अगले साल आएगी जीप रेनेगेड suv,10 लाख होगी कीमत

जीप रेनेगेड के फेसलिफ्ट अवतार को टेस्टिंग के दौरान देखा गया है। अंतरराष्ट्रीय बाजार में यह साल 2018 में लॉन्च होगी। जीप कारों की रेंज में इसे कंपास एसयूवी के नीचे पोजिशन किया जाएगा। इसकी कीमत दस लाख रूपए के आसपास होगी।

जीप रेनेगेड को कंपास एसयूवी वाले स्मॉल वाइड 4×4 प्लेटफार्म पर तैयार किया गया है। इसका डिजायन जीप ग्रैंड चेरोकी से मिलता-जुलता है, वहीं राउंड हैडलैंप्स, 7-स्लेट ग्रिल और स्कवायर टैललैंप्स में रैंग्लर की झलक दिखाई देती है। जीप रेनेगेड में फुल एलईडी हैडलैंप्स दिए गए हैं। केबिन में एफसीए का 8.4 इंच टचस्क्रीन इंफोटेंमेंट सिस्टम मिलेगा, जो एंड्रॉयड ऑटो और एपल कारप्ले सपोर्ट करेगा।

ब्रिटेन में उपलब्ध जीप रेनेगेड में दो पेट्रोल और दो डीजल इंजन का विकल्प रखा गया है। पेट्रोल में पहला है 1.6 लीटर और दूसरा है 1.4 लीटर मल्टीएयर2 इंजन। डीजल में पहला है 1.6 लीटर और दूसरा है 2.0 लीटर मल्टीजेट2 इंजन। इंजन के साथ 5-स्पीड मैनुअल, 6-स्पीड मैनुअल, 6-स्पीड ड्यूल-क्लच ऑटो और 9-स्पीड ऑटोमैटिक गियरबॉक्स का विकल्प रखा गया है।

cardekho.com के अनुसार जीप रेनेगेड को भारत में उतारा जाएगा या नहीं, इसके बारे में कंपनी ने अभी कोई आधिकारिक जानकारी नहीं दी है। भारत में एसयूवी की बढ़ती मांग को देखते हुए कयास लगाए जा रहे हैं कि आने वाले समय में कंपनी इसे भारत में भी उतार सकती है। भारत आने वाली जीप रेनेगेड में 1.6 लीटर मल्टीजेट और 1.4 लीटर मल्टीएयर2 टर्बो पेट्रोल इंजन का विकल्प दे सकती है। जीप कंपास की तरह इस में भी ऑल-व्हील-ड्राइव का विकल्प मिलेगा।

BSNL ने लॉन्च किया 499 रुपए में मोबाइल, जाने पूरी जानकारी

मोबाइल बनाने वाली भारतीय कंपनी डीटेल (Detel) के साथ मिलकर BSNL ने एक मोबाइल लॉन्च किया है। इस मोबाइल की सबसे खास बात इसकी कीमत है। इस फोन को केवल 499 रुपए में लॉन्च किया गया है। कंपनी का दावा है कि Detel D1 ‘सबसे किफायती फीचर फोन’ है। यह फोन BSNL कनेक्शन के साथ पेश किया गया है।

इसमें 1 साल तक इनकमिंग और आउटगोइंग कॉल की सुविधा दी जा रही है। वहीं इसके अलावा इसके साथ 153 रुपए का टॉकटाइम भी फ्री दिया जा रहा है। बीएसएनएल से BSNL पर कॉल करने पर 15 पैसे प्रति मिनट और किसी दूसरे नेटवर्क पर कॉल करने के लिए 40 पैसे प्रति मिनट लगेंगे। इसके साथ ही 20 दिनों के लिए BSNL अतिरिक्त पर्सनल रिंग बैक टोन भी ऑफर कर रहा है।

