सिर्फ 10 रुपए में मिलेगा सबको इलाज, ये है मोदी सरकार की नई स्कीम

आम लोगों को बेहतर स्वास्थ्स सुविधाएं मुहैया कराने के लिए मोदी सरकार ने आयुष्मान स्कीम के बाद एक और बड़ा कदम उठाया है। इसके तहत अब आम आदमी भी सिर्फ 10 रुपए में इम्पलाई स्टेट इन्श्योरेंस कॉरपोरेशन यानी ईएसआईसी के अस्पतालों में इलाज करा सकेगा।

इसके अलावा अगर कोई मरीज इन अस्पतालों में भरती होता है तो उसे केंद्र सरकार द्वारा तय रेट का सिर्फ 25 फीसदी रकम का भुगतान करना होगा।

ईएसआईसी अस्पतालों में सबको मिलेगी इलाज की सुविधा

केंद्रीय श्रम मंत्री संतोष कुमार गंगवार ने बुधवार को एक अहम फैसला किया है। अब ऐसे लोग भी ईएसआईसी अस्पतालों में मेडिकल सुविधा का फायदा उठा सकेंगे जिनके पास बीमा नहीं है। यानी अब कोई भी व्यक्ति 10 में ईएसआईसी अस्पतालों में इलाज करा सकेगा।

इसके अलावा अगर मरीज अस्पताल में भर्ती होता है तो उसे सीजीएचएस पैकेज का 25 फीसदी देना होगा। मरीज को दवाएं वास्तविक कीमत पर उपलब्ध कराई जाएंगी। इससे आम लोगों को सस्ती दर पर उच्च स्तरीय इलाज की सुविधा मिलेगी।

ईएसआईसी अस्पतालों में 5200 पदों पर चल रही है भर्ती की प्रकिया

मौजूदा समय में ईएसआईसी में सोशल सिक्योरिटी ऑफीसर, इन्श्योरेंस मेडिकल ऑफीसर ग्रेड-2, जूनियर इंजीनियर, टेक्निकल फैसिलिटी, पैरामेडिकल और नर्सिंग कैडर, यूडीसी और स्टेनो के 5200 पदों पर नियुक्ति की प्रकिया चल रही है।

देश भर में ईएसआईसी के हैं 151 अस्पताल

मौजूदा समय में देश भर में ईएसआईसी के 151 अस्पताल हें। इन अस्पतालों में समान्य से लेकर लेकर गंभीर बीमारियों के इलाज की सुविधा उपलब्ध है। अभी तक ईएसआईसी अस्पताल में ईएसआईसी के कवरेज में शामिल लोगों को ही इलाज की सुविधा मिलती थी लेकिन अब सरकार ने इस आम लोगों के लिए भी खोल दिया है।

15000 रु तक मिलने वाली ब्रांडेड जैकेट की फर्स्ट कॉपी सिर्फ 2500 रु में खरीद सकते हैं यहां

सर्दी की शुरुआत हो चुकी है। कई शहरों में रात का तापमान 10 डिग्री तक पहुंच रहा है। ऐसे में सर्दी से बचने के लिए स्वेटर और जैकेट की जरूरत होगी। यदि आप बाइक या स्कूटर चलाते हैं तब जैकेट से ही सर्दी को रोका जा सकता है।

हालांकि, ब्रांडेड और बेस्ट क्वालिटी की लेदर जैकेट मार्केट में मिनिमम 5000 रुपए से मिलना शुरू होती हैं। लेदर जैकेट से सर्दी बचाने के साथ कूल लुक भी देती है। हालांकि, 5000 हजार रुपए खर्च करना हर किसी के बजट में नहीं होता।

ऐसे में आप इन जैकेट को दिल्ली की थोक मार्केट से खरीद सकते हैं। यहां पर बेस्ट क्वालिटी जैकेट 2500 रुपए से मिलना शुरू हो जाती हैं। इतनी ही रेंज में शोरूम पर 10 से 15 हजार रुपए में मिलने वाली क्वालिटी वाली जैकेट मिल जाती है।

इस वजह से सस्ती होती हैं जैकेट

दिल्ली के मोहम्मदपुर एरिया में स्थित साहिल इंटरप्राइजेज के ऑनर सलाउद्दीन इदरीसी ने बताया कि यहां पर ऐसे कई दुकानदार हैं जो थोक में जैकेट सेल करते हैं। इनमें ज्यादातर शॉपकीपर्स ने मैन्युफैक्चर प्लांट या फैक्ट्री लगा रखी है, क्योंकि लेदर थोक में खरीदकर काम किया जाता है, इस वजह से जैकेट सस्ती पड़ती है।

