यह किसान एक साल में दो बार उगाता है गोभी, कमाता है 10 लाख रुपए

गेहूं और मेंथा की खेती छोड़कर एक किसान गोभी की खेती कर रहा है। यह किसान 51 बीघे में गोभी की खेती कर रहा है और हर साल करीब 10 लाख रुपए की कमाई करता है। इसके साथ ही वह अपने गाँव के अन्य किसानों को भी गोभी की खेती के लिए जागरूक कर रहा है।

विकास खंड आलमपुर जाफराबाद के गाँव विछुरैया निवासी किसान राजेश सिंह (45 वर्ष) पत्ता गोभी की खेती करते हैं। राजेश ने बताया, ” पहले मैं गेहूं और मेंथा की खेती करता था, लेकिन मुझे ज्यादा मुनाफा नहीं होता था। पड़ोस के गाँव में एक किसान सब्जी की खेती करता था। उसे देखकर मैंने भी सब्जी की खेती के बारे में सोचा।

काफी सोच विचार के बाद मैं बंद गोभी की खेती करने लगा हूं। मैं चार साल से गोभी की खेती करता हूं। पिछले साल मैंने 51 बीघे में गोभी की खेती की थी, जिससे मुझे करीब 10 लाख रुपए का फायादा हुआ था। ” राजेश ने गाँव के कुछ अन्य किसानों के खेत भी बटाई पर ले रखे हैं।

राजेश ने आगे बताया, ” मैं साल में दो बार गोभी उगाता हूं। एक बार पौधे लागने के कुछ दिनों बाद फिर से नर्सरी कर देता हूं। एक तरफ अगैती फसल कट जाती है तो पहले से तैयार पौधे लगा देता हूं। दूसरी फसल में फूल ज्यादा महंगे नहीं बिकते, लेकिन पैदावार अच्छी होने से आदमनी अच्छी हो जाती है।”

एक साल में दो बार उगाते हैं गोभी

राजेश ने बताया, ” जुलाई माह के पहले सप्ताह में मैं नर्सरी डाल देता हूं। इस दौरान काफी ध्यान देना होता है। 22 से 25 दिन में गोभी की नर्सरी तैयार हो जाती है । गोभी की खेती के लिए रेतीली दोमट मिटटी सबसे अच्छी होती है।

बंद गोभी की फसल को उगाने से पहले खेत को मिटटी पलटने वाले हल से या ट्रेक्टर से अच्छी तरह से पलट लेता हूं। इसके बाद लगभग 3 या 4 बार गहरी जुताई करके खेत में पाटा लगाकर भूमि को समतल बना लेता हूं।

इसके बाद इसमें पौध लगाता हूं। पौध डालने से पहले 5 किलो ग्राम गोबर की खाद प्रति क्यारी मिला देनी चाहिए और 10 ग्राम म्यूरेट ऑफ़ पोटाश व 5 किलो यूरिया प्रति वर्ग मीटर के हिसाब से क्यारियों में मिला देना चाहिए।

पौध 2.5 से 5 सेन्टीमीटर दूरी की कतारों में डालना चाहिए। क्यारियों में बीज बुवाई के बाद सड़ी गोबर की खाद से बीज को ढक देना चाहिए। इसके 1 से 2 दिन बाद नालियों में पानी लगा देना चाहिए या हजारे से क्यारियों को पानी देना चाहिए।

एक बीघे में तीन से चार हज़ार पौधे लगते हैं। खेती में आने वाली कुल लागत के बारे में उन्होंने बताया, ” निराई, दवाई पौध, सिंचाई और अन्य खर्चे मिलाकर एक बीघे में करीब पांच हजार रुपए की लागत आती है। ” नवंबर माह में फसल तैयार हो जाती है। इसके बाद दिसंबर में फिर दूसरे सीजन के लिए नर्सरी डाल दी जाती है। इसके बाद दिसंबर में पौधे लगा दिए जाते हैं, जो फरवरी में तैयार हो जाते हैं। इस मौसम में गोभी का अच्छा दाम मिलता है। ”

जैविक खाद का करते हैं प्रयोग

गोभी के अच्छे उत्पादन के लिए राजेश जैविक खाद का प्रयोग करते हैं। राजेश घर पर भी जैविक खाद बनाते हैं, जिससे फसल में लागत कम आती है। राजेश ने बताया, ” जैविक खाद की प्रयोग से उत्पादन काफी अच्छा होता है।

इसके साथ साथ गोभी का रंग भी बहुत शानदार निकलकर आता है जो देखने में बहुत अच्छा लगता है। पौध भी अच्छी होती है। जैविक खाद की वजह से पौधे की जड़ का विकास अच्छे तरीके से होता है। जैविक होने के कारण दाम भी अच्छा मिल जाता है।

