सिर्फ 50 रुपए प्रति दिन के खर्च से होगी 35 लाख की कमार्इ ! साथ में मिलेगा यह फायदा

निवेश व बचत के लिए हर कोर्इ बेहतर से बेहतर विकल्प की तलाश में रहता है। एेसे में यदि आपसे कहा जाए कि मात्र 50 रुपए के प्रति दिन निवेश से आप 35 लाख रुपए तक की कमार्इ कर सकते हैं तो शायद आप यकीन नहीं कर पाएंगे।

आमतौर देखा जाए तो आप पाॅकेट खर्च के नाम पर 50 रुपए से कहीं अधिक रुपए प्रतिदिन खर्च करते हैं। अगर आप वित्तीय रूप से अपने भविष्य को सुरक्षित करना चाहते हैं तो चिंता न करें। आज हम आपको निवेश को लेकर एक एेसे तरीके के बारे में बताने जा रहे हैं जिसमें आप केवल 50 रुपए के निवेश करने की वजह बड़ी रकम जमा कर सकते हैं।

एेसे करें बचत

मानी लीजिए कि आपकी उम्र 25 वर्ष है आैर आप प्रति दिन के हिसाब से सालाना 18 हजार रुपए खर्च कर सकते हैं। साथ ही आपको पीपीएफ खाता भी खोल सकते हैं। मौजूदा समय में इसपर आपको 8 फीसदी की दर से ब्याज मिलता है। इस हिसाब से यदि आप 50 रुपए प्रति दिन का निवेश करते हैं तो 35 साल में आप 3.5 लाख रुपए कमा लेंगे।

इस हिसाब से यदि आप 50 रुपए प्रति दिन व अपने पीपीएफ खाते में प्रति वर्ष 18 हजार रुपए का निवेश करते हैं तो 60 साल में आप 35 लाख रुपए के मालिक बन सकते हैं। मौजूदा समय में यदि आप एलआर्इसी जीवन शांति प्लान में निवेश करते हैं तो आपको 25 हजार रुपए प्रतिमाह का पेंशन मिलता है।

महंगार्इ का मात देने में मिलेगी मदद

एेसे में यदि आप मात्र 50 रुपए प्रति दिन की बचत से आप रिटायरमेंट के समय इतनी बड़ी रकम बना सकते हैं तो आप सोच सकते हैं कि अधिक पैसे के निवेश से कितना कमा सकते हैं।

इसके अलावा आप नेशनल पेंशन स्कीम, इक्विटी व फिक्स्ड डिपाॅजिट में भी पैसे निवेश कर सकते हैं। इस प्रकार भविष्य में बढ़ने वाली महंगार्इ के हिसाब से भी खुद को वित्तीय तौर पर मजबूत कर सकते हैं।

दुनिया की सबसे ताकतवर सब्जी है ये, खाएंगे तो शरीर बन जाएगा फौलादी

आजकल के दौर में जंक फूड का इतना क्रेज बढ़ चुका है कि लोग अपने शरीर को जरूरी ताकत देनी वाली सब्जी, दाल का सेवन कम ही करते हैं. लेकिन, बहुत कम लोग जानते हैं कि कुछ सबज्यिां ऐसी होती हैं, जिन्हें कुछ दिन खाने पर ही इसका फायदा मिल जाता है.

ऐसी ही एक सब्जी है कंटोला. यह दुनिया की सबसे ताकतवर सब्जी है. इसे औषधि के रूप में भी इस्तेमाल किया जाता है. इस सब्जी में इतनी ताकत होती है कि महज कुछ दिन के सेवन से ही आपका शरीर तंदुरुस्त बन जाता है या यूं कहें कि फौलादी बन जाता है. कंटोला को ककोड़े और मीठा करेला नाम से भी जाना जाता है.

कंटोला आमतौर पर मॉनसून के मौसम में भारतीय बाजारों में देखा जाता है. इसमें कई स्वास्थ्य लाभ है जिसकी वजह से इसकी खेती दुनियाभर में शुरू हो गई है. इसकी मुख्य रूप से भारत के पर्वतीय क्षेत्रों में खेती की जाती है.

यह सब्जी स्वादिष्ट होने के साथ-साथ प्रोटीन से भरपूर होती है. इसे रोज खाने से आपका शरीर ताकतवर बनता है. इसके लिए कहा जाता है कि इसमें मीट से 50 गुना ज्यादा ताकत और प्रोटीन होता है. कंटोल में मौजूद फाइटोकेमिकल्स स्वास्थ्य को बढ़ावा देने में काफी मदद करता है. यह एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर सब्जी है. यह शरीर को साफ रखने में भी काफी सहायक है.

अगर आप भी अपनी रोजाना डाइट में इसे शामिल करते हैं तो दूसरे तत्वों और फाइबर की कमी को भी यह पूरी करती है. ककोड़े यानी मीठा करेला को सेहतमंद माना जाता है. आयुर्वेद में भी इसे सबसे ताकतवर सब्जी के रूप में माना गया है.

एंटी एलर्जिक : कंटोल में एंटी-एलर्जन और एनाल्जेसिक सर्दी खांसी से राहत प्रदान करने और इस रोकन में काफी सहायक है.

हाई ब्लड प्रेशर होगा दूर : कंटोला में मौजूद मोमोरडीसिन तत्व और फाइबर की अधिक मात्रा शरीर के लिए रामबाण हैं. मोमोरेडीसिन तत्व एंटीऑक्सीडेंट, एंटीडायबिटीज और एंटीस्टे्रस की तरह काम करता है और वजन और हाई ब्लड प्रेशर को नियंत्रित रखता है.

पाचन क्रिया होगी दुरुस्त : अगर आप इसकी सब्जी नहीं खाना चाहते तो अचार बनाकर भी सेवन कर सकते हैं. आयुर्वेद में कई रोगों के इलाज के लिए इसे औषधि के रूप में प्रयोग करते हैं. यह पाचन क्रिया को दुरुस्त करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है.

कैंसर से बचाए : कंटोला में में मौजूद ल्युटेन जैसे केरोटोनोइडस विभिन्न नेत्र रोग, हृदय रोग और यहां तक कि कैंसर की रोकथाम में सहायक है.

वजन घटाने में सक्षम: कंटोला में प्रोटीन और आयरन भरपूर होता है जबकि कैलोरी कम मात्रा में होती है. यदि 100 ग्राम कंटोला की सब्जी का सेवन करते हैं तो 17 कैलोरी प्राप्त होती है. जिससे वजन घटाने वाले लोगों के लिए यह बेहतर विकल्प है.

भारतीय वैज्ञानिकों ने खोजा ये नया फल चीनी से ज्यादा मीठा फिर भी शुगर फ्री

चीनी भले ही आपका स्वाद बढ़ा देती हैं लेकिन इसके नुकसान भी बहुत है और अगर इसकी जगह कोई ऐसा फल हो जो मीठे होने के साथ ही साथ कम कैलोरी वाला हो तो कितनी मुश्किलें आसान हो जाएगीं। भारतीय वैज्ञानिकों ने एक बार फिर करिश्मा कर दिखाया है।

आईएचबीटी और CSIR के वैज्ञानिकों की टीम ने मिलकर पालमपुर में सफलतापूर्वक एक ऐसा चीनी मॉन्क फल उगाया है जो चीनी से कहीं ज्यादा मीठा है और शुगर फ्री भी है। वैज्ञानिकों को उम्मीद है कि बहुत ही जल्द इस फल से बने स्वीटनर्स बाजार में मिलने लगेंगे।

भारत में करीब 62.4 मिलियन लोग डायबिटीज से पीड़ित हैं जो अपने आप में एक बड़ी संख्या है। ऐसे में ये फल कितना फायदेमंद हो सकता है ये आगे के रिजल्ट से ही पता चलेगा। भारत दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा चीनी उत्पादक देश है।

डायबिटीज मरीजों के लिए फायदेमंद होगा ये फल

डेली पायनियर से बताचीत के समय, हिमाचल प्रदेश के पालमपुर स्थित सीएसआईआर-आईएचबीटी के निदेशक डॉ संजय कुमार ने कहा, ‘भारत में 62.4 मिलियन लोगों को टाइप4 का मधुमेह है, ऐसे में यह फल उनके लिए वरदान साबित होगा। हमने जो प्रयोग किए हैं वो सफल हो गए हैं। ये फल चीनी से 300गुना ज्यादा मीठा है।

इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ हिमालया बॉयो रिसोर्स टेक्नोलॉजी (IHBT) और कांउसिल ऑफ साइंटिफिक एंड इंड्रस्टीरियल रिसर्च (CSIR) के लैब मिलकर अब इस फल को मार्केट में लाने की तैयारी कर रहे हैं। डायबिटीज के मरीजों के लिए तो ये फल फायदेमंद है ही इसके अलावा यह कैलोरी वाले उत्पादों का निर्माण करने वाले खाद्य उत्पादकों के लिए भी फायदेमंद हो सकता है।

मॉन्क फल को उगाने के लिये अलग कृषि-तकनीक के साथ उपयुक्त पौध और वैज्ञानिक तकनीकों की जरूरत होती है और ये अभी तक चीन में ही हो रहा है, इस फल की व्यवसायिक खेती कहीं और नहीं होती है।

अब पुरुषों को कंडोम की नहीं होगी जरूरत,आया ये नया विकल्प

यूं तो महिलाओं के लिए बाजार में कई प्रकार की गर्भनिरोधक गोलियां मौजूद हैं, लेकिन वैज्ञानिकों ने अब पुरुषों के लिए बर्थ कंट्रोल जेल विकसित किया है. ये पुरुषों के लिए बनाया गया पहला कॉन्ट्रासेप्शन जेल होगा.

पॉपुलेशन काउंसिल और नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ, नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ चाइल्ड हेल्थ और ह्यूमन डेवलपमेंट के शोधकर्ताओं ने मिलकर ये जेल विकसित किया है, जो पुरुषों में स्पर्म के प्रोडक्शन को कम करने में मदद करेगा.

स्टडी की रिपोर्ट में बताया गया है कि इस जेल में फीमेल सेक्स हार्मोन प्रोजेस्टेरोन का सिंथेटिक वर्जन और पुरुषों में पाया जाने वाला टेस्टोस्टेरोन हार्मोन शामिल है. इस जेल को पुरुषों को अपने कंधे और कमर पर लगाना होगा, जिसके बाद स्किन इस जेल में मौजूद हार्मोन्स को एब्सोर्ब कर पुरुषों में स्पर्म के प्रोडक्शन को कम कर देगी.

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ के मुताबिक, इस जेल को लगाने से पुरुषों में स्पर्म की मात्रा तो कम हो जाएगी, लेकिन इसका असर ज्यादा लंबे समय तक नहीं रहेगा. इसके अलावा जेल में मौजूद टेस्टोस्टेरोन पुरुषों में पाए जाने वाले नेचुरल टेस्टोस्टेरोन हार्मोन के कम होने पर होने वाले कई प्रकार के साइड इफेक्ट्स से भी सुरक्षित रखेगा. जैसे- इरेक्टाइल डिसफंक्शन, शरीर के बालों का कम होना, आवाज में बदलाव आदि.

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ की कॉन्ट्रासेप्टिव डेवलपमेंट प्रोग्राम की मुख्य लेखक Diana Blithe ने बताया, कई महिलाएं हार्मोनल कॉन्ट्रासेप्शन इस्तेमाल नहीं कर पाती हैं. वहीं, पुरुषों के लिए बाजार में बहुत लिमिटेड कॉन्ट्रासेप्टिव हैं.

‘एक सुरक्षित, असरदार और रिवर्सिबल मेल कॉन्ट्रासेप्टिव लोगों की जरूरतों को पूरा करने में सक्षम है.’  बता दें, नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ द्वारा U.S में जल्द ही इस जेल का क्लीनिकल ट्रायल किया जाएगा. इसमें करीब 400 कपल्स पर इस जेल का टेस्ट किया जाएगा. इस ट्रायल से पता लगाया जा सकेगा कि ये जेल कितना सुरक्षित और असरदार है और एक समय में कितना जेल इस्तेमाल करना फायदेमंद रहेगा.

यूनिवर्सिटी ऑफ वॉशिंगटन स्कूल ऑफ मेडिसिन के डॉ. विलियम ब्रेमनर ने कहा कि इस नए जेल में बहुत क्षमता है, ये बहुत असरदार साबित हो सकता है. बर्थ कंट्रोल के लिए पुरुषों के पास अभी तक केवल कंडोम का ही ऑप्शन था. कॉन्ट्रासेप्शन के सभी ऑप्शन महिलाओं के लिए ही थे. लेकिन इस जेल की मदद से अब पुरुष भी बिना कंडोम इस्तेमाल किए बर्थ कंट्रोल कर सकेंगे.

बता दें, वैज्ञानिक पुरुषों के लिए भी कॉन्ट्रासेप्टिव दवाइयां बनाने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन फिलहाल इसमें अभी लगभग 5 साल का समय लगेगा. हालांकि, वैज्ञानिकों ने बताया कि अभी ये कहना मुश्किल होगा कि पुरुषों के लिए आने वाली कॉन्ट्रासेप्टिव गोलियों की फॉर्म में होंगी या फिर स्प्रे और सब-स्किन इंप्लांट की फॉर्म में.

साल 2016 में Wolverhampton University के शोधकर्ताओं ने बताया था कि उन्होंने स्पर्म स्विमिंग को रोकने का तरीका विकसित किया है. इसके जरिए छोटे-छोटे कंपाउंड स्पर्म में मिलकर इसकी क्षमता को कम कर महिला को प्रेग्नेंट नहीं कर सकेंगे.

यहां पे सिर्फ 8549 रुपए में मिल रही है फुली ऑटोमैटिक वॉशिंग मशीन, जाने पूरी ऑफर

फ्लिपकार्ट की बिग शॉपिंग डेज सेल रात 12 बजे से शुरू हो चुकी है। 3 दिन तक चलने वाली ये सेल 8 दिसंबर को रात 11:59 पर खत्म होगी। सेल में इलेक्ट्रॉनिक, गैजेट्स, होम अप्लायंस, एक्सेसरीज के साथ दूसरे आइटम पर भी जबरदस्त डिस्काउंट मिल रहा है।

HDFC बैंक के डेबिट और क्रेडिट कार्ड से पेमेंट करने पर 10% का इंस्टेंट डिस्काउंट दिया जाएगा। सेल में Midea ब्रांड की फुली ऑटोमैटिक वॉशिंग मशीन को 10 हजार रुपए से भी कम कीमत पर खरीदा जा सकता है।

ये है पूरा ऑफर

  • इसे 1056 रुपए की नो कोस्ट EMI पर खरीद सकते हैं।
  • स्पेशल प्राइस गेट में एक्स्ट्रा 1000 रुपए का डिस्काउंट दिया जाएगा।
  • HDFC बैंक के क्रेडिट और डेबिट कार्ड से पेमेंट करने पर 10% का ऑफ मिलेगा।
  • एक्सिस बैंक बज क्रेडिट कार्ड से पेमेंट करने पर 5% का ऑफ मिलेगा।

इतने रुपए में मिल जाएगी मशीन

फ्लिपकार्ट ने इस फुली ऑटोमैटिक मशीन को 11,880 की MRP के साथ लिस्टेड किया है। ऑफर में ये 9,499 रुपए की मिल जाएगी। यानी इस मशीन पर सेल के दौरान 2381 रुपए की सीधी बचत होगी। वहीं, अगर आप HDFC बैंक के क्रेडिट या डेबिट कार्ड से पेमेंट करते हैं तब 950 रुपए का एक्स्ट्रा डिस्काउंट मिलेगा। ऐसे में इसकी कीमत 8549 रुपए रह जाएगी।

Midea 6.5 kg Fully Automatic के फीचर्स

  • ये फुली ऑटोमैटिक वॉशिंग मशीन टॉप लोड के साथ आती है। कंपनी का दावा है कि इससे बेस्ट वॉश क्वालिटी मिलती है।
  • मशीन ही हायर स्पिन स्पीड 700 rpm है। ये कपड़े को धोने के साथ सुखाने का भी काम करती है।
  • इसमें अच्छी वॉशिंग के लिए 8 वॉश प्रोग्राम दिए हैं।
  • इसके अंदर का मटेरियल स्टेनलैस स्टील का है। जो इसे लॉन्ग लाइफ देता है।
  • इसमें एक बार में 6.5 kg कपड़े वॉश किए जा सकते हैं।
  • इसकी ट्रे जरा सा पुश करने पर खुद ही बंद हो जाती है।

100 रुपए में ऑनलाइन बनवाएं मैरिज सर्टिफिकेट, रजिस्ट्रेशन का यह है प्रोसेस

शादी का सीजन चल रहा है लेकिन शादी की तैयारियों के बीच अपनी शादी से जुड़े कानूनी दस्तावेजों पर भी काम जरूर कर लें।  सुप्रीम कोर्ट ने मैरिज सर्टिफिकेट बनाना अनिवार्य कर रखा है।

अब जब देश के कई राज्यों में मैरिज रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट ऑनलाइन बन रहा है। शादीशुदा जोड़े को मैरिज सर्टिफिकेट की जरूरत पासपोर्ट में वैवाहिक स्टेटस को अपडेट कराने, ज्वाइंट होम लोन लेने, ज्वाइंट बैंक अकाउंट खुलवाने और कपल वीजा लेने के लिए पड़ती है।

जानिए ऑनलाइन मैरिज सर्टिफिकेट बनाने का क्या है तरीका..

क्या है मैरिज सर्टिफिकेट

मैरिज सर्टिफिकेट आधिकारिक स्टेटमेंट हैं, जिसके तहत दो लोग शादीशुदा माने जाते हैं। देश में शादी को हिंदू मैरिज एक्ट 1955 और स्पेशलमैरिज एक्ट 1954 के तहत रजिस्टर किया जाता है।

सुप्रीम कोर्ट ने मैरिज सर्टिफिकेट किया अनिवार्य

साल 2006 में सुप्रीम कोर्ट ने शादी को रजिस्टर करना अनिवार्य बना दिया है। सुप्रीम कोर्ट ने महिलाओं की सुरक्षा के लिए हिंदू एक्ट में मैरिज रजिस्ट्रेशन जरूरी कर दिया है।

कहां बनता है मैरिज ऑनलाइन सर्टिफिकेट

मैरिज सर्टिफिकेट कोर्ट और राज्य सरकार की वेबसाइट पर जाकर बनवा सकते हैं। दिल्ली, उत्तराखंड, मध्यप्रदेश, उत्तर प्रदेश, राजस्थान जैसे राज्यों में राज्य सरकार की वेबसाइट पर मैरिज सर्टिफि‍केट का फॉर्म भर सकते हैं। सभी राज्यों में मैरिज सर्टिफिकेट बनवाने का प्रोसेस लगभग एक जैसा है।

ऑनलाइन बनाने का यह है प्रॉसेस

दिल्ली सरकार का रेवेन्यू डिपार्टमेंट ई-डिस्ट्रिक्ट नाम से वेबसाइट चलाता है। इसके जरिए सरकार लोगों को ऑनलाइन सर्विस देती है।

  • पहले आप http://edistrict.delhigovt.nic.in/in/en/Account/Register.html इस लिंक पर क्लिक करें।
  • ई-डिस्ट्रिक्ट पोर्टल पर नए यूजर को पहले रजिस्टर करना होता। उसके बाद स्क्रीन पर दिए इंस्ट्रक्शन को फॉलो करें।
  • आप अपने हसबैंड की डिटेल भरे और ‘र‍जिस्ट्रेशन ऑफ मैरिज सर्टिफिकेट’ पर क्लिक करें। फॉर्म डाउनलोड हो जाएगा। आप इस फॉर्म में सारी डिटेल भर दें और अप्वाइंटमेंट की तारीख सेलेक्ट करें। सबमिट बटन पर क्लिक करके अप्लिकेशन फॉर्म सबमिट कर दें।
  • आपको एक टेम्परेरी नंबर मिल जाएगा। ये टेम्परेरी नंबर अक्नोलेजमेंट स्लिप पर भी होगा। आप अपने एप्लिकेश फॉर्म और अक्नोलेजमेंट स्लिप का प्रिंट आउट निकालना न भूलें। एप्लिकेशन फॉर्म का काम हो गया।
  • अप्वाइंटमेंट में सब फाइनल होने के बाद जब आपकी एप्लिकेशन अप्रूव हो जाएगी, तो ई-डिस्ट्रिक्ट के पोर्टल पर एप्लिकेशन नंबर डालकर मैरिजसर्टिफिकेट को डाउनलोड कर सकते हैं।

कितने समय में मिलेगा अप्वाइंटमेंट

  • हिंदू मैरिज एक्ट के तहत आपको अप्वाइंटमेंट का समय 15 दिन में मिल जाएगा।
  • स्पेशल मैरिज एक्ट के तहत 60 दिन का समय लगता है।

अप्वाइंटमेंट के समय क्या होना है जरूरी

  • आपको एक ऐसा गवाह लेकर आना होगा, जो आपकी शादी में शामिल हुआ है। गवाह के पास पैन कार्ड और एडे्रस प्रूफ होना जरूरी है।
  • साथ ही सभी डॉक्‍यूमेंट अटैस्टेड होने चाहिए।

ऑनलाइन फॉर्म जमा करते समय इन बातों का रखे ध्यान

वेबसाइट पर अपलोड होने वाली फाइल का साइज 100 केबी से ज्यादा नहीं होना चाहिए। यदि आपने डॉक्यूमेंट अटैच नहीं किए तो आपकी एप्लिकेशन रिजेक्ट हो सकती है।

कौन से चाहिए डॉक्यूमेंट

  • एप्लिकेशन फॉर्म
  • एड्रेस प्रूफ – हसबैंड और वाइफ दोनों का
  • जन्मतिथि – ड्राइविंग लाइसेंस (हसबैंड और वाइफ दोनों का)
  • हसबैंड और वाइफ की 2 पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ
  • एक शादी की फोटोग्राफ
  • आधार कार्ड
  • सभी डॉक्यूमेंट की फोटो कॉपी सेल्फ अटे्स्टड होनी चाहिए।
  • ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन के लिए शादी का कार्ड भी चाहिए।

इतने समय में बन जाता है मैरिज सर्टिफिकेट

दिल्ली में ‘तत्काल मैरिज सर्टिफिकेट’ बनता है।  ‘तत्काल मैरिज सर्टिफिकेट’ में रजिस्ट्रेशन प्रोसेस एक दिन में हो जाता है। आपको इसके तहत मैरिज सर्टिफिकेट 24 घंटे में मिल जाता है।

फीस

  • हिंदू मैरिज एक्ट के तहत मैरिज रजिस्ट्रेशन के लिए 100 रुपए फीस है।
  • स्पेशल मैरिज एक्ट के तहत मैरिज रजिस्ट्रेशन के लिए 150 रुपए फीस है।
  • ‘तत्काल मैरिज सर्टिफिकेट’ बनवाने के लिए 10,000 रुपए फीस लगेगी।

TV पर इन 100 चैनलों के बदले आप से लिए जा सकते हैं सिर्फ 130 रु. महीना, सरकार ने जारी किये आदेश

टेलीकॉम रेगुलेटरी अथॉरिटी ऑफ इंडिया (ट्राई) के नए नियमों के अनुसार 100 फ्री चैनल के लिए केबल ऑपरेटर और डीटीएच सर्विस प्रोवाइडर अब 130 रुपए से अधिक नहीं ले सकते। कोई भी ऑपरेटर या डीटीएच सर्विस प्रोवाइडर कंपनी ग्राहकों पर पैकेज नहीं थोप सकेंगे। इन नियमों को लागू करने की प्रक्रिया शुरू हो गई है।

ट्राई ने अनुमान व्यक्त किया है कि मप्र जैसे राज्यों में फ्री चैनल और पे चैनल मिला कर सामान्य उपभोक्ता को हर महीने 243 रुपए का भुगतान करना होगा। इसमें 65 फ्री टू एयर चैनल, दूरदर्शन के 23 चैनल, 3 म्यूजिक चैनल, 3 न्यूज चैनल, 3 मूवी चैनल और 3 जीईसी चैनल सब मिलाकर 100 चैनल शामिल हैं।

ऐसे में यदि कोई भी ऑपरेटर आप से ज्यादा पैसा वसूल कर रहा है तो आप इसकी शिकायत ट्राई में कर सकते हैं। ट्राई ने इस व्यवस्था को लागू करने के लिए 29 दिसंबर की तारीख तय की है। देशभर में ट्राई के 5 रीजनल ऑफिस हैं, जहां शिकायत की जा सकती है।

