खरगोश पालने के शौक ने बदली किस्मत ,अब रेबिट फार्मिंग से सालाना कमाता है 10 लाख रुपये

जींद के संजय कुमार देशभर के पेट शॉप्स में रैबिट सप्लाई करते हैं। उनके इस प्रोफेशन की कामयाब कहानी के पीछे बड़ी दिलचस्प कहानी है। संजय को बचपन से रैबिट पालने का शौक था और घरवाले इससे नाराज थे।

बावजूद इसके उन्होंने अपने शौक को जिंदा रखने के लिए इंटरनेट से जानकारी जुटाने के बाद ट्रेनिंग ली और 9 साल में शौक इतना बड़ा प्रोफेशन बन गया। अपने रैबिट फार्म से संजय कुमार लगभग 10 लाख सालाना कमा रहे हैं।

घरवालों ने कर दिया था पैसे देने से इनकार…

  • शहर के रोहतक रोड बाईपास पर आधा एकड़ जमीन पर बना उनका रैबिट फार्म प्रदेश में सबसे बड़ा रैबिट फार्म है। इन दिनों इस फार्म में 6 नस्लों के 500 से ज्यादा खरगोश हैं।
  • संजय कुमार बताते हैं कि वर्ष 2008 में सिर्फ 100 खरगोश से व्यवसाय शुरू किया था। इसके बाद धीरे-धीरे खरगोशों की संख्या बढ़ाई।
  • दूर-दूर से लोग उनसे रैबिट फार्मिंग के बारे में जानकारी लेने के लिए आते हैं। रैबिट फार्मिंग के इस कारोबार से संजय कुमार को आय भी अच्छी-खासी प्राप्त हो रही है।
  • संजय की मानें तो उनके यहां से हर महीने हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय हिसार समेत दूसरी यूनिवर्सिटी में रिसर्च के लिए खरगोश भेजे जाते हैं। वहीं, देश-विदेश के खरगोश पालने का शौक रखने वाले लोग भी यहीं से लेकर जाते हैं।
  • देशभर की पेट शॉप में उनके फार्म से खरगोश की सप्लाई होती है। साथ ही, अपने व्यवसाय के सिद्धांत के बारे में संजय बताते हैं कि वह मीट के लिए रैबिट की सप्लाई नहीं करते।

पहले इंटरनेट से जानकारी ली, फिर ट्रेनिंग

संजय कुमार के मुताबिक, उन्हें बचपन में ही खरगोश पालने का शौक था, लेकिन घरवाले इससे सख्त नाराज थे। बावजूद इसके उन्होंने जिद पाल ली कि वह एक दिन प्रदेश का सबसे बड़ा रैबिट फार्म बनाएंगे। एक-दो बार ऐसा भी हुआ, जब घरवालों ने खरगोश खरीदने के लिए उसे पैसे नहीं दिए तो चोरी-छुपे पैसे निकालकर खरगोश खरीद लाए।

फिर मैट्रिक करने के बाद संजय ने कुछ दिन गुड़गांव में ठेकेदारी की। इसी दौरान उन्होंने गूगल पर रैबिट फार्मिंग की जानकारी ली। इसके बाद वह राजस्थान के अविकानगर में भारत सरकार के ट्रेनिंग सेंटर से एक सप्ताह की ट्रेनिंग लेकर आए। शुरुआत में कर्नाटक से 100 रैबिट अपने फार्म पर रखे।

रैबिट फार्मिंग में देखभाल जरूरी, खर्च काफी कम

  • रैबिट फार्मिंग शुरू करने के इच्छुक किसानों के लिए संजय कुमार का कहना है कि शुरुआत में शेड तैयार करने, खरगोश खरीदने पर पैसा खर्च होता है, लेकिन उसके बाद खर्च काफी कम है।
  • पोल्ट्री व्यवसाय से काफी कम खर्च व कम जोखिम का यह कारोबार है। रैबिट फार्म से न कोई बदबू आती और न ही किसी प्रकार कोई और पॉल्यूशन होता है। बस रैबिट की देखभाल पर ध्यान देना काफी जरूरी है। एक खरगोश के लिए दिनभर में एक मुट्ठी फीड, एक मुट्ठी चारा और दो-तीन कटोरी पानी पीता है।
  • चार महीने में खरगोश दो किलो वजन से ज्यादा का हो जाता है और फिर 350 से लेकर 500 रुपए तक में बिक जाता है। रैबिट फार्मिंग के लिए सरकार द्वारा 25 से 30 प्रतिशत सब्सिडी दी जाती है।

तीन एकड़ में बुल्गारिया गुलाब की खेती कर किसान कमा रहा है 10 लाख सालाना

जिला कैथल के गांव बरोला का प्रगतिशील किसान कुशलपाल सिरोही तीन एकड़ में बुल्गारिया गुलाब की खेती कर दस लाख रुपए सालाना कमा रहा है। पहले छह एकड़ गुलाब की खेती करते थे, लेकिन अब तीन एकड़ में कर रहे हैं। कुशलपाल सिरोही पिछले करीब 15 सालों से बुल्गारिया गुलाब की खेती कर रहा है।

वैसे तो गुलाब की हजारों किस्म होती हैं, लेकिन इत्र बुल्गारिया गुलाब से ही निकलता है। वैसे इस किस्म का नाम दमस्त है। लेकिन बुल्गारिया देश में ज्यादा होने के कारण इसका नाम बुल्गारिया ही पड़ गया। नवंबर व दिसंबर में इसकी कलम लगाई जाती है।

प्रैल माह में यह तैयार हो जाता है। एक बार लगाने के बाद 15 साल तक दोबारा लगाने की जरुरत नहीं पड़ती। अप्रैल माह में जितनी ज्यादा गर्मी पड़ेगी, उतनी ही ज्यादा पैदावार होगी। गर्मी ज्यादा पड़ने से बुल्गारिया गुलाब ज्यादा खिलता है।

कैसे बनाते हैं इत्र…

  • कुशलपाल सिरोही के अनुसार तांबे के बड़े बर्तन में पानी और गुलाब के फूल डाल दिए जाते हैं।
  • इसके बाद ऊपर से मिट्टी का लेप कर बर्तनों के नीचे आग जलाई जाती है।
  • भाप के रूप में गुलाब जल व गुलाब इत्र एक बर्तन में एकत्रित हो जाते हैं, जिस बर्तन में भाप बनकर इत्र जाता है, उसे पानी में डाल दिया जाता है।
  • गुलाब का इत्र केवल तांबे के बर्तन में निकाला जाता है। कई जगह कंडेंसिंग विधि से भी अर्क निकाला जाता है।
  • लेकिन आसवन विधि ज्यादा कारगर है। एक क्विंटल फूलों में मात्र 20 ग्राम इत्र निकलता है।
  • इंटरनेशनल मार्केट में एक किलोग्राम इत्र का मूल्य करीब सात से आठ लाख रुपए है।

इंटरनेट के माध्यम से बेचते हैं विदेशों में

गुलाब के इत्र की अमेरिका सहित अरब के देशों में डिमांड है। किसान ने बताया कि भारत में इसकी कोई मार्केट नहीं है। इसलिए बाहर इंटरनेट के माध्यम से बेचना पड़ता है। साऊदी अरब में सबसे ज्यादा डिमांड है। प्रति एकड़ 400 से 500 ग्राम निकलता है। अंतरराष्ट्रीय मार्केट में इत्र 7 से 8 लाख रुपए प्रति एक किलोग्राम के हिसाब से बिकता है।

प्रति एकड़ खेती पर चार हजार रुपए आता है खर्च

नवंबर व दिसंबर में गुलाब के पौधों की कटाई व छंटाई होती है। इसी दौरान नई कलमें भी लगाई जा सकती हैं। कुशपाल के मुताबिक, एक एकड़ में बुल्गारिया गुलाब लगाने में चार हजार रुपए के करीब खर्च आता है। एक एकड़ में करीब दो हजार कलम लगाई जा सकती हैं। यह तीन माह में तैयार हो जाता है। एक बार लगाया गुलाब 15 साल तक फूल देने के काम आता है।

ये है सबसे पौष्टिक चारा ,एक बार लगाने पर पांच साल के लिए मिलेगा चारा

पशुपालकों को गर्मियों में हरे चारे की सबसे ज्यादा परेशानी होती है। बरसीम, मक्का, ज्वार जैसी फसलों से तीन-चार महीनों तक ही हरा चारा मिलता है। ऐसे में पशुपालकों को एक बार नेपियर घास लगाने पर चार-पांच साल तक हरा चारा मिल सकता है।