  • मैन्युफैक्चर का बड़ा फायदा है कि कस्टमर की डिमांड के हिसाब से भी जैकेट तैयार हो जाती है।
  • यदि किसी को एक जैसी कई जैकेट चाहिए तब इस डिमांड को आसानी से पूरी कर दिया जाता है।
  • यदि जैकेट की फिटिंग सही नहीं है तब कस्टमर उसकी फिटिंग भी करा सकता है।

इसके अलावा, हार्ले डेविडसन, माइलस्टोन के साथ कई दूसरी ब्रांड की एक्सपोर्ट जैकेट भी सस्ती मिल जाती है। इन जैकेट की लेदर क्वालिटी प्रीमियम होती है। वहीं, इनकी कीमत 5000 रुपए या उससे कम होती है।

अब सिर्फ 30 रूपये में बड़े अस्पतालों के डाक्टर करेंगे इलाज, यह है स्कीम

बड़े शहरों के अस्पतालों के इलाज से महरूम छोटे शहर एवं गांव के लोग अब मेदांता जैसे नामी अस्पताल के डॉक्टरों से सिर्फ 30 रुपए में अपना इलाज करा सकेंगे। छोटे शहरों से लेकर गांवों तक में चलने वाले कॉमन सर्विस सेंटर (सीएससी) के साथ मेदांता अस्पताल ने एक समझौता किया है। जल्द ही यह सेवा सीएससी पर शुरू हो जाएगी।

मेदांता से हुआ करार

सीएससी के सीईओ डी.सी. त्यागी ने बताया कि दो दिन पहले मेदांता अस्पातल के साथ उनका करार हुआ है। इसके तहत सीएससी पर आने वाले मरीज मेदांता के डॉक्टरों की उपलब्धता के मुताबिक उनसे टाइम लेकर वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए अपना इलाज करा सकेंगे।

बदले में मरीज को सिर्फ 30 रुपए देने होंगे। त्याही ने बताया कि मेदांता अस्पताल यह काम अपने कॉरपोरेट सामाजिक दायित्व (सीएसआर) के तहत करना चाहता है, इसलिए सिर्फ 30 रुपए चार्ज कर रहा है। मेदांता के संस्थापक देश के मशहूर डॉक्टर नरेश त्रेहान है।

100 रुपए में अपोलो के डाक्टर से दिखा सकते हैं

त्यागी ने बताया कि मरीज सीएससी पर आकर 100 रुपए देकर अपोलो अस्पताल के डॉक्टर से इलाज करा सकते हैं। अपोलो अस्पताल के डाक्टर से दिखाने का चार्ज 100 रुपए हैं। यह चार्ज अस्पताल वाले तय करते है।

उन्होंने बताया कि अपोलो अस्पातल के डाक्टर से वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए इलाज कराने का काम पहले से चल रहा है। मरीज को दिखाने के बाद अपोलो अस्पताल का पर्चा सीएससी से मिल जाता है। मरीज चाहे तो सीएससी पर ऑनलाइन दवा मंगा सकता है या फिर बाजार से खरीद सकता है।

होम्योपैथ एवं आयुर्वेद इलाज की सुविधा भी उपलब्ध

त्यागी ने बताया कि सीएससी पर जाकर मरीज होम्योपैथ एवं आयुर्वेद पद्धति से भी इलाज करा सकते हैं। उन्होंने बताया कि आयुर्वेद के लिए उन्होंने पतंजलि से करार किया हुआ है। इसके तहत मरीज को इलाज के बदले 50 रुपए देने होते हैं। दवाई की खरीदारी उन्हें पतंजलि के स्टोर से करनी होती है।

मोटी कमाई के लिए खोलें अपनी प्राइवेट सिक्योरिटी एजेंसी, यहां से मिलेगा लाइसेंस

यह बि‍जनेस कम लागत और बहुत कम रि‍स्क में शुरू होता है। इसमें कागजी कार्रवाई भी बहुत कम होती है और बाकी कानूनी झंझट भी न के बराबर होते हैं। आप छोटे पैमाने पर भी इसे शुरू कर सकते हैं और इतना कमा सकते हैं कि‍ आपकी सभी जरूरतें पूरी हो जाएं।

