ट्रम्प के इस फैसले से भारत के किसान होंगे मालामाल

अमेरिका ने ईरान से तेल खरीदने के मामले में भारत सहित आठ देशों की छूट को खत्म कर दिया है। इससे भारत, चीन जैसे देशों में क्रूड ऑयल की सप्लाई प्रभावित होगी। अमेरिका इसमें अहम भूमिका निभा सकता है। दरअलल अमेरिका अब क्रूड इंपोर्टर से क्रू़ड एक्सपोर्टर बन चुका है और अब वह हर दिन करीब 1.22 करोड़ बैरल का रिकॉर्ड क्रूड ऑयल का उत्पादन करता है।

भारत ग्वार गम का सबसे बड़ा उत्पादक

अमेरिका क्रूड ऑयल के उत्पादन के लिए ग्वार गम का प्रयोग करता है। ऐसे में अमेरिका ग्वार गम की खरीद बढ़ाएगा और इसकी मांग बढ़ेगी जिसके कारण ग्वार गम की कीमतें बढ़ रही हैं। दिलचस्प बात यह है कि दुनिया में सबसे अधिक करीब 80 फीसदी ग्वार गम भारत और पाकिस्तान में होता है। इसमें भी सबसे अधिक भारत के राजस्थान में होता है। ऐसे में ग्वार गम की खेती मुनाफे वाली हो सकती है।

ग्वार गम की मांग फूड प्रोसेसिंग में भी

क्रूड ऑयल एक्सप्लोरेशन के अलावा ग्वार गम की मांग फूड प्रोसेसिंग में भी है। अमेरिका के अलावा यूरोप से भी इसकी मांग अधिक है। इसका इस्तेमाल पशुओं को खिलाने के लिए भी किया जाता है और कैडबरी जैसे प्रॉडक्ट में भी किया जाता है.

विस्फोटक पदार्थों में भी इसका प्रयोग होता है। ग्वार गम की मांग की तुलना में इसकी आपूर्ति बहुत कम है जिसके कारण इसकी कीमतें बढ़ रही हैं. कमोडिटी एक्सचेंज एनसीडीईएक्स के मुताबिक फरवरी से लेकर अब तक ग्वार गम की कीमतें करीब 500 रुपये प्रति 100 किग्रा तक बढ़ चुकी हैं.

कमजोर मानसून बढ़ा सकता है मुसीबत

भारतीय मौसम विभाग ने अलनीनो की किसी भी संभावना से इनकार किया है लेकिन स्काईमेट और अंतरराष्ट्रीय स्तर के एक मौसम विभाग के मुताबिक इस बार मानसून सामान्य से कम रहेगा और अलनीनो का असर देखने को मिल सकता है. इसकी वजह से ग्वार गम का उत्पादन प्रभावित होने की संभावना है. इस कारण भी इसकी कीमतें उछाल मार रही हैं।

इलेक्शन से पहले ही मुकेश अंबानी ने देश को दिया यह बड़ा तोहफा, अब सबको मुफ्त में मिलेंगी ये सुविधाएं

Reliance jio ने अपनी शुरुआत साल 2016 में टेलीकॉम सेक्टर से की थी। इस सेक्टर से मिली बड़ी कामयाबी के बाद कंपनी ने फीचर फोन और ब्रॉडबैंड सर्विस में भी कदम रखा रहा है।

कंपनी अपना दायरा बढ़ाते ही जा रही है। अब कंपनी ने मोबाइल उपभोगताओं के लिए अपना नया प्लेटफॉर्म जियो न्यूज़ ऐप (jio news App) लॉन्च किया है। यह ऐप एंड्रॉयड और IOS दोनों ही यूजर के लिए होगा।

कंपनी की माने तो जियो न्यूज़ 12 भारतीय भाषाओं को सपोर्ट करेगा। इनमें बंगाली, अंग्रेजी, गुजराती, हिन्दी, मराठी, पंजाबी, तमिल और उर्दू भाषाएं शामिल हैं। इसके अलावा ऐप पर 150 से ज्यादा लाइव चैनल्स, 800 मैगजीन, 250 से ज्यादा न्यूज़ पेपर्स साथ ही भारत और दुनिया भर की वेबसाइट्स के कंटेंट मुहैया कराए जाएंगे।

