दो सौतनों ने शौहर का किया ऐसा बंटवारा, नारी उत्थान केंद्र का फैसला सुनकर आप भी कहेंगे ‘क्या बात है’

भारत विविधताओं का देश है, यहां सबकुछ अनोखे तरीके से होता है. ऐसे अक्सर आपने सुना और देखा होगा, लेकिन उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद में कुछ ऐसा हुआ है, जिसे जानने के बाद आप भी कहेंगे वाकई हमारा देश कई मायनों में अनोखा है. दरअसल, मुरादाबाद के एक बिजली कर्मी ने एक या दो नहीं बल्कि तीन महिलाओं से निकाह किया है. जिसके बाद पत्नियों में पति के वक्त को लेकर झगड़ा हुआ है और मामला नारी उत्थान केंद्र में पहुंचा है.

ऐसे हुआ तीसरी शादी का खुलासा

नारी उत्थान केंद्र में बिजलीकर्मी ने बताया कि उसकी पहली पत्नी की मौत हो चुकी है, इसलिए उसने दो और शादियां की. उसने बताया कि करीब 20 साल पहले उसने दूसरा निकाह कर लिया था. दूसरी बीवी से भी उसे तीन बच्चे हुए. बिजली कर्मी अचानक घर से गायब रहने लगा. जिसके बाद बीबी को शक हुआ और उसने अपने शौहर के पीछा किया, तो पता चला कि उसने एक और शादी कर रखी है और तीसरी बीवी से उसे एक बच्चा है.

एसएसपी के पास पहुंची बिजलीकर्मी की दूसरी पत्नी

तीसरी बीवी की बात जानने के बाद बिजली कर्मी की दूसरी पत्नी ने एसएसपी में तहरीर देकर अपने शौहर और सौतन के खिलाफ कार्रवाई की मांग की. महिला ने आरोप लगाया कि उसका पति उसे समय नहीं देता है, अपने बच्चों का भी ख्याल नहीं करता है. इतना ही नहीं महिला ने एसएसपी के सामने कहा कि उसके शौहर की सारी सैलेरी उनकी सौतन हड़प लेती है.

नारी उत्थान केंद्र में हुआ अनोखा फैसला

एसएसपी के बाद जब यह मामला नारी उत्थान केंद्र पहुंचा तो फैसला हुआ कि बिजली कर्मी दूसरी बीवी के साथ सप्ताह में एक दिन और तीसरी वाली के पास सप्ताह में छह दिन रहेगा. केंद्र ने यह भी कहा कि बिजलीकर्मी दोनों पत्नियों का खर्चा भी उठाएगा. नारी उत्थान केंद्र में आया यह फैसला सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है. कुछ लोग इस फैसले की तारीफ कर रहे हैं, तो कुछ लोग इसे बिजलीकर्मी की बेवकूफी करार दे रहे हैं.

जाने दुनिया के सबसे अमीर लोगों के शहर न्यूयॉर्क के बारे में रोचक बातें

जिन लोगों का भी विदेश घूमने का सपना होगा उसमे New York शहर ज़रूर शामिल होगा और हो भी क्यों न आखिर न्यूयॉर्क को दुनिया के सबसे विकसित शहर में से एक माना जाता है.

अगर आपको ये अबतक ये जानकारी है कि New York अमेरिका का एक विकसित शहर है तो हम आपको बता दें कि यह बात गलत है क्योंकि न्यूयॉर्क एक राज्य है और न्यूयॉर्क राज्य के अंतर्गत आने वाला शहर न्यूयॉर्क सिटी है जो कि सबसे विकसित शहर माना जाता है और ये शहर न्यूयॉर्क राज्य का सबसे बड़ा शहर है.

न्यूयॉर्क की आबादी में 86.2 लाख लोग रहते हैं और यहां का क्षेत्रफल 783.8 वर्ग किलोमीटर का है. विश्व व्यापर, मनोरंजन और फैशन में न्यूयोर्क का काफी प्रभाव है और इसी वजह से न्यू यॉर्क दुनिया के सबसे बड़े महानगरों में से एक बन चूका है. आज हम आपको न्यू यॉर्क से जुड़े कुछ रोचक तथ्य बताएंगे.

1. न्यूयॉर्क की एक लैब में महान वैज्ञानिक अल्बर्ट आइन्स्टाइन की आँखों को संभाल कर रखा गया है.

2. न्यूयॉर्क शहर अमीरों का शहर है और यहां पर हर 21 लोगों में से एक लकपति है.

3. साल 2018 में दुनिया का सबसे पहला “underground park” न्यू यॉर्क में ही बनाया गया था.

4. न्यू यॉर्क शहर में करीब 1600 से ज़्यादा पिज़्ज़ा रेस्टुरेंट हैं.

5. न्यूयॉर्क के बारे में एक बहुत ही चिंताजनक बात है कि यहां पर छोटी क्लास में पढ़ने वाले बच्चों में से 21% बच्चे मोटापे का शिकार हैं.

6. आपको बता दें की 2014 में किये गए एक सर्वे के अनुसार न्यूयॉर्क शहर को सबसे “Unhappiest City” माना गया है.

7. 28 नवंबर 2012 को न्यू यॉर्क में कोई भी अपराध की वारदात नहीं हुई थी इसलिए इस दिन को सबसे शांत दिन माना जाता है.

8. न्यूयॉर्क में बिना इमरजेंसी के कार का हॉर्न बजाना गैरकानूनी है.

ये है दुनिया के ऐसे देश जहां कभी नहीं डूबता सूरज, ना ही होती है रात

हमारे यहां हर रोज सुबह होती है, शाम होती है फिर रात होती है. लेकिन दुनिया में कुछ देश ऐसे भी हैं जहां सूरज नहीं ढलता है. आज बात उन देशों की.

नॉर्वे : नॉर्वे आर्कटिक सर्किल के अंतर्गत आता है. बहुत कम लोग इस बात से जानते होंगे कि यहां पर मई से जुलाई के बीच करीब 76 दिनों तक सूरज ढलता ही नहीं है. इस देश को मिडनाइट कंट्री भी कहा जाता है. अगर आप इंटरनेशनल ट्रिप का मन बना रहे हैं तो आप एक बार यहां जाकर इसका अनुभव ज़रूर लें.

स्वीडन : स्वीडन काफी सुन्दर और शांत देश है. ये देश काफी ठंडा भी रहता है फिर भी यहां लगभग 100 दिनों तक सूरज ही नहीं ढलता . इस देश में मई से लेकर अगस्त तक सूरज अपनी रौशनी बिखेरता रहता है और जब भी सूरज ढलता है आधी रात को ढलता है और सुबह 4:30 बजे तक यहां पर सूरज उग भी जाता है.

अलास्का : बर्फ की चादर से ढका और अपने खूबसूरत glaciers के जाना जाने वाला देश आलस्का है. यहां पर बर्फ को चमकते देखने का नज़ारा देखने लायक और मंत्र मुघ्ध करने वाला होता है. यहां पर मई से लेकर जुलाई तक सूरज नहीं ढलता.

 फ़िनलैंड : फ़िनलैंड बहुत सारी झीलों और आईलैंड्स से घिरा और सजा हुआ है. बेहद ही खूबसूरत और आकर्षक है. गर्मी के मौसम में सूरज अपनी चमक से इस देश को सराबोर करता रहता है .

कनाडा : कनाडा दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा देश है और यहां साल के लम्बे अरसे तक बर्फ पड़ती है जिससे ये ढका रहता है पर गर्मी के मौसम में यहां सूरज लगातार 50 दिनों तक चमकता है.

आइसलैंड : ब्रिटेन के बाद ये यूरोप का दूसरा सबसे बड़ा आईलैंड है.आपको शायद सुनकर हैरानी हो पर यहां पर 10 मई से लेकर पूरी जुलाई तक सूरज डूबता ही नहीं.

सिर्फ एक कैदी के लिए चलती है भारत की ये जेल,रोजाना रेस्टोरेंट से आता है स्पेशल खाना

हमारे देश में शायद ही कोई ऐसा मुजरिम होगा जो कभी जेल जाना चाहता होगा। दरअसल जेल का माहौल ही ऐसा होता है कि कोई सपने में भी वहां जाने की नहीं सोच सकता हैं, लेकिन भारत में ही एक ऐसी जेल है जहां सिर्फ एक कैदी को रखा गया है और उसे अन्य जेलों के खाने की जगह रोज़ रेस्टोरेंट का खाना भी खिलाया जाता है।

आपको इस बारे में जानकर हैरानी होगी लेकिन ऐसी जेल भारत के केंद्रशासित प्रदेश दीव में स्थित है जो किसी महल की तरह बनी हुई है। इस जेल का नाम दीव फोर्ट जेल है। इस जेल की खासियत ये है कि यह समुद्र के बीचो-बीच बनी हुई है और इसमें सिर्फ एक कैदी को रखा गया है। अगर आप दूर से इस जेल को देखेंगे तो यह समुद्र में खड़े किसी किले की तरह दिखाई देती है।

यह जेल 472 साल पुरानी है और ये टूरिस्टों को काफी आकर्षित करती है। आपको ये बात जानकर हैरानी होगी कि इस जेल में सिर्फ एक कैदी को रखा गया है जिसका नाम दीपक कांजी है। दीपक कांजी की उम्र 30 साल है और उसके ऊपर अपनी पत्नी की हत्या का आरोप है। जानकारी के मुताबिक़ दीपक पर आरोप है कि उसने अपनी बीवी को जहर देकर मार डाला था।

आपको बता दें कि इस जेल में दीपक को ज़्यादा दिनों तक नहीं रखा जाएगा क्योंकि दीपक अभी ट्रायल पर है और जैसे ही ये ख़त्म होता है, दीपक को भी अन्य कैदियों की तरह ही दूसरी जेल में शिफ्ट कर दिया जाएगा। इस जेल में दीपक की सुरक्षा में हर वक्त 5 सिपाही और एक जेलर तैनात रहते हैं। साल 2013 में इस जेल को बंद करने की घोषणा कर दी गयी थी साथ ही कई सालों से इस जेल को टूरिस्ट डेस्टिनेशन बनाने की दिशा में भी काम चल रहा है।

इस होटल में एक रात बिताने पर मिलेंगे पूरे 67 लाख, लेकिन यह है शर्त

शादी के बाद आमतौर पर हर कपल हनीमून मनाने के लिए जाता है. ऐसे में नया जोड़ा पैसे से ज्यादा सुविधाओं पर ध्यान देता है. इसके अलावा भी अगर आप छुट्टियों में घूमने का प्लान करते हैं तो ऐसे होटल में समय बिताना पसंद करते हैं जिसमें लग्जरी सुविधाओं के साथ ही समय बिताना यादगार साबित हो.

लेकिन लग्जरी होटल में जाना हर किसी के लिए मुमकिन नहीं. ऐसे में एक होटल शानदार स्कीम लेकर आया है, इस ऑफर को जानने के बाद आप भी उस होटल में जाने से खुद को रोक नहीं पाएंगे.

तमाम होटल देते हैं धांसू ऑफर

लेकिन आप जब भी किसी लग्जरी होटल का प्लान करते हैं तो सबसे पहले हमारे दिमाग में उसके किराये और उसमें ठहरने पर मिलने वाली सुविधाओं को लेकर आती है. अगर आपको किसी होटल में क्वॉलिटी टाइम बिताने पर पैसे मिले तो है न अच्छा ऑफर. शायद ही आप इस ऑफर से इंकार कर पाएं. दुनियाभर के तमाम होटल कपल्स को आकर्षित करने के लिए धांसू ऑफर देते हैं.

पूरी करनी होगी होटल की कंडीशन

इसी तरह का एक ऑफर इजरायल के होटल ने तैयार किया है. इस ऑफर में दी गई कंडीशन को अगर आप पूरा करते हैं तो आपको इनाम में 67 लाख रुपये मिल सकते हैं. इसके लिए होटल की तरफ से एक शर्त रखी गई है. इजरायल की राजधानी जेरुशलेम में स्थित येहूदा नाम के इस होटल में हनीमून या क्वॉलिटी टाइम बिताने के लिए आए कपल्स को स्पेशल ऑफर दिया जा रहा है.

इस तारीख पर होना होगा गर्भवती

इस ऑफर में हनीमून पर आई महिला को होटल की तरफ से बताई गई तारीख पर गर्भवती होना होगा. अगर आप भी ऐसा करने में कामयाब होते हैं तो आपको इनाम में 67 लाख रुपये मिलेंगे. होटल के स्टॉफ में एक डॉक्टर भी है जो यह पुष्टि करता है कि आप पहले से तो गर्भवती नहीं है. साथ ही वह यह भी पुष्टि करता है कि आप होटल की तरफ से तय की गई तिथि पर ही गर्भवती हुई हैं.

होटल ही उठाएगा ट्रिप का खर्चा

होटल के ऑफर के तहत महिला को 29 फरवरी को कंसीव करना होगा. 29 फरवरी को गर्भवती होने वाली महिला को 67 लाख रुपये का इनाम मिलेगा. इतना ही नहीं डॉक्टर की तरफ से अगर यह पुष्टि हो जाती है कि महिला 29 फरवरी को गर्भवती हुई है तो आपकी ट्रिप का खर्चा भी होटल की तरफ से ही उठाया जाता है.

येहूदा होटल की तरफ से यह ऑफर चार साल में एक बार दिया जाता है. यहां फरवरी में मेहमानों का आना शुरू होता है. होटल के मुताबिक ऐसे समय में हमारी बुकिंग 50 फीसदी तक फुल रहती है. भले ही इस डील को जीतने वाले कपल एक या दो ही होते हों, लेकिन अधिकांश रूम बुक होने से होटल को अच्छी कमाई होती है

बकरी खा गई 16 लाख रुपये, कंगाल हुए परिवार ने इस अनोखे तरीके से लिया बदला

एक किसान परिवार ने अपना पेट काटकर 16 लाख रुपये जमा किए लेकिन उनके सपने पर उस समय पानी फिर गया जब एक बकरी परिवार की जीवनभर की गाढ़ी कमाई को चबा गई। भूखी बकरी ने पूरी बचत के रुपयों को चबा कर बर्बाद कर दिया।

खेत को फैलाने के अपने सपनों के साथ इस किसान परिवार ने जैसे तैसे यह पैसा जमा किया था। जब उन्हें यह पता चला की उनकी जीवन भर की कमाई एक बकरी चबा गई तो उन्होंने बेहद अनोखे अंदाज में इसका बदला भी लिया।

गाढ़ी कमाई चबा गई बकरी

मामला सर्बिया का है। केंद्रीय सर्बिया में अरंदजेलोवैक के पास एक गांव रानीलोविक में सिमिक नाम के किसान का परिवार 10 हेक्टेयर जमीन खरीदने और अपने परिवार के खेत का विस्तार करने के लिए बचत कर रहा था। सब कुछ ठीक से चल रहा था।

लेकिन एक दिन एक बड़ी गड़बड़ हो गई। एक दिन परिवार जमीन देखने पड़ोस के गाँव तक गया था। इस दौरान उन्होंने सारा पैसा घर की मेज पर रख दिया और दरवाजा लगाकर चल दिए। जब वे विक्रेता से मिलक्र लौटे तो सारे पैसे बर्बाद हो चुके थे। घर के टूटे दरवाजे से अंदर घुसकर एक बकरी सारे नोट चबा गई थी।

किसान ने अपनी पीड़ा मीडिया से बात करते हुए व्यक्त की। घर कि मालकिन ने कहा, “हम जल्दी उठ गए और पैसे की गिनती की, क्योंकि जिस आदमी से हम खरीदना चाहते थे वह आने वाला था। हमने रहने वाले कमरे की मेज पर पैसा लगाया और नाश्ते के लिए भोजन कक्ष में गए थे।

उसके बाद हम तमवेशियों बाहर गए, लेकिन उन्होंने ध्यान नहीं दिया कि अंदर के दरवाजे भी बंद क्र दिए जाएं। जब तक हम वापस आए तो सब बर्बाद हो चुका था।” उसने आगे बताया, “जब हम लौटे तो पाया कि सभी पैसे बर्बाद हो चुके थे। मेरे पति को दिल का दौरा पड़ा। बकरी बेल्का ने लगभग सभी पैसे खाए! उसने केवल 300 यूरो छोड़ दिया था।

बकरी की उड़ाई दावत

इस बड़े नुकसान के बाद परिवार ने अपनी नाजों से पाले हुई बकरी को मार डाला और पड़ोसियों के साथ एक बढ़िया दावत की। सिमिक परिवार ने अपनी पीड़ा पत्रकारों बताते वक्त बकरी को पकाना जारी रखा। ऐसा माना जाता है कि सर्बिया में लोग जहां अपने पालतू जानवरों से प्यार करते हैं, उन्हें मारने के बारे में सोचा भी नहीं जा सकता। लेकिन इस परिवार ने बकरी को मारकर अपना बदला पूरा किया।

बिच्छू के शरीर में पलता है दुनिया का सबसे महंगा लिक्विड, इतनी है एक बूंद की कीमत

बिच्छू अपने शिकार को मारने के लिए या अपने बचाव के लिए ज़हर का इस्तेमाल करते हैं। लेकिन बिच्छू की केवल 25 प्रजातियां हैं जिनमें ज़हर पाया जाता है। इनमें पाया जाने वाला ज़हर इंसानों के लिए घातक साबित होता है।

बता दें कि बिच्छू ( Scorpion ) के ज़हर में भारी मात्रा में प्रोटीन पाया जाता है। यह प्रोटीन मनुष्यों को किसी भी तरह के होने वाले दर्द से निजात दिलाने में सक्षम होता है। बता दें कि बिच्छू के ज़हर से मल्टीपल स्केलेरोसिस (एमएस), सूजन, आंत्र रोग और रुमेटीइड गठिया से पीड़ित लोगों का इलाज किया जाता है।

बाजार में बिच्छू के ज़हर की कीमत की बात करें तो यह करीब 39,000,000 डॉलर यानी लगभग (2,70,000000 रुपए) होता है। इसी तरह दूसरे नंबर पर है धरती पर मौजूद सबसे खतरनाक और जहरीले जीवों में से एक किंग कोबरा।

किंग कोबरा का भी ज़हर बाज़ार में बहुत महंगा बिकता है। इसकी कीमत 1 करोड़ 45 लाख प्रति गैलन बताई जाती है। मुख्य रूप से किंग कोबरा ( king cobra ) के जहर का इस्तेमाल पेनकिलर में किया जाता है, साथ ही कई तरह की दर्दनिवारक दवाइयों में भी यह जहर उपयोगी माना जाता है।

इसी क्रम में आगे है लीसर्जिक एसिड डैथ्यलामैड। यह लिक्विड ड्रग इंसान के शरीर में मनोवैज्ञानिक प्रभाव डालता है। इसे 1960 के दशक से एक मतिभ्रम औषधि के रूप में उपयोग किया जाता है। इसको खाने से व्यक्ति अपना संतुलन खो देता है और आस-पास के वातावरण से बिलकुल ही अलग हो जाता है। LSD को लोग ड्रग के तौर पर इस्तेमाल करते हैं।

जाने चीन के बारे में कुछ ऐसे रोचक तथ्य जो आपने पहले कभी नहीं सुने होंगे .

हर देश की अलग वेश भूषा, अलग खाना, अलग संस्कृति और अलग बोली होती है और इसी तरह भारत के पड़ोसी देश चीन की भी अलग संस्कृति, बोली और अलग खाना है. आप सभी जानते होंगे कि टेक्नोलॉजी के मामले चीन काफी आगे है पर आज चीन से जुडी कुछ ऐसी बातें बताएंगे जो आपने पहले कभी नहीं सुनी होंगी.

  •  चीन में हर साल 40 लाख से ज़्यादा बिल्लियां खायी जाती हैं और वहां इसको स्वादिष्ट माना जाता है.
  • वैसे तो चीन के लोग चीनी भाषा के अलावा किसी भी भाषा में बात नहीं करते पर यहां पर अंग्रेजी बोलने वाले लोग अमेरिका से भी ज़्यादा हैं.

