ऑयल कंपनियां जल्द ही खोलेंगी 25 हजार नए पेट्रोल पंप,आपके पास है मौका

सरकारी ऑयल कंपनियां जल्द ही 25 हजार नए पेट्रोल पंप खोल सकती हैं। ऑयल मिनिस्ट्री से हरी झंडी मिलने के बाद इंडियन ऑयल, हिंदुस्तान पेट्रोलियम और भारत पेट्रोलियम ने नए पंप खोलने की तैयारी शुरू कर दी है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक सरकार ने कंपनियों को फिलिंग स्टेशंस शुरू करने के लिए खुद के नियम तैयार करने की छूट दी है।

मिनिस्ट्री से छूट मिलने के बाद कंपनियां अपने हिसाब से नए पेट्रोल पंप डीलर्स नियुक्त कर सकेंगी। बता दें कि पेट्रोल-डीजल की कीमतें पहले ही सरकारी नियंत्रण से बाहर हो चुकी हैं, ऐसे में डीलर अपॉइंट करने के मामले में सरकारी नियमों का बहुत ज्यादा महत्व नहीं रह गया है। कंपनियां अपनी गाइडलाइन फाइनल भी कर चुकी हैं।

25 हजार लोकेशन पर शुरू होंगे

कंपनियां जल्द ही 25 हजार लोकेशन के लिए डीलर्स अपॉइंट करने का विज्ञापन जारी कर सकती हैं। इनमें से अधिकतर पंप रूरल एरिया में शुरू होंगे। अभी सरकारी कंपनियां के देशभर में 57 हजार आउटलेट हैं। वहीं प्राइवेट फर्म्स के 6 हजार आउटलेट हैं।

हजारों जॉब के मौके आएंगे

सरकार के इस कदम से हजारों लोगों को जॉब मिलेगी। इसके साथ ही सरकारी कंपनियों का नेटवर्क भी बड़ा हो जाएगा। अभी भी 90 परसेंट मार्केट पर इन कंपनियों का कब्जा है। इक्विपमेंट सप्लायर्स, ट्रासंपोर्टर्स और रिटेल नेटवर्क में बड़ी संख्या में लोगों को काम मिलेगा। इन दिनों रिलायंस सहित दूसरे प्राइवेट प्लयेर भी मार्केट में अपने प्रेजेंस बढ़ा रहे हैं।

बिना जमीन के भी करार हो सकेगा

  • नई पॉलिसी के तहत अगर किसी एप्लीकेंट के पास जमीन नहीं है तो भी वह डीलरशिप के लिए अप्लाई कर सकेगा। हालांकि जमीन के मालिक के साथ उसका कॉन्ट्रैक्ट होना चाहिए।
  • एप्लीकेंट्स के अप्लाई करने के बाद ड्रॉ निकाला जाएगा। ड्रॉ में जीतने वाले ओवदक की एलिजिबिलिटी चेक की जाएगी। इसके बाद ही डीलरशिप दी जाएगी।
  • सिक्योरिटी डिपॉजिटी को लेकर भी नियमों में बदलाव कर दिए गए हैं।

महज 1400 रुपये का ये AC कमरे को बना देता है हिलस्टेशन जैसा चिल्ड

गर्मियां अपने पूरे जोर पर हैं और ऐसे में कूलर और पंखों की हवा भी काम करना बंद कर देती है, ऐसे में लोगों के पास एयर कंडीशनर खरीदने के अलावा और कोई चारा नहीं बचता है।

एयर कंडीशनर की हवा से ही इस तपती गर्मी में राहत की सांस ली जा सकती है लेकिन गर्मियों सीजन होने की वजह से इनके दाम काफी होते हैं। अगर आप भी पैसों की वजह से AC नहीं खरीद पा रहे हम आपको बेहद ही छोटे और सस्ते AC के बारे में बताने जा रहे हैं जो आपको गर्मी से निजात दिलाएगा।

इस AC का नाम ह्यूमिडिफाइंग है। आपको बता दें कि यह AC किसी टिफिन बॉक्स के आकर का होता है लेकिन जहां पर बात ठंडक की आए वहां पर इसका कोई मुकाबला नहीं है क्योंकि अब तक इतना छोटा AC आपने नहीं देखा होगा। इस AC की एक और खासियत यह है कि यह बैटरी से चार्ज होता है और दो घंटे चार्ज होने के बाद आप इसे 8 घंटे तक इस्तेमाल कर सकते हैं।

अब आप सोच रहे होंगे कि इस छोटे AC का दाम कितना है तो हम आपको बता दें कि आप इसे महज 1400 रुपये में खरीद सकते हैं जो कि बेहद ही सस्ता है। इस AC में आपको एक अटैच वाटर टैंक भी मिलता है साथ ही इसमें एक चार्जिंग केबल भी दिया जाता है जिससे आप इसे अपने लैपटॉप से भी चार्ज कर सकते हैं।

बुलेट ट्रेन के लिए हामी भरने से पहले गांव वालों ने रख दी है बड़ी मांग, क्या पूरी हो पाएगा बुलेट ट्रेन का सरकार का सपना

मोदी सरकार की महत्वाकांक्षी बुलेट ट्रेन परियोजना के लिए हामी भरने से पहले महाराष्ट्र के पालघर जिले के ग्रामीणों ने तालाब, एंबुलेंस सेवाएं, सौर उर्जा से चलने वाली स्ट्रीट लाइट और चिकित्सीय सुविधाएं उपलब्ध कराने की मांग की है.

अधिकारियों ने ये जानकारी दी है. गांववालों के विरोध को खत्म करने की उम्मीद में इस परियोजना को लागू करने वाली केंद्रीय एजेंसी नेशनल हाई स्पीड रेल कॉर्पोरेशन लिमिटेड (एनएचआरसीएल) अपनी रणनीति में सुधार करते हुए ज्यादातर शर्तों को मानने पर राजी हो गया है. 2022 तक बुलेट ट्रेन चलाने का लक्ष्य रखा गया है.

जनसंपर्क कार्यक्रमों के जरिए ज्यादा प्रगति नहीं कर पाने की स्थिति में एनएचआरसीएल ने अपने रुख में बड़ा बदलाव किया है और वे प्रत्येक जमींदार के पास जाकर उनकी मांग सुनने के साथ ही उनको उचित मुआवजा देने की बात कर रहे हैं. एनएचआरसीएल को 23 गांवों में बहुत ज्यादा विरोध का सामना करना पड़ रहा है.

एनएचआरसीएल के प्रवक्ता धनंजय कुमार ने बताया , “हमने अपने रुख में बदलाव किया है. पहले हम गांवों के चौक पर गांववालों को इकठ्ठा कर उन्हें मनाने की कोशिश कर रहे थे. पर यह काम नहीं आया, इसलिए हमने तय किया है कि अब हम सिर्फ जमींदारों के पास जाएंगे और गांव के मुखिया से लिखित में देने को कहेंगे कि वह जमीन के एवज में मुआवजे के अलावा और क्या चाहते हैं.’’

बता दें कि इस 508 किलोमीटर लंबे ट्रेन गलियारे का करीब 110 किलोमीटर पालघर जिले से गुजरता है. इस परियोजना के लिए 73 गांवों की 300 हेक्टेयर जमीन की जरूरत पड़ेगी जो इस मार्ग पर पड़ने वाले करीब 3,000 लोगों को प्रभावित करेगा. पालघर जिले के आदिवासी और फल उत्पादक इस परियोजना का जमकर विरोध कर रहे हैं.

हालांकि एनएचआरसीएल अब धीरे-धीरे गांव वालों की कुछ मांगों को लक्ष्य बनाकर चीजें अपने पक्ष में कर रहे हैं. इनमें से ज्यादातर मांगे उनकी निजी जरूरतों की नहीं बल्कि पूरे समुदाय के लिए मूलभूत सुविधाओं से जुड़ी हुई है जैसे एंबुलेंस और स्ट्रीट लाइट.

गुजरात में भी इसे विरोध का सामना करना पड़ रहा है हालांकि यहां बहुत बड़ा विरोध नहीं है. महाराष्ट्र और गुजरात के अलावा हाई स्पीड रेल कॉरिडोर केंद्र शासित प्रदेश दादरा नागर हवेली से भी गुजरेगा.

दुबई जाने वाले भारतीयों को शानदार तोहफा, UAE सरकार देगी 48 घंटों का फ्री ट्रांजिट वीजा

संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) की सरकार ने एक खास तोहफा देने का ऐलान किया है। अब भारत से यूएई के रास्ते दुनिया में कहीं भी जाने वालों को मुफ्त में ट्रांजिट वीजा मिलेगा। इस सुविधा के तहत दुबई और अबूधाबी जैसे बड़े शहरों की यात्रा की जा सकेगी।

हालांकि यह सुविधा सिर्फ 48 घंटों के लिए ही रहेगी। इसके बाद 50 दिरहम (करीब 930 रुपए) का भुगतान कर इसकी अवधि को 96 घंटे तक बढ़ाया जा सकता है। हालांकि यह सुविधा कब से मिलेगी अभी यह नहीं बताया गया है।

भारतीयों के लिए बेहद खास यूएई

भारतीयों के लिए यूएई दुनिया के सबसे बड़े पर्यटक स्थलों में से एक है। दोनों देशों के बीच यातायात सुविधाएं भी काफी अच्छी हैं। दुबई जाने वाले भारतीय पर्यटकों की संख्या भी तेजी से बढ़ रही हैं। इसके अलावा दोनों देशों के कूटनीतिक संबंध में काफी अच्छे हैं।

आंकड़ों से समझिए फैसले का महत्व

  • दुबई के सरकारी आंकड़ों के मुताबिक 2017 में 21 लाख भारतीय दुबई गए थे।
  • 2016 के मुकाबले 2017 में दुबई जाने वालों की संख्या 15 फीसदी अधिक थी।
  • विदेशों की हवाई यात्रा करने वाले लगभग 75 फीसदी खाड़ी और यूएई से होकर गुजरते हैं। मुफ्त ट्रांजिट वीजा से यह संख्या बढ़ सकती है।
  • 2017 में 3.60 लाख भारतीय पर्यटकों ने अबूधाबी की यात्रा की थी।
  • 2016 के मुकाबले 2017 में अबूधाबी जाने वालों की संख्या 11 फीसदी अधिक थी।

विदेशों में भारतीयों को और भी कई सुविधाएं

  • कतर में भारत समेत 46 देशों के नागरिकों को बिना किसी अग्रिम वीजा के 60 दिनों तक रहने की अनुमति है।
  • यूएई में यूएस वीजा होल्डर भारतीयों को वीजा ऑन अराइवल की सुविधा भी मिलती है।
  • ओमान में भी भारतीयों को इसी तरह की सुविधा शुरू होने वाली है। वहां अमरीका, कनाडा, ऑस्ट्रेलिया, ब्रिटेन, जापान और शेंजेन स्टेट्स (26 यूरोपीय देशों का समूह) में रहने वाले या वहां का वीजा रखने वाले भारतीयों को भी ऐसी ही सुविधाएं मिलेंगी।

इस बार सचमुच हुई डीजल-पेट्रोल की कीमत में भारी कटौती, जाने आज का रेट

पेट्रोल-डीजल की कीमतों में कटौती लगातार जारी है. रविवार को लगातार 12वें दिन पेट्रोल पर 24 पैसे और डीजल पर 18 पैसे की कटौती की गई. क्रूड की कीमतों में गिरावट के फायदा घरेलू मार्केट में भी देखने को मिल रहा है.

बीते 12 दिन में पेट्रोल 1 रुपए 65 पैसे और डीजल 1 रुपए 21 पैसे सस्ता हो चुका है. दिल्ली में पेट्रोल की कीमत 76 रुपए 78 पैसे और डीजल 68 रुपए 10 पैसे प्रति लीटर पहुंच गई हैं. वहीं, गिरावट के बाद भी मुंबई में पेट्रोल के रेट सबसे ज्यादा हैं, जहां पेट्रोल 84 रुपए 61 पैसे और डीजल 72 रुपए 51 पैसे प्रति लीटर है.

शनिवार को हुई थी बड़ी कटौती

शनिवार को भी पेट्रोल के दाम में 42 पैसे और डीजल में 32 पैसे की कटौती की गई थी. यह अब तक की सबसे ज्यादा कटौती रही. आपको बता दें पिछले एक महीने में तेल कंपनियों ने पेट्रोल पर 4 रुपए और डीजल पर करीब 3.50 रुपए का इजाफा किया था.

कर्नाटक चुनाव के दौरान पेट्रोल-डीजल की कीमतों को होल्ड पर रखा गया था, जिसके बाद लगातार कीमतों में तेजी देखने को मिली. अब अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में आई नरमी से पेट्रोल-डीजल की कीमतों में भी कटौती देखने को मिल रही है.

देश के 4 महानगरों में पेट्रोल की नई कीमतें

  • दिल्ली: 76 रुपए 78 पैसे
  • कोलकाता: 79 रुपए 44 पैसे
  • मुंबई: 84 रुपए 61 पैसे
  • चेन्नई: 79 रुपए 69 पैसे

देश के 4 महानगरों में डीजल की नई कीमतें

  • दिल्ली :68 रुपए 10 पैसे
  • कोलकाता: 70 रुपए 65 पैसे
  • मुंबई : 72 रुपए 51 पैसे
  • चेन्नई : 71 रुपए 89 पैसे

और गिरेगा क्रूड

क्रूड के दाम में गिरावट आगे भी जारी रहने की उम्मीद है. दरअसल, 22 जून को ओपेक देशों की बैठक होनी है, जिसमें प्रोडक्शन बढ़ाने या घटाने को लेकर फैसला होगा. सीनियर एनालिस्ट अरुण केजरीवाल का मानना है कि 22 जून तक क्रूड में ज्यादा तेजी के आसार नहीं हैं. वहीं, प्रोडक्शन बढ़ाने का फैसला लेते हैं तो क्रूड में तेज गिरावट बन सकती है. इसका फायदा घरेलू मार्केट में देखने को मिलेगा. पेट्रोल-डीजल की कीमत में बड़ी कटौती की भी उम्मीद है.

इस राज्य में 9 रुपए ‘सस्ता’ हुआ पेट्रोल, पंपों पर टूट पड़े ग्राहक

महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (एमएनएस) प्रमुख राज ठाकरे ने अपने 50वें जन्मदिन पर गिफ्ट लेने की बजाए खुद महाराष्ट्र की जनता को गिफ्ट दिया है।

गुरुवार को जब राज्य के कुछ चुनिंदा पेट्रोल पंपों पर आम नागरिक पेट्रोल खरीदने पहुंचे तो वह हैरान रह गए क्योंकि राज ठाकरे के जन्मदिन के इस खास अवसर पर दोपहिया वाहन वाले ग्राहकों को पेट्रोल 4 से 9 रूपए सस्ता बेचा गया। हालांकि ऐसा चुनिंदा पंपों पर ही किया गया।

अपने जन्मदिन के अवसर पर ठाकरे ने घोषणा की कि राज्य के कुछ पेट्रोल पंपों पर पेट्रोल 4 से 9 रुपए सस्ता मिलेगा। बता दें कि महाराष्ट्र में पेट्रोल की कीमत 84.26 रुपए प्रति लीटर है।

बता दें कि यह सुविधा सुबह 8 बजे से दोपहर तक दी गई। इस दौरान इन पेट्रोल पंपों पर लंबी-लंबी लाइनें देखने को मिली और कई ग्राहक पेट्रोल टैंक फुल करवाते भी नजर आए। हालांकि राज्य ठाकरे की पार्टी ने पेट्रोल पंप मालिकों को बकाया राशि के भुगतान की व्यवस्था कर रखी है।

गौरतलब है कि हाल ही में पेट्रोल के दामों में भारी बढ़ोत्तरी देखने को मिली थी। जिसकी वजह से केंद्र सरकार पर दबाव बढ़ गया था कि वह तुरंत तेल के दामों में कटौती कर लोगों को राहत दें। हालांकि बीते 14 दिनों में पेट्रोल-डीजल के दामों में लगातार कटौती की गई है।

इस ‘मिनी कश्मीर’ को देखने दूर-दूर से लोग आते हैं, शिमला-मनाली से फ़ुर्सत मिले तो यहां चले जाना

वैसे तो उत्तराखंड पूरे देश में अपने तीर्थ स्थलों के लिए प्रसिद्ध है और यही वजह है कि इसे देवभूमि भी कहा जाता है. लेकिन इसी देवभूमि में एक जगह ऐसी भी है जहां जाकर आपको स्वर्ग यानि कि कश्मीर में होने के जैसा एसहास होगा. इस जगह का नाम है मुनस्यारी, जो मिनी कश्मीर के नाम से जाना जाता है. मुनस्यारी ही क्यों? चलिए इस सवाल का भी जवाब देते हैं.

ट्रेकिंग हैवन

मुनस्यारी का मतलब होता है, वो जगह जो बर्फ़ से ढकी हो. यहां के बर्फ़ीली वादियों और पहाड़ों को देख कर आपको इसका एहसास भी हो जाता है. वहीं स्थानीय भाषा में इसे मुनियों का स्थल भी कहा जाता है. ये उत्तराखंड के पिथौरागढ़ से 130 किलोमीटर दूर स्थित एक हिल स्टेशन है. हिमालय की गोद में बसे इस पर्यटन स्थल पर ट्रेकिंग और स्कीइंग के शौकीन लोगों का जमावड़ा लगा रहता है.

चारो तरफ बर्फ से ढ़की चोटियां

मुनस्यारी से आपको हिमालय के बर्फ़ ढ़की चोटियों का बहुत ही सुखद नज़ारा देखने को मिलता है. हिमालयन रेंज की जानी-मानी पर्वत श्रंखलाओं में से एक पंचौली भी यहां मौजूद है. इसकी सरहदें नेपाल और तिब्बत से मिलती हैं. यहीं इंडिया और तिब्बत के बीच का वो ट्रेड रूट मौजूद है जो सैंकड़ों वर्ष पुराना है. इसके आस-पास नंदा देवी, नंदा कोट और त्रिशूल जैसे प्रसिद्ध पर्यटन स्थल भी हैं.

प्रवासी पक्षियों से मिलना

यहां के नामिक ग्लेशियर से कई झरने गिरते हैं, जो लोगों के आकर्षण का एक और प्रमुख कारण है. सैंकडों देशी-विदेशी पक्षियों का घर भी है मुनस्यारी. देवदार और पाइन जैसे पेड़ों के से भरे जंगलों में आपको Wagtail, Raven, Falcon जैसे प्रवासी पक्षी आसानी से दिखाई दे जाएंगे.

Village Tourism

सुदूर पहाड़ियों पर बसे यहां के गांव अपने अनोखी संस्कृति के लिए प्रसिद्ध हैं. इनसे रूबरू होना काफ़ी दिलचस्प रहेगा. यहां घूमने का सबसे अच्छा वक़्त मार्च से जून का ही होता है.इस दौरान मौसम साफ़ रहता है और रास्ते भी. आप आराम से ट्रेकिंग और Sightseeing का आनंद ले सकते हैं. वहीं अगर आप स्नोफाल देखना पसंद करते हैं, तो आपको यहां दिसंबर और फरवरी के बीच में आना चाहिए.

कैस पुहंचे

दिल्ली से मुनस्यारी 600 किलोमीटर दूर है. यहां से फ्लाइट, रेल और सड़क के रास्ते पहुंच सकते हैं. नैनीताल के पंतनगर एयरपोर्ट से दