251 रुपए में Cooler और 855 रुपए में घर ले जाएं AC

गर्मी ने अपना प्रकोप दि‍खाना शुरू कर दि‍या है। ऐसे में लोगों ने कूलर साफ कर लि‍ए हैं और एसी की सर्वि‍स भी करा ली है। वहीं, जि‍न लोगों को नया एसी या कूलर खरीदना है उनके लि‍ए आज स्‍‍‍‍‍‍‍‍पनैपडील पर है शानदार ऑफर। यहां एसी पर मि‍ल रही है करीब 25% की छूट। वहीं, कूलर भी 26 फीसदी सस्‍ते मि‍ल रहे हैं।

इसके अलावा अगर आप कि‍स्‍तों में खरीदना चाहते हैं तो आपको सि‍र्फ 855 रुपए महीने की ईएमअाई पर एसी और 251 रुपए की ईएमअाई पर कूलर मि‍ल जाएगा। वहीं, अगर आप शॉपि‍ंग के बाद एचडीएफसी या एचएसबीसी के कार्ड से पेमेंट करते हैं तो आपको 10 फीसदी का कैशबैक भी मि‍लेगा।

ई-कॉमर्स कंपनि‍यों पर चल रहे इन ऑफर्स का एक फायदा और है कि‍ आपको कहीं जाने की जरूरत नहीं है। ऐसे में आप घर बैठे या फि‍र ऑफि‍स से ही अपनी पसंद का सामान ऑर्डर कर सकते हैं।

Blue Star 0.75 Ton AC

Blue Star 0.75 Ton 3 Star 3WAE081YDF Window Air Conditioner

कहां – स्‍नैपडील
क्‍या है डील

  • MRP – 22,500 रुपए
  • डील प्राइस – 17,990 रुपए
  • डि‍स्‍काउंट – 20% ईएमआई
  • मंथली – 855 रुपए

LG 1.5 Ton Split AC

LG 1.5 Ton Inverter JS-Q18MUXD Split Air Conditioner

कहां – स्‍नैपडील
क्‍या है डील

  • MRP – 49,990 रुपए
  • डील प्राइस – 37,350 रुपए
  • डि‍स्‍काउंट – 25% ईएमआई
  • मंथली – 1775 रुपए

Blue Star 1.5 Ton AC

Blue Star 1.5 Ton 3 Star 3HW18JBX Split Air Conditioner

कहां – स्‍नैपडील
क्‍या है डील

  • MRP – 38,900 रुपए
  • डील प्राइस – 34,900 रुपए
  • डि‍स्‍काउंट – 10% ईएमआई
  • मंथली – 1659 रुपए

Kenstar Cooler

Kenstar 12 Litre DX KCJLLW3H-EBA Air Cooler

कहां – स्‍नैपडील
क्‍या है डील

  • MRP – 5,960 रुपए
  • डील प्राइस – 5,290 रुपए
  • डि‍स्‍काउंट – 11%
  • ईएमआई मंथली – 251 रुपए

Havells Cooler

Havells Fresco 24 Ltr Cooler – Grey/White

कहां – स्‍नैपडील
क्‍या है डील

  • MRP – 10,290 रुपए
  • डील प्राइस – 8,230 रुपए
  • डि‍स्‍काउंट – 20%
  • ईएमआई मंथली – 391 रुपए

Maharaja Cooler

Maharaja Whiteline Frostair 10 Ltr Cooler – White

कहां – स्‍नैपडील
क्‍या है डील

  • MRP – 7,199 रुपए
  • डील प्राइस – 5,298 रुपए
  • डि‍स्‍काउंट – 26%
  • ईएमआई मंथली – 251 रुपए

हर महीने 5000 से ज्‍यादा इनकम की गारंटी

एक बार नि‍वेश करने के बाद अगर आप जीवनभर गारंटेड इनकम चाहते हैं तो एलआईसी की जीवन अक्षय VI पॉलि‍सी है आपके लि‍ए। वहीं, इसका फायदा आपके जीवन साथी को भी मि‍लेगा।

इस पॉलि‍सी के तहत पॉलि‍सी होल्‍डर अगर एकमुश्‍त 10,00,000 रुपए का नि‍वेश करता है तो पॉलि‍सी के तहत उसे 65,500 रुपए की सालाना इनकम जीवनभर मि‍लती रहेगी। ऐसे में हर महीने पॉलि‍सी धारक को 5000 रुपए से ज्‍यादा इनकम होगी।

क्‍या हैंं नि‍यम

एलआईसी के इंश्‍योरेंस एडवाइजर बंटी गुप्‍ता ने बताया कि‍ नि‍यम के अनुसार 30 साल से 85 साल की उम्र वाले लोग इस पॉलि‍सी को ले सकते हैं। वहीं, पॉलि‍सी के तहत मि‍नि‍मम एक लाख रुपए का एकमुश्‍त नि‍वेश करना होगा। जबकि‍ अधि‍कतम नि‍वेश की कोई सीमा नहीं है।

जीवनसाथी को भी मि‍लेगी इनकम

पॉलि‍सी धारक के जीवित रहने तक हर महीने उसे रकम का भुगतान कि‍या जाएगा। वहीं, पॉलिसी धारक की मृत्यु के बाद उसके जीवनसाथी को 100% पेंशन का भुगतान किया जाएगा। ये भुगतान जीवनसाथी के मृत्यु के बाद बंद हो जाएगा। वहीं, नॉमि‍नी को पॉलि‍सी की रकम यानी 10,00,000 रुपए का भुगतान कर दि‍या जाएगा।

उदहारण

पॉलिसी धारक को आजीवन Rs. 65,500 रुपए के वार्षिक पेंशन का भुगतान किया जाएगा। पॉलिसी धारक की मृत्यु के बाद उसके जीवनसाथी को आजीवन Rs. 65,500 का भुगतान किया जाएगा। वहीं, जीवनसाथी की मृत्यु के बाद नॉमिनी को क्रय रकम Rs.10,00000 का भुगतान किया जाएगा।

30 साल में लेंगे पॉलि‍सी तो कि‍तनी होगी इनकम

  • प्‍लान : एलआईसी जीवन अक्षय VI
  • एन्‍युटी ऑप्‍शन (F) : इसके तहत जीवनभर इनकम और मृत्यु होने पर एन्‍युटी खरीदने की रकम वापस हो जाएगी।
  • उम्र : 30 साल
  • नि‍श्‍चि‍त राशि‍ : 10,00,000 रुपए
  • सि‍ंगल प्रीमि‍यम : 10,18,000 रुपए

कैसे लेने पर मि‍लेगी कि‍तनी इनकम

  • वार्षि‍क : 65,500 रुपए
  • अर्ध वार्षि‍क : 32,050 रुपए
  • त्रैमासि‍क : 15,876 रुपए
  • मंथली : 5,258 रुपए

85 साल में लेंगे पॉलि‍सी तो कि‍तनी होगी इनकम

  • प्‍लान : एलआईसी जीवन अक्षय VI
  • एन्‍युटी ऑप्‍शन (F) : इसके तहत जीवनभर इनकम और मृत्यु होने पर एन्‍युटी खरीदने की रकम वापस हो जाएगी।
  • उम्र : 85 साल
  • नि‍श्‍चि‍त राशि‍ : 10,00,000 रुपए
  • सि‍ंगल प्रीमि‍यम : 10,18,000 रुपए

कैसे लेने पर मि‍लेगी कि‍तनी इनकम

  • वार्षि‍क : 71,300 रुपए
  • अर्ध वार्षि‍क : 33,650 रुपए
  • त्रैमासि‍क : 16,376 रुपए
  • मंथली : 5,384 रुपए

एक DTH छतरी से 2 TV पर देखें अलग-अलग चैनल्स

एक घर के अलग-अलग कमरों में अलग-अलग टीवी हैं, तब DTH छतरी की अलग-अलग जरूरत होती है। यानी दो टीवी पर खर्च दो गुना या उससे ज्यादा टीवी पर उतने गुना हो जाता है। खासकर टाटा स्काई, वीडियोकॉन DTH, रिलायंस DTH के साथ अन्य कंपनियां के मंथली प्लान के लिए 200 से 250 रुपए तक खर्च करने होते हैं।

इन पैक में भी स्पोर्ट्स चैनल या फिर दूसरे चैनल्स की सर्विसेज नहीं मिलती। यानी आपके घर के 3 रूम में टीवी लगी है तब 600 से 750 रुपए मंथली खर्च करने होते हैं। हालांकि, एक ट्रिक ऐसी है जिसकी मदद से आप एक DTH छतरी पर 2 चैनल्स आसानी से देख सकते हैं।

एक्स्ट्रा सेटटॉप बॉक्स की जरूरत

आपको एक DTH से दो टीवी में अलग-अलग चैनल्स देखने हैं तब एक एक्स्ट्रा सेटटॉप बॉक्स की जरूरत होगी। क्योंकि एक सेटटॉप बॉक्स से सिर्फ एक TV के चैनल ही चेंज कर सकते हैं।

ऐसे में दो टीवी के लिए दो सेटटॉप बॉक्स चाहिए होंगे। सभी बॉक्स में LNB इन का पोर्ट दिया होता है। हमें एक सेटटॉप बॉक्स ऐसा चाहिए इसमें LNB आउट पोर्ट दिया हो। यदि बॉक्स में ये पोर्ट नहीं है तब टीवी नहीं चलेगी।

आपके पास दो सेटटॉप बॉक्स होने चाहिए, जिसमें एक MPEG-4 और दूसरा MPEG-2 सेटटॉप बॉक्स हो। MPG2 सेटटॉप बॉक्स में LNB इन और LNB आउट दोनों पोर्ट होते हैं। DTH की मेन केबल इस सेटटॉप बॉक्स की इन पोर्ट में लगाना है।

वहीं, इसके LNB आउट पोर्ट से दूसरी केबल का कनेक्शन MPEG-4 की LNB इन में देना है। MPEG-4 बॉक्स आपको दूसरे कमरे में रखना है। अब आप दोनों बॉक्स पर अलग-अलग चैनल्स देख सकते हैं।