  • एक अनुमान के हिसाब से 2025 तक चीन में न्यूयॉर्क जैसे 10 शहर हो सकते हैं.
  • आखिरी चीनी बाघ को मारकर खाने के जुर्म में एक चीनी शख्स को 12 साल की सज़ा दी गयी थी.
  • चीन में फेसबुक और ट्विटर जैसी सोशल साइट्स बैन हैं.
  • 6. चीन में इंटरनेट की लत से परेशान लोगों के समाधान के लिए कैम्पस हैं.
  • अमेरिका की आबादी से भी ज़्यादा चीन में मोबाइल फ़ोन हैं.
  • अगर चीन की ज़मीन में गहरायी तक खुदाई की जाए तो अर्जेंटीना या चिली पहुंचा जा सकता है.

  • शाम 7 बजे के बाद चीन में ज़्यादतर लोग एक ही चैनल देखते हैं.
  • एक सर्वे के अनुसार दुनिया में 29 % प्रदूषण का कारण अकेले चीन है.
  • सूत्रों की माने तो चीन में 2020 तक 3 से 4 करोड़ लड़के ऐसे भी हो सकते हैं जिनके शादी करने के लिए लड़कियां नहीं होंगी.
  • दुनिया में पहली पेपर मनी चीन में ही बनाई गयी थी और ऐसा 1400 साल पहले हुआ था.
  • रिपोर्ट्स के अनुसार चीन में हर सेकेंड में 50,000 से भी ज़्यादा सिगरेट पी जाती है.

जानें क्यों कोका-कोला की सीक्रेट रेसिपी को रखा जाता है तिजोरी में बंद, सिर्फ दो लोगों को है इसकी जानकारी

कोका-कोला की एक पूर्व साइंटिस्ट Xiaorong You पर कंपनी के ट्रेड सीक्रेट चुराने का आरोप लगा है। यह साइंटिस्ट मूल रूप से चीनी है, लेकिन कई वर्षों से अमेरिका में रह रही थी। आरोपों के मुताबिक वह चीन में कोका-कोला जैसी कंपनी खोलना चाहती थी और इसके लिए उसने पिछले साल कोका-कोला से ट्रेड सीक्रेट चुराए।

इन सीक्रेट्स की कीमत करीब 850 करोड़ रुपए (12 करोड़ डॉलर) आंकी जा रही है। यह तो महज कोका-कोला की पैकेजिंग का सीक्रेट है। असल सीक्रेट तो कोका-कोला बनाने की रेसिपी है,

सिर्फ दो लोग जानते हैं असली फॉर्मूला

कंपनी के सिर्फ दो एक्जीक्यूटिव ही इसका राज जानते हैं। हालांकि, चर्चा यह भी है कि दोनों ही एग्जीक्यूटिव को आधा-आधा फॉर्मूला पता है।और यह भी कि दोनों एक्जीक्यूटिव को फॉर्मूला पता होने के कारण कभी एक साथ नहीं रखा जाता।कंपनी की स्ट्रैटजी के तहत यह दोनों ट्रैवल भी अलग-अलग ही करते हैं।

कहां रखा है फॉर्मूला

अटलांटा के सन ट्रस्ट बैंक में इसकी ओरिजनल कॉपी रखी गई है। सन ट्रस्ट फॉर्मूले को कभी शेयर न करे, इसलिए कोका कोला में उसे 48.3 मिलियन शेयर दिए गए हैं। साथ ही सन ट्रस्ट के अधिकारियों को कंपनी के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स में भी शामिल किया गया है।

ब बनाया गया था फॉर्मूला

कोका कोला का गुप्त फॉर्मूला 1886 में अटलांटा में बनाया गया था। इसे बनाने वाले जॉन एस पेंबर्टन उस वक्त दवा की एक दुकान चलाते थे और उन्होंने अपने घर के पिछवाड़े में एक केतली में अलग-अलग बूटियां और सामग्री उबालकर कोका कोला का फॉर्मूला ईजाद किया था। भारत में कोका कोला की शुरुआत 1956 में हुई।

दिमाग शांत करने वाला टॉनिक

विश्व भर में विख्यात इस सॉफ्ट ड्रिंक पर किताब लिखने वाले मार्क पेंडरगास्ट के मुताबिक कोका कोला को पहली बार दिमाग को शांत करने वाले टॉनिक के रूप में लोगों के सामने पेश किया गया।

इसके निर्माताओं का दावा था कि  कोका कोला पीने से सिरदर्द और थकान कम हो जाती है और दिमाग ठंडा हो जाता है। किताब में इस बात का दावा किया था कि शुरुआत में पेंबर्टन ने इसमें कोकीन भी मिलाया था।

जहां एक किलो मीट की कीमत है 3 लाख रुपए, हालात इतने बुरे की वहां की सेना ने भी कर दी बगावत

बेतहाशा महंगाई का सामना कर रहे वेनेजुएला में सेना ने बगावत कर दिया है. वेनेजुएला की सेना में डॉक्टर कर्नल रुबेन पाज जिमेनेज ने राष्ट्रपति निकोलस मादुरो से अपनी वफादारी खत्म करने की घोषणा की. कर्नल ने शनिवार को जारी एक वीडियो में कहा, ‘सशस्त्र बलों में हमारे में से 90 फीसदी लोग वास्तव में नाखुश हैं. हमें उन्हें सत्ता में बनाए रखने के लिए इस्तेमाल किया जा रहा है.’

उन्होंने अपने साथी सैनिकों से वेनेजुएला को मानवीय सहायता देने में मदद करने का अनुरोध किया.  एक सप्ताह पहले ही वायु सेना जनरल फ्रांसिस्को यानेज ने भी मादुरो से अपनी वफादारी खत्म कर दी थी. वेनेजुएला में सत्ता में रहने के लिए सेना का समर्थन महत्वपूर्ण होता है.

यहां के नोटों की नहीं रह गई है कोई कीमत

वेनेजुएला के आर्थिक हालात बेहद खराब हो गए हैं. यहां महंगाई आसमान छू रही है. यहां आलम यह है कि यहां एक ब्रेड की कीमत हजारों रुपए हो गए हैं. एक किलो मीट के लिए 3 लाख रुपए और एक लीटर दूध के लिए 80 हजार रुपए तक खर्च करने पड़ रहे हैं.

यहां की सरकार ने दुनिया भर के देशों से गुहार लगाई है कि वे यहां के हालात सुधारने में उनकी मदद करें. वहीं कोलंबिया का कहना है कि चंद दिनों में वेनेजुएला के करीब 10 लाख लोग उसके यहां आकर शरण ले चुके हैं, जिसके चलते उनपर दबाव बन रहा है. यहां महंगाई दर 10 लाख प्रतिशत तक पहुंच चुका है. वेनेजुएला में एक कप कॉफी की कीमत 2000 बोलिवर है.

वेनेजुएला सरकार दिन रात नोट छाप रही है ताकि बजट पूरा किया हो सके. लेकिन इन सबके कारण हालात बिगड़ गए हैं. वेनेजुएला की राजधानी काराकास में एक नर्स मेगुआलिदा ओरोनोज का कहना है कि हम सब यहां अरबपति हैं. लेकिन फिर भी हम गरीब हैं. मेरा वेतन 50 लाख महीना है, लेकिन मैं अपने बच्चे के लिए ढंग का एक वक्त का खाना नहीं खरीद सकती.

वेनेजुएला में एक यूनिवर्सिटी प्रोफेसर को अपना जूता मरम्मत करवाने के लिए चार महीने की सैलरी के बराबर 20 अरब बोलिवर (करीब 4 लाख रुपये) देने पड़े.

पानी से भी सस्ता है पेट्रोल

वेनेजुएला में एक लीटर पेट्रोल की कीमत केवल 62 पैसे है. अगर, भारत से मुकाबला करें तो यहां एक लीटर पेट्रोल के लिए आपको जितनी कीमत चुकानी पड़ती है, उसमें आप वहां 100 लीटर से भी ज्यादा पेट्रोल खरीद सकते हैं.