इसमें ज्यादा सिंचाई की जरूरत भी नहीं पड़ती है। गन्ने की तरह दिखने वाली नेपियर घास लगाने के महज 50 दिनों में विकसित होकर अगले चार से पांच साल तक लगातार दुधारू पशुओं के लिए पौष्टिक आहार की जरूरत को पूरा कर सकती है।

पशुपालन विभाग के उप निदेशक वीके सिंह नेपियर घास के बारे में बताते हैं, “प्रोटीन और विटामिन से भरपूर नेपियर घास पशुओं के लिए एक उत्तम आहार की जरूरत को पूरा करती है। दुधारू पशुओं को लगातार यह घास खिलाने से दूध उत्पादन में भी वृद्धि होती है और साथ ही रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ती है।

हाइब्रिड नेपियर की जड़ को तीन-तीन फीट की दूरी पर रोपित किया जाता है। इससे पहले खेत की जुताई और समतलीकरण करने के बाद घास की रोपायी की जाती है और रोपाई के बाद सिंचाई की जाती है। घास रोपण के मात्र 50 दिनों बाद यह हरे चारे के रूप में विकसित हो जाती है।

एक बार घास के विकसित होने के बाद चार से पांच साल तक इसकी कटाई की जा सकती है और पशुओं के आहार के रूप में प्रयोग की जा सकती है। नेपियर घास का उत्पादन प्रति एकड़ लगभग 300 से 400 कुंतल होता है। इस घास की खासियत यह होती है कि इसे कहीं भी लगाया जा सकता है।

एक बार घास की कटाई करने के बाद उसकी शाखाएं पुनः फैलने लगती हैं और 40 दिन में वह दोबारा पशुओं के खिलाने लायक हो जाती है। प्रत्येक कटाई के बाद घास की जड़ों के आसपास हल्का यूरिया का छिड़काव करने से इसमें तेजी से बढ़ोतरी भी होती है। वैसे इसके बेहतर उत्पादन के लिए गोबर की खाद का छिड़काव भी किया जाना चाहिए।

सब्जी की खेती ने बदली किस्मत, सालाना 3 फसलें और 3 गुना आमदनी

गांव अभोली के किसान गुरदीप सिंह ने अपने खेतों में उत्तम क्वालिटी का आलू उत्पादन कर न केवल खेती में बड़ा मुकाम हासिल किया है, बल्कि वह पारंपरिक खेती से तीन गुणा आमदनी सब्जियों से लेता है।

उसके खेत में उत्पादित आलू चौ. चरण सिंह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय हिसार में उत्तम क्वालिटी सब्जी कंपीटीशन में तीन बार प्रथम स्थान रहा है। इसी उपलब्धि पर किसान को बड़े किसान मेले में पांच बार मुख्यातिथि से सम्मान भी मिला है। वहीं गुरदीप सिंह अब दूसरे किसानों को सब्जी की खेती के लिए प्रेरित भी करता है।

किसान गुरदीप सिंह का सब्जी उत्पादन में कोई सानी नहीं है, क्याेंकि उसके खेत में उत्पादित सब्जियां उत्तम क्वालिटी की होती हैं। कृषि विभाग के अधिकारी भी इसकी पुष्टि करते हैं। किसान गुरदीप सिंह ने बताया कि उसके पास 14 एकड़ जमीन है। घाटे का सौदा बनी पारपंरिक खेती से उसके परिवार का गुजारा मुश्किल था, लेकिन 20 साल पहले वह कृषि विशेषज्ञों के संपर्क में आया, तो उसको सब्जियाें की खेती की सलाह मिली।

उसके बाद उसने सब्जियों की खेती करना शुरू कर दिया। सब्जियों के उत्पादन से पारंपरिक खेती के मुकाबले तीन गुणा प्रति एकड़ आमदन होती है, क्योंकि साल में वह तीन सब्जियों की फसलें लेता है। वहीं उसके खेतों में उत्पादित आलू चौ. चरण सिंह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय हिसार में उत्तम क्वालिटी में प्रथम रहता है। उसको हर साल किसान मेले में मुख्यातिथि की ओर से आलू की उत्तम क्वालिटी पर सम्मान मिलता है।

गांव अभोली के किसान गुरदीप सिंह के खेत में उत्पादित आलू अच्छी क्वालिटी में पांच बार हरियाणा में प्रथम रहा

भिंडी की फसल से खरपतवार की निराई करवाता किसान गुरदीप सिंह।

सब्जियों की खेती से दर्जनों को मिलता है रोजगार:गुरदीप सिंह ने बताया कि सब्जियों के उत्पादन से किसान अपनी आमदनी बढ़ा सकता है। इसके अलावा ग्रामीण स्तर पर लोगों को रोजगार भी मिलता है, क्योंकि वह अपने खेतों में 20 सालों से सब्जी उगाता है।

जहां रोजाना करीब 25 लोगों को रोजगार मिलता है। इसके अलावा उसके खेतों में प्रतिदिन दर्जनों किसान विजिट करने पहुंचते हैं। किसान उनको सब्जी उत्पादन के लिए प्रेरित करता है।

सब्जियों की खेती से किसान ले सकते हैं अच्छी आमदनी

कृषि विज्ञान केंद्र में मृदा विशेषज्ञ डॉ. देवेंद्र जांखड़ ने बताया कि सब्जियों के उत्पादन से जहां किसान अच्छी आमदन ले सकते हैं। वहीं भूमि की उपजाऊ शक्ति में भी इजाफा होता है। इसका उदाहरण गांव अभोली में किसान गुरदीप सिंह सब्जियों के उत्पादन से पारंपरिक खेती के मुकाबले तीन गुणा आमदन खेती से लेता है। यह किसान के खेत में उत्पादिक आलू उत्तम क्वालिटी का भी होता है, क्योंकि यह किसान की मेहनत व लग्न का नतीजा है।

कुछ खास नहीं बस बदला खेती करने का तरीका और अब होती है 30 लाख की कमाई

परंपरागत खेती छोटे किसानों के लिए तो घाटे का सौदा थी ही लेकिन बड़े किसान भी सदैव कर्ज में डूबे रहते थे। मो. बड़ोदिया ब्लाक के गांव मोरटा मलोथर के 40 बीघा जमीन के बड़े किसान ओमप्रकाश पंवार ने परंपरागत खेती में कुछ इसी तरह महसूस किया।

कर्ज से तंग आकर इस किसान ने उद्यानिकी के साथ मिश्रित खेती को अपनाया और देखते ही देखते खेती को लाभ का धंधा बनाकर दिखा दिया। पिछले पांच सालों से यह किसान अपनी 40 बीघा जमीन में मिश्रित खेती कर सालाना 30 लाख से भी अधिक की कमाई कर पा रहे हैं।

किसान ने इस बार भी गेहूं, चना, मसूर, मेथी, रायड़ा, कलौंजी, चंद्रसुर, संतरा, आलू, प्याज, लहसुन, नीबू, मूंग, उड़द, मक्का व हरी सब्जी के साथ दर्जनभर से अधिक तरह की फसल उगाई है। इसके अलावा पूरी जमीन में रासायनिक खाद की जगह जैविक खाद का उपयोग किया गया है।

मोरटा मलोथर के किसान ओमप्रकाश पंवार ने 6 बीघा जमीन में संतरा व औषधि फसल चंद्रसुर की एक साथ पैदावारी ली। रबी की फसल की बोवनी के समय के पूर्व किसान ने संतरे के बगीचे में एक किलो प्रति बीघा के हिसाब से खेत में 6 किलो चंद्रसुर की बोवनी कर दी। कम सिंचाई व 1300 रुपए प्रति बीघा की लागत लगाकर किसान ने इस जमीन से 4 क्विंटल प्रति बीघा के मान से 24 क्विंटल चंद्रसुर की पैदावारी ली है।

वर्तमान बाजार भाव के हिसाब से जिसकी कीमत सवा लाख रुपए के करीब है। इसी खेत में लगे संतरे के पेड़ भी संतरे के फलों से लदालद हो रहे हैं। करीब 150 क्विंटल से अधिक संतरे की फसल की पैदावारी आने का अनुमान है। संतरे की फसल से भी किसान को लगभग साढ़े 7 लाख रुपए से अधिक की कमाई होगी। इस तरह किसान को 6 बीघा जमीन की एक साथ की गई दोनों फसलों से 9 लाख रुपए की आमदनी होगी।

ग्रामीण उद्यान विस्तार अधिकारी, मो. बड़ोदिया बीसी सौराष्ट्रीय का कहना है मो. बड़ोदिया विकासखंड में 5 वर्ष पहले कुछ चुनिंदा किसान ही 5 हेक्टेयर जमीन के रकबे में उद्यानिकी व औषधी खेती करते थे, लेकिन अब विकासखंड में 150 किसान 55 से 60 हेक्टेयर जमीन में उद्यानिकी के साथ तुलसी, अश्वगंधा, इसबगोल, चंद्रसुर, कालमेद, सफेद मूसली, एपल बैर, पुष्प व सीताफल के साथ कई प्रकार की औषधीय खेती कर रहे हैं।

विकासखंड में पांच सालों में उद्यानिकी व औषधि खेती का रकबा 10 गुना से भी अधिक बढ़ गया है। इसी बीच इस विकासखंड में नेट हाउस की संख्या भी बढ़कर 15 हो गई है।

पौधों को जल्दी बड़ा करने के लिए ऐसे करें डिस्प्रीन का प्रयोग

दोस्तों आप ने एस्प्रिन का पौधों पर इस्तेमाल सुना ही होगा आज हम आपको बताएँगे की सच्च में एस्प्रिन डालने से पौधे तेज़ी से बढ़ते है जा नहीं। उसके लिए हम एक छोटा सा प्रयोग करेंगे ।

इसमें हम दो गमले लेंगे । एक गमले में हम बीज डिस्प्रीन में भिगो कर लगाएंगे और दूसरी तरफ पानी में भिगो कर लगाएंगे । भारत में एस्प्रिन की टेबलेट अब डिस्प्रीन के नाम से मिलती है ।

डिस्प्रीन को पानी में घोलने के बाद उसमे बीज कुछ घंटो के लिए भिगो कर लगाना है । बीज लगाने के बाद आप देख सकते है की कैसे डिस्प्रीन में भिगो कर लगाने वाले बीज बड़ी तेज़ी से बढ़ते है और दूसरे गमले वाले बीज बहुत धीरे ग्रोथ करते है तो इस से ये साबित होता है की एस्प्रिन पौधों की ग्रोथ के बढ़ाती है ।

वीडियो भी देखें

इसके इलावा कई बार होता है कि हमारे बगीचे के पौधों में फंगस लग जाती है जिसके कारण पौधे मुरझा जाते हैं व उनकी चमक भी खो जाती है । इस कमी को दूर करने के लिए आप एक गैलन पानी में एक डिस्प्रीन मिला दें जिसके कारण पौधों में फंगस नहीं लगेगा और आपके बगीचे की ताजगी बरकरार रहेगी।

यह गन्ना किसान एक एकड़ से कमाता है 2 लाख 80 हज़ार रुपए

युवाओं का कृषि के प्रति बढ़ते रुझान की मिसाल उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी जिले में रहने वाले किसान अचल मिश्रा ने पेश की है। इन्होंने गन्ने की आधुनिक तरीके से खेती करते हुए कई बार प्रदेश स्तरीय व जिला स्तरीय पुरुस्कार प्राप्त किए हैं। इस वर्ष भी इन्होंने गन्ना के अच्छे उत्पादन के मद्देनज़र जिले में प्रथम पुरुस्कार प्राप्त किया है।

उनका मानना है कि गन्ने की खेती के लिए उन्होंने केंद्रीय गन्ना अनुसंधान संस्थान लखनऊ व कोयबंटूर स्थिति अनुसंधान केंद्रों से सफल खेती की जानकारी प्राप्त की है। यदि उनकी शैक्षणिक योग्यता की बात करें तो वह लखनऊ विश्वविद्दालय से एल.एल.बी की डिग्री हासिल की है।

वर्ष 2005 से खेती प्रारंभ करने वाले अचल ने साल 2007-08 में गन्ना की खेती से सर्वाधिक उत्पादन के पैमानों पर खरा उतरते हुए उत्तर प्रदेश में प्रथम स्थान प्राप्त किया। इस वर्ष भी उन्होंने गन्ने की COO- 238 किस्म से प्रति बीघे लगभग 250 क्विंटल से ऊपर की उपज प्राप्त की है। जिस दौरान गन्ने की लंबाई लगभग 18.5 फीट प्राप्त की साथ ही वजन भी अच्छा आंका गया।

बताते चलें कि गन्ने की खेती में वह गोबर की खाद, हरी खाद आदि का इस्तेमाल करते हैं। साथ ही कीटनाशकों आदि का इस्तेमाल कम से कम करते हैं। पेड़ी की फसल के दौरान वह गन्ने की पत्ती को सड़ाकर एक बेहतर खाद के तौर पर इस्तेमाल करते हैं। यूरिया का इस्तेमाल वह स्प्रे के तौर पर करते हैं। जिस दौरान उसकी 2 से 3 किलोग्राम की मात्रा प्रति एकड़ स्प्रे करते हैं। तो वहीं उनका मानना है यह भी है कि गन्ने की खेती विशेषकर पानी पर निर्भर करती है।

उन्होंने 12 बीघे की खेती से यह साबित कर दिया कि कम रकबे में अच्छी खेती के द्वारा अच्छी कमाई की जा सकती है। शुरुआती दौर में उन्होंने खेती की अधिक जानकारी न होने के कारण महाराष्ट्र के किसानों से भी मुलाकात कर जानकारी ली और गन्ने की अच्छी खेती के गुर सीखे। एक एकड़ की खेती से अचल ने अब 2 लाख 80 हजार रुपए की शुद्ध बचत प्राप्त की।

इन खेतों में काम करने वाले मजदूरों के कपड़े बिकते है 10000 में, जाने भारत में अफीम की खेती से जुड़ी रोचक बातें

उत्तर प्रदेश की राजधानी से महज 20 किमी. दूर स्थित बाराबंकी जिला अपनी उन्नत खेती के लिए मशहूर है। ऐसा कहते हैं कि यहां के खेत कभी खाली नहीं रहते हैं।  इस इलाके में गेहूं, चावल से लेकर मेंथा ऑयल और अफीम की खेती होती है। बाराबंकी में अफीम की खेती करने वाले राकेश पांडे ने इस खेती के बारे में बताया।

5 से 10 हजार में बिक जाते हैं मजदूरों के कपड़ें

राकेश पांडे के मुताबिक अफीम की खेती मजदूरों पर निर्भर रहना होता है। ऐसे में मजदूर इसकी ब्लैक मार्केटिंग का अहम जरिया होते हैं। दरअसल अफीम के पौधे से चीरा लगाकर दूध निकला जाता है। इसे ही इकट्‌ठा करके अफीम तैयार की जाती है।

मजदूर शाम को पोस्ते में कट लगाते हैं और अगली सुबह पोस्ते से रिसे हुए दूध को निकाला जाता है। यह एक पेस्ट जैसा होता है। इस पूरी प्रक्रिया के दौरान किसानों के कपड़ों में इस पेस्ट का कुछ हिस्सा चिपक जाता है। इन पेस्ट लगे कपड़ों की ब्लैक मार्केट में 5 से 10 हजार रुपए में बिक्री हो जाती है।

बाकी फसलों की तरह अफीम की लागत में हुआ है इजाफा

अफीम की खेती में बाकी फसलों के मुकाबले ज्यादा लागत आती है। साथ ही इसकी देखरेख पर भी काफी खर्च आता है। अगर खेती किसी वजह से खराब हो गई है, तो उसकी जानकारी प्रशासन को देनी होती है। इसके बाद प्रशासन अफीम की पूरी फसल को नष्ट कर देता है।

अफीम की खेती में प्रति हेक्टेयर की दर से अफीम के उत्पादन में कमी आई है। ऐसा पर्यावरण में बदलाव जैसी कई वजहों से हुआ है । साथ ही लागत के हिसाब से कीमत में बढ़ोतरी नहीं हुई है। राकेश का कहना है कि पिछले कुछ वर्षों में मजदूरी समेत अफीम उत्पादन की लागत में इजाफा हुआ है।

लाइसेंस मिलने पर ही की जा सकती है अफीम की खेती

अफीम की खेती बाराबंकी के अलावा उसके पड़ोस के जिलों फैज़ाबाद, लखनऊ, रायबरेली, गाज़ीपुर, बरेली, बदायूं, शाहजहांपुर में भी होती है। इस खेती की हमेशा डिमांड रहती है। लेकिन सरकार के नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो की ओर से सीमित लाइसेंस जारी किए जाते हैं। हर कोई अफीम की खेती नहीं कर सकता है। साथ ही इसकी खरीददारी भी सरकार की ओर से की जाती है।