कहां-कहां हैं रीजनल ऑफिस

हैदराबाद, कोलकाता, बेंगलुरू, भोपाल और जयपुर में ट्राई के रीजनल ऑफिस हैं। इसके अलावा दिल्ली के महानगर दूरदर्शन भवन, जवाहरलाल नेहरु मार्ग में ट्राई का हेड ऑफिस है। आप यहां भी अपनी शिकायत पहुंचा सकते हैं। आप ट्राई के ईमेल आईडी ap(at)trai(dot)gov(dot)in के साथ ही फोन नंबर 91-11-2323 6308 (Reception) पर भी कॉन्टेक्ट कर सकते हैं।

ट्राई के तीन अन्य महत्वपूर्ण एप

माय कॉल एप – इस एप के जरिए आप अपने कॉल की क्वालिटी के संबंध में सूचना दे सकेंगे। इस आधार पर ट्राई आवश्यक कार्रवाई कर सकता है।
डीएनडी एप– इस एप के जरिए आप कुछ समय के लिए इनकमिंग कॉल रोक सकते हैं।
माय स्पीड – इस एप के जरिए आप नेट की स्पीड चेक कर सकते हैं।

मप्र रीजन के लोग यहां कर सकते हैं शिकायत

कोई केबल ऑपरेटर या डीटीएच कंपनी उपभोक्ताओं को सेवाएं देने में कोताही बरते तो ट्राई के कंज्यूमर एडवोकेसी ग्रुप के पते ई-5/ए, गिरीश कुंज, अरेरा कॉलोनी और फोन नंबर 07552463731 पर शिकायत कर सकते हैं। इसके अलावा वेबसाइट – www.nchse.org और ई- मेल nchsebpl@gmail.com पर भी शिकायत कर सकते हैं।

यहां बेचें अपने पुराने कपड़े और सामान, घर बैठे कमाएं पैसा

अपने पुराने कपड़े बेचकर आप अच्‍छी कमाई भी कर सकते हैं। कई ऐसी ऑनलाइन कंपनियां हैं, जो पुराने कपड़ों के लिए आपको अच्‍छी कीमत अदा करती हैं। अपने पुराने कपड़े बेचने के लिए आपको कहीं जाने की जरूरत नहीं होगी। ये कंपनियां आपके घर से पुराने कपड़े खुद पिक करेंगी।

यहां बेचें अपने पुराने कपड़े

कांफिडेंशियल काउचर (confidentialcouture) नाम की एक साइट पर अपने पुराने कपड़ों के साथ आप पर्स, बैग और अन्‍य पुरानी चीजों को भी बेच सकते हैं। इसके लिए आपको कांफिडेंशियल काउचर से कॉन्‍टैक्‍ट करना होगा और उसके बाद आगे की प्रक्रिया शुरू होगी।  अपने पुराने कपड़ों की कुछ तस्‍वीरें इस ऑनलाइन कंपनी को भेजनी होंगी।

आपके पुराने कपड़ों की स्थिति को देखते हुए साइट की तरफ से आपके सामने एक प्राइस प्रपोज किया जाएगा।अगर आप कंपनी के प्रपोज्‍ड प्राइस पर बेचने के लिए तैयार हो जाते हैं, तो कंपनी खुद आपके घर से पुराने कपड़ों को पिकअप करेगी। यह साइट लग्‍जरी और बड़े ब्रांड्स के पुराने कपड़ों की खरीद ज्‍यादा करती है।

पहले से जानें कीमत

अन्य साइटों की तरह ही जैपिल भी आपके पुराने कपड़े, जूते, पर्स और बैग्‍स समेत अन्‍य सामान खरीदती और बेचती है। इस साइट पर पुराने कपड़े बेचने की प्रोसेस शुरू करने से पहले आप प्राइस कैल्‍कुलेट कर सकते हैं।

पुराने कपड़ों की ऑरिजनल कीमत से कंपैरिजन करके यह कैल्‍कुलेटर बता देता है कि आपको कितनी कमाई होगी। इसके बाद कपड़ों के फोटो अपलोड करने के साथ ही पिकअप शेड्यूल कीजिए। जैपिल आपके घर आकर पुराने कपड़े पिक करेगी और आपको कीमत अदा करेगी।

मोबाइल पर भी बेच सकते हैं

इलानिक एक मोबाइल ऐप है। इसके जरिए आप स्‍मार्टफोंस से पुराने कपड़ों की फोटो अपलोड कर सकते हैं और इसके बाद इलानिक आपसे कॉन्‍टैक्‍ट करेगी। इलानिक भी अन्‍य कंपनियों की तरह आपके घर से पुराने कपड़े पिकअप करेगी।

पिकअप करने के बाद यह स्‍टार्टअप पुराने कपड़ों को एक प्रोसेस के जरिए क्‍लीन और नए जैसा बनाती है और फिर उसे रिसेल वूल्‍य पर बेचती है। इस साइट पर भी पर्सनल ग्रूमिंग से जुड़ी हर चीज बेची जा सकती है।