Detel D1 फीचर फोन की बात करें, तो इसमें 1.44-इंच मोनोक्रोम डिसप्ले दी गई है। साथ ही यह फोन GSM 2G नेटवर्क पर काम करेगा। हालांकि इस फीचर फोन में सिर्फ सिंगल सिम सपोर्ट दिया गया है।

पावर बैकअप के लिए इस फीचर फोन में 650mAH की बैटरी दी गई है। साथ ही इस फीचर फोन में टॉर्च लाइट भी दी गई है। इस फीचर फोन की खास बात यह है कि इसमें फोन बुक और लाउड स्पीकर भी दिया गया है।

महज 18 हजार रुपये में मिल रहा है ये iPhone, साथ है ये ऑफर

Apple iPhone SE (32GB) फिलहाल Amazon इंडिया की साइट पर 26,000 रुपये की जगह 17,999 रुपये की कीमत में उपलब्ध है. साथ ही ई-कॉमर्स कंपनी इस iPhone पर 15 हजार रुपये तक एक्सचेंज ऑफर दे रही है. यहां पर ये बताना जरूरी है कि कीमत में कटौती आधिकारिक नहीं है. इस फोन को ऐपल इंडिा की वेबसाइट पर 26,000 रुपये में ही लिस्ट किया गया है. साथ ही फ्लिपकार्ट और अमेजन भारत में ऐपल के अधिकृत सेलर भी नहीं है.

ग्राहक इस iPhone को रोज गोल्ड, स्पेस ग्रे, गोल्ड और सिल्वर कलर ऑप्श में खरीद सकते हैं. इस कीमत iPhone SE ग्राहकों के लिए एक बेहतरीन ऑप्शन हो सकता है. iPhone SE आउट ऑफ द बॉक्स iOS 11 पर चलता है, इतना ही नहीं ग्राहकों को सॉलिड एक्सपीरियंस के साथ शानदार कैमरा भी मिलेगा.

iPhone SE में 4-इंच (640×1136) डिस्प्ले दिया गया है और ये 2GB रैम के साथ कंपनी के A9 चिप पर चलता है. इसकी इंटरनल मेमोरी 32GB की है. इस iPhone के रियर में ट्रू टोन फ्लैश के साथ 12 मेगापिक्सल का कैमरा दिया गया है. वहीं इसके फ्रंट में 1.2 मेगापिक्सल का कैमरा मौजूद है.

17,999 रुपये की कीमत में iPhone SE का मुकाबला मिड रेंज एंड्रॉयड फोन जैसे Moto G5S Plus, Nokia 6 और Xiaomi Mi A1 से रहेगा. वैसे गौर करने वाली बात ये है कि दूसरी बार iPhone SE इस कीमत तक आ पहुंचा है और ये कीमत तब हुई है जब पिछले हफ्ते ऐपल ने iPhones की कीमत कस्टम ड्यूटी की वजह से 10 से 15 फीसदी बढ़ाई है.

650 cc बुलेट की बुकिंग शुरू जाने कीमत और पूरी जानकारी

देश की लोकप्रिय मोटरसाइकल निर्माता कंपनी रॉयल एनफील्ड ने पिछले महीने भारत में अपने दो नए फ्लैगशिप मॉडल्स पेश किए थे। अब इन बाइक्स की बुकिंग और कीमतों के बारे में जानकारी सामने आई है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, कंपनी की डीलरशिप पर अप्रैल 2018 से इन दोनों बाइकों की बुकिंग होनी शुरू हो जाएगी और बाइक को 5000 रुपये देकर इसको बुक कराया जा सकेगा। बात की जाए, इनकी कीमतों की तो यह 3.25 लाख रुपये से 3.75 लाख रुपये (एक्स-शोरूम) के बीच होगीं।

