित सटोरियों से जुड़ा हुआ है। सट्टा बाजार के मुताबिक, भाजपा को 275 सीटें दे रहा है। वहीं, सहयोगी पार्टियों को 51 सीटें मिलने का अनुमान है। जबकि 2014 में भाजपा को 282 और एनडीए को 336 सीटों पर। यानि १० सीटों का नुकसान हो सकता है।

सट्टा बाजार में ये बने प्रधानमंत्री

सट्टा बाजार में भाजपा पर बड़ा दााव लग रहा है। सटोरिये NDA को 326 सीटें दे रहे हैं, जिसके बाद BJP को स्पष्ट बहुमत मिला रहा है। वहीं, भाजपा को 265 से 275 सीटें और सहयोगी दलों को 51 सीटों मिलने के अनुमान पर दाव लगा रहा है।

राहुल की हार-जीत पर भी लगा रहा सट्टा

गठबंधन प्रत्याशियों के अलावा कांग्रेस पार्टी पर भी सट्टा लग रहा है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर मोटा भाव है। अमेठी लोकसभा सीट से राहुल गांधी की हार पर सट्टा लगाया जा रहा है।

अगर किसी को उधार दिए हैं रुपए, तो तीन साल के अंदर करें क्लेम, नहीं तो क़ानूनी तौर पर नहीं होंगे वापिस, ये है नया कानून

अपने दोस्तों-रिश्तेदारों को आपने भी रुपए उधार दिए होंगे। ऐसा भी होता हुआ होगा कि उधार लेने वाले ने आपको समय पर पैसे नहीं लौटाए होंगे या देने से ही मना कर दिए होगा। अगर कोई आपके दिए हुए रुपए लौटाने से इनकार कर दे, तो आप कोर्ट में केस दर्ज कराकर पैसा पाने की कार्रवाई कर सकते हैं। लेकिन, इसकी भी एक समयसीमा होती है।

सुप्रीम कोर्ट के वकील सुबोध पाठक के मुताबिक अगर आपने किसी को रुपए उधार पर दिए हैं और उस व्यक्ति ने पैसे लौटाने से इनकार कर दिया है, तो आपके पास कार्रवाई करने के लिए तीन साल का समय होता है। इसके बाद आपका उधार दिया हुआ पैसा वापस दिलाने में कानून भी आपकी मदद नहीं कर सकता है।

ऐसे समझिए पूरा मामला-

मान लीजिए एक व्यक्ति ने दूसरे व्यक्ति को जनवरी, 2019 में एक लाख रुपए उधार दिए। दूसरे व्यक्ति ने जुलाई से पैसा लौटाना शुरू किया और सितंबर, 2019 तक हर महीने 10-10 हजार रुपए करके कुल 30 हजार रुपए ही लौटाए। इसके बाद उसके 70 हजार रुपए अभी भी बकाया हैं। ऐसे में अगर वह बाकी का रुपया चुकाने से इनकार करता है या समय लगता है, तो आखिरी पेमेंट की डेट से लेकर तीन साल तक के बीच पहला व्यक्ति सिविल कोर्ट में पैसों की रिकवरी का केस डाल सकता है।

इस केस में अक्टूबर, 2019 से लेकर सितंबर, 2022 तक वह कोर्ट में केस दाखिल कर सकता है। अगर उधार देने वाले व्यक्ति ने तीन साल में रिकवर का केस फाइल नहीं किया तो, उसका पैसों को रिकवर करने का अधिकार खत्म हो जाएगा। भारतीय कानून संहिता में दिए गए Law of Limitation Act, 1963 के Suit of Recovery के तहत दूसरी पार्टी से आखिरी किश्त आने की तारीख से लेकर तीन साल तक केस फाइल करना होगा।

हर किसी पर लागू होगा यह कानून

यह कानून किसी व्यक्ति, बैंक और सभी वित्तीय संस्थाओं पर लागू होगा। अगर बैंक ने भी किसी व्यक्ति को लोन दिया है और वह व्यक्ति लोन नहीं चुका पा रहा है, तो बैंक आखिरी ट्रांजैक्शन की तारीख से लेकर तीन साल के बीच कभी भी रिकवरी का केस दर्ज करा सकता है। इस कानून के तहत कोई भी पार्टी किसी भी पार्टी से पैसा रिकवर करने का केस दर्ज करा सकती है।