घर का साइज बढ़ाने के लिए सरकार दे रही 1.5 लाख रु

अगर आपके परिवार में सदस्‍यों की संख्‍या बढ़ गई है और आप घर का साइज बढ़ाना चाहते हैं, लेकिन पैसा न हो पाने के कारण यह काम नहीं कर पा रहे हैं तो परेशान न हों। मोदी सरकार आप जैसे लोगों को 1.50 लाख रुपए देती है, जिससे आप अपने घर का इनहासमेंट कर सकते हैं।

दरअसल, यह प्रधानमंत्री आवास योजना का ही हिस्‍सा है, लेकिन इस बारे में बहुत कम लोगों को पता है। राज्‍य सरकारें भी लोगों को इस योजना के बारे में पूरी जानकारी दे रही हैं, इस कारण लोग इस कंपोनेंट का फायदा नहीं उठा पा रहे हैं।

अगर आप इस योजना का फायदा उठाना चाहते हैं तो हम आपको बताते हैं कि सरकार किन शर्तों के साथ 1.50 लाख रुपया देती है और यदि आप इन शर्तों को पूरा करते हैं तो आप भी घर का साइज बढ़ा सकते हैं।

कितनी होनी चाहिए इनकम

सरकार 1.50 लाख रुपए की सब्सिडी उन लोगों को देती है, जिनकी सालाना इनकम 3 लाख या उससे कम हो। इस इनकम ग्रुप को इकोनॉमिक वीकर सेक्‍शन (ईडब्‍ल्‍यूएस) कहा जाता है। अगर आपकी इनकम 3 लाख या उससे कम है तो आप इस स्‍कीम का फायदा उठा सकते हैं।

क्‍या होना चाहिए साइज

इस स्‍कीम का फायदा तब ही उठाया जा सकता है, जब आपके पास लगभग 322 वर्ग फुट (30 वर्ग मीटर) का प्‍लॉट हो यानी कि आप अपने घर को 322 वर्ग फुट तक बढ़ाना चाहते हैं।

कच्‍चे को पक्‍का कर सकेंगे

इस स्‍कीम का फायदा उन लोगों को भी मिलता है, जिनका मकान कच्‍चा या सेमी कच्‍चा है। आप अपने कच्‍चे या आधे कच्‍चे मकान को पक्‍का करने के लिए सरकार से 1.50 लाख रुपए ले सकते हैं।

खाली प्‍लॉट में बनाएं मकान

अगर आपके पास 30 वर्ग मीटर साइज का प्‍लॉट हो और आपकी इनकम 3 लाख रुपए है तो आप सरकार से 1.50 लाख रुपए लेकर मकान बना सकते हैं।

किस्‍तों में मिलेगा पैसा

आपको 3 से 4 किस्‍तों में 1.5 लाख रुपए मिलेंगे। जैसे-जैसे आपका मकान बनता जाएगा, वैसे-वैसे सरकार आपके खाते में 30-30 हजार रुपए आने लगेंगे।

यह है प्रमुख शर्त आप इस स्‍कीम का फायदा उठाना चाहते हैं तो आपको प्रधानमंत्री आवास योजना की प्रमुख शर्त है, आपके या आपके परिवार के नाम से कोई दूसरा घर नहीं होना चाहिए। इसके अलावा आप प्रधानमंत्री आवास योजना की एक ही स्‍कीम का फायदा उठा सकते है।

कैसे करें अप्‍लाई

अगर आप इस स्‍कीम की शर्तों को पूरा करते हैं तो आप अपने क्षेत्र की नगर निगम या नगर पालिका में प्रधानमंत्री आवास योजना के लिए अप्‍लाई कर सकते हैं।

घर में लगाएं यह पौधा, कभी नहीं खरीदना पड़ेगी चीनी

महंगाई के दौरान यदि आपको शक्कर का कोई ऐसा विकल्प मिल जाए जिसके बाद अपको कभी शक्कर खरीदने की जरूरत ही नहीं पड़ेगी और न ही शरीर पर कोई विपरीत प्रभाव पड़ेगा। तो खुशी से आपका चेहरा खिल उठेगा। जी हां…यह सही बात है यह सब कुछ संभव है स्टीविया (मीठी तुलसी) के पौधे से। स्टीविया के घर में 6 से 8 पौधे लगाकर आप शक्कर का खर्च बचा सकते हैं वो भी सालों साल तक के लिए।

पीडब्यूडी की नौकरी छोड़ी

अमित बमुरिया कभी पीडब्ल्यूडी में नौकरी करते थे तीन साल पहले उन्होंने नौकरी छोड़कर खेती का काम शुरू किया था। इसके तहत उन्होंने एक साल पहले स्टीविया का उत्पादन शुरू किया। शुरुआत में इसे छोटे स्तर पर करने के बाद उन्होंने यह काम बड़े स्तर पर शुरू किया और आज वह 1 एकड़ में स्टीविया का उत्पादन कर रहे हैं। इससे करीब ढ़ाई लाख रुपए का मुनाफा लिया जाता है।

एक बार लगाने के बाद पांच साल तक मिलती है मिठास

स्टीविया की खेती करने वाले अमित बताते हैं कि स्टीविया का पौधा लगाने के बाद पांच साल तक इसकी पत्तियों और तनों से मिठास ली जाती है। इन पत्तियों को तीन से चार माह में तोड़ा जाता है। इन्हे सुखाकर एग्रीमेंट के अनुसार संबंधित को बेच दिया जाता है। इस प्रकार एक बार लागत लगाकर इसे पांच साल तक भुनाया जाता है।