” राजेश ने आगे बताया, ” मैं गोभी को बेचने हल्द्वानी की मंडी ले जाता हूं, जहां अच्छा दाम मिल जाता है। एक बीघे में करीब 50000 हजार रुपए की गोभी बिक जाती है। एक बीघे में करीब 1200 कटटा गोभी निकलती है। एक कटटे में 22 बंद गोभी होती है।”

इस राज्य सरकार ने बनाया नया क़ानून, MSP से कम कीमत पर पैदावार खरीदने वाले व्यापारियों को होगी एक साल की जेल

सरकार ने फसलों की खरीद के मामले में काफी सख्ती बरतते हुए यह नियम बना दिया है कि न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) से कम कीमत पर अगर कोई व्यापारी खरीद करते पकड़ा जाएगा तो उसे एक साल की जेल की सजा होगी.

गौरतलब है कि खरीफ सीजन की फसल आने में बस एक महीना ही बचा है. इसलिए महाराष्ट्र सरकार ने कहा है कि कोई भी व्यक्ति पैदावार तय एमएसपी से कम पर नहीं खरीदेगा, चाहे वह व्यापारी ही क्यों न हो. अगर कोई ऐसा करता पकड़ा गया तो उसे एक साल की जेल की सजा हो सकती है और 50,000 रुपये जुर्माना भी देना पड़ सकता है.

इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार, बुधवार को एक कैबिनेट मीटिंग के बाद राज्य सरकार ने महाराष्ट्र एग्रीकल्चरल प्रोड्यूस मार्केटिंग एक्ट में संशोधन को मंजूरी दे दी है. इससे होगा यह कि अब ऐसे किसी ‘बाजार क्षेत्र’ का अलग से कोई निर्धारण नहीं होगा जहां जिंसों की खरीद-बिक्री की जाती हो.

इसकी जगह अब पूरे राज्य को ही एक बाजार माना जाएगा और व्यापारियों को किसी एपीएमसी बाजार में कारोबार के लिए अलग से लाइसेंस लेने की जरूरत नहीं होगी. यानी इससे व्यापारियों के लिए भी एक तरह की सहूलियत है. वे महाराष्ट्र की किसी भी मंडी से खरीद कर सकेंगे.

इससे किसानों को भी बेहतर कीमत मिल सकेगी. अभी तक बाजार में मंदी या अन्य कारणों का हवाला देकर अक्सर व्यापारी एमएसपी से भी कम कीमत पर किसानों की फसल खरीद लेते थे.

सरकार की नई एमएसपी नीति को लागू करने की जिम्मेदारी अब सिर्फ सरकारी खरीद एजेंसियों की ही नहीं, बल्कि निजी व्यापारियों की भी होगी. इसका किसानों को काफी फायदा मिल सकता है.

उदाहरण के लिए फिलहाल महाराष्ट्र के अकोला, लातूर और अमरावती जैसे बाजारों में तूर दाल 3,600 से 3,700 रुपये प्रति क्व‍िंटल बिक रही है. यह केंद्र सरकार द्वारा तय एमएसपी 5,675 रुपये से काफी कम है. पिछले साल पीक सीजन के दौरान तिलहन 2,600 से 2,700 रुपये प्रति क्विंटल बिक रहा था, जबकि उसके लिए एमएसपी 3,050 रुपये तय किया गया था.

अनमैरिड कपल भी होटल में बुक कर सकते हैं 1 रूम, ऐसे में पुलिस करे कार्रवाई तो ये है आपका अधिकार

अनमैरिड कपल को कई अधिकार मिल हुए हैं लेकिन कुछ लोग इन अधिकारों के बारे में जानते नहीं। जैसे-होटल में किसी अनमैरिड कपल का एक रूम में रुकना गुनाह नहीं है। ऐसे में यदि पुलिस आप से पूछताछ करे तो आपको डरने की जरूरत नहीं है। आप खुद को मिले अधिकारों के तहत पुलिस से बात कर सकते हैं।

होटल एसोसिएशन ऑफ इंडिया के मुताबिक, ऐसा कोई भी लॉ नहीं है जो बालिग युवक-युवती को किसी होटल में एक कमरे में ठहरने से रोके। दोनों के पास आईडी कार्ड होना जरूरी है। कोई शंका होने पर पुलिस पूछताछ कर सकती है लेकिन ऐसे में गिरफ्तार करने का अधिकार पुलिस को नहीं है।

सार्वजनिक जगहों पर अश्लील हरकत करना जरूर गैरकानूनी है। पब्लिक प्लेस पर ऐसा करते पाए जाने पर कानूनी कार्रवाई हो सकती है। भारतीय कानून के मुताबिक कोई भी बालिग अपनी मर्जी से होटल में ठहर सकता है।

हाईकोर्ट एडवोकेट ने बताया ऐसे में पुलिस कार्रवाई करे तो क्या करें….