क्या हैं इन बाइक्स में खास

बेहतर परफॉर्मेंस के लिए इन दोनों मोटरसाइकल्स में 650 सीसी, एयर कूल्ड पैरेलेल ट्विन इंजन दिया गया है जो कि ऑइल कूलर से लैस है। फ्यूल इंजेक्टेड तकनीक से लैस यह इंजन 7,100 आरपीएम पर 47 पीएस का पावर जेनरेट करता है। 4,000 आरपीएम पर यह इंजन 52 न्यूटन मीटर का टॉर्क जेनरेट करने में सक्षम है।

रॉयल एनफील्ड कॉन्टिंनेंटल जीटी 650 एक कैफे रेसर है और यह देखने में सिंगल सिलिंडर कॉन्टिनेंटल जीटी 535 जैसी है। इसमें सेम हेडलैम्प, फ्यूल टैंक दिया गया है। हालांकि, इसके रियर लुक में कुछ बदलाव हैं। एक प्रमुख बदलाव ड्यूल साइड एग्जॉस्ट मफलर है।

वहीं रॉयल एनफील्ड इंटरसेप्टर में 6 स्पीड गियरबॉक्स दिए गए हैं। इसके फ्रंट वील में एबीएस और पिछले पहिए में डिस्क ब्रेक दिए गए हैं। देखने में यह काफी हद तक ट्रायंफ बोनेविले जैसी है और 60 के दशक की क्लासिक बाइक्स वाली फील देती है।

इसका मुकाबला हार्ली डेविडसन स्ट्रीट 750 से हो सकता है। ये दोनों बाइक्स मार्च या अप्रैल तक शोरूम में बिकना शुरू हो जाएंगी। जहां तक बात कीमत की है तो कंपनी के सीईओ सिड लाल ने कहा कि कीमत 3 से साढ़े तीन लाख रुपये के बीच हो सकती है।

मारुति सुजुकी जिप्सी की जगह आने वाली है Suzuki Jimny, कुछ ऐसे होंगे फीचर्स

2018 ऑटो एक्सपो में बस कुछ महीने बाकी हैं और ऐसे में सबकी निगाह देश की सबसे बड़ी कार निर्माता कंपनी मारुति सुजुकी पर टिकी हुई है। ऑटो एक्सपो में मारुति सुजुकी क्या दिखाने वाली है इसे लेकर कई प्रकार की अटकलें लगाई जा रही हैं। हालांकि एक नाम जो सबसे ज्यादा सामने आ रहा है वो सुजुकी Jimny का है।

बताते चलें कि यह मारुति सुजुकी जिप्सी की तर्ज पर बनाई गई कार है। सुजुकी जिप्सी देश की पॉपुलर ऑफ रोड कारों में से एक रही है। यह पेट्रोल इंजन के साथ आती है इसलिए महिंद्रा की डीजल जीप से ज्यादा पावरफुल है। इंडियन आर्मी ने इस कार का काफी इस्तेमाल किया है। कंपनी इस कार को फिलहाल स्पेशल ऑर्डर पर ही बनाती है।
कार का इंजन और फीचर्स

कुछ दिन पहले 2018 Jimny को पहली बार जापान की एक फ्रैक्ट्री में देखा गया था। अब हाल ही में एक इटेलियन मैगजीन ने इस कार को फीचर्स और स्पेसिफिकेशन का खुलासा किया है। इंटीरियर की बात करें तो देखकर लगता है इसमें खासतौर पर कठोर प्लास्टिक का इस्तेमाल किया गया है। हालांकि कार में टच स्क्रीन इंफोटेनमेंट सिस्टम दिया गया है।

रिपोर्ट के मुताबिक, नई जिप्सी में 1.2 लीटर 4 सिलिंडर पेट्रोल और 1.0 लीटर टर्बोचार्ज्ड पेट्रोल इंजन दिया होगा। इंजन को 5-स्पीड मैनुअल गियरबॉक्स से जोड़ा जाएगा। हालांकि कार के पूरे फीचर्स को जानने के लिए 2018 ऑटो एक्सपो का इंतजार करना होगा।