बयान में कहा गया है, “उपयोगकर्ता अपनी रुचि के मुताबिक अपना होमपेज पर्सनलाइज कर सकते हैं। आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस ( AI ) और मशीन लर्निग ( ML ) प्रौद्योगिकी से समेकित जियो न्यूज़ विभिन्न समाचार स्रोतों से हजारों खबरों को छांटकर महत्वपूर्ण एवं प्रासंगिक खबरें पेश करेगी।

इस ऐप का इस्तेमाल सभी जियो यूजर कर सकेंगे। इतना ही नहीं, जो जियो के उपभोक्ता नहीं वे भी लाग इन करके इसकी सेवा ले सकते हैं। इस ऐप को गूगल प्ले स्टोर और एप्पल ऐप स्टोर से मुफ्त में डाउनलोड किया जा सकता है। इस प्लेटफार्म पर जियोएक्सप्रेस, जियोमैग्स और जियोन्यूजपेपर के साथ ही लाइव टीवी एक साथ लॉन्च किया गया है।

अब आप भी खोल सकते हैं अपनी गैस एजेंसी, बिना सिक्योरिटी डिपॉजिट के होगी लाखों की कमाई

अगर आप अपना नया बिजनेस शुरू करने के बारे में विचार कर रहे हैं तो हम मोटी कमाई करने वाला एक बिजनेस आपके लिए लेकर आए हैं। आपके पास दिल्ली में lpg गैस एजेंसी खोलने का मौका है। आपको बता दें कि Go Gas कंपनी ने इसके लिए विज्ञापन जारी किया है। इस ऑफर की खास बात यह है कि कंपनी एंजेसी खोलने के लिए सिक्योरिटी डिपॉडिट नहीं लेगी।

नहीं देना होगा कोई भी पैसा

आपको बता दें कि अगर आप इस गैस एजेंसी को खोलने के लिए रजिस्ट्रेशन कराते हैं तो आपको डीलरशिप और डिस्ट्रीब्यूशन के लिए किसी भी तरह का डिपॉजिट नहीं जमा करना होगा, लेकिन आपको एजेंसी के लिए बेसिक इंफ्रास्ट्रक्चर की जरूरत होगी।

बेसिक इंफ्रास्ट्रक्चर में गोदाम, डिस्ट्रीब्यूशन सेंटर और ऑफिस के लिए जमीन आती है, जिसकी जरूरत आपको एजेंसी खोलने के लिए होती है। इसके अलावा गैस सिलेंडर की डिलीवरी और डीलरशिप स्टोर पर भी इनवेस्टमेंट करना होगा।

इन शर्तों को करना होगा पूरा

  • आवेदन करने वाले व्यक्ति की उम्र 21 से 60 साल के बीच होनी चाहिए।
  • इसके अलावा आवेदक के पास भारतीय नागरिकता होगी चाहिए।
  • आवेदन ने 10वीं की परीक्षा उत्तीर्ण की हो।
  • आवेदक शारीरिक रुपए से विकलांग नहीं होना चाहिए।

ऐसे कर सकते हैं संपर्क

आपके पास कॉमर्शियल और नॉन कॉमर्शियल दोनों तरह के गैस सिलेंडर के डिस्ट्रीब्यूशन का मौका होगा। आपको बता दें कि कंपनी जिला और तहसील स्तर पर आवेदन मांग रही है। अगर आप Go Gas एजेंसी की डीलरशिप लेना चाहते हैं तो आप 7666555560 इस नंबर पर संपर्क भी कर सकते हैं।

इसके साथ ही आप [email protected] पर भी संपर्क किया जा सकता है। इसके अलावा रीजनल ऑफिस 515 A अंसल चेंबर 2 भीकाजी कामा प्लेस नई दिल्ली से भी इस बारे में जानकारी हासिल किया जा सकता है।

आपको इन डॉक्यूमेंट की होगी जरूरत

  • आपके पास निवास और जाति प्रमाण पत्र होना चाहिए।
  • इसके अलावा आपके पास पैन और आधार कार्ड भी होना चाहिए।
  • आपके पास आपका जीएसटी नंबर भी होना चाहिए।
  • साथ ही जमीन के डॉक्यूमेंट या फिर लीज का सर्टिफिकेट भी होना जरूरी है।

बहुत तेजी से बढ़ रहा है धरती का तापमान, नासा ने बताया कि क्या है इसकी असल वजह …..

धरती का टेम्परेचर दिनों-दिन बढ़ता जा रहा है। पिछले 15 वर्षों से बढ़ रहे टेम्परेचर का अध्ययन नासा कई समय से कर रहा था। शोधकर्ताओं ने 2003 से लेकर 2007 तक उपग्रह पर आधारित इन्फ्रारेड मेजरमेंट सिस्टम एआईआरएस (ऐटमॉसफेरिक इन्फ्रा रेड साउन्डर)की मदद से धरती के टेम्परेचर का आकलन किया।

(amrica ) के नासा ( nasa ) के अध्ययन कर रही टीम ने इन आकड़ों को गोडार्ड इन्स्टीट्यूट फॉर स्पेस स्टडीज सरफेस टेम्परेचर एनालाइसिस (जीआईएसटीईएमपी) से मिलाया। जिसके बाद अध्ययन किए गए डाटा ( data ) को नवायरनमेंटल रिसर्च लेटर्स जर्नल में प्रकाशित किया गया। 15 वर्ष का डाटा और दूसरे डाटा को इक्कठा करने के बाद उनके बीच काफी समानता देखी गई।

जब इस बारे में अमरीका में स्थित नासा के गोडार्ड स्पेस फ्लाइट सेंटर के जोएल सुसकिंड ने बताया कि एआईआरएस और जीआईएसटीईएमपी का डाटा एक दूसरे के समान है। जीआईएसटीईएमपी के मुकाबले एआईआरएस का दायरा ज्यादा बड़ा होने के काऱण यह पूरी दुनिया को शामिल कर पाया था।

वहीं सुसकिंड ने यह भी कहा,’डाटा के दोनों सेट से पता चला कि धरती की सतह इस अवधि में गर्म हुई और 2016, 2017 और 2015 क्रम से सबसे गर्म साल रहा।’

गौरतलब है कि एआईआरएस का डाटा समुद्र, भूमि और बर्फ से कवर हुए क्षेत्र की सतह के टेम्परेचर को भी दर्शाता है। शोध के नतीजों के आधार पर नासा से जुड़े एक अन्‍य वैज्ञानिक ( scientist ) ने कहा कि इससे जाहिर होता है कि टेम्परेचर में बढ़ोतरी काफी पहले से होती रही है।

अब गाय के गोबर से बने पेपर से मुनाफा कमाएंगे राजस्थान के पशुपालक

जानवरों के गोबर को आमतौर पर ज्यादा उपयोगी नहीं माना जाता। हालांकि इसे खेतों में खाद के तौर पर जरूर इस्तेमाल किया जाता है, लेकिन कम लोगों को ही मालूम होगा कि इससे अधिक आय भी अर्जित हो सकती है। राजस्थान में गाय के गोबर से पेपर बनाया जा रहा है और इससे पशुपालकों को अच्छी आमदनी भी हो रही है।

हम सब भी स्कूल के वक्त से ही पढ़ते आ रहे हैं कि गोबर से बायोगैस बनाई जाती है। यह एक तरह से नीवकरणीय ऊर्जा प्रदान करने का अच्छा साधन है। लेकिन अब गाय के गोबर से पेपर उत्पादन भी होगा।

बीते सप्ताह बुधवार को केंद्रीय सूक्ष्म एवं लघु उद्यम मंत्री गिरिराज सिंह ने राजस्थान की राजधानी जयपुर में गाय के गोबर से बने पेपर का लोकार्पण किया। टाइम्स ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट के मुताबिक खादी एवं ग्रामोद्योग उद्योग मिशन की एक यूनिट कुमारप्पा नेशनल हैंडमेड पेपर इंस्टीट्यूट (KNHPI) द्वारा इस पेपर का निर्माण किया गया है।