  • हाईकोर्ट एडवोकेट संजय मेहरा ने बताया कि, भारतीय वयस्कता अधिनियम के मुताबिक 18 साल की लड़की और 21 साल के लड़के को अपनी मर्जी से संबंध बनाने और शादी करने का अधिकार है।
  • बालिग युवक-युवती किसी भी होटल में रूम भी बुक कर सकते हैं। उन्हें अपना आईडी प्रूफ जमा करना होगा। आईडी प्रूफ देने के बाद कोई होटल संचालक रूम बुक करने से मना नहीं कर सकता।
  • ऐसे में यदि पुलिस छापा मारती है तो पुलिस को युवक-युवती अपने रिश्ते के बारे में बता सकते हैं। आईडेंटिटी प्रूफ दिखा सकते हैं और परिजनों से बात करवा सकते हैं।

  • ऐसे मामलों में पुलिस इम्मोरल ट्रैफिक एक्ट के तहत कार्रवाई करती है। अनैतिक गतिविधियों को रोकने के लिए इस एक्ट का इस्तेमाल किया जाता है लेकिन यदि किसी युवक-युवती का आपस में संबंध है और इसकी जानकारी उनके घर में भी है तो पुलिस उन पर कोई कार्रवाई नहीं कर सकती।
  • कई होटलों में रूम इसलिए नहीं दिए जाते क्योंकि उन्हें पुलिस एक्शन का डर होता है। स्थानीय प्रशासन भी अनैतिक गतिविधियों को रोकने के लिए ऐसे दिशा-निर्देश समय-समय पर देते रहता है लेकिन जिन युवक-युवतियों के संबंध सही हैं और उनकी जानकारी परिजनों को भी है तो वह परिजनों से पुलिस की बात करवा सकते हैं।

मौसम का सबसे ताजा अपडेट, दिल्ली-UP समेत 16 राज्यों में तेज बारिश की चेतावनी

दिल्‍ली-एनसीआर में बृहस्पतिवार सुबह जोरदार बारिश हुई। इससे जहां ओर एक उमस भरी गर्मी से लोगों को राहत मिली वहीं, बारिश की वजह से सड़कों पर पानी भर गया और नोएडा से दिल्‍ली जाने वाले रास्‍ते पर लंबा जाम लग गया। जाम के चलते लोग दोपहर तक परेशान रहे।

वहीं, मौसम विमाग ने आग दो-तीन दिन बारिश की संभावना जताई है। मौसम विभाग ने दिल्ली, उत्तर प्रदेश और बिहार सहित 16 राज्यों के कुछ इलाकों में शुक्रवार को भी तेज बारिश की चेतावनी जारी की है।

मौसम विभाग के पूर्वानुमान के मुताबिक, उत्तराखंड, हरियाणा, चंडीगढ़, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, पश्चिमी मध्य प्रदेश, बिहार, पश्चिम बंगाल, सिक्किम, अरुणाचल प्रदेश, असम, मेघालय, नगालैंड, मणिपुर, मिजोरम और त्रिपुरा के कुछ इलाकों में शुक्रवार तेज बारिश हो सकती है।

दिल्ली-NCR में मूसलाधार बारिश, सड़कों पर पानी भरने से कई जगह ट्रैफिक जाम

दिल्ली में एक बार फिर से मौसम के तेवर बदले हुए नजर आए। बृहस्पतिवार सुबह दिल्ली के साथ नोएडा, ग्रेटर नोएडा, गाजियाबाद के इलाकों में हुई झमाझम बारिश के चलते तमाम इलाकों में जाम लग गया।

यहां पर लगा है जाम

  • एनएच-9
  • आनंद विहार
  • आश्रम
  • धौला कुंआ
  • मूलचंद
  • नोएडा सेक्टर-121

नोएडा का हाल रहा बेहाल

  • सुबह हुई बारिश के बाद जाम से शहरवासी जूझते रहे
  • शहर के दर्जन भर मार्गाें पर भीषण जाम लगा, लोग घंटों जाम में फंसे रहे
  • जाम को खुलवाने के लिए कई जगह तो ट्रैफिक पुलिस ही नहीं दिखाई दी।
  • वहीं, बारिश के चलते शहर में जलभराव ने लोगों की परेशानी बढ़ी दी। नालियों की सफाई न होने के कारण बारिश के दौरान गंदा पानी सड़क पर आने से लोग परेशान रहे।

जानकारी के मुताबिक, बारिश से दिल्ली में भी जगह-जगह पानी भरने से गाड़ियों की रफ्तार भी थम गई, जिसकी वजह से लोगों को खासी दिक्कत का सामना करना पड़ा। बारिश की वजह से कैब कंपनियों ने किराए में इजाफा कर दिया। सड़कों पर कैब की संख्या कम होने की वजह से यात्रियों को दिक्कत का सामना करना पड़ा।

मिली सूचना के मुताबिक, दिल्ली में रिंग रोड धौला कुआं, भैरों रोड, मथुरा रोड, तीन मूर्ति गोल चक्कर, इग्नू रोड, डीएनडी, आश्रम चौक, रिंग रोड महारानी बाग, लाजपतनगर, सराय काले खां, राजा गार्डन, आनंद विहार, मायापुरी व जिमखाना में जाम की स्थिति बन गई। इसके अलावा, गाजियाबाद के मोहन नगर, नोएडा में महामाया फ्लाईओवर के साथ पास भीषण जाम लग गया।

वहीं, जल जमाव के कारण गड़गांव के कई इलाकों में ट्रैफिक जाम हो गया। दिल्ली के साथ नोएडा, गुड़गांव, गाजियाबाद और फरीदाबाद के कई इलाकों में नाले का पानी भर गया।

मौसम विभाग ने पहले ही इस बात की संभावना जताई थी कि आने वाले दिनों में दिल्ली और आसपास के इलाकों में बारिश हो सकती है। फिलहाल 26 अगस्त तक मौसम का मिजाज इसी तरह बना रहेगा और रुक-रुककर बारिश का सिलसिला जारी रहेगा।

आगे बढ़ रही हैं नमी वाली हवाएं

स्काइमेट के मौसम वैज्ञानिक महेश पलावत ने बताया कि बंगाल की खाड़ी में चक्रवाती हवाओं का मौसम बना हुआ है। इस तरह की गतिविधियों के कारण पूर्वी दिशा से दिल्ली और आसपास के इलाकों की ओर नमी वाली हवाएं आगे बढ़ रही हैं। इस तरह मौसम की स्थिति अगले कुछ दिनों तक दिल्ली और आसपास के इलाकों में बनी रहेगी।

इस दौरान अधिकतम तापमान 35 डिग्री और न्यूनतम तापमान 27 से 28 डिग्री तक रहने का अनुमान है। दिल्ली में अगस्त महीने में इस साल 81 मिमि कम बारिश हुई है। मौसम विभाग के आकड़ों के मुताबिक, इस साल अगस्त में सिर्फ 76.1 मिमी ही बारिश हुई है। जबकि 157.1 बारिश होनी चाहिए थी। दिल्ली के कई कॉलोनियों में अच्छी बारिश नहीं हुई है।

कमजोर रहा है दिल्ली में मानसून

मौसम वैज्ञानिकों के अनुसार, दिल्ली में मानसून की सक्रियता कमजोर रही है। इसकी वजह से अगस्त महीने में अच्छी बारिश नहीं हुई। मानसून ज्यादातर दक्षिण व मध्य भारत में ही सक्रिय रहा। साथ ही उत्तर पश्चिमी दिशा से हल्की सूखी हवाएं भी दिल्ली में आती रहीं जिससे दिल्ली में अच्छी बारिश नहीं हुई।

अब आपके गांव के सरपंच नहीं कर सकेंगे गोलमाल

आज हम आप को एक  ऐसी सरकारी वेबसाइट (gov.in)  का लिंक बताने जा रहे है , जिसका उपयोग कर के आप अपने गांव , अपने मोहले और अपने देश के विकाश में मत्वपूर्ण  योगदान कर सकते है , यह पर आप देख सकते है की भररत सरकार  ने आप के गांव के निर्माण कार्यों के लिए कितना पैसा दिया है ( यह डाटा पूरी तरह से ऑथेंटिकेट है ), अगर आप को कोई अनियमितता लगती है तो इसकी शिकायत आप जनसुनवाई में सीधे कर सकते है

Step 1 .  सर्वप्रथम नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें

http://www.planningonline.gov.in/ReportData.do?ReportMethod=getAnnualPlanReport

Step 2  .आप होनी सुबिधा के अनुसार अपनी भाषा चुन सकते है , अभी यहाँ पर इंग्लिश,हिंदी और पंजाबी का ऑप्शन है। …इमेज देखें

Step 3  .यहाँ पर आप अपना योजना बर्ष और अपने राज्य  का नाम चुन कर GET REPORT पर क्लिक करें , इसके  बाद आप से योजना इकाई के बारे में पूछेगा , For Example अगर आप को ये देखना है की आप के गांव  में इस बर्ष कितना पैसा सरकार  की तरफ से आया है तो आप GRAM PANCHYAT का ऑप्शन चुनेँगे

Step 4 . उसके बाद आप से ये पूछा जायेगा की आप किस जिला पंचायत में रहते है, आप अपने जिले का नाम सेलेक्ट कर लेंगे

Step 5  . जिला पंचायत सेलेक्ट करने के बाद आप अपने जनपद पंचायत  या ब्लॉक का नाम सेलेक्ट कर लेंगे, For Example – अगर मुझे ये देखना है की 2017-2018 में मेरे गांव में किस मद में सरकार ने  कितना पैसा दिया है ,