अगर आपके पास है 2000 का नोट, तो ये है बड़े काम की खबर

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) 2 हजार रुपए के नोटों को सर्कुलेशन से बाहर कर सकता है। एसबीआई की एक रिसर्च रिपोर्ट में ऐसे ही संकेत देते हुए कहा गया कि आरबीआई ने या तो 2 हजार रुपए के नोटों को अपने पास रोक रहा है या इस हाई डिनोमिनेशन करंसी की प्रिंटिंग पर रोक रहा है।

लोकसभा में हाल में पेश आरबीआई के आंकड़ों के विपरीत एसबीआई इकोफ्लैश रिपोर्ट में बुधवार को कहा गया, ‘हमारा आकलन है’ कि मार्च 2017 तक छोटे डिनोमिनेशन करंसी वाले 3,501 अरब रुपए सर्कुलेशन में थे, और बड़े नोट सर्कुलेशन में कम हो रहे हैं। इसलिए अगर आपके पास 2000 रुपए का नोट है तो आपको RBI के कदम पर नजर रखनी चाहिए।

आरबीआई ने प्रिंट किए 15,787 अरब रुपए के बड़े नोट

रिपोर्ट के मुताबिक, इससे पता चलता है कि छोटे डिनोमिनेशन वाले नोटों को अलग कर दें तो 8 दिसंबर तक हाई डिनोमिनेशन वाले नोटों की वैल्यू 13,324 अरब थी। रिपोर्ट में कहा गया कि हाल में वित्त मंत्रालय द्वारा लोकसभा में दिए गए प्रिजेंटेशन के मुताबिक 8 दिसंबर तक आरबीआई ने 500 रुपए के 1,695.7 करोड़ नोट और 2 हजार रुपए के 365.4 करोड़ नोट प्रिंट किए थे। इन नोटों की कुल वैल्यु 15,787 अरब रुपए होती है।

लेकिन 2463 अरब रुपए के नोट नहीं किए सप्लाई

एसबीआई के ग्रुप चीफ इकोनॉमिक एडवाइजर सौम्य कांति घोष ने रिपोर्ट में कहा, ‘इसका मतलब है कि संभवतः आरबीआई द्वारा हाई करंसी नोट्स (15,787 अरब रुपए-13,324 अरब रुपए) के बाकी 2,463 अरब रुपए प्रिंट किए गए हों, लेकिन मार्केट में उनकी सप्लाई नहीं की गई हो।’

दिलचस्प तौर पर रिपोर्ट में कहा गया, ‘यह मान लेना ठीक है’ कि 2,463 अरब रुपए वैल्यू के नोट कम हो सकते हैं, क्योंकि आरबीआई ने छोटे डिनोमिनेशन (यानी 50 और 200 रुपए) के नोट भी प्रिंट किए हैं।

जानबूझकर रोकी जा सकती है 2000 के नोट की प्रिंटिंग

इकोफ्लैश में कहा गया, ‘तार्किक तौर पर देखें तो 2000 रुपए के नोट से ट्रांजैक्शंस मुश्किल होता है, इसलिए ऐसा लगता है कि आरबीआई ने जानबूझकर 2000 के नोट की प्रिंटिंग को रोक दी है या हालात सामान्य बनाने के लिए शुरुआत में पर्याप्त मात्रा में प्रिंटिंग के बाद अब कम संख्या में इनकी प्रिंटिंग हो रही है।’ इसका यह भी मतलब है कि सर्कुलेशन में मौजूद कुल करंसी में छोटी करंसी के नोटों का शेयर वैल्यू टर्म में 35 फीसदी तक पहुंच सकती है।

बीते साल हुई थी नोटबंदी

सरकार ने बीते साल 8 नवंबर को 500 और 1000 रुपए के नोटों को बंद करने की घोषणा की थी, जिनकी सर्कुलेटेड करंसी में 86-87 फीसदी हिस्सेदारी थी। इस फैसले से कैश की खासी तंगी हो गई थी और नोट एक्सचेंज करने या स्क्रैप करंसी जमा करने के लिए बैंकों के बाहर लंबी-लंबी लाइन देखी जा रही थीं।

कैसे होती है बिटकॉइन में ट्रेडिंग, घंटों में बना देती है करोड़पति

तेजी से बढ़ती कीमत के कारण आज बिटकॉइन पूरी दुनिया में चर्चा का विषय बना हुआ है। हर कोई इसके बारे में जानना चाहता है कि आखिर यह मुद्रा है क्‍या। 2009 में जब इसकी शुरुआत हुई थी, तब इसकी कीमत 15 पैसे थी लेकिन आज बिटकॉइन की कीमत 10 लाख रुपए से ऊपर जा चुकी है। कुछ दिन पहले यह 13 लाख रुपए के पार चला गया था। आइए आपको बताते हैं कि क्रिप्‍टोकरेंसी के नाम से मशहूर बिटकॉइन क्‍या है और कैसे इससे लेन-देन होता है-

क्‍या है बिटकॉइन

बिटकॉइन एक डिजिटल मुद्रा है। इसे डिजिटल वॉलेट में रखकर ही लेन-देन किया जा सकता है। इसे 2009 में एक अनजान इन्‍सान ने एलियस सतोशी नाकामोटो के नाम से क्रिएट किया था। इसके जरिए बिना बैंक को माध्‍यम बनाए लेन-देन किया जा सकता है। हालांकि भारत में इस मुद्रा को न तो आधिकारिक अनुमति है और न ही इसे रेग्युलेट करने का कोई नियम बना है।

कितने बिटकॉइन चलन में

सीएनबीसी व अन्‍य की रिपोर्ट्स के मुताबिक पूरी दुनिया में केवल 2.10 करोड़ बिटकॉइन मौजूद हैं और उनमें से अभी 1.20 करोड़ से ज्‍यादा बिटकॉइन की माइनिंग हो चुकी है यानी इस वक्‍त इतने बिटकॉइन चलन में हैं।

सबसे पहले पिज्‍जा की हुई थी खरीद

भले ही बिटकॉइन डिजिटल मुद्रा है लेकिन इनसे कई फिजिकल चीजें खरीद सकते हैं। रिपोर्ट्स के मुताबिक, बिटकॉइन से जिस चीज को सबसे पहले खरीदा गया, वह थी पिज्‍जा। इस खरीद में 10000 बिटकॉइन खर्च किए गए थे।

कैसे हासिल होते हैं बिटकॉइन

बिटकॉइन हासिल करने के तीन तरीके हैं- ऐसी कई वेबसाइट्स हैं जो फ्री बिटकॉइन ऑफर करती हैं। इसके लिए आपको कुछ टास्‍क्‍स को पूरा करना होता है और उसके बदले मे आपको बिटकॉइन मिलते हैं। इसके अलावा कैश के बदले या फिर किसी सामान के बदले भी बिटकॉइन हासिल होते हैं। जिन देशों में बिटकॉइन लीगल हैं, वहां आप कैश के बदले बिटकॉइन देने वाले सेलर या सामान के पेमेंट के रूप में बिटकॉइन हासिल कर सकते हैं। तीसरा तरीका है बिटकॉइन की माइनिंग।

बिटकॉइन मा‍इनिंग

बिटकॉइन मा‍इनिंग का अर्थ है नए बिटकॉइन जनरेट करना या चलन में लाना। सीएनबीसी की एक रिपोर्ट के मुताबिक बिटकॉइन में किए गए ट्रान्‍जेक्‍शन वेरिफाई किए जाते हैं। इसके लिए इन्‍हें एक पब्लिक अकाउंट में एड कर दिया जाता है। इसे ब्‍लॉक चेन कहते हैं। इसमें बिटकॉइन में लेन-देन करने वाले दुनिया के हर इन्‍सान का ट्रान्‍जेक्‍शन एड रहता है। ब्‍लॉकचेन पर एक पैडलॉक होता है, जिसे एक डिजिटल की से खोला जा सकता है। उस की को हासिल कर लेने पर आपका बॉक्‍स ओपन होता है और ट्रान्‍जेक्‍शन वेरिफाई हो जाता है। तब आपको नए 25 बिटकॉइन हासिल होते हैं।