कोर्ट करेगा निर्णय

एक बार आपने केस फाइल कर दिया, तो यह तय करना कोर्ट की जिम्मेदारी होगी कि आपको पैसा वापस मिलेगा या नहीं। और अगर आपको अपनी रकम वापस मिलेगी, तो कितनी मिलेगी और कब तक मिलेगी। यह कार्रवाई पूरी तरह कोर्ट के नियमों के मुताबिक चलेगी, जिसमें दोनों पार्टियों की सुनवाई होगी और इसके बाद कोर्ट फैसला अपना फैसला देगा।

घर में नहीं रहेंगे एक भी मक्खी, मच्छर, छिपकली और चूहा, जानें भगाने के 10 टिप्स

घरों में मक्खी, मच्छर, छिपकली और चुहों को देखकर लोग परेशान हो जाते हैं। काफी प्रयासों के बाद भी इन्हें घर से बाहर नहीं किया जा सकता है। तो आइए हम आपको बताते हैं 10 ऐसे ही टिप्स जिन्हें आजमाने से सारे कीड़े मकोड़े घर से भाग जाएंगे।

चींटियां नहीं करेंगी परेशान: चींटियों से किचिन का सामान बचाना है तो उनके बिल के सामने ककड़ी के छोटे टुकड़े काट कर रख दें। वे कुछ ही घंटों में गायब हो जाएंगी।

चूहों से परेशानी: चूहे भगाने के लिए घर के उन स्थानों पर काली मिर्च के दाने फैला दें, जहां वे छिप जाते हैं। 24 घंटों में चूहे घर से बाहर हो जाएंगे।

च्युइंगम से छुटकारा: कई बार बच्चे च्युइंगम खाते-खाते कपड़ों पर भी चिपका लेते हैं। इसे हटाने का सबसे अच्छा उपाय है कपड़े को घंटा भी फ्रीजर में रख दें। च्युइंगम आसानी से निकल जाएगी।

स्याही के दाग नहीं दिखेंगे: कपड़े से स्याही के दाग हटाने के लिए दाग में टूथपेस्ट लगा दें, फिर उसे अच्छी तरह से सूख जाने दें। फिर सामान्य कपड़ों की तरह धुलें, दाम नहीं मिलेंगे।

ज्यादा मिलेगा नींबू का रस: नींबू से ज्यादा रस निकालने के लिए उन्हें गर्म पानी में कुछ देर के लिए रख दें, फिर जूस निकालें, उम्मीद से ज्यादा जूस मिलेगा।

आलू में नहीं होगा एक भी छिलका: आलू का छिलका जल्दी निकालने के लिए उबले आलूओं को तत्काल ठंडे पानी में डाल दें, फिर फटाफट छिलके उतर जाएंगे।

प्याज से नहीं आएंगे आंसू: प्याज काटने पर आंसू न आएं, इसके लिए च्यूइंगम खाते हुए प्याज काटें। बिना रोये सारे प्याज कट जाएंगे।

दांत चमकने लगेंगे: दांतों का पीलापन हटाने के लिए बेकिंग सोडा में हाइड्रोजन पैरॉक्साइड की कुछ बूंदें डालकर ब्रश करें। दांत मोतियों जैसे चमकने लगेंगे।

स्मैल से बर्तन नहीं महकेगा: कूकर में पत्तागोभी रखते समय एक ब्रेड ऊपर से रख दें, पत्तागोभी की स्मैल नहीं आएगी।

चमक उठेगा आइना: आईने को साफ करने के लिए कोल्ड ड्रिंक स्प्राइट का स्प्रे करें। सब कुछ क्लियर हो जाएगा।