Step 6  .जनपद पंचायत के बाद आप से ग्राम PANCHYAT का नाम पुछा  जायेगा , उसके बाद आप GET REPORT पर क्लिक करेंगे।

यहाँ पर आप के सामने आप के गाँव / मोहल्ले / बार्ड में अभी तक कितना पैसा आया है  और आप के मुखिया( ग्राम PANCHYAT प्रद्यान), आप के बार्ड के मेंबर ने कितना काम किया है और सरकार से कितना पैसा लिया है, इसकी पूरी जानकारी ले सकते है, यदि आप को कुछ ऐसा डेटा मिलता  है जो आप को सही नहीं लगता है तो इसकी शिकायत आप जनसुनवाई पर जा कर कर सकते है , जहा पर आप के शिकायत पर सीधे मुखयमंती की सीधे नजर रहेगी

अब हमको जागरूक होने की जरूरत है। सभी जानकारियां सरकार ने ऑनलाइन वेबसाइट पे उपलब्ध करा दी है बस हमें उन्हें जानने की जरूरत है, यदि हर गांव के सिर्फ 2-3 युवा ही इस जानकारी को अपने गांव के लोगो को बताने लगे, समझ लो 50% भ्रष्टाचार तो ऐसे ही कम हो जाएगा।

इसलिए आपसे गुजारिश है कि आप अपने गांव में वर्ष 2016-17 मे हुए कार्यो को जरूर देखें और इस लिंक को देश के हर गांव तक भेजने की कोशिश करे ताकि गांव के लोग अपना अधिकार पा सके।

अब इस मोबाइल ऐप से मिंटों में करें जमीन को नापने का मुश्किल काम

अगर आप अपने खेत ,प्लाट ,दुकान जा किसी और चीज जो नापना चाहते है तो आप सिर्फ एक मोबाइल के साथ कर सकते है और वो भी बहुत आसानी और सटीकता के साथ । बस उसके लिए आपके फ़ोन में मोबाइल इंटरनेट और जीपीएस सिस्टम होना चाहिए । जो की अब लगभग हर मोबाइल फ़ोन में होता ही है । जमीन को नापने के लिए बस आपको एक ऐप अपने फ़ोन पर करनी होगी और उसके बाद जिस जमीन को नापना है । उसके इर्द गिर्द चक्र लगाना है बस बाकि बाकि का काम ऐप ही करेगी ।

सबसे पहले Google Play Store पर जा कर “Distance and area measurement ” ऐप इंसटाल करो इस ऐप की रेटिंग 4.1 है जो काफी अच्छी है । उसके बाद इसका जीपीएस सिस्टम ऑन करें ।अब ऐप को OPEN करें ।

उसके बाद Distance : के लिए मीटर,फ़ीट ,यार्ड आदि में से चुने ,आप फ़ीट चुन सकते है क्यूंकि ज्यादतर हमारे ये ही इस्तेमाल होता है । अब अगर अपने अपने खेत का ज़मीन नापना है तो Area : के लिए acre चुने । एक और ऑप्शन Logging है जिसे Auto पर रहने दे ।

अब इसमें एक स्टार्ट का बटन दिया हुआ है उसको दबा कर जिस जमीन को नापना है उसके इर्द गिर्द पूरा एक चक्र लगायें । ध्यान रहे जिस जगह को नापना है उसके किनारों पर बिलकुल साथ साथ चलें नहीं तो एरिया ज्यादा आ ज्यागा । जहाँ से आप ने चलना शुरू क्या था वहां तक चक्र पूरा करें । बस जैसे ही आप चक्र पूरा करेंगे साथ की साथ आप को पता चल जायगा की टोटल एरिया कितना है ।

वैसे तो यह ऐप बहुत हद तक बिलकुल सही एरिया बताती है लेकिन कभी कभी इंटरनेट ठीक ना चलने के वजह से थोड़ी बहुत गड़बड़ हो जाती है इस लिए इस ऐप का का प्रयोग सिर्फ कच्चा अंदाज़ा लगाने के लिए करें । कल जब आप खेत जायेंगे तो इसका इस्तेमाल कर अपना खेत जरूर नाप के देखना ।

घर बैठे ही ऐसे बनवाएं अपना Driving License, अपनाएं ये 7 स्टेप्स

गाड़ी या बाइक चलाने के लिए लोगों के पास ड्राइविंग लाइसेंस (DL) होना बेहद आवश्यक है। इसके बिना ड्राइविंग करना कानून अपराध माना जाता है। यही नहीं, फाइन और पेनाल्टी भी देनी पड़ सकती है।

पहले ड्राइविंग लाइसेंस बनावाने के लिए कई बार ऑफिसों के चक्कर काटने पड़ते थे। लेकिन ऑनलाइन सर्विसेज ने DL बनाने का काम बेहद आसान कर दिया है। यहां हम आपको ऑनलाइन DL अप्लाई करने का तरीका बताने जा रहे हैं।

DL को ऑनलाइन कैसे करें अप्लाई?

लर्निंग लाइसेंस

  • इसके लिए आपको ऑनलाइन सारथी पोर्ट पर लॉग-इन करना होगा। यह सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय की वेबसाइट है।
  • इसके बाद Apply online पर क्लिक करें। एक ड्रॉप डाउन मेन्यू दिया गया होगा इसमें New learners license पर क्लिक करें।
  • अब एक नया पेज ओपन होगा। यहां आपको अपनी निजी जानकारी, घर का पता समेत कुछ अन्य डिटेल्स भरनी होंगी।

  • सभी जरुरी जानकारियां भरने के बाद आपको यहां मांगे गए सभी दस्तावेंजों की स्कैन्ड कॉपी अपलोड करनी होगी। उदाहरण के तौर पर: आयु प्रमाण पत्र, घर के पते का प्रमाण आदि।
  • इसके बाद आपको अपनी फोटो और साइन की स्कैन्ड कॉपी अपलोड करनी होगी।
  • अब आपको learners license टेस्ट के लिए स्लॉट-बुकिंग करनी होगी।
  • अब आपको फीस का पेमेंट करना होगा। इसके बाद आपको learners license का टेस्ट क्लियर करना होगा। ऐसा करने से आपको learners license मिल जाएगा।

परमानेंट लाइसेंस

  • learners license मिल जाने के बाद आपको परमानेंट ड्राइविंग लाइसेंस अप्लाई करना होगा। learners license मिलने के 30 दिन बाद और 180 दिन पहले आपको परमानेंट लाइसेंसर अप्लाई करना होगा।
  • जिस तरह से आपने learners license के लिए अप्लाई किया था। इसका तरीका भी बिल्कुल वही है।
  • सारथी पोर्टल पर लॉग इन कर आपको Apply online पर क्लिक करना होगा।
  • इसके बाद New driving license पर क्लिक करें।
  • अब आपको अपने learners license का नंबर और डेथ ऑफ बर्थ एंटर करनी होगी।
  • इसके बाद आपको DL टेस्ट का स्लॉट बुक कर फीस का पेमेंट करना होगा।
    अब आपको परमानेंट DL टेस्ट के लिए जाना होगा। अगर आप पास हो जाते हैं तो आपको परमानेंट लाइसेंस दे दिया जाएगा।

अब चाहे गांव हो या पहाड़ सिर्फ 2 घंटे में लगाएं पोर्टेबल पेट्रोल पंप, पेट्रोलियम मंत्रालय की हरी झंडी

अब पेट्रोल पंप लगाने के लिए पेट्रोलियम मंत्रालय और पेट्रोलियम कंपनियों के चक्कर लगाने की जरूरत नहीं है। आप सिर्फ दो घंटे में पेट्रोल पंप लगा सकते हैं। इसे पोर्टेबल पेट्रोल पंप का नाम दिया गया है। दो घंटे में आप इस पेट्रोल पंप को हटा भी सकते हैं।

90 लाख रुपये में आप पोर्टेबल पेट्रोल पंप का व्यवसाय शुरू कर सकते हैं। पोर्टेबल पेट्रोल पंप की तकनीक को पेट्रोलियम मंत्रालय ने अपनी मंजूरी दे दी है। पोर्टेबल पेट्रोल पंप की तकनीक को विकसित करने वाली कंपनी एलिंज ग्रुप बुधवार को इसकी औपचारिक घोषणा करने जा रही हैं।

तीन मॉडल होंगे पेट्रोल पंप के

पोर्टेबल पेट्रोल पंप के तीन मॉडल होंगे। पहले मॉडल वाले के लिए 90 लाख रुपये खर्च करने होंगे। दूसरे मॉडल के लिए 1 करोड़ रुपये तो तीसरे के लिए 1.2 करोड़ रुपये खर्च होंगे। कंपनी डीलर नियुक्त करेगी। राज्य के स्थानीय निकाय की इजाजत से किसी भी जगह पर पोर्टेबल पंप लगाए जा सकते है।

पेट्रोल के साथ डीजल, मिट्टी के तेल, गैस सब कुछ मिलेंगे

पोर्टेबल पंप से पेट्रोल के साथ डीजल, गैस, मिट्टी के तेल सब कुछ मिलेंगे। इस पेट्रोल पंप की क्षमता 9000 से 35,000 लीटर होगी। इस पेट्रोल पंप को गांव व पहाड़ी इलाके कहीं भी लगाए जा सकते हैं। कंपनी के रिजनल डेवलेपमेंट मैनेजर पी. भट ने बताया कि इस तकनीक को चेक कंपनी पेट्रोकार्ड के साथ मिलकर विकसित किया गया है। पिछले 8 सालों से इस तकनीक पर काम किया जा रहा था। इन काम में पेट्रोलियम कंपनियों के साथ भी विचार-विमर्श किया गया।