सि‍क्‍योरि‍टी एजेंसी खोलने का प्रोसेस बहुत लंबा नहीं है। हां थोड़ी भागदौड़ और थोड़े खर्च के लि‍ए आपको तैयार रहना होगा। हम आपको स्टेप बाई स्टेप बता रहे हैं कि‍ कि‍स तरह से एजेंसी कैसे खोलें, उसके लि‍ए क्‍या तैयारी जरूरी है और कहां से मि‍लेगा बि‍जनेस।

स्‍टेप 1 – अकेले बना सकते हैं फर्म

सबसे पहले आपको एक कंपनी बनानी होगी। आप चाहें तो प्राइवेट लि‍मि‍टेड कंपनी खोलें या फि‍र पार्टनरशिप कंपनी या प्रॉपराइटरशि‍प फर्म। इसमें भी पार्टनरशि‍प और प्रॉपराइटरशिप फर्म खोलना ज्‍यादा आसान होता है। इस काम में आप कि‍सी सीए की मदद ले सकते हैं। प्रॉपराइटरशि‍प फर्म में हर साल फाइल होने वाली कागजी कार्रवाई बहुत कम होती है।

स्‍टेप 2 – एजेंसी का रजि‍स्‍ट्रेशन

सि‍क्‍योरि‍टी एजेंसी सर्वि‍स देती है इसलि‍ए आपकी कंपनी सर्वि‍स टैक्‍स के दायरे में आएगी और आपको उसका रजि‍स्‍ट्रेशन कराने की जरूरत है। अगर आप 10 या उससे ज्‍यादा लोगों को नौकरी पर रख रहे हैं तो आपको ईएसआई से रजि‍स्‍ट्रेशन कराना होगा और 20 से ज्‍यादा हैं तो पीएफ के लि‍ए भी रजि‍स्‍ट्रेशन कराना होगा। इसके अलावा आपको लेबर कोर्ट में भी रजिस्‍ट्रेशन कराना होगा।

स्‍टेप 3 – कहां से मिलता है लाइसेंस

इसके बाद आपको एजेंसी का लाइसेंस लेना होगा, जो राज्‍य सरकार का गृह वि‍भाग देता है, पुलि‍स से मंजूरी मि‍लने के बाद। प्राइवेट सि‍क्‍योरिटी एजेंसी रेगुलेशन एक्‍ट 2005 के तहत इनका लाइसेंस मि‍लता है।

लाइसेंस के लि‍ए 5000 से 25 हजार तक की फीस लगती है। अगर आप एक जि‍ले में अपनी सेवाएं देना चाहते हैं तो 5000, पांच जि‍लों तक सेवा देना चाहते हैं तो 10,000 और अगर पूरो राज्‍य में ऑपरेट करना चाहते हैं तो 25 हजार रुपये फीस है।

स्टेप 4 – भर्ती, ट्रेनिंग, वर्दी और बिजनेस शुरू

आपको सुरक्षाकर्मी की भर्ती, उनकी ट्रेनिंग और वर्दी वगैरा भी तैयार करनी होगी। वर्दी की तस्‍वीर आपको आवेदन के साथ लगानी होगी।  पुरुष सुरक्षाकर्मी की हाइट कम से कम 160 सेंटीमीटर और महिला सुरक्षाकर्मी की हाइट कम से कम 150 सेंटीमीटर हो। उनकी नजर ठीक हो। पुरुष सुरक्षाकर्मी का सीना फुलाने के बाद 80 सेंटीमीटर हो।

वह छह मिनट में एक किलोमीटर दौड़ सकता हो। आपको किसी मान्‍यताप्राप्‍त ट्रेनिंग इंस्‍टीट्यूट से उनकी ट्रेनिंग का इंतजाम भी करना होगा। ट्रेनिंग करीब एक माह की होती है। कागजी कार्रवाई के बाद आपको ऐसे लोगों से संपर्क करना होगा, जिनको अपनी कंपनी, सोसाइटी, मॉल, अस्पताल वगैरा में सिक्‍योरिटी की जरूरत होती है। शुरू में आप किसी बड़ी एजेंसी के साथ मिलकर भी काम कर सकते हैं।

इन 5 मार्केट से खरीदें सर्दी के कपड़े, आधे दाम पर मिल रहे हैं जैकेट और स्वेटर

सर्दियां शुरू हो रही हैं। ऐसे में सर्दियों के सस्ते में कपड़े खरीदारी के बारे में आप भी सोच रहे होंगें। यहां आपको देश के कुछ ऐसे ही बाजारों के बारे में बता रहे हैं जहां रिेटेल की तुलना में आधे दाम पर वुलन्स कपड़े जैसे स्वेटर, जैकेट, कोट, सॉक्स, ग्लव्स, मफलर खरीद सकते हैं। आइए जानते हैं देश के ऐसे ही पांच बाजारों के बारे में…

क्यूं मिलते हैं इन मार्केट में सस्ते कपड़े

ये देश के सबसे पुराने ट्रैडिशनल होलसेल मार्केट और मैन्युफैक्चरिंग हब हैं। यहां से दिल्ली एनसीआर, यूपी, पंजाब, हरियाणा, उत्तराखंड, मध्यप्रदेश तक वुलन्स क्लोद्स सप्लाई होते हैं। दिल्ली और लुधियाना इन सभी राज्यों के बीच एक बड़े डिस्ट्रीब्यूशन सेंटर की तरह काम करता है।

जहां एक सेंटर से स्टॉक आता है और दूसरे सेंटर पर चला जाता हैं। यहां से इन राज्यों की रिटेल मार्केट को भी स्टॉक सप्लाई होता है। यही कारण है कि यहां रिटेल की तुलना में आधे दाम में वुलन्स कपड़े मिलते हैं।

चांदनी चौक, दिल्ली

पुरानी दिल्ली के चांदनी चौक मार्केट में रिटेल की तुलना में आधे दाम में स्वैटर, जैकेट, कोट, सॉक्स, ग्लव्स, मफलर आदि खरीद सकते हैं। उत्तर भारत के तमाम राज्यों को यहां से कपड़े सप्लाई किए जाते हैं।चांदनी चौक में कई छोटे-छोटे मार्केट हैं जो अलग-अलग तरह के कपड़ो को बेचने के लिए प्रसिद्ध हैं।

लुधियाना का वुलन मार्केट, पंजाब

घुमर मंडी मार्केट और करीमपुरा बाजार

वुलन कपड़ों की शॉपिंग लुधिायाना घुमर मंडी मार्केट और करीमपुरा बाजार के बिना अधूरी है। यहां वुलन कपड़ो और पार्टीवेयर कपड़ों की 1,000 से अधिक दुकानें हैं। यहां के वुलन वेयर, कैजुअल वियर, साड़ी, सूट के अलावा लड़कों के लिए जींस, टीशर्ट जैसे कपड़े 40 से 50 फीसदी तक कम दाम में मिल जाएंगे।

अमीनाबाद मार्केट, लखनऊ, उत्तर प्रदेश

लखनऊ का अमीनाबाद मार्केट दिल्ली के चांदनी चौक की तरह पुरानी होलसेल मार्केट है। यहां वुलन कपड़ो से लेकर आर्टिफिशयल ज्वैलरी सभी मिलता है। रिटेल बाजार की तुलना में कीमतें 40 से 50 फीसदी कम होती हैं।

जौहरी बाजार, जयपुर

शॉपिंग के लिए राजस्थान का जौहरी बाजार ज्वैलरी का बड़ा केंद्र है।  संकरी और तंग गलियों के बीच ग्राहकों की भीड़ यहां हमेशा बनी रहती है। यहां वुलन कपड़े, राजस्थानी जुतियां, आर्टिफिशियल ज्वैलरी, कुंदन ज्वैलरी मिलती हैं। यहां कीमत अन्य रिटेल मार्केट की तुलना में 40 फीसदी तक कम होते हैं।

रोहताश नगरशाहदरा

ईस्ट दिल्ली में शाहदरा में रोहताश नगर बच्चों के कपड़ो की होलसेल और रिटेल मार्केट हैं। यहां महिलाओं और बच्चों के लिए वुलन कपड़े कम प्राइस में मिल जाएंगे।

जापान में सिर्फ 3 लाख रुपए में रहने के लिए खरीदे मकान, लेकिन माननी पड़ेगी यह शर्त

अगर आप विदेश में सस्‍ता मकान खरीदना चाहते हैं तो जापान आपके लिए मुफीद डेस्टिनेशन है. एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक जापान में करीब 1 करोड़ मकान खाली पड़े हैं. ये मकान आकिया (Akiya) बैंक वेबसाइट पर बिक रहे हैं.

इनमें कई तो मुफ्त में मिल रहे हैं लेकिन शर्त के साथ. शर्त यह है कि मकान खरीदने वाले ग्राहक को जापान का प्रॉपर्टी टैक्‍स चुकाना होगा. आकिया का अर्थ जापानी भाषा में खाली मकान होता है.

1 करोड़ मकान पड़े खाली

सीएनबीसीडॉटकॉम की रिपोर्ट के मुताबिक जापान में खाली मकान की संख्‍या लगातार बढ़ रही है. इसका कारण बुजुर्गों की आबादी बढ़ना और जनसंख्‍या का घटना बताया जा रहा है. जापान में 3 दशक पहले यह समस्‍या शुरू हुई थी. दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्‍यवस्‍था में करीब 1 करोड़ मकान खाली हैं. इन्‍हें इनके मालिकों ने या तो छोड़ दिया है या कहीं और जाकर बस गए हैं.

क्‍या है कीमत

जो मकान फ्री नहीं है उनकी कीमत जापानी मुद्र में 5 लाख येन (करीब 3 लाख रुपए) से लेकर 2 करोड़ येन है. ये कीमतें लोकेशन, प्रॉपर्टी की उम्र और अवस्‍था के आधार पर हैं.

टोक्‍यो में कई मकान खाली

टोक्‍यो में खाली मकान का अनुपात 11.1% था जो 2033 तक बढ़कर 20 प्रतिशत होने का अनुमान है. हालांकि यह अनुपात जापान के अन्‍य शहरों के मुकाबले कम है. फुजित्‍सु रिसर्च इंस्टिट्यूट के अनुमान के मुताबिक 2008 में देश में 7.568 मिलीय न प्रॉपर्टी खाली थीं.

स्‍थानीय प्रशासन की साइट पर मौजूद है लिस्टिंग

जापान के विभिन्‍न प्रांतों के स्‍थानीय प्रशासन और कम्‍युनिटीज ने अपनी-अपनी साइट पर अपने यहां की खाली प्रॉपर्टी की पोस्टिंग कर रखी है. इसके आधार पर ग्राहक तुलना कर अपने लिए मुफीद प्रॉपर्टी चुन सकते हैं. इनमें कागोशिमा, कोचि और वाकायामा में सबसे ज्‍यादा मकान खाली पड़े हैं.

युवा परिवारों को मुफ्त मिलेगा मकान

आकिया योजना में युवा परिवारों को मुफ्त में मकान दिया जाएगा. मकान के रेनोवेशन के लिए भी सब्सिडी दी जा रही है. उदाहरण के तौर पर अगर किसी परिवार के सभी सदस्‍यों की उम्र 43 साल से कम है तो बच्‍चे पढ़ने जाते हैं तो उन्‍हें मकान फ्री मिलेगा.

यहां सिर्फ 79 रु में मिलते है कमाल के आइटम, फ्री मे होगी होम डिलिवरी

ई-कॉमर्स वेबसाइट शॉपक्लूज Triple Value Sale लेकर आई है। इस सेल में कस्टमर को 3 तरह से फायदा मिलेगा। सेल की खास बात है कि इसमें मिलने वाले सभी आइटम 79 रुपए से 199 रुपए के बीच के हैं।

इसके साथ, सेल में शामिल किए गए सभी आइटम की डिलीवरी भी फ्री की जाएगी। वहीं, सभी प्रोडक्ट्स पर COD (कैश ऑन डिलिवरी) भी दी जाएगी। बता दें कि सेल में कुल 883 आइटम को शामिल किया गया है।

डेली नीड के आइटम

इस सेल में लोगों की डेली नीड के आइटम जैसे टी-शर्ट, मौजे, बेल्ट, मोबाइल होल्डर, मोबाइल स्टैंड, हेडफोन, रिस्ट वॉच, स्पाइक्स, बाउल, गॉगल्स, बेडसीट, सेल्फी स्टिक, मसाज मशीन, ऑडियो स्पिलटर के साथ कई आइटम हैं।

shopclues.com

सेल में जो 883 आइटम शामिल किए गए हैं उनमें कई टेक से जुड़े हैं। ऐसे में डाटा केबल, सेल्फी स्टिक, मोबाइल होल्डर, USB LED लाइट, AUX केबल जैसे कई आइटम सस्ते में खरीद सकते हैं।

7 से 9 दिन में डिलिवरी

ट्रिपल वैल्यू सेल से आप जो भी आइटम खरीदते हैं उसकी डिलिवरी 7 से 9 बिजनेस डे में की जाएगी। इसमें संडे या दूसरे नेशनल हॉलिडे को शामिल नहीं किया गया है। इसके साथ, सभी आइटम की डिलिवरी का काई चार्ज नहीं लिया जाएगा।

ये ऑफर्स भी मिलेंगे

  • ऑनलाइन पेमेंट करने पर कुछ प्रोडक्ट पर 40 रुपए का फ्लैट डिस्काउंट दिया जाएगा।
  • Mobikwik से पेमेंट करने पर 100% सुपरकैश दिया जाएगा।
  • FreeCharge पर 20% कैशबैक या फिर मैक्सिमम 75 कैशबैक दिया जाएगा।
  • Vodafone m-pesa से पेमेंट पर 5% का कैशबैक या मैक्सिमम 150 रुपए मिलेंगे।
  • Airtel Payment बैंक से पेमेंट पर 10% या मैक्सिमम 200 रुपए का कैशबैक मिलेगा।

सिर्फ 2100 रुपए में लीजिए डेजर्ट सफारी का मजा, इस तरह बनाए जैसलमेर का टूर

नवंबर-दिसंबर के दौरान जोधपुर-जैसलमेर घूमने के लिए सबसे बढ़िया वक्त है क्योंकि इस वक्त न तो सूरज की तेज़ तपिश होती है न ही सर्द हवाओं कि ठिठुरन।

गुलाबी ठंड के मौसम में डेज़र्ट सफारी, किलों की सैर और यहां के तीखे-चटपटे पकवानों का लुत्फ उठाने का अलग ही मजा है। अगर आप 2 से 3 दिनों की छुट्टियों को किसी अच्छी जगह जाकर बिताना चाहते हैं तो आपके लिए यह बेस्ट डेस्टिनेशन हो सकता है। यहां आप फन और एडवेंचर का एक साथ मजा ले सकते हैं।

जैसलमेर में डेजर्ट कैंपिंग का लुत्फ उठाएं

ट्रैवल पसंद लोगों की मस्ट विजिट लिस्ट में जैसलमेर की डेजर्ट कैंपिंग शामिल होती है । ‘सन सिटी’ के नाम से मशहूर जैसलमेर में डेजर्ट कैंपिंग के दौरान आप बॉनफायर, बार्बेक्यू डिनर और आसपास के गांवों में घूमने और उनके कल्चर को जानने जैसी कई एक्टिवटीज कर सकते हैं।

गोल्डन सिटी के नाम से मशहूर जैसलमेर में डेजर्ट सफारी के लिए साल भर टूरिस्ट आते हैं। यहां आप सैंड ड्यून का भी लुत्फ उठा सकते हैं जिसके लिए बड़ी संख्या में लोग दुबई भी जाते हैं।

इतने रुपए खर्च करने पड़ेंगे

अगर आप डेजर्ट कैंप में एक रात रुकना चाहते हैं तो आप विभिन्न ट्रैवेल कंपनियों से अपना पैकेज बुक करवा सकते हैं। अगर आप Yatra.com से पैकेज लेना चाहते हैं तो यहां आपको कम से कम 2,100 से 3,000 रुपए प्रति व्यक्ति चुकाने होंगे। इसमें आपको 8 घंटे के लिए कैमल मिलेगा जिस पर बैठकर आप डेजर्ट का मजा उठा सकते हैं।

इसके साथ ही सचिया माता मंदिर के दर्शन कराने के बाद वापस डेजर्ट कैंप तक छोड़ दिया जाएगा। डेजर्ट कैंप में आप जोधपुर के लजीज व्यंजन का भी मजा ले सकते हैं। Make My trip से आपको प्रति व्यक्ति एक रात के लिए 6,272 रुपए चुकाने पड़ेंगे। यहां जरूरत की सभी सुविधाएं कैंप के अंदर मिल जाएगी। इसमें राजस्थानी फूड भी शामिल है। Goibibo पर आपको प्रति व्यक्ति 3,500 रुपए चुकाने पड़ेंगे। इसमें आपको कैंप के अंदर रूम सर्विस, फूड और फ्री वाई फाई की सुविधा मिलेगी।

इसका भी मजा जरूर लें

राजस्थान के एक बड़े हिस्से के रेगिस्तानी होने की वजह से वहां सब्जियां और फल गिने-चुने ही पैदा होते हैं। यहां लोग ज्यादातर अनाज, बाजरा, दाल वगैरह और मांसाहारी भोजन पर आश्रित रहते हैं। अगर आप जैसलमेर जाते हैं तो यहां आप विशेष रूप से, ‘मिर्ची पकोड़ा’ का मजा लें सकते हैं। जैसलमेर का कढ़ी-पकौड़ा अलहदा स्वाद के लिए मशहूर है।

राजस्थानी कढ़ी की अपनी अलग खासियत है। इसमें बेसन की पकौडिय़ों को हल्की-सी खट्टी दही के साथ पकाया जाता है । दाल-बाटी चूरमा का भी मजा ले सकते हैं। जोधपुर में मिलने वाली मिठाइयां, नमकीन और दूसरे कई व्यंजन सैलानियों को आकर्षित करते हैं। यहां अनोखे तरीके से गुलाब जामुन की सब्जी भी बनाई जाती है। खाने-पीने के अलावा आप यहां के मशहूर फोर्ट भी घूम सकते हैं।

कैसे पहुंचे जैसलमेर

जैसलमेर दिल्ली से 793 किमी दूर है। वैसे जैसलमेर सड़क और ट्रेन मार्ग से सारे देश से जुड़ा हुआ है। राष्ट्रीय राजमार्ग-15 जैसलमेर से होकर गुजरता है। नजदीकी स्टेशन जैसलमेर जंक्शन है। इसके अलावा अगर आप वायु मार्ग से आना चाहें तो नजदीकी एयरपोर्ट जोधपुर पड़ता है।

बिना पैसे के शाओमी का Mi स्टोर खोलने का मौका, भरना होगा सिर्फ एक फॉर्म

चीनी इलेक्ट्रॉनिक कंपनी Xiaomi की ओर से देशभर में Mi स्टोर की फ्रेंचाइजी लेने का ऑफर दिया जा रहा है। शाओमी इंडिया के मैनेजिंग डॉयरेक्टर और शाओमी ग्लोबल के वाइस प्रेसीडेंट मनु जैन ने दिल्ली में Redmi Note 6 Pro स्मार्टफोन की लॉन्चिंग के वक्त बताया कि Mi स्टोर की फ्रेंचाइजी खोलने के लिए मात्र एक फार्म भरना होगा।

इसके लिए फोन या फिर टीवी जैसे इलेक्ट्रानिक डिवाइस के बारे में तकनीकी जानकारी होना जरूरी नहीं है। देश का कोई भी आम आदमी इस स्टोर को खोलने के लिए आवेदन कर सकता है। इसी के साथ मनु जैन ने एक और बड़ा ऐलान करते हुए कहा कि अगर फ्रेंचाइजी लेने के लिए पैसे नहीं हैं, तो शाओमी की ओर से स्टोर खोलने के लिए फंड दिया जाएगा।

फ्रेंचाइजी खोलने के लिए क्या करना होगा

अगर आप Mi स्टरो की फेंचाइजी खोलना चाहते हैं। इसके लिए आपको Mi store की वेबसाइट पर जाकर वहां एक फार्म भरना होगा। फार्म में आपको अपने निवास स्थान समेत अन्य जानकारी देनी होगी। फार्म भरते ही आप फ्रेंचाइजी खोलने की लिए लिस्टेड हो जाएंगे।

बाकी आगे का निर्णय Mi कंपनी का होगा। अगर उन्हें आपकी लोकेशन और अन्य जानकारी पसंद आती है, तो आपको इसकी फ्रेंचाइजी मिल जाएंगी। ऑनलाइन के अलावा Mi स्टोर की हेल्पलाइन से इस बारे में मदद ली जा सकेगी। हालांकि अभी इसमें थोड़ा वक्त जरूर लग सकता है।

स्मार्टफोन के अलावा अन्य प्रोडक्ट्स की होगी बिक्री

Mi स्टोर पर स्मार्टफोन, टीवी, एयर प्यूरीफायर समेत कंपनी के अन्य प्रोडक्ट मिलेंगे। इसके लिए अब शहर जाने की जरूरत नहीं होगी। अभी तक शाओमी के ज्यादातर प्रोडक्ट्स की ऑनलाइन बिक्री होती थी। लेकिन अब कंपनी ऑफलाइन सेक्टर में अपने कदम बढ़ा रही है। इन स्टोर पर नए लॉन्च स्मार्टफोन, टीवी जैसे तमाम शाओमी प्रोडक्ट्स को डिस्प्ले किया जाएगा, जहां कस्टमर इन्हें चलाकर इनका अनुभल ले सकेंगे।