इस हैंडमेड पेपर को गाय के गोबर और चिथड़े कागज को मिलाकर बनाया गया है। इस नई पहल से न केवल किसानों को अधिक आमदनी होगी बल्कि सड़कों पर गोबर से होने वाली गंदगी भी कम होगी। राज्य के गौशालन विभाग की ओर से गौशालाओं को इस तकनीक से कागज बनाने के लिए प्रेरित किया जा रहा है।

राज्य की कई गौशालाओं में अभी गाय के गौमूत्र से कीटाणुनाशक तैयार किया जा रहा है।  जालौर जिले की एक गौशाला ने गाय के गोबर से पेपर का उत्पादन भी शुरू कर दिया है। इस नए अविष्कार से निजी पशुपालकों को कागज बनाने के लिए प्रेरित करने के लिए प्रदेश सरकार द्वारा आर्थिक मदद का भी प्रावधान भी किया गया है।

एक आंकड़े के मुताबिक अभी इस वक्त प्रदेश में 1,160 पंजीकृत गौशालाएं हैं। वहीं गायों की संख्या पांच लाख से ऊपर है। किसानों द्वारा गाय के गोबर और गौमूत्र का इस्तेमाल ऑर्गैनिक खेती में किया जाता है।

वहीं अगर इससे बायोगैस बनाया जाता है तो इससे स्वच्छ ऊर्जा का उत्पादन किया जाता है वहीं बाकी बचे अपशिष्ट में नाइट्रोजन की मात्रा से खेतों में खनिज की बढ़ोत्तरी की जाती है। गिरिराज सिंह ने इस मौके पर कुछ और इको फ्रैंडली उत्पादों को लॉन्च किया। इन उत्पादों को नारियल और फूलों से बनाया गया है।

पिछले पांच महीने के उच्चतम स्तर पर पहुंचा कच्चे तेल का भाव, बढ़ सकती हैं पेट्रोल-डीजल की कीमतें

अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में लगातार तेजी के बावजूद भी घरेलू बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में सोमवार को एक बार कोई बदलाव नहीं देखने को मिला। इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन से प्राप्त जानकारी के मुताबिक, सोमवार को चार प्रमुख महानगरों में पेट्रोल-डीजल के दाम एक बार फिर स्थिर रखा गया है।

बता दें कि अमरीकी विदेश सचिव माइक पॉम्पोय ने बीते दिन कहा था कि ईरान से कच्चा तेल आयात करने वाले देशों को अब कोई रियायत नहीं दी जाएगी। इसके बाद ब्रेंट क्रुड का वायदा भाव पांच महीनों के उच्चतम स्तर पर पहुंच गया। आपको बता दें कि इस साल अब कच्चे तेल के भाव 40 फीसदी तक इजाफा हो चुका है। जिस कारन आने वाले दिनों में पेट्रोल-डीजल की कीमतें बढ़ सकती हैं

डीजल की दरें

सोमवार को डीजल की कीमतों में कोई बदलाव नहीं किया गया। सोमवार को डीजल की कीमतें रविवार के स्तर पर ही स्थिर रहा। सोमवार को राजधानी नई दिल्ली में एक लीटर डीजल के लिए आपको 66.46 रुपए चुकाने होंगे।

कोलकाता की बात करें तो यहां भी पेट्रोल का भाव गत रविवार के 68.20 रुपए प्रति लीटर के स्तर पर बरकरार है। मुंबई में एक लीटर पेट्रोल का भाव 69.56 रुपए, वहीं चेन्नई में डीजल का भाव 70.17 रुपए प्रति लीटर रहा।

क्या है आज पेट्रोल का भाव

पेट्रोल की कीमतों की बात करें तो इसमें भी सोमवार को कोई बदलाव नहीं देखा गया। सोमवार को राजधानी दिल्ली में पेट्रोल का भाव 72.95 रुपए प्रति लीटर रहा। कोलकाता कें आज आपको एक लीटर पेट्रोल के लिए 74.97 रुपए चुकाने होंगे। मुंबई में पेट्रोल का भाव सबसे अधिक 78.52 रुपए प्रति लीटर है। वहीं, चेन्नई में पेट्रोल का भाव 75.71 रुपए प्रति लीटर के स्तर पर है।