सबसे पहले उत्तर प्रदेश में लगेंगे पोर्टेबल पंप

भट ने बताया कि सबसे पहले उत्तर प्रदेश की 2000 जगहों पर पोर्टेबल पंप लगाने की योजना है। कंपनी इस काम के लिए डीलरशीप देगी। डीलर को राज्य सरकार की तरफ से लाइसेंस दिए जाएंगे।

सितंबर महीने के ये पांच दिन रहेगी पैसों की किल्लत, खाली रहेंगे एटीएम, बैंकों में नहीं होगा फंड ट्रांसफर

अगले महीने की शुरुआत देश के बैंकिंग इतिहास में काफी खराब रहने वाली है। सितंबर की शुरुआत में बैंक व एटीएम में करेंसी की किल्लत रहेगी, वहीं किसी भी तरह का फंड ट्रांसफर भी नहीं हो पाएगा। इसलिए हमारी सलाह है कि आप अभी से पर्याप्त मात्रा में अपने पास कैश रखें, ताकि महीने के पहले हफ्ते किसी तरह की कोई दिक्कत नहीं होगी।

इस वजह से होगी दिक्कत

बैंक सितंबर के महीने में लगातार पांच दिन बंद रहेंगे। एक सितंबर को शनिवार व दो को रविवार की वजह से बैंक बंद रहेगा। वहीं तीन सितंबर को जन्माष्टमी के चलते देश भर के कई राज्यों में अवकाश रहेगा। चार व पांच सितंबर को भारतीय रिजर्व बैंक के कर्मचारी हड़ताल पर रहेंगे। इस हड़ताल की वजह से आरबीआई से बैंकों को होने वाली करेंसी की आपूर्ति व किसी भी तरह का भुगतान नहीं होगा।

होगी अरबों रुपये की क्लियरिंग प्रभावित

पांच दिन बैंकों में कार्य नहीं होने से अरबों रुपये की क्लियरिंग प्रभावित होने की आशंका है। इससे व्यापारियों के काम तो अटकेंगे, साथ ही सरकारी कोषागारों में भी कार्य प्रभावित होगा। इसके चलते कई सरकारी कार्य भी प्रभावित हो सकते हैं।

हड़ताल पर जाने की यह है वजह

यूनाइटेड फोरम आफ रिजर्व बैंक आफिसर्स एंड इंप्लाइज के बैनर तले अधिकारी और कर्मचारी पेंशन अपडेटेशन, पेंशन ओपनिंग आदि मांगों को लेकर आंदोलन कर रहे हैं। रिजर्व बैंक आफ इंडिया कर्मचारी एसोसिएशन के सचिव अनूप कुमार मिश्रा ने बताया कि चार व पांच सितंबर को अधिकारी व कर्मचारी सामूहिक रूप से आकस्मिक अवकाश लेंगे।

पांच दिन तक प्रभावित होगा आरटीजीएस

Foreign Banks In India

अब रीयल टाइम ग्रॉस सेटलमेंट (आरटीजीएस) और नेशनल इलेक्ट्रानिक फंड ट्रांसफर (एनईएफटी) नेशनल पेमेंट कारपोरेशन आफ इंडिया (एनपीसीआई) के गेटवे से होते हैं। देश भर में हर महीने औसतन एक लाख अरब रुपये आरटीजीएस और करीब 15350 अरब रुपये एनईएफटी के जरिये ट्रांसफर होते हैं। पांच दिनों तक इलेक्ट्रानिक पेमेंट सिस्टम के ये दोनों बड़े गेटवे बंद होने का असर बैंकिंग लेनदेन पर पड़ेगा।

आपके पास भी है पेट्रोल पंप खोलने का मौका ,हर महीने 4-5 लाख रुपए की कमाई

अगर आप भी पेट्रोल पम्‍प खोलने के इच्‍छुक हैं तो इंडीजल ब्रांड से बायो फ्यूल बेचने वाली कंपनी माय इको एनर्जी आपको यह मौका दे रही है। कंपनी की वेबसाइट पर उपलब्‍ध जानकारी के अनुसार 6 राज्‍यों में बायो फ्यूल स्‍टेशन खोलने के साथ-साथ डीलरशिप और शॉप इन शॉप मॉडल के तहत बिजनेस करने का मौका लेकर आई है।

कंपनी का दावा है कि यूपी में फ्यूल स्‍टेशन और शॉप इन शॉप खोलने पर हर महीने 4-5 लाख रुपए की कमाई हो सकती है। अलग-अलग राज्‍य में हर महीने कमाई के आंकड़े बदल भी सकते हैं।