यह हैं फायदे

इंसुलिन को संतुलित रखता है स्टीविया

  • स्टीविया एक छोटा पौधा होता है इसकी लंबाई 60-70 सेंटीमीटर होती है। इसे मीठी तुलसी भी कहते हैं। इसकी पत्तियों में मिठास होती है। इस पौधे में चीनी से 60-70 गुना अधिक मिठास होती है। यह इंसुलिन को संतुलित रखने का काम करता है।
  • स्टीविया कैलोरी रहित होने के कारण मधुमेह रोगियों के लिए काफी फायदेमंद होता है।
  •  स्टीविया की पत्तियों से निकलने वाले स्टीवियोसाइड में चीनी से 250 गुना और गुल्कोज से 300 गुना ज्यादा मिठास मिलती है।

ऐसे होती है खेती

इसके लिए सबसे पहले पौध का रोपण किया जाता है। जिसे बारिश के पहले रोप दिया जाता है। समय-समय पर इसे खाद पानी उपलब्ध कराया जाता है। पहली बार में करीब 6 से 7 माह बाद इसकी पत्तियों से मिठास ली जा सकती है।

इसके पत्तों में पाए जाने वाले प्रमुख घटक स्टीवियोसाइड, रीबाडदिसाइड व अन्य योगिकों में इन्सुलिन को बैलेन्स करने के गुण पाए जाते हैं। जिसके कारण इसे मधुमेह के लिए उपयोगी माना गया है। यह एंटी वायरल व एंटी बैक्टीरियल भी है तथा दांतों तथा मसूड़ो की बीमारियों से भी मूकित दिलाता है। इसमे एन्टी एजिंग, एन्टी डैन्ड्रफ जैसे गुण पाये जाते है तथा यह नॉन फर्मेंटेबल होता है। 15 आवश्यक खनिजो (मिनरल्स) तथा विटामिन से युक्त यह पौधा अत्यंत उपयोगी औषधीय पौधा है।

प्रशिक्षण भी देते हैं अमित

अमित बामोरिया बताते हैं कि उन्होंने स्वयं का एक प्रशिक्षण केंद्र स्थापित किया है। वह बमोरिया मोती सम्बर्धन एवं एग्रो फार्म में जो मड़ई से 5 किलोमीटर पहले कामती रंगपुर , तहसील सोहागपुर, जिला होशंगाबाद मध्यप्रदेश।

चीनी के नुकसान

चीनी को सफेद जहर कहा जाता है चीनी में एसिड होता है चीनी को खाने से हमारे शरीर में होने वाली बीमारियां- डायबिटीज, कैंसर, हार्ट अटैक जैसी बीमारियां होती हैं जो हमारे शरीर के लिए हानिकारक हैं चीनी को सफेद करने के लिए हडडियों से पॉलिस किया जाता है।

चीनी से कैंसर संभव

हर घर में 4-5 पौधा जरूर लगाए

स्टीविया के पौधे को न्यून क्लोरी मिठास का उत्तम प्राकृतिक स्त्रोत माना जाता है। जो शक्कर से लगभग 25 से 30 गुना अधिक मीठा, केलोरी रहित है व मधुमेह व उच्च रक्तचाप के रोगियों के लिए शक्कर के रूप में पुर्णतया सुरक्षित है।

30 साल तक ये ब्रांडेड AC फ्री देगा ठंडी हवा

इन दिनों मार्केट में एयर कंडीशनर (AC) की बड़ी रेंड आ चुकी है। इनमें कई नई कंपनियां भी शामिल हो चुकी हैं। इनमें 2 स्टार से 5 स्टार तक के AC शामिल हैं। एयर कंडीशनर के इस्तेमाल से बिजली बिल सबसे ज्यादा आता है।

यदि उसकी रेटिंग 5 स्टार भी है तब भी बिजली बिल में बहुत ज्यादा फर्क नहीं आता। इलेक्ट्रिक AC के बीच वीडियोकॉन अपना हाईब्रिड सोलर AC लेकर आई है। कंपनी का दावा है कि इससे किसी तरह का बिजली बिल नहीं आता है।

नहीं आएगा बिजली बिल

कंपनी का ऐसा दावा है कि ये एयर कंडीशनर पूरी तरह हाईब्रिड और सोलर एनर्जी पर चलता है। यानी इस AC से बिजली का बिल नहीं आएगा। कंपनी AC के साथ सोलर पैनल प्लेट और DC से AC कन्वर्टर साथ में देगी। यानी इसके लिए आपको अलग से पैसे खर्च नहीं करने होंगे।

ये पैनल किसी भी क्लाइमेट कंडीशन में काम करेंगे और इनका मेंटेनेंस खर्च भी बेहद कम है। कंपनी ने इन एयर कंडीशनर को 2 अलग-अलग कैपेसिटी में निकाला है। इनमें 1 टन और 1.5 टन AC शामिल हैं।