कभी भी बिस्तर में इस तरीके से न खाएं खाना, वरना हो जायेंगे कंगाल

आपके बेडरूम की सबसे जरूर चीज होती है आपका बिस्तर। वास्तु के अनुसार पलंग दक्षिण या दक्षिण-पश्चिम दिशा में होना चाहिए। बिस्तर को दक्षिण दिशा की दीवार के साथ होना चाहिए। सोते समय सिर दक्षिण की ओर और पैर उत्तर में होने चाहिए। ध्यान रहे पलंग दीवार के एकदम बीच में होना चाहिए। यही पलंग की बेडरूम में एकदम सही दिशा है।

शहर के ज्योतिषाचार्य पंडित जगदीश शर्मा बताते है कि बिस्तर का वास्तु से गहरा संबंध होता है। अगर आप रात को बिस्तर में सोने के बाद अपने बिस्तर को ऐसे ही छोड़ देते है तो ये आपके लिए बहुत सारी परेशनियों को न्यौता देना होगा।

हम अनजाने में ही कुछ काम ऐसे करते है जिनके बारे में हमें पता नहीं होता है और हम अनजाने में बड़ी गलती कर बैठते हैं। जीवन में आर्थिक रुप से सफल होने के लिए हमें कुछ गलतियों को करने से बचना होगा। जानिए वो कौन सी गलतियां है जिन्हें आपको नहीं दोहराना है…..

बिस्तर को सही रखें

जब भी रात में आप अपने बिस्तर पर सोएं तो घ्यान रखें कि आपके मुंह में कुछ भी खाने की चीज न हो। सुबह बिस्तर से उठने के बाद ध्यान रहे कि बिस्तर को बिखरा हुआ नहीं छोड़ा जाना चाहिए। ऐसा करने से घर में पैसा आने में कमी हो जाती है आपर आर्थिक रूप से कमजोर होने लगते हैं। जब भी उठे तो बिस्तर को ठीक कर दे और कोशिश करें कि बेडशीट में एक भी सिलवट न हो तो अच्छा है।

बिस्तर में कभी न खाएं खाना

कई लोगों की आदत होती है बिस्तर पर ही पेपर बिछा कर खाना खाने की, लेकिन ऐसा बिल्कुल नहीं करना चाहिए। बिस्तर पर कभी भी खाना न खाएं। ग्रंथों के अनुसार कहा गया है कि बिस्तर पर अन्न व चाय नहीं ग्रहण करना चाहिए। इससे कई बीमारियां को घेरती ही है साथ ही बरकत नहीं होती है। घर में आर्थिक रुप से असर पड़ता है।

बिस्तर के सामने न लगाएं आईना

बेडरूम में सो कर जागने के बाद कभी भी आईना न देखें। वास्तु शास्त्र के अनुसार बेड के सामने कभी भी शीशा नहीं लगाना चाहिए। सुबह के समय सो कर उठने के बाद आईना देखने से उसका निगेटीविटी का रिफलेक्ट हमारे ऊपर पड़ सकता है। इसलिए बिस्तर से कभी भी शीशा न देखें।

Jio की छुट्टी, Vodafone मुफ्त में दे रहा 1 साल तक अनलिमिटेड कॉलिंग और इंटरनेट वाला ये प्लान

टेलीकॉम मार्केट में प्रतिष्पर्धा दिनों-दिन बढ़ती जा रही है। आए दिन कंपनियां भी अपने यूजर्स को आकर्षित करने के लिए सस्ते से सस्ता प्लान पेश कर रही हैं। इसके अलावा कई पुराने प्लान्स में बदलाव कर ज्यादा बेनिफिट के साथ दोबारा पेश किया जा रहा है। इतना ही नहीं अब कई प्लान्स के साथ अमेज़न प्राइम और नेटफ्लिक्स जैसी सर्विस भी मुफ्त में दी जा रही है।

इसी कड़ी में वोडाफोन ने एक शानदार ऑफर पेश किया है। इस ऑफर के तहत कंपनी अपने यूजर्स को मुफ्त में कॉलिंग और डाटा का बेनिफिट दे रही है। बता दें इस ऑफर के लिए वोडाफोन ने सिटी  बैंक के साथ साझेदारी की है। इस ऑफर का फायदा उन्हीं को मिलेगा जो पहले से कंपनी की सर्विस यूज कर रहे हैं।