सरकार ने अफीम के प्रति एक किग्रा की कीमत 3 से चार हजार रुपए निर्धारित किया है, जबकि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अफीम 12 से 15 हजार रुपए प्रति किग्रा. की दर से बिकती है। वहीं ब्लैक मार्केट में एक किग्रा. अफीम के लाखों रुपए तक मिल सकते हैं। हर एक काश्तकार को औसतन प्रति हेक्टेअर 54 किलो अफीम देनी होती है। इस तय सीमा से 10 ग्राम कम अफीम स्वीकार नहीं की जाती है और संबंधित किसान का लाइसेंस कट जाता है। हालांकि इसे कम करने करी मांग की जा रही है।

अफीम की बड़े मात्रा में होती है सप्लाई

अफीम ऐसी खेती है, जिसके हर एक फूल से लेकर, दाने, छिलके समेत सभी प्रोडक्ट की बिक्री हो जाती है और इससे काफी कमाई होती है। सरकार के अलावा ब्लैक मार्केट में पोस्ते के किसी भी प्रोडक्ट की बिक्री करने पर सजा का प्रावधान है। इसके बावजूद काफी बड़ी मात्रा में अफीम की तस्करी की जाती है, जो नेपाल और बांग्लादेश से होते हुए विदेश भेजी जाती है।

एक Idea से चमकी किसान की किस्मत, हर साल कमाता है इतने लाख रुपए

लेट्यूस (सलाद पत्ता), गांठ गोभी, पत्ता गोभी, नारंगी हरे रंग की (ब्रोकली) गोभी, पुदीना, पालक, हल्दी, दो-तीन किस्म की मिर्च, टमाटर, बेलदार सब्जियों के अलावा कुष्मांड कुल की सब्जियां।

बैंगन, प्याज, मिर्च, गोभी, गेंदा, गुलाब, टमाटर सहित अनेक सब्जियों एवं फुलवारी के पौधों की नर्सरी। क्या आप सोच सकते हैं यह सारा काम कितने बीघा में होगा? महज दो बीघा में कई तरह की सब्जियों के साथ पौध तैयार कर बेचकर एक परिवार साल में 5 लाख रुपए कमाई करता है।

  • इतने छोटे से खेत में पानी संग्रह के लिए छोटी सी पक्की डिग्गी, स्प्रिंकलर, मिनी स्प्रिंकल, पाइप्स के जरिए पौधों की बूंद-बूंद सिंचाई करते हैं चक दो ई छोटी के ओमप्रकाश घोड़ेला और उनका परिवार।

  •  डिग्गी पर सोलर पंप, केंचुआ खाद तैयार करने का अलग से प्लांट। भूमि भी सबसे अलग, निराली। खेत का एक इंच भी बेकार नहीं जाने देते ओमप्रकाश। वे उन किसानों के लिए प्रेरणा दायक हैं जिनके पास बहुत छोटी जोत है।

बेलदार सब्जियां भूमि से ऊपर

ओमप्रकाश अपने खेत में बेलदार सब्जियाें का उत्पादन जमीन से ऊपर लेते हैं। खेत की क्यारियों की मेड़ पर बांस-बल्लियां लगाकर बेलें उपर चढ़ा देते हैं। हरा पत्ता, सुगंधित पत्ता, सेलरी पत्ता, ब्रोकली जैसी महंगी सब्जियाें की उपज का हुनर ओमप्रकाश ने पिता से सीखा। उनके खेत में मार्च-अप्रैल में पालक, दिसंबर-जनवरी में टिंडे और बारहमास पुदीना रहता है।

पौध तैयार करने का नायाब तरीका

  •  वे खेत में पौध तैयार कर किसानों को बेचते हैं। उनकी नर्सरी में मिर्च, गोभी, टमाटर आदि की पौध तैयार की जाती है। इसके लिए वे प्लास्टिक की ट्रे में कोकोपिट डालते हैं। प्रत्येक खाने में एक या दो बीज डालते हैं।
  • ओमप्रकाश के मुताबिक, कोकोपिट ऐसा चूर्ण है जिसमें पौध अंकुरण शीघ्र होती है।