क्या है राजस्थान के प्रमुख शहरों में पेट्रोल-डीजल का भाव

राजस्थान के प्रमुख शहरों में पेट्रोल-डीजल की कीमतों की बात करें तो यहां राजधानी जयपुर वासियों को एक लीटर पेट्रोल के लिए 73.70 रुपए और डीजल के लिए 68.76 रुपए प्रति लीटर देना होगा। अजमेर में आज पेट्रोल का भाव 73.25 रुपए प्रति लीटर और डीजल का भाव 68.34 रुपए प्रति लीटर है।

भरतपुर में पेट्रोल का भाव 73.33 रुपए प्रति लीटर और डीजल का भाव 68.39 रुपए प्रति लीटर है। जोधपुर में पेट्रोल 73.86 रुपये प्रति लीटर और डीजल 68.92 रुपये प्रति लीटर है। कोटा में पेट्रोल 73.19 रुपये प्रति लीटर और डीजल 68.28 रुपये प्रति लीटर है।

1 जून से हर शनिवार को बैंक बंद रहेंगे ?

पिछले कई दिनों से सोशल मीडिया पर एक खबर तेजी से वायरल हो रही है, जिसमें दावा किया जा रहा है कि रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के नए आदेश के मुताबिक अब सप्ताह में पांच दिन ही बैंक खुले रहेंगे. बैंक अब एक की जगह दो दिन बंद रहेंगे.

इस खबर के वायरल होने के बाद कई लोग बैंक जाकर अधिकारियों से इसके बारे में पूछताछ करने लगे. दरअसल, इस खबर में दावा किया जा रहा है कि एक जून से बैंक सप्ताह में पांच दिन ही खुलेंगे. शनिवार और रविवार को बैंक बंद रहेंगे.

आखिरकार RBI को मामले में दखल देना पड़ा और उसने साफ-साफ कहा है कि यह महज अफवाह है. छुट्टियों को लेकर किसी तरह का फैसला नहीं लिया गया है.

रिजर्व बैंक ने प्रेस नोट जारी कर कहा कि, ‘मीडिया के एक वर्ग में इस तरह की रिपोर्ट आई है कि रिजर्व बैंक के निर्देश के बाद वाणिज्यिक बैंकों में सप्ताह में पांच दिन ही काम होगा. स्पष्ट किया जाता है कि यह सूचना तथ्यात्मक रूप से सही नहीं है.’ प्रेस नोट में कहा गया है कि रिजर्व बैंक ने इस तरह का कोई निर्देश जारी नहीं किया है.

क्या है शनिवार को बैंक बंद रहने के नियम?

बता दें, अगस्त 2015 में रिजर्व बैंक ने फैसला लिया था कि बैंक एक महीने में दो शनिवार को बंद रहेंगे. उस सर्कुलर के मुताबिक, हर महीने के दूसरे और चौथे शनिवार को बैंक बंद रहेंगे. अगर एक महीने में पांच शनिवार होगा, तो दूसरे और चौथे शनिवार को बैंक बंद रहेंगे और पहले, तीसरे और पांचवें शनिवार को बैंक खुले रहेंगे.

मौसम पूर्वानुमान : अगले 24 घंटे में देश के इन हिस्सों में फिर होगी मूसलाधार बारिश!

अप्रैल माह लगभग – लगभग बीत चुका है. गर्मी ने भी अपना असर दिखाना शुरू कर दिया है. रबी की फसलों की कटाई हो चुकी है और जो फसल बाकी है. उनकी भी कटाई कुछ ही दिनों में हो जाएगी. ऐसे में अगर मौसम में अचानक से कोई बदलाव होता है, तो वो किसानों के लिए परेशानी का सबब बन जाएगा.

अतः मौसम की खबर किसानों के लिए अत्यंत जरुरी हो जाता है ताकि वो मौसम के मुताबिक अपने फसलों की देखभाल कर सकें. तो आइए जानते है मौसम विशेषज्ञों के मुताबिक अगले 24 घंटों में कैसा रहेगा पूरे देश में मौसम का हाल-

देश भर में बने मौसमी सिस्टम

बिहार के पूर्वी हिस्सों में एक कमजोर चक्रवाती हवाओं मौजूद है. गंगीय पश्चिम बंगाल, तटीय आंध्र प्रदेश, दक्षिण आंतरिक कर्नाटक और आंतरिक तमिलनाडु में इस प्रणाली से दक्षिण तमिलनाडु तक एक ट्रफ रेखा जा रही है. बंगाल की खाड़ी में एक विपरीत चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र बना है.पूर्वी असम में एक और चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र है.

बीते 24 घंटों की मौसमी गतिविधियां

पिछले 24 घंटों के दौरान, असम, मेघालय, नागालैंड के साथ-साथ गंगीय पश्चिम बंगाल, ओडिशा, झारखंड के कुछ हिस्सों में छिटपुट बारिश और गरज के साथ हुई. आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, दक्षिण आंतरिक कर्नाटक, आंतरिक तमिलनाडु और केरल में प्री मानसून गतिविधियाँ तेज हो गई हैं. उत्तर, उत्तर-पश्चिम, मध्य भारत के कई हिस्सों में दिन का तापमान बढ़ा.

अगले 24 घंटों की मौसमी गतिविधियां

शुष्क मौसम पूरे उत्तर पश्चिमी मैदानी और मध्य भारत पर रहेगा. जम्मू और कश्मीर, हिमाचल प्रदेश में मूसलाधार बारिश देखी जा सकती है. इसके अलावा, असम और अरुणाचल प्रदेश में नगालैंड में बारिश संभव है.

गंगीय पश्चिम बंगाल, झारखंड और ओडिशा पर भी छिटपुट बारिश के आसार हैं. तटीय आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, दक्षिण आंतरिक कर्नाटक और आंतरिक तमिलनाडु, केरल के कुछ हिस्सों में वर्षा संभव है. उत्तर पश्चिम, मध्य और पूर्वी भारत में दिन का तापमान धीरे-धीरे बढ़ेगा.

मौसम अपडेट: आने वाले कुछ घंटों में इन 5 राज्‍यों में भारी बारिश की संभावना

मौसम का मिजाज बदल गया है। पिछले सप्‍ताह जहां पूरा देश गर्मी से झुलस रहा था, वहीं अचानक आंधी-बारिश से मौसम बदल गया। इससे लोगों को गर्मी से राहत तो मिली लेकिन आंधी-बारिश के कहर से देश के कई राज्‍यों में बड़े पैमाने पर जान-माल का नुकसान हुआ है। खतरा अभी टला नहीं है।

वेदर फोरकास्‍ट एजेंसी ने अपने पुर्वानुमान में चेताया है कि आने वाले दो दिन में अभी मौसम कहर बरपा सकता है। आइये जानते हैं इन 5 राज्‍यों के 71 शहरों में मौसम कैसा रहेगा।

केरल के लिए मौसम चेतावनी:

अगले 4 घंटों के दौरान अलाप्पुझा, एर्नाकुलम, इडुक्की, कन्नूर, कासरगोड, कोल्लम, कोट्टायम, कोझीकोड, मलप्पुरम, पलक्कड़, पठानमथिट्टा, तिरुवनंतपुरम में हल्की से मध्यम बारिश होगी।

छत्तीसगढ़ के लिए मौसम चेतावनी

बालोद, बलौदा बाजार, बलरामपुर, बस्तर, बेमेतरा, बीजापुर, बिलासपुर, दक्षिण बस्तर दंतेवाड़ा, धमतरी, दुर्ग, कोंडागांव, कोरबा, कोरिया, महासमुंद, मुंगेली, नारायणपुर में अगले 4 घंटों के दौरान बारिश और बिजली चमकने की संभावना है।

झारखंड के लिए मौसम चेतावनी

अगले 4-5 घंटों के दौरान बोकारो, चतरा, देवघर, गढ़वा, गिरिडीह, गोड्डा, गुमला, हजारीबाग, जामताड़ा, पाकुड़, पलामू, पशिमी सिंहभूम, पूर्बी सिंहभूम, रामगढ़, रांची, सहारन पर अधिक बारिश होगी।

आंध्रप्रदेश के लिए मौसम चेतावनी

अगले 6 घंटों में तेज आंधी के साथ हल्की से मध्यम हवाओं के साथ हल्की से मध्यम बारिश होगी। अनंतपुर, चित्तूर, पूर्वी गोदावरी, गुंटूर, कृष्णा, कुरनूल, प्रकाशम, श्रीकाकुलम, श्री पोट्टी श्रीरामुलु नेल्लोर, विजयनगरम में हल्की से मध्यम बारिश होगी।

कर्नाटक के लिए मौसम चेतावनी

अगले 6 से 8 घंटे के दौरान धारवाड़, गदग, गुलबर्गा, हसन, हावेरी, कोडागु, कोलार, कोप्पल, मंड्या, मैसूर, रायचूर, रामनगर, शिमोगा, तुमकुर, उडुपी, उत्तरा कन्नड़ और यादगीर में तेज हवाओं के साथ हल्की से मध्यम बारिश होगी।

राजधानी के लिए पूर्वानुमान

दिल्ली और इससे सटे इलाकों में अब मौसम शुष्क होने के आसार हैं। हालांकि वातावरण में नमी की मौजूदगी और तापमान में वृद्धि की स्थिति को देखते हुए अनुमान है कि दिल्ली और एनसीआर क्षेत्र में आंशिक बादल छाये रह सकते हैं।

मौसम विभाग ने की भविष्यवाणी, आज दिल्ली समेत देश के इन इलाकों में ऐसा रहेगा मौसम

बेमौसम बारिश, धूल भरी आंधी-तूफान, आकाशीय बिजली गिरने से राजस्थान, मध्य प्रदेश और गुजरात के कई हिस्सों में मंगलवार रात करीब 50 लोगों की मौत हो गई तथा कई अन्य घायल हो गए।

बुधवार को भारतीय मौसम विभाग ने चेतावनी जारी कर कहा था कि उत्तर और उत्तर-पूर्वी भारत के कई हिस्सों में बुधवार को आंधी-तूफान आ सकते हैं, ओले पड़ सकते हैं और आकाशीय बिजली गिर सकती है। कई इलाकों में बुधवार को भी मौसम की मार पड़ी। कहा जा रहा है कि गुरुवार को भी मौसम खराब रहने की संभावना है।

मौसम विभाग ने बताया, ‘उत्तराखंड, पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़, बिहार और पश्चिम बंगाल में गंगा नदी से सटे इलाकों में कहीं-कहीं 60-70 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से चलने वाली हवाओं के साथ बारिश हो सकती है, ओले गिर सकते हैं और बिजली गिर सकती है।

‘ विभाग के मुताबिक, हिमाचल प्रदेश, उत्तर प्रदेश, पूर्वी राजस्थान, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश, झारखंड, उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल, सिक्किम, ओड़िशा, असम, मेघालय, नगालैंड, मणिपुर, मिजोरम और त्रिपुरा, तटीय कर्नाटक, तमिलनाडु एवं केरल में 40-50 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चलने वाली तेज हवाओं के साथ आंधी-बारिश आ सकती है।

उत्तर और मध्य भारत के कई हिस्सों में रविवार से ही आंधी-तूफान आ रहे हैं, भारी बारिश हो रही है, धूल भरी आंधी चली है और आकाशीय बिजलियां गिरी हैं। अधिकारियों ने बुधवार को बताया कि मंगलवार को बेमौसम बारिश, धूल भरी आंधी और आकाशीय बिजली गिरने से राजस्थान, मध्य प्रदेश और गुजरात के कई हिस्से प्रभावित हुए।

मध्य प्रदेश में 15 लोगों की मौत हुई है। गुजरात में आंधी, ओलावृष्टि और बारिश से संबंधित अलग-अलग हादसों में 25 लोगों की मौत हो गई और राजस्थान में धूल भरी तेज आंधी चलने से करीब 10 लोग मारे गए।

मौसम विभाग ने उत्तर प्रदेश के कुछ हिस्सों, पंजाब, उत्तराखंड और बिहार के लिए अंबर रंग की चेतावनी भी जारी की है। अंबर रंग की चेतावनी का मतलब सरकार को संकट से निपटने के लिए तैयार रहने की जरूरत है। मौसम विभाग का कहना है कि पश्चिमी विक्षोभ के कारण आंधी, बारिश और बिजली गिरने जैसी घटनाएं हो रही हैं।