बिटकॉइन की खो जाने पर गवां बैठते हैं सारे बिटकॉइन

फैक्‍टसाइट की एक रिपोर्ट के मुताबिक बिटकॉइन एक डिजिटल वॉलेट में सेव होते हैं और इनकी एक डिजिटल की होती है। अगर आपसे यह की खो जाती है तो वॉलेट भी खो जाता है यानी आप अपने कमाए हुए बिटकॉइन गंवा देते हैं। साथ ही कोई और भी इन बिटकॉइन का इस्‍तेमाल नहीं कर सकता।

यानी ये सर्कुलेशन से ही बाहर हो जाते हैं। कैसे हासिल होता है बिटकॉइन वॉलेट ऐसी कई साइट्स हैं, जो डिजिटल करेंसी के लिए वॉलेट उपलब्‍ध कराती हैं। जैसे ब्‍लॉकचेन और कॉइनबेस। इन साइट्स पर बिटकॉइन के लिए वॉलेट भी उपलब्‍ध हैं। इसके अलावा स्‍मार्टफोन के लिए बिटकॉइन वॉलेट के एप्‍स भी मौजूद हैं।

बिटकॉइन में लेन-देन करने वालों को ट्रेस करना है मुश्किल

जब आप बिटकॉइन में लेन-देन करते हैं तो आपके नाम या पहचान का इस्‍तेमाल नहीं होता है। केवल एक बिटकॉइन एड्रेस होता है, जिसके जरिए सभी ट्रान्‍जेक्‍शंस का रिकॉर्ड रहता है। हालांकि यह एक 34 अल्‍फान्‍यूमेरिक कैरेक्‍टर वाला एड्रेस होता है, जिसके जरिए लेन-देन करने वालों का पता लगाना मुश्किल होता है लेकिन यह नामुमकिन नहीं है।

बिटकॉइन को भुनाते कैसे हैं

क्रिप्‍टोकरेंसी हेल्‍प डॉट कॉम के मुताबिक अमेरिका, कनाडा, ब्रिटेन जैसे कई देश ऐसे हैं, जहां बिटकॉइन के बदले कैश या फिर बिटकॉइन की कीमत के हिसाब से पैसे आपके डेबिट कार्ड में ट्रान्‍सफर कर दिए जाते हैं। इसके बदले आप भी किसी को कैश के बदले बिटकॉइन दे सकते हैं। साथ ही जिन देशों में ऑनलाइन बिटकॉइन एक्‍सचेंज मौजूद है और यह लीगल है, वहां पर रजिस्‍ट्रेशन करा बिटकॉइन की बिक्री की जा सकती है।

20 का माइलेज देती है ये 7 सीटर कार, कीमत भी सिर्फ इतनी सी

इंडियन मार्केट में कार की बड़ी रेंज मौजूद है। इसमें लो बजट से लेकर प्रीमियम कैटेगरी की कार शामिल हैं। लो बजट की कार की कीमत 2.5 लाख के करीब से शुरू हो जाती है। हालांकि, 2.5 लाख में जो कार मिल रही हैं वे 5 सीटर हैं।

ऐसे में यदि आपके घर में मेंबर्स की संख्या 6 या ज्यादा है तब 5 सीटर कार किसी काम की नहीं रह जाती है। ऐसी फैमिली के लिए डेटसन (Datsun) की 7 सीटर वाली Datsun GO Plus बेस्ट ऑप्शन बन सकती है। इस कार की कीमत भी इतनी कम है कि इसे देखकर अंदाजा भी नहीं लगाया जा सकता।

 प्रीमियम लुक, लोएस्ट प्राइस

Datsun GO Plus की एक्स-शोरूम प्राइस सिर्फ 3.84 लाख से शुरू है। जो ऑनरोड करीब 4.40 लाख रुपए को हो जाती है। इस कार के कुल 5 मॉडल आते हैं। जिसमें टॉप मॉडल की की एक्स-शोरूम प्राइस 4.97 लाख रुपए है। इस 7 सीटर कार की खास बात इसका प्रीमियम लुक है। इसे देखकर इसकी प्राइस का अंदाजा लगाना मुश्किल हो जाता है। ये ब्लू, व्हाइट, सिल्वर, ग्रे और रूबी 5 कलर वेरिएंट में उपलब्ध है।

 पावरफुल इंजन, जबरदस्त माइलेज

इस कार में 1.2 लीटर का पावरफुल इंजन दिया है। कंपनी का दावा है कि ये 1 लीटर पेट्रोल में 20 किलोमीटर का जबरदस्त माइलेज भी देती है।यानी कम कीमत होने के बाद भी इस कार में आपको दमदार इंजन के साथ बेहतर माइलेज भी मिलेगा। इसमें 35 लीटर का फ्यूल टैंक दिया है। कंपनी के मुताबिक इसकी सर्विस के लिए हर साल सिर्फ 3 हजार रुपए खर्च करने होंगे।

आपकी कार को स्पेशल बना देंगे ये 5 गैजेट्स, कम खर्च में करते हैं बड़ा काम

सफर के दौरान कि‍न चीजों की जरूरत पड़ती है और कौन सी एक साधारण कार में आमतौर पर नहीं होतीं इसे ध्‍यान में रखते हुए कुछ बेहतरीन डि‍वाइस बनाए गए हैं। यह आपके सफर को आसान कर देते हैं कई ऐसे फंक्‍शन आपकी कार में जोड़ देते हैं जो फि‍लहाल केवल महंगी कारों में ही मौजूद हैं।

यह छोटे छोटे डि‍वाइस बड़े काम करते हैं। इनकी बदौलत आपका सफर न केवल सुरक्षि‍त होता है बल्‍कि झंझट भी कुछ कम हो जाते हैं। आप इनकी बदौलत अपनी कार को एडवांस फीचर्स से लैस कर देते हैं। जानें वो 5 डि‍वाइस जि‍नकी बदौलत आप अपनी कार को बना सकते हैं स्‍पेशल।

1 डैशकैम

डैशकैम न केवल आपको एक यादगार सफर को शूट करने की सहूलि‍यत देता है बल्‍कि‍ एक्‍सीडेंट हो जाने की दशा में यह आपकी काफी मदद करता करता है। ऐसा नहीं है कि‍ यह आपको कि‍सी एक्‍सीडेंड से बचा लेगा मगर एक्‍सीडेंट की कंडीशन में इसकी मदद से यह तो साबि‍त हो सकता है कि‍ गलती कि‍सने की थी। आजकल ऐसे डैशकैम आ गए हैं जो कार स्‍टार्ट होते ही अपने आप स्‍टार्ट हो जाते हैं और कार के ऑफ होते ही ऑफ हो जाते हैं।

2 ऑटोमैटि‍क

यह एक छोटा सा अडैप्‍टर होता है और आपकी कार की मैमोरी की तरह काम करता है। इसमें आपके वाहन से जुड़ी हर तरह की डि‍टेल होती है। यह डि‍वाइस ब्‍लूटूथ के जरि‍ए आपके फोन से भी जुड़ जाता है। इंजन की प्राब्‍लम बताता है, यह याद रखता है कि‍ आपने कार कहां पार्क की, आपके ट्रि‍प की हि‍स्‍ट्री याद रखता है और एक्‍सीडेंट या कि‍सी और तरह की इमरजेंसी में मदद के लि‍ए कॉल भी कर सकता है।

3 जीपीएस ट्रैकर

आपके मोबाइल से अटैच जीपीएस ट्रैकर हमेशा आपकी कार की लोकेशन बताता रहेगा। इसके कई फायदे हैं, चोरी होने की दशा में कार को ट्रेस करना बहुत आसान हो जाता है और अगर आपने कि‍सी और को या बच्‍चों को कार दी है तो उनकी लोकेशन पर आप नजर रख सकते हैं।

4 रडार डि‍टेक्‍टर

वैसे तो आपको ओवर स्‍पीड में नहीं चलना चाहि‍ए मगर दि‍ल है कि‍ मानता नहीं। वि‍देशों में यह डि‍वाइस पॉपुलर है। लोग चालान से बचने के लि‍ए इसका इस्‍तेमाल करते हैं। यह रेंज में आने से पहले ही बता देता है कि‍ आगे स्‍पीड ट्रैक हो रही है।

5 टायर प्रैशर मॉनीटरिंग सिस्‍टम

इसकी बदौलत आप अपने टायर की हेल्‍थ पर लगातार नजर रख सकते हैं। यह प्रेशर और टेंपरेचर दोनों को मॉनीटर करता है। यह भी दो तरह के आते हैं एक मैनुअल जि‍समें आपको हर टायर का प्रेशर खुद चेक करना होता है और दूसरा ऑटोमेटि‍क। ऑटोमेटि‍क वाला चार सेंसर के साथ आता है जो चारों टायर पर अटैच हो जाता है। इसका डि‍स्‍प्‍ले आपके डैश बोर्ड पर होता है। इसमें चारों टायर का प्रेशर और टेंपरेचर पता चलता रहता है।

सोनालिका ने लांच की नई सिकंदर 750 सीरीज , जाने इसमें क्या है खास

देश में तीसरे सबसे बड़े ट्रैक्टर ब्रांड सोनालीका आईटीएल ने पंजाब इंटरनेशनल ट्रेड एक्सपो- पाइटैक्स-2017 में ट्रैक्टरों की अपनी नई रेंज- सिकंदर सीरीज आरएक्स 750।।। लांच की।

यह माइलेज इंजन तथा सीसीएस वर्कस्पेस (कूल, कंफरटेबल और स्पेसियस), एक्सोसेंसिंग युक्त एसडी हाइड्रॉलिक के अलावा अन्य कई उन्नत खूबियों के साथ आता है जो इसे कृषि क्षेत्र में कई भविष्योन्मुखी एप्लीकेशनों जैसे लेजर लेवलर, हार्वेस्टर, लोडर आदि के अनुकूल बनाती हैं।

उत्तर भारत में आयोजित सबसे बड़े इंटरनेशनल एक्सपो के बारे में रमन मित्तल, कार्यकारी निदेशक, सोनालीका आईटीएल ने कहा कि सोनालीका आईटीएल को आज देश-विदेश के बाजारों में 8 लाख किसानों का भरोसा हासिल है।

हमने 2017 में दुनिया के 90 देशों में अपनी पैठ बना ली है। हम पंजाब में स्थित, जो कि हमारे लिए प्रमुख बाजार है, विश्व के नंबर 1 एकीकृत ट्रैक्टर निर्माण संयंत्र में तैयार होने वाले ऐसे उन्नत ट्रैक्टरों को उपलब्ध कराने पर ध्यान देते हैं जो कृषि संबंधी अलग-अलग जरूरतों को पूरा कर सकें। हम इस क्षेत्र में दूसरे नंबर पर हैं और इस प्रकार के मंच हमें टैक्नोलॉजी के मोर्चे पर हमारी मजबूत स्थिति को प्रदर्शित करने का अवसर देते हैं।