इसका फायदा उठाने के लिए सबसे पहले आपको वोडाफोन की साइट पर जाना होगा और सीटी बैंक के क्रेडिट कार्ड के लिए अप्लाई करना होगा। क्रेडिट कार्ड मिलने के 30 दिनों के अंदर आपको 4,000 रुपये खर्च करने होंगे। बस इतना करने के बाद आप इस ऑफर का लाभ उठा सकेंगे, जिसमें यूजर्स को साल भर के लिए रोजाना 1.5 जीबी डाटा और अनलिमिटेड कॉलिंग मिलेगी।

कंपनी के इस ऑफर की आखिरी तारीख 31 जुलाई 2019 है। ध्यान रहें इस प्लान के एक्टिवेट होते हीं आपके मौजूदा प्लान्स के बेनिफिट्स खत्म हो जाएंगे। इस ऑफर का फायदा दिल्ली, नोएडा, गुरुग्राम, मुंबई, बेंगलुरु, पुणे, हैदराबाद, कोलकाता, अहमदाबाद, सेचुंदराबाद, चेन्नई, बड़ौदा, कोयम्बटूर, जयपुर और चंडीगढ़ के ग्राहक ही उठा सकते हैं। कंपनी ने इस ऑफर को पहले से ही लाइव कर दिया है जिसमें प्रीपेड यूजर्स को मुफ्त में मिल रहा कॉलिंग और डाटा का फायदा।

जानिए घर में कभी न रखें ये 10 चीजें, आ सकती है दरिद्रता, रुकती है तरक्की

कई लोग खूब मेहनत से पैसा कमाते है और बचत करने की सोचते हैं, लेकिन कभी भी उनके पास धन नहीं टिकता है। इसकी वजह वास्तु दोष हो सकती है। इससे घर में नकारात्मकता आ सकती है।

  • वास्तु एक्सपर्ट निधि खेड़ा के अनुसार घर में वास्तु दोष का बड़ा कारण भगवान की खंडित मूर्तियों का रखना हो सकता है। ये घर में नकारात्मकता लाती हैं। इससे कभी भी घर में पैसा नहीं टिकता है।
  • लोग घरों में सकारात्मकता लाने के लिए तुलसी का पेड़ लगाते हैं, लेकिन इसी पौधे के मुरझाने पर इसे घर में रखना अच्छा नहीं होता है। इससे मुसीबतें अपना पैर पसारने लगती हैं।

  • वैसे तो भगवान को फूल-माला चढ़ाना अच्छा माना जाता है, लेकिन फूलों के सूख जाने पर इन्हें घर में रखना अच्छा नहीं माना जाता है। इससे दरिद्रता आती है।
  • तुलसी का पौधा सूख जाने पर इसे किसी मंदिर में रख देना चाहिए। आप चाहे तो इसे किसी नदी में भी प्रवाहित कर सकते हैं।
  • पूजन के समय दीपक जलाने से घर में सुख-समृद्धि आती है, लेकिन दीया कभी भी खंडित नहीं होना चाहिए। क्योंकि चिटका हुआ या हल्का टूटा हुआ दीपक जलाने से घर में अशांति फैलती है। इससे हर काम में अड़चनें आ सकती हैं।
  • घर में कभी भी उग्र देवी-देवताओं की तस्वीर या मूर्ति न रखें। इससे लड़ाई-झगड़े बढ़ सकते हैं। इससे आपका मन भी अशांत रह सकता है।

  • घर के प्रवेश द्वार पर कभी भी सीढ़ि न रखें। इससे वास्तु दोष हो सकता है। ऐसा करने से घर से सुख-शांति छिन सकती है।
  • पूजा स्थान पर एक ही भगवान की एक से ज्यादा मूर्ति य तस्वीर न रखें। इससे मूर्ति दोष लग सकता है। इससे पूजा का फल भी नहीं मिलेगा।
  • घर के प्रवेश द्वार पर कभी भी जूते-चप्पल न रखें। ये घर में दरिद्रता लाते हैं। इससे मां लक्ष्मी नाराज हो जाती हैं। नतीजतन पैसों का खर्च बढ़ जाता है।

इतने डिग्री पर रखें AC का तापमान, हर रोज 5 यूनिट बिजली की होगी बचत, कम हो जाएगा हार्ट अटैक का ख़तरा