एक दिन में 500 से ज्यादा स्टोर खोलकर बनाया रिकार्ड

बता दें कि Mi ने 29 अक्टूबर में देशभर के गांवों और कस्बों में एक दिन में एक साथ 500 Mi स्टोर खोलकर गिनीज वर्ल्ड रिकार्ड बनाया है। वहीं मनु जैन ने बताया कि वो वर्ष 2019 में 5000 से ज्यादा ऐसे स्टोर खोलेंगे। इससे 15 हजार से ज्यादा लोगों को रोजगार मिल सकेगा। अभी तक Mi स्टोर केवल मेट्रो सिटी में ही थे। मेट्रो सिटी की तुलना में गांवों और शहरों में खोले गए स्टोर छोटे होंगे।

यहाँ शुरू होगा LED बल्ब बनाने का कोर्स, सिर्फ 3 दिन में सीख जायेंगे सारा काम

देश में एलईडी बल्ब की डिमांड तेजी से बढ़ रही है। ऐसे में, अगर आप अपना बिजनेस शुरू करना चाहते हैं तो LED बल्ब का बिजनेस शुरू कर सकते हैं। लेकिन आपका सवाल होगा कि उन्हें इस बिजनेस के बारे में कुछ नहीं पता तो परेशान न हों।  एक सरकारी एजेंसी एलईडी बल्ब और ट्यूब लाइट्स के बिजनेस के बारे में विस्तार से ट्रेनिंग दे रही है।

मिनिस्ट्री ऑफ माइक्रो, स्मॉल एंड मीडियम एंटरप्राइजेज के अधीन काम कर रही इंस्टीट्यूट फॉर डिजाइन ऑफ इलेक्ट्रिकल मेजरिंग इंस्ट्रयूमेंट (IDEMI) द्वारा तीन दिन का कोर्स कराया जा रहा है, जिसमें एलईडी बल्ब बिजनेस की बारीकियां बताई जाएंगी। आइए इस ट्रेनिंग प्रोग्राम के बारे में विस्तार से जानते हैं।

क्या-क्या जानेंगे आप
इस कोर्स के कंटेंट इस प्रकार हैं

  • बेसिक आफ एलईडी
  • बेसिक ऑफ पीसीबी
  • एलईडी ड्राइवर
  • बेसिक ऑफ सोल्डरिंग
  • कंपोनेंट के प्रकार
  • कंपोनेंट फिटिंग
  • टेस्टिंग
  • टेस्टिंग ऑफ इल्यूमिनेशन
  • मैटेरियल की खरीद
  • मैटेरियल के सोर्स
  • मार्केटिंग
  • पैकिंग एवं पैकिंग मैटेरियल
  • सरकारी सब्सिडी स्कीम
  • एलईडी बल्ब एवं ट्यूब लाइट बनाने की प्रेक्टिस भी कराई जाएगी।

कहां होगी ट्रेनिंग

23, 24 व 25 नवंबर को होने वाली यह ट्रेनिंग दिल्ली के पश्चिम विहार स्थित भारती विद्यापीठ डीम्ड यूनिवर्सिटी में होगी। इसका समय दोपहर 1.30 से 5 बजे रखा गया है। इसकी फीस 5500 रुपए रखी गई है, जिस पर 18 फीसदी जीएसटी भी देना होगा।

कैसे कर सकते है अप्लाई

अगर आप इस कोर्स के लिए अप्लाई करना चाहते हैं तो आप 9971128669 या 8217582663 या 8806614948 पर सुबह 10 बजे से लेकर शाम 6 बजे तक कॉल कर सकते हैं। अप्लाई करते वक्त आपको आधार कार्ड, एजुकेशन डॉक्यूमेंट और दो पासपोर्ट साइज फोटो ग्राफ लेकर जाना होगा।

ये लोग ले सकते हैं ट्रेनिंग

यह कोर्स कई तरह की कैटेगिरी के लोगों के लिए है। जैसे कि – इंडस्ट्रलिस्ट, कंसलटेंट, एंटरप्रेन्योर, रिटायर्ड लोग, कॉरपोरेट इंजीनियर, इंजीनियरिंग और नॉन-इंजीनियरिंग के स्टूडेंट्स, सर्विस मैन, कॉन्ट्रेक्टर, बिजनेस मैन आदि इस ट्रेनिंग को ले सकते हैं।