कंपनी के स्‍टैंडअलोन बिजनेस मॉडल के तहत कंपनी नेशनल हाइवे, राज्‍यों से जुड़े हाइवे व तहसील, मुख्‍य सड़क और शहरों व ग्रामीण इलाकों में किसी भी जगह पर फ्यूल स्‍टेशन खोलने का मौका दे रही है। इस मॉडल के तहत ऐसी जगहों पर मौजूद किसी भी जगह को इंडीजल फ्यूल स्‍टेशन बनाया जा सकता है।

शॉप इन शॉप मॉडल के तहत आप अपने मौजूदा बिजनेस के साथ-साथ फ्यूल स्‍टेशन भी खोल सकते हैं। इसके लिए उन्‍हें इंडीजल को अपनी जगह का कुछ हिस्‍सा किराए पर देना होगा। इसके अलावा कंपनी आपको इंडीजल की डीलरशिप लेने का भी मौका दे रही है।

सबसे पहले जानिए इंडीजल के बारे में

  • इंडीजल माय इको एनर्जी नामक कंपनी का ब्रांड है। कंपनी मुख्‍य तौर पर बायो ईंधन से तैयार डीजल बेचती है।
  • कंपनी का दावा है कि इंडीजल भारत का पहला और एकमात्र यूरो 6 (यूरो 5, यूरो 4) एमिशन नॉर्म्‍स के अनुरूप फ्यूल है।
  • यह ज्‍यादा पावर, बेहतर माइलेज के साथ-साथ साधारण डीजल से ज्‍यादा किफायती है।
    कंपनी का कहना है कि इंडीजल फ्यूल इंजन की उम्र बढ़ता है। इससे डीजल की कारें पेट्रोल जैसा परफॉर्मेंस देती है।

ऐसे करें अप्‍लाई

  • अगर आप भी इंडीजल के पेट्रोल पम्‍प खोलना चाहते हैं तो आपको सबसे पहले कंपनी की वेबसाइट www.myecoenergy.in पर जाना होगा।
  • वेबसाइट के मेन पेज से ही आप एप्लिकेशन फॉर्म डाउनलोड कर सकते हैं।
  • कंपनी ने नियम और शर्तों के साथ यहां पूरी जानकारी मुहैया कराई है। यहां आप फीलिंग पम्‍प और
  • आउटलेट दोनों खोलने के लिए अलग-अलग तरीके से अप्‍लाई कर सकते हैं।
  • अप्‍लाई करने की कॉस्‍ट 5,900 रुपए पड़ेगी और यह नॉन रिफंडेबल होगी।

चुने गए ऐप्‍लीकेंट्स के लिए पेमेंट के तीन मोड

  • फ्यूल स्‍टेशन के लिए चुने गए ऐप्‍लीकेंट्स के लिए पेमेंट के तीन मोड हैं।
  • इनके तहत आप इंस्‍टॉलमेंट्स में पेमेंट कर सकेंगे।
  • पहला इंस्‍टॉलमेंट आपको एग्रीमेंट वाले दिन ही देना होगा।
  • पेमेंट व इंस्‍टॉलमेंट शहर, गांव व कस्‍बे के हिसाब से अलग-अलग होगा।

सिक्‍योरिटी डिपॉजिट व बैंक गारंटी 

 

  • स्‍टैंडअलोन व शॉप इन शॉप बिजनेस मॉडल्‍स के लिए बैंक गारंटी आउटलेट की प्रतिदिन की एवरेज सेल के हिसाब से अलग-अलग है। यह 30 लाख रुपए से 80 लाख रुपए तक है।
  • वहीं सिक्‍योरिटी डिपॉजिट में भी एवरेज सेल के हिसाब से भिन्‍नता है। सिक्‍योरिटी डिपॉजिट 15 लाख से 30 लाख रुपए तक है।
  • विस्‍तृत जानकारी, नियम और शर्तें आप कंपनी की वेबसाइट www.myecoenergy.in पर जाकर जान सकते हैं।

किन राज्‍यों में कंपनी खोलेगी स्‍टेशन

  • कंपनी की वेबसाइट पर दी गई जानकारी के मुताबिक, वह अभी महाराष्‍ट्र, गुजरात, उत्‍तर प्रदेश, तेलंगाना, राजस्‍थान और आंध्र प्रदेश में अपने पम्‍प खोलेगी।
  • बाद में देश के अन्‍य हिस्‍सो में भी अपने पम्‍प खोलने का प्‍लान है।

डीलरशिप भी दे रही है कंपनी

  • अगर आप कंपनी के डीलर बनाना चाहते हैं तो उसके लिए भी मौका है।
  • इसके लिए कंपनी की वेबसाइट पर दिए गए नंबर पर डीलरशिप के बारे में पूरी जानकारी ले सकते हैं।
  • यूपी के लिए यह नंबर 7878780244 है।