भीषण गर्मी से बचने के लिए शहरी इलाकों में दिन-रात एसी चल रहे हैं। इससे बिजली की खपत भी बढ़ रही है, इसलिए बिजली कंपनी ने अलर्ट जारी किया है कि एसी का तापमान 26 डिग्री रखें। इससे रोजाना 5 यूनिट बिजली बच सकती है।

बिजली बचाने के लिए दी गई इस सलाह के साथ राजधानी के डाॅक्टर भी सामने आ गए हैं। उनका कहना है कि शरीर का तापमान आमतौर पर 37 डिग्री रहता है, जबकि एसी 20 डिग्री या कम में चल रहे हैं। इससे शरीर को खासा नुकसान है। खासकर सांस और हार्ट की समस्याएं बढ़ रही हैं। यही नहीं, काफी ठंडे रूम से बाहर निकलने पर त्वचा में ज्यादा जलन महसूस होने लगती है। राजधानी में पिछले 15 दिन में दो-तीन दिनों को छोड़कर दोपहर का तापमान 44 डिग्री के आसपास चल रहा है।

बिजली कंपनी के मुताबिक जब से तापमान बढ़ा है, लोगों ने एसी 20 डिग्री या उससे भी कम पर चलाना शुरू कर दिया है। बिजली कंपनी के चेयरमैन शैलेंद्र शुक्ला ने बिजली खपत के आंकड़ों के हवाले से बताया कि रात में लोग एसी इतने कम तापमान में चला रहे हैं और कमरा इतना ठंडा कर रहे हैं कि ब्लैंकेट ओढ़ना पड़ रहा है।

इससे बिजली तो बर्बाद हो ही रही है, शरीर को भी नुकसान हो रहा है। बिजली कंपनी की तरफ से जारी एलर्ट में विशेषज्ञों के हवाले से कहा गया है कि अत्यंत कम तापमान में रखने पर एसी का कम्प्रेसर अपनी पूरी क्षमता से काम करता है, भले ही वह 5 स्टार क्यों न हो। इससे बिजली की खपत औसत से रोजाना 5 यूनिट तक बढ़ रही है।

सीने में इंफेक्शन, ड्राइनेस, जोड़ों में दर्द होता है : अमेरिकी रिसर्च

अमेरिकन सोसाइटी आफ हीटिंग, रेफ्रिजरेटिंग एंड एयरकंडीशनिंग इंजीनियर्स के एक रिसर्च के अनुसार आम लोगों के लिए एसी का तापमान 23.5 से 25.5 डिग्री के बीच रहना चाहिए। इससे कम होने पर श्वांस संबंधी बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है। ज्यादा ठंडे कमरे में लंबे समय रहने से सीने में इंफेक्शन, ड्राइनेस, जोड़ों में दर्द और सिरदर्द की शिकायतें हो सकती हैं।

कम तापमान से नसें सिकुड़ती हैं और बढ़ जाता है ब्लड प्रेशर

^23 डिग्री से कम एसी में लगातार रहने से खून की नसें सिकुड़ती हैं और ब्लड प्रेशर बढ़ जाता है। बीपी बढ़ने से हार्ट को ज्यादा काम करना पड़ता है। यह अटैक की आशंका पैदा करता है। शरीर का तापमान 37 डिग्री रहता है। अगर यह 32 डिग्री पर आ जाए तो हार्ट की रफ्तार बदलती है, जिससे खतरा होता है। इसलिए एसी को 26 डिग्री पर रखना चाहिए। -डाॅ. कृष्णकांत साहू, हार्ट सर्जन, एसीआई

आपके बेड को बर्फ जैसा ठंडा कर देता है ये गैजेट, कीमत किसी कूलर से भी कम

गर्मी आ चुकी है। इसके आते ही लोगों को अब गर्मी में राहत देने वाली चीजों की जरूरत पडऩे लगी है। ऐसे में अगर आपको इस गर्मी से बचना हो तो घर में एयर कंडीशनर लगवाना पड़ता है,लेकिन गर्मियों के मौसम में इसे खरीद पाना काफी महंगा हो जाता है,

इसीलिए आज हम आपको ऐसे गैजेट के बारे में बताने जा रहे हैं जो कुछ ही मिनटों में आपके बेड को चिल्ड कर देता है जिससे आपको लगेगा कि मानो आप बर्फ पर लेटे हों।

बता दें कि जिस डिवाइस की बात हम कर रहे हैं वो उसे ‘बेड जेट’ कहते हैं, बेड जेट किसी एयर कंडीशनर जैसा ही डिवाइस होता है लेकिन यह उससे काफी अलग होता है और इसे दीवार में नहीं लगाया जाता है बल्कि यह किसी वैक्यूम क्लीनर जैसा होता है

जिसे आप अपने बिस्तर के नीचे लगा सकते हैं इसके बाद आपको बस इस डिवाइस को ऑन करना होता है और इतने भर से आपका काम हो जाता है। बता दें कि 5 से 10 मिनट चलाने के बाद ये डिवाइस।

बता दें कि यह बेड जेट आसानी से कहीं भी लाया ले जाया जा सकता है क्योंकि यह कुछ किलोग्राम का ही होता है ऐसे में इसे कहीं भी ले जाया जा सकता है।

बता दें कि आप इस बेड जेट को 20 से 25 हजार रुपये के बीच आसानी से खरीद सकते हैं साथ ही आप इसे किसी बैग पैक में भी लेकर ट्रैवेल कर सकते हैं। यह एक चमत्कारी गैजेट है जो गर्मी के महीने में आपके बेड को बिल्कुल चिल्ड रखता है और आपकी थकान को पल भर में दूर कर देता है।

कोई भी नई कार लेने के लिए इस तरह मिल सकता है सीधा 50000 रुपए का डिस्काउंट

जब आप नई कार ( car ) खरीदने के लिए शोरूम जाते हैं तो आपको शोरूम वाले कार का जो रेट बताते हैं आपको लगभग उतनी ही रकम का भुगतान करना पड़ता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि कार की खरीद पर भी आप मोल-भाव ( bargaining ) कर सकते हैं और वो भी थोड़ा बहुत नहीं बल्कि तकरीबन 50,000 रुपये का। जी हां, आप कार शोरूम में ऐसा कर सकते हैं और इससे आपकी कार की कॉस्ट काफी कम भी हो जाती है।

दरअसल हर कार शोरूम में हमेशा ऐसे ऑफर्स चलते रहते हैं जिनके तहत आप बड़ी आसानी से कार के दाम कम करवा सकते हैं वो भी लगभग 40,000 से 50,000 रुपये तक, तो चलिए जानते हैं कि कैसे कार की कीमत कम करवाई जा सकती है।

ट्रैक रिकॉर्ड : अगर आप आप कार खरीदने जाते हैं तो कंपनी के शोरूम में आप गए हैं और उसी कंपनी की कार आपके घर में पहले से है तो आप ट्रैक रिकॉर्ड के बारे में बताकर 12 से 15 हजार का डायरेक्ट कार डिस्काउंट ले सकते हैं।

हिडेन एक्सेसिरीज : कई बार आपको कार मैट, सीट कवर और अन्य कार एक्सेसिरीज कार के साथ मिलती हैं लेकिन शोरूम वालों की तरफ से इसके बारे में ग्राहकों को बताया नहीं जाता है। ऐसे में अगर आप इसके बारे में जानते हैं तो आप इन एक्सेसिरीज की जगह 5 से 10,000 रुपये नई कार की कॉस्ट से कम करवा सकते हैं।

हिडेन ऑफर्स : कार शोरूम में हमेशा कुछ हिडेन ऑफर्स चलते रहते हैं लेकिन शोरूम वाले इसकी जानकारी ग्राहकों को नहीं देते हैं। लेकिन इन ऑफर्स के बारे में जानकारी है तो आप 20 से 30 हजार रुपये कार की कॉस्ट से कम करवा सकते हैं।

जॉब डीटेल्स : कई बार कार शोरूम में जॉब डीटेल्स बताने पर भी आपको भारी डिस्काउंट मिल जाता है। मसलन आप सेन्ट्रल गवर्नमेंट की जॉब में हैं ये प्राइवेट जॉब में हैं। ये सारी डीटेल्स भी आपको 10 से 15 हजार रुपये का डिस्काउंट दिलवा सकती हैं।

यूं ही नहीं 100 साल से अधिक उम्र तक जीते जापान के लोग, ये हैं उनकी लम्बी उम्र के राज़

हाल ही में जापान की केन तनाका ने 116 साल की उम्र में कैंसर को मात देकर दुनिया की सबसे उम्रदराज महिला बनीं और उन्हें गिनीज बुक आफ वर्ल्ड रिकॉर्ड से सम्मानित किया गया। इससे पहले भी यह रिकॉर्ड जापान की ही चियो मियाको के नाम पर था, लेकिन 117 साल की उम्र में उनका देहांत हो गया।

जापान एक ऐसा देश है जहां लोग काफी लंबे समय तक जीते हैं और इनका हेल्थ भी काफी अच्छा होता है। जहां दूसरे देशों में लोग 40 साल तक आते-आते कई बीमारियों से घिर जाते हैं वहीं जापानी बीमार भी बहुत कम पड़ते हैं। अब सवाल यह आता है कि आखिर इस लंबी उम्र का राज क्या है? किस तरह से ये अपनी जिंदगी को जीते हैं? क्या खाते हैं? आइए जानते हैं।

1. जापानी चाय का सेवन अधिक मात्रा में करते हैं। हालांकि यह चाय दूध या चीनी से नहीं बनती है बल्कि यह एक हर्बल टी है। इसमें एंटीऑक्सीडेंट्स की मात्रा अधिक होने के चलते ये शरीर में रोग प्रतिरोधक की क्षमता को बढ़ाते हैं। एक विशेष तरह की पत्तियों को पीसकर इस हर्बल टी को बनाया जाता है जिसे ‘माका’ कहते हैं।

2. जापान में लोगों का सोशल लाइफ काफी अच्छा होता है। एक साथ मिलकर सभी खूब गप्पे लड़ाते हैं, हंसी-मजाक करते हैं और इस तरह से तनाव को दूर रखने में ही ये अपनी भलाई समझते हैं।

3. जापानियों को गंदगी बिल्कुल पसंद नहीं। गर्मियों के मौसम में यहां के लोग दिन में दो बार नहाते हैं।

4. जापान के लोग फिटनेस पर बहुत ज्यादा ध्यान देते हैं। इसका मतलब यह नहीं कि इनका अधिकतर समय जिम में ही गुजरता है।

5. यहां के लोग बैठकर काम करने की अपेक्षा खड़े रहकर काम करना ज्यादा पसंद करते हैं। इनकी बॉडी हमेशा मूव करती रहती है। घर से स्टेशन या बस स्टॉप तक ये पैदल ही जाते हैं। ट्रेन में भी सीट के लिए मारामारी करने के बजाय ये आराम से खड़े रहकर अपनी यात्रा करते हैं।

6. रेडियो टेसो जापान की मॉर्निंग एक्सरसाइज है। जापान में सुबह के वक्त रेडियो पर इसकी धुन को टेलीकास्ट किया जाता है और वॉयस ओवर के अनुसार लोग वर्कआउट करते हैं।

7. जापानियों का खाना भी बिल्कुल अलग होता है जिसे यहां के लोग बोरिंग समझ सकते हैं। जबकि यही खाना उनके स्वस्थ रहने का राज है।

8. जापानी ज्यादातर उबला और भाप में पकाया हुआ खाना ही खाते हैं। डीप फ्राइड फूड इन्हें उतना पसंद नहीं है।

9. तेल और मसालों से ये कोसों दूर रहते हैं और ताजी हरी पत्तेदार और लोकल फूड को ज्यादा प्राथमिकता देते हैं। ये लोग खाना भी छोटी प्लेट य बाउल में खाते हैं और चम्मच की जगह ये चॉपस्टिक का इस्तेमाल करते हैं।

10. छोटी मछलियों को यहां लोग काफी अधिक मात्रा में खाते हैं। इन्हें ताजा खाना ही पसंद हैं और बासी भोजन को ये छूकर देखते तक नहीं हैं।