ये भी हैं प्लेटफॉर्म

कांफिडेंशियल काउचर, इलानिक जैसे अन्‍य कई प्‍लैटफॉर्म हैं, जहां आप अपने पुराने कपड़े बेच सकते हैं। इसमें स्‍पॉइल, रिफैशन और ईबे समेत अन्‍य कई साइटें शामिल हैं। इन साइटों पर आप पुराने कपड़ों के साथ ही पुराने मोबाइल और घर में पड़ा अन्‍य पुराना सामान भी बेच सकते हैं।  अपने पुराने कपड़ों के लिए ज्‍यादा से ज्‍यादा कीमत हासिल करने के लिए आप इन साइटों के बीच कंपैरिजन भी कर सकते हैं और जहां से बेहतर प्राइस मिले, वहां बेच सकते हैं।

हर महीने रैगुलर इनकम के लिए ले सकते हैं पोस्ट ऑफिस की फ्रेंचाइजी, इस तरह करें अप्लाई

पोस्‍टल डिपार्टमेंट ‘इंडिया पोस्‍ट’ ने पोस्ट ऑफिस खोलने के लिए फ्रेंचाइजी ऑफर की है। फ्रेंचाइजी लेकर आप पोस्ट ऑफिस के प्रोडक्ट्स बेचकर अच्छी खासी कमाई कर सकते हैं। आइए आपको बताते हैं कि पोस्‍ट ऑफिस फ्रेंचाइजी कैसे ली जा सकती है और किस सर्विस पर कितना कमीशन आय का जरिया बनता है-

कौन ले सकता है फ्रैंचाइजी

कोई भी व्यक्ति, इंस्‍टीट्यूशंस, ऑर्गेनाइजेशंस या अन्‍य एंटिटीज जैसे कॉर्नर शॉप, पान वाले, किराने वाले, स्‍टेशनरी शॉप, स्‍मॉल शॉपकीपर आदि पोस्‍ट ऑफिस फ्रेंचाइजी ले सकते हैं।

  • व्यक्ति की उम्र कम से कम 18 साल होनी चाहिए।
  • उसे कम से कम 8वीं पास होना चाहिए।
  • फॉर्म व अधिक जानकारी https://www.indiapost.gov.in/VAS/DOP_PDFFiles/Franchise.pdf से ली जा सकती है।

कैसे होता है सिलेक्‍शन

फ्रेंचाइजी लेने वाले का सिलेक्‍शन सबंधित डिविजनल हेड द्वारा किया जाता है, जो एप्‍लीकेशन मिलने के 14 दिनों के अंदर ASP /sDl की रिपोर्ट पर आधारित होता है।

कितना सिक्‍योरिटी डिपॉजिट

पोस्‍ट ऑफिस फ्रेंचाइजी लेने के लिए मिनिमम सिक्‍योरिटी डिपॉजिट 5000 रुपए है। यह फ्रैंचाइजी द्वारा एक दिन में किए जाने वाले फाइनेंशियल ट्रान्‍जेक्‍शंस के संभावित अधिकतम स्‍तर पर आधारित है। बाद में यह एवरेज डेली रेवेन्‍यू के आधार पर बढ़ जाता है। सिक्‍योरिटी डिपॉजिट NSC की फॉर्म में लिया जाता है।

ग्राहकों को मिलेंगी ये सर्विस व प्रोडक्‍ट

  • स्‍टांप और स्‍टेशनरी
  • रजिस्‍टर्ड आर्टिकल्‍स, स्‍पीड पोस्‍ट आर्टिकल्‍स, मनी ऑर्डर की बुकिंग। हालांकि 100 रुपए से कम का मनी ऑर्डर नहीं होगा बुक
  • पोस्‍टल लाइफ इंश्‍योरेंस (PLI) के लिए एजेंट की तरह करेगा काम, साथ ही इससे जुड़ी आफ्टर सेल सर्विस जैसे प्रीमियम का कलेक्‍शन भी कराएगा उपलब्‍ध
  • बिल/टैक्‍स/जुर्माने का कलेक्‍शन और पेमेंट जैसी रिटेल सर्विस
  • ई-गवर्नेंस और सिटीजन सेंट्रिक सर्विस
  • ऐसे प्रोडक्‍ट्स की मार्केटिंग, जिसके लिए डिपार्टमेंट ने कारपोरेट एजेंसी हायर की हुई हो या टाई-अप किया हुआ हो। साथ ही इससे जुड़ी सेवाएं।
  • भविष्‍य में डिपार्टमेंट द्वारा पेश की जाने वाली सर्विस

ऐसे होगी कमाई

फ्रेंचाइजी की कमाई उनके द्वारा दी जाने वाली पोस्‍टल सर्विसेज पर मिलने वाले कमीशन द्वारा होती है। यह कमीशन MOU में तय होता है।

किस सर्विस व प्रोडक्‍ट पर कितना कमीशन

  • रजिस्‍टर्ड आर्टिकल्‍स की बुकिंग पर 3 रुपए
  • स्‍पीड पोस्‍ट आर्टिकल्‍स की बुकिंग पर 5 रुपए
  • 100 से 200 रुपए के मनी ऑर्डर की बुकिंग पर 3.50 रुपए, 200 रुपए से ज्‍यादा के मनी ऑर्डर पर 5 रुपए
  • हर माह रजिस्‍ट्री और स्‍पीड पोस्‍ट के 1000 से ज्‍यादा आर्टिकल्‍स की बुकिंग पर 20 फीसदी अतिरिक्‍त कमीशन
  • पोस्‍टेज स्‍टांप, पोस्‍टल स्‍टेशनरी और मनी ऑर्डर फॉर्म की बिक्री पर सेल अमाउंट का 5 फीसदी
  • रेवेन्‍यू स्‍टांप, सेंट्रल रिक्रूटमेंट फी स्‍टांप्‍स आदि की बिक्री समेत रिटेल सर्विसेज पर पोस्‍टल डिपार्टमेंट को हुई कमाई का 40 फीसदी

मिलती है ट्रेनिंग और अवॉर्ड

ट्रेनिंग इलाके के सब-डिविजनल इंसपेक्टर द्वारा दी जाएगी। इसके अलावा जो फ्रेंचाइजी प्‍वॉइंट ऑफ सेल्स सॉफ्टवेयर का यूज करेंगे, उन्हें बार कोड स्टिकर भी मिलेगा। अच्‍छा परफॉर्म करने वाली फ्रेंचाइजी आउटलेट को अवॉर्ड भी दिया जाएगा।

फ्रेंचाइजी जारी रहने का यह है क्राइटेरिया

फ्रेंचाइजी को आगे भी जारी रखने का फैसला रिव्‍यू के आधार पर होता है। डिपार्टमेंट द्वारा पहला रिव्‍यू फ्रेंचाइजी खुलने के 6 महीने बाद किया जाता है और इसके आगे जारी रहने का फैसला अगले 6 महीनों बाद यानी पूरे एक साल बाद होता है। इसके अलावा हर माह भी फ्रेंचाइजी का जायजा लिया जाता है।

सिर्फ 5 मिनट में दूसरी ब्रांच में ट्रांसफर करें अपना SBI अकाउंट, जानें पूरी प्रोसेस

अब अपने एसबीआई अकाउंट को अपनी मनचाही ब्रांच में ट्रांसफर कराना और आसान हो गया है. आप बैंक का चक्कर काटे बिना घर बैठे यह काम कर सकते हैं.  आइए जानते हैं बैंक की ब्रांच बदलने का पूरा ऑनलाइन प्रोसेस क्या है.

यह सर्विस केवल उन ग्राहकों के लिए उपलब्ध है जिनका केवायसी (नो योर कस्टमर) अपडेटेड है. इसके अलावा, ऑनलाइन प्रोसेस तभी पूरी की जा सकती है जब आपका मोबाइल नंबर रजिस्टर हो. वैसे भी एसबीआई ने 1 दिसंबर से बिना रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर वाले कस्टमर की नेट बैंकिंग सर्विस ब्लॉक कर दी है.

बैंक ब्रांच बदलने का प्रोसेस इस प्रकार है:

  • सबसे पहले नेट बैंकिंग लॉगिन करें. अपने खाते के होम पेज पर ‘ई-सर्विस’ टैब पर क्लिक करें. ‘ई-सर्विसेज’ सेक्शन में बाईं ओर आप “बचत खाते के स्थानांतरण” (Transfer of Savings Account) का विकल्प दिखाई देगा. इस ऑप्शन पर क्लिक करने पर स्क्रीन पर आपको एसबीआई में उपलब्ध खाते दिखाई देंगे. आप जिस खाते को दूसरी शाखा में ट्रांसफर करना चाहते हैं, उसे चुनें. फिर आपसे एसबीआई शाखा का शाखा कोड डालने को कहा जाएगा.
  • फिर ‘गेट ब्रांच नेम’ टैब पर क्लिक करें, जिसके बाद शाखा का नाम, शाखा कोड के नीचे दिए गए बॉक्स में दिखाया जाएगा. वहां से चुन लें. अगर आप पहले से ही शाखा कोड जानते हैं तो उसे भर दें. ‘नियम और शर्तें’ पढ़ने के बाद एक्सेप्ट पर टिक करके सबमिट पर क्लिक करें.
  • सबमिट के बटन पर क्लिक करते ही आपको नई शाखा का नाम और कोड दिखाएगा, जिसमें आप अपना खाता ट्रांसफर करना चाहते हैं. पूरी डीटेल्स एक बार जांचें और यदि आपको सब कुछ सही लगता है तो कंफर्म बटन पर क्लिक करें.
  • इसके बाद, आपके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर एक ओटीपी (OTP) आएगा, जिसे आपको डालना होगा. जब आप “कन्फर्म” पर क्लिक करेंगे तो एक नया पेज खुलेगा.
  • इस पर ट्रांसफर कंफर्मेशन मैसेज, आपकी मौजूदा शाखा और उस शाखा का विवरण दिखेगा, जिस पर आपने अपना खाता ट्रांसफर किया है.

ध्यान दें: यदि आप अपने सभी खाते ट्रांसफर करना चाहते हैं तो CIF अनिवार्य रूप से प्रदान करना होगा. CIF का मतलब कस्टमर इन्फॉर्मेशन फाइल है जिसमें खाताधारक के संपूर्ण खातों की जानकारी होती है.