इतनी है कीमत

वीडियोकॉन ने 1 टन और 1.5 टन कैपेसिटी वाले AC निकाले हैं। इसमें 1 टन वाले एयर कंडीशनर की कीमत 99 हजार और 1.5 टन वाले AC की कीमत 1.39 लाख रुपए है। कंपनी इस कीमत में आपको सोलर पैनल प्लेट और DC से AC कन्वर्टर देती है। ये AC उस वक्त ही काम करेगा जब धूप होगी।

रात में ये काम नहीं करेगा। ऐसे में इसके लिए आपको 1 लाख रुपए की बैटरी अलग से खरीदना होगी। जो पूरी रात आपके एयर कंडीशनर को चालू रखेंगी। कंपनी का कहना है कि इतने खर्च पर आप 25 से 30 साल तक फ्री में ठंडी हवा ले सकते हैं।

अपने WhatsApp -Facebook से करें कमाई

क्‍या आपके फोन में व्‍हाट्स ऐप है ? क्‍या आपका फेसबुक अकाउंट है ? शायद हां, आप लगभग हर घंटे में अपना व्‍हाट्स ऐप चेक करते होंगे या फेसबुक देखते होंगे, लेकिन यही व्‍हाट्स ऐप और फेसबुक आपके लिए एक्‍सट्रा इनकम या फुल टाइम कमाई कराने लगे तो क्‍या होगा। जी हां, आप अपने फोन पर फेसबुक या व्‍हाट्सऐप से कमाई कर सकते हैं।

इसका अनुमान आप इस बात से लगा सकते हैं कि केंद्र सरकार का दावा है कि साल 2018-19 में सोशल मीडिया मार्केटिंग में 2 लाख लोगों को नौकरी मिलेगी। यही वजह है कि सरकार समय-समय पर इस तरह की ट्रेनिंग देकर सोशल मीडिया मार्केटिंग की बारीकी बता रही है। अगर आप जॉब कर रहे हैं तो भी परेशान न हो। यह ट्रेनिंग छुट्टी के दिन यानी शनिवार और रविवार को दी जा रही है।

कब है ट्रेनिंग

सरकार ने अपने स्किल डेवलपमेंट प्रोग्राम के तहत ट्रेनिंग का जिम्‍मा अपनी विश्‍वसनीय संस्‍था निसबड ( द नेशनल इंस्‍टीट्यूट फॉर एंटरप्रेन्‍योरशिप एंड स्‍मॉल बिजनेस डेवलपमेंट) के पास है। मिनिस्‍ट्री ऑफ स्किल्‍ड डेवलपमेंट एंड एंटरप्रेन्‍योरशिप के अधीन काम कर रहे निसबड कई सालों से युवाओं को ट्रेनिंग दे रहा है। निसबड ने एंटरप्रेन्‍योरशिप डेवलपमेंट प्रोग्राम ऑन सोशल मीडिया मार्केटिंग का आयोजन 21 व 22 अप्रैल को किया है।

क्‍या है स्‍कोप

निसबड के मेंटरशि‍प सपोर्ट व एडवाइजर, रंगनाथ कृष्‍णचन्‍द्र ने बताया कि‍ सोशल मीडि‍या के माध्‍यम से आप बहुत कम लागत से अपने बि‍जनेस की रीच बहुत लोगों तक पहुंचा सकते हैं। सोशल मीडि‍या की पहुंच और पावर बहुत ज्‍यादा है। अगर कि‍सी को अपने बि‍जनेस की ब्रांडिंग करनी है तो आज उसका सबसे आसान और कि‍फायती रास्‍ता सोशल मीडि‍या है।

क्‍या सीखेंगे आप

इस प्रोग्राम के तहत सोशल मीडिया मार्केटिंग से कमाना, सोशल मीडिया को यूज करके अपना बिजनेस शुरू करना, यू-ट्यूब चैनल शुरू करना, यू-ट्यूब के माध्‍यम से डॉलर कमाना, गूगल एडसंस के माध्‍यम से कमाई करना, फेसबुक से अर्निंग, ब्‍लॉगस्‍पॉट के माध्‍यम से अर्न करना, व्‍हाट्स-ऐप मार्केटिंग, बी2बी लिंकडिन नेटवर्किंग टिप्‍स व ट्रिप, लर्न वायरल मार्केटिंग, ई-कॉमर्स को सोशल मीडिया से लिंक करना, गूगल एडवर्डस, इंस्टाग्राम एवं पिनटरेस्‍ट, विकीपीडिया, डेलीमोशन, साउंड क्‍लाउड का इंट्रोडक्‍शन और वर्क फॉर होम, ऑनलाइन क्राउड फंडिंग के बारे में बताया जाएगा।

कैसे करें अप्‍लाई

इस ट्रेनिंग प्रोग्राम से स्टूडेंटस, बिजनेस मैन, एंटरप्रेन्‍योर्स, स्‍टार्टअप्‍स, कॉरपोरेट, वर्किंग प्रोफेशनल, मीडिया प्रोफेशनल, हाउस वाइफ, रिटायर्ड, एनजीओ के सदस्‍य फायदा ले सकते हैं। निसबड ने इस प्रोग्राम की फीस 6000 रुपए रखी है, जिसमें ट्रेनिंग के अलावा स्‍टडी मैटेरियल भी दिया जाएगा। आप यह ट्रेनिंग लेना चाहते हैं तो पूरी जानकारी के लिए यहां क्लिक करें –

https://www.niesbud.nic.in/docs/edp-on-social-media-marketing-21-april-2018-niesbud.pdf