इजरायल की पावरफुल मशीनें, इनकी टेक्नोलॉजी का लोहा मानती है दुनिया

इस समय दुनिया के कई देश सूखे का सामना कर रहे हैं। वहीं, इजरायल ने आधुनिक टेक्नोलॉजी से न सिर्फ खेती से जुड़ी कई समस्याएं खत्म कीं, बल्कि दुनिया के सामने खेती को फायदे का सौदा बनाने के उदाहरण रखे हैं।

इजरायल ने न केवल अपने मरुस्थलों को हराभरा किया, बल्कि अपनी तकनीक को दूसरे देशों तक भी पहुंचाया। खेती-किसानी के लिए इजरायल ने बाग-बगीचों और पेड़ों को एक जगह से दूसरी जगह शिफ्ट करने जैसी कई ऐसी मशीनें बनाईं, जिनकी आज दुनिया भर में तूती बोल रही है।

कुछ ही घंटों में ही जोत ली जाती हैं सैकड़ों एकड़ जमीन

इजरायल में बहुत कम बारिश होती है। इसके चलते यहां बारिश का फायदा जल्द से जल्द उठाना होता है। आमतौर पर खेत जोतने में ही काफी समय लग जाता है। इसके लिए इजरायल ने इटली से खेत जोतने वाली ये विशालकाय मशीनें खरीदी थीं।

इसके बाद इजरायली कंपनी ‘एग्रोमॉन्ड लि.’ ने इससे भी आधुनिक मशीनों का प्रोडक्शन शुरू किया। इस तरह अब इजरायल में ये मशीनें अधिकतर किसानों के पास है। इसके अलावा किसान इन्हें किराए पर भी ले सकते हैं। इन मशीनों से कुछ ही घंटों में सैकड़ों एकड़ जमीन जोत ली जाती है।

कारपेट की तरह शिफ्ट कर देती हैं बगीचे

फोटो में दिखाई दे रही यह मशीन इजरायल के इंस्टीट्यूट ऑफ एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग द्वारा डवलप की गई है। इसका उपयोग बाग-बगीचों और पौधों को एक जगह से दूसरी जगह शिफ्ट करने के लिए किया जाता है। इससे घास-फूंस और पौधों की जड़ों तक को नुकसान नहीं पहुंचता। अब ऐसी मशीनों का उपयोग कई देशों में होने लगा है।

पानी की बचत के लिए अनोखी मशीन

इजरायल में पानी की कमी होने के चलते यहां नहरों की व्यवस्था नहीं है। इसी बात को ध्यान में रखते हुए इजरायल के रमत नेगेव डिजर्ट एग्रो रिसर्च सेंटर ने खेतों की सिंचाई के लिए इन स्पेशल मशीनों को डिजाइन किया। इससे न सिर्फ खेतों की सिंचाई होती है, बल्कि पानी की भी काफी बचत हो जाती है। मशीन का सबसे बड़ा फायदा यह है कि इसे कहीं भी आसानी से ले जाया जा सकता है।

मूंगफली जमीन से निकालकर साफ भी कर देती है

इजरायल के इंस्टीट्यूट ऑफ एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग द्वारा डवलप की गई यह मशीन मूंगफली और जमीन के अंदर होने वाली सब्जियों व अनाज को निकालने का काम करती है। मशीन की खासियत यह है कि यह सिर्फ मूंगफली को जमीन से निकालने के बाद उसे साफ भी करती जाती है।

इसके बाद मशीन में ही बने ड्रमों में भरती चली जाती है। इससे न सिर्फ किसानों की मेहनत ही बचती है, बल्कि कम समय में ढेर सारा काम हो जाता है। बता दें कि इजरायल में मूंगफली की काफी खेती होती है।

पेड़ों को जड़ सहित उखाड़कर दूसरी जगह कर कर देती है शिफ्ट

सूखा होने के बाद भी इजरायल हरा-भरा देश है। दरअसल, इजरायल ने अन्य देशों की तरह विकास के नाम पर पेड़-पौधों को नाश नहीं होने दिया। इसके लिए यहां पेड़ काटने के बजाय उन्हें शिफ्ट करने की प्रक्रिया अपनाई गई।

इसके लिए इजरायली कंपनी ‘एग्रोमॉन्ड लि.’ ने ऐसी मशीनों का निर्माण किया, जो बड़े से बड़े पेड़ को जड़ सहित उखाड़कर उन्हें दूसरी जगह शिफ्ट कर देती है। इससे पेड़ों को किसी तरह का नुकसान नहीं पहुंचता।