8वीं पास भी ले सकते है पोस्‍ट ऑफिस की फ्रैंचाइजी

भारत में वैसे तो 1.55 लाख पोस्‍ट ऑफिस हैं, जिनमें से 89 फीसदी ग्रामीण इलाकों में हैं। लेकिन उसके बावजूद देश में पोस्‍ट ऑफिस की कई जगहों पर डिमांड है। इसी को देखते हुए पोस्‍टल डिपार्टमेंट इंडिया पोस्‍ट लोगों को पोस्‍ट ऑफिस फ्रेंचाइजी खोलने का और कमाई करने का मौका देता है।

इंडिया पोस्‍ट फ्रेंचाइजी स्‍कीम के जरिए पोस्‍ट ऑफिस की कांउटर सर्विस पोस्‍ट ऑफिस के बाहर भी उपलब्‍ध होने की सुविधा देता है। फ्रेंचाइजी को चीजों की डिलीवरी और ट्रांसमिशन डिपार्टमेंट ही करता है।

इस स्‍कीम के तहत लोगों तक तो आसानी से पोस्‍ट ऑफिस सर्विस व प्रोडक्‍ट पहुंचते ही हैं, साथ ही फ्रेंचाइजी लेने वाले को भी एक अच्‍छी आय कमाने का मौका मिलता है। आइए आपको बताते हैं कि कोई नागरिक कैसे पोस्‍ट ऑफिस फ्रेंचाइजी ले सकता है और किस सर्विस पर उसे कितना कमीशन प्राप्‍त होता है-

मिलेंगी ये सर्विस व प्रोडक्‍ट

  • स्‍टांप और स्‍टेशनरी
  •  रजिस्‍टर्ड आर्टिकल्‍स, स्‍पीड पोस्‍ट आर्टिकल्‍स, मनी ऑर्डर की बुकिंग। हालांकि 100 रुपए से कम का मनी ऑर्डर नहीं होगा बुक
  • पोस्‍टल लाइफ इंश्‍योरेंस (PLI) के लिए एजेंट की तरह करेगा काम, साथ ही इससे जुड़ी ऑफ्टर सेल सर्विस जैसे प्रीमियम का कलेक्‍शन भी कराएगा उपलब्‍ध
  • बिल/टैक्‍स/जुर्माने का कलेक्‍शन और पेमेंट जैसी रिटेल सर्विस
  • ई-गवर्नेंस और सिटीजन सेंट्रिक सर्विस
  • ऐसे प्रोडक्‍ट्स की मार्केटिंग, जिसके लिए डिपार्टमेंट ने कारपोरेट एजेंसी हायर की हुई हो या टाई-अप किया हुआ हो। साथ ही इससे जुड़ी सेवाएं।
  • भविष्‍य में डिपार्टमेंट द्वारा पेश की जाने वाली सर्विस

कौन ले सकता है पोस्‍ट ऑफिस की फ्रेंचाइजी

  • कोई भी व्यक्ति, इंस्‍टीट्यूशंस, ऑर्गेनाइजेशंस या अन्‍य एंटिटीज जैसे कॉर्नर शॉप, पानवाले, किराने वाले, स्‍टेशनरी शॉप, स्‍मॉल शॉपकीपर आदि पोस्‍ट ऑफिस फ्रेंचाइजी ले सकते हैं।
  • इसके अलावा नई शुरू होने वाली शहरी टाउनशिप, स्‍पेशल इकोनॉमिक जोन, नए शुरू होने वाले इंडस्ट्रियल सेंटर, कॉलेज, पॉलिटेक्निक्‍स, यूनिवर्सिटीज, प्रोफेशनल कॉलेज आदि भी फ्रेंचाइजी का काम ले सकते हैं। फ्रेंचाइजी लेने के लिए फॉर्म सबमिट करना होता है। सिलेक्‍ट हुए लोगों को डिपार्टमेंट के साथ एमओयू साइन करना होगा।
  • व्यक्ति की उम्र कम से कम 18 साल होनी चाहिए।
  • उसे कम से कम 8वीं पास होना चाहिए।
  • फॉर्म व अधिक जानकारी नीचे दिए गए लिंक से ली जा सकती है।https://www.indiapost.gov.in/VAS/DOP_PDFFiles/Franchise.pdf

कैसे होता है सिलेक्‍शन

फ्रेंचाइजी लेने वाले का सिलेक्‍शन सबंधित डिवीजनल हेड द्वारा किया जाता है, जो एप्‍लीकेशन मिलने के 14 दिनों अंदर ASP /sDl की रिपोर्ट पर आधारित होता है। यह जान लेना जरूरी है कि फ्रेंचाइजी खोलने की परमीशन ऐसी ग्राम पंचायतों में नहीं मिलती है, जहां पंचायत संचार सेवा योजना स्‍कीम के तहत पंचायत संचार सेवा केन्‍द्र मौजूद हैं।

कौन नहीं ले सकता फ्रेंचाइजी पोस्‍ट

ऑफिस इंप्‍लॉइज के परिवार के सदस्‍य उसी डिवीजन में फ्रेंचाइजी नहीं ले सकते, जहां वह इंप्‍लॉई काम कर रहे हैं। परिवार के सदस्‍यों में इंप्‍लॉई की पत्‍नी, सगे व सौतेले बच्‍चे और ऐसे लोग जो पोस्‍टल इंप्‍लॉई पर निर्भर हों या उनके साथ ही रहते हों, फ्रेंचाइजी ले सकते हैं।

कितना सिक्‍योरिटी डिपॉजिट

पोस्‍ट ऑफिस फ्रेंचाइजी लेने के लिए मिनिमम सिक्‍योरिटी डिपॉजिट 5000 रुपए है। यह फ्रेंचाइजी द्वारा एक दिन में किए जाने वाले फाइनेंशियल ट्रान्‍जेक्‍शंस के संभावित अधिकतम स्‍तर पर आधारित है। बाद में यह एवरेज डेली रेवेन्‍यू के आधार पर बढ़ जाता है। सिक्‍योरिटी डिपॉजिट NSC की फॉर्म में लिया जाता है।

कैसे होगी कमाई

फ्रेंचाइजी की कमाई उनके द्वारा दी जाने वाली पोस्‍टल सर्विसेज पर मिलने वाले कमीशन द्वारा होती है। यह कमीशन एमओयू में तय होता है।

किस सर्विस व प्रोडक्‍ट पर कितना कमीशन

  • रजिस्‍टर्ड आर्टिकल्‍स की बुकिंग पर 3 रुपए
  • स्‍पीड पोस्‍ट आर्टिकल्‍स की बुकिंग पर 5 रुपए
  • 100 से 200 रुपए के मनी ऑर्डर की बुकिंग पर 3.50 रुपए, 200 रुपए से ज्‍यादा के मनी ऑर्डर पर 5 रुपए
  • हर माह रजिस्‍ट्री और स्‍पीड पोस्‍ट के 1000 से ज्‍यादा आर्टिकल्‍स की बुकिंग पर 20 फीसदी अतिरिक्‍त कमीशन
  • पोस्‍टेज स्‍टांप, पोस्‍टल स्‍टेशनरी और मनी ऑर्डर फॉर्म की बिक्री पर सेल अमाउंट का 5 फीसदी
  • रेवेन्‍यू स्‍टांप, सेंट्रल रिक्रूटमेंट फी स्‍टांप्‍स आदि की बिक्री समेत रिटेल सर्विसेज पर पोस्‍टल डिपार्टमेंट को हुई कमाई का 40 फीसदी

मिलती है ट्रेनिंग और अवॉर्ड

  • जिनका सेलेक्शन फ्रेंचाइजी के लिए हो जाएगा, उन्‍हें पोस्टल डिपार्टमेंट की तरफ से ट्रेनिंग भी मिलेगी। ट्रेनिंग इलाके के सब-डिविजनल इंसपेक्टर द्वारा दी जाएगी।
  • इसके अलावा जो फ्रेंचाइजी प्‍वॉइंट ऑफ सेल्स सॉफ्टवेयर का यूज करेंगे, उन्हें बार कोड स्टिकर भी मिलेगा।
  • अच्‍छा परफॉर्म करने वाली फ्रेंचाइजी आउटलेट को अवॉर्ड भी दिया जाएगा। सालाना अवॉर्ड के लिए संबंधित सर्किल हेड प्रावधान बनाएंगे।

फ्रेंचाइजी जारी रहने का यह है क्राइटेरिया

पोस्‍ट ऑफिस की फ्रेंचाइजी मेट्रो शहरों से लेकर गांव तक में खोली जा सकती है। फ्रेंचाइजी के लिए हर माह 50,000 रुपए का मिनिमम रेवेन्‍यू जनरेशन अनिवार्य है, साथ ही इसका निकट के अन्‍य पोस्‍ट ऑफिस पर निगेटिव इंपैक्‍ट नहीं पड़ना चाहिए। यह रेवेन्‍यू सर्विसेज की रेंज, लोकेशन, संभावित रेवेन्‍यू इन्‍वेस्‍टमेंट, लागत आदि पर निर्भर करेगा।

फ्रेंचाइजी को आगे भी जारी रखने का फैसला रिव्‍यू के आधार पर होता है। डिपार्टमेंट द्वारा पहला रिव्‍यू फ्रेंचाइजी खुलने के 6 महीने बाद किया जाता है और इसके आगे जारी रहने का फैसला अगले 6 महीनों बाद यानी पूरे एक साल बाद होता है। इसके अलावा हर माह भी फ्रेंचाइजी का जायजा लिया जाता है।

40 रुपए के खर्च में 100km का माइलेज देगी एक्टिवा

आपसे कहा जाए कि आपकी होंडा एक्टिवा 100 किलोमीटर का माइलेज देगी, तब शायद आपको यकीन नहीं होगा। इस वजह है कि इस स्कूटर का माइलेज 45 से 50 या मैक्सिमम 55 किलोमीटर का होता है।

हालांकि, ये बात सही है कि एक्टिवा को 100 किलोमीटर तक दौड़ाया जा सकता है, लेकिन इसके लिए पेट्रोल का नहीं बल्कि CNG का यूज करना होगा। जी हां, एक किलो CNG जिसकी कीमत 40 रुपए होती है, की मदद से एक्टिवा को 100km तक दौड़ा सकते हैं।

 एक्टिवा में लगवाएं CNG किट

होंडा ने एक्टिवा को कई मॉडल लॉन्च किए हैं, लेकिन ये सभी पेट्रोल से चलने वाले हैं। यानी कंपनी ने एक्टिवा का CNG मॉडल लॉन्च नहीं किया है। ऐसे में दिल्ली स्थित CNG किट मेकर कंपनी LOVATO ने इस स्कूटर में इस किट को लगवा सकते हैं।

इसका खर्च करीब 15 हजार रुपए है। कंपनी का दावा है कि इस खर्च को आप 1 साल से भी कम समय में निकाल लेंगे, क्योंकि CNG पेट्रोल से 25 रुपए सस्ता है और इससे स्कूटर का माइलेज भी दो गुना हो जाएगा। इस किट को इन्स्टॉल करने में 4 घंटे का वक्त लगता है।

पेट्रोल से भी दौड़ेगी

लोवाटो एक्टिवा में CNG किट इन्स्टॉल करती है, लेकिन इसे पेट्रोल से भी दौड़ाया जा सकता है। इसके लिए कंपनी एक स्विच लगाती है जिससे से CNG मोड से पेट्रोल मोड पर आ जाती है। कंपनी इसमें आगे की तरफ दो सिलेंडर लगाती है जिसे ब्लैक प्लास्टिक से कवर कर दिया जाता है।

वहीं, सीट के नीचे वाले हिस्से में इसे ऑपरेट करने वाली मशीन फिट हो जाती है। यानी एक्टिवा को CNG और पेट्रोल दोनों से दौड़ाया जा सकता है। एक्टिवा पर CNG से जुड़ी कुछ ग्राफिक्स भी लगा दी जाती हैं।

CNG किट के नुकसान

CNG किट लगाने के कुछ नुकसान भी है। पहला ये कि इस किट में जो सिलेंडर लगाया जाता है वो सिर्फ 1.2 किलोग्राम CNG को स्टोरेज करता है। ऐसे में जब 120 से 130 किलोमीटर के बाद आपको फिर से CNG की जरूरत होगी।

वहीं, CNG स्टेशन आसानी से नहीं मिलते। हो सकता है कि आपकी लोकेशन से ये 10-15 या ज्यादा किलोमीटर की दूरी पर हो। CNG से भले ही स्कूटर का माइलेज बढ़ जाएगा, लेकिन इससे गाड़ी को पिकअप नहीं मिलता। ऐसे में चढ़ाई वाले रास्ते पर इससे गाड़ी के इंजन पर लोड पड़ेगा।

सिर्फ 2 रुपए की फिटकरी से सफेद बाल हो सकते हैं काले

आज कल की लाइफस्टाइल के चलते युवा लोगो का बाल भी सफेद होने लग गए है। अगर किसी के बाल सफेद हो जाएं तो इससे उसकी पूरी पर्सनैलिटी बेकार हो जाती है। असल में बढ़ता प्रदूषण और गलत खानपान के कारण बाल समय से पहले सफेद होना शुरू हो जाते हैं। शरीर पर सफेद बालों का आना मेलेनिन की कमी की वजह से होता है।

कई लोग अपने बालों को काला करने के लिए महंगे-महंगे केमिकल युक्त हेयर कलर्स का प्रयोग करते हैं पर इनसे बाल कुछ समय के लिए काले तो हो जाते हैं पर इससे आपकी स्किन को बहुत सारे नुकसान हो सकते हैं। लेकिन आज हम आपके लिए बालाें काे काला करने के लिए बताने जा रहे हैं सबसे आसान आैर बढ़िया घरेलू तरीका।

फिटकरी और गुलाब जल: बालों को काला करने के लिए सबसे पहले फिटकरी के एक टुकड़े को बारीक पीसें, अब इसमें गुलाब जल की कुछ बूंदों को डालकर अच्छे से मिलाएं। अब इस पेस्ट को अपने सफेद बालों पर लगाकर आधे घंटे के लिए छोड़ दें और फिर ठंडे पानी से धोएं। अगर आप लगातार एक हफ्ते तक इस नुस्खे का इस्तेमाल करते हैं तो आपके बाल काले हो जाएंगे।

फिटकरी और गुलाब जल से बने पेस्ट को अपनी मूछो पर लगाकर आप मनचाहा रंग प्राप्त कर लम्बे समय तक आप जंवा बने रह सकते है इसके लिए फिटकरी को पीसकर इसके पाउडर को गुलाब जल में मिलाकर आप अपनी मूछ पर लगाए।

आंवला जूस : जिन लोगों की दाढ़ी पक रही है उन लोगों को लगभग 4 सप्ताह तक रोजाना आंवले का जूस का सेवन करना चाहिए अपने सफेद बालों को काला करने के लिए यह एक प्राकृतिक और बहुत ही प्रभावशाली घरेलू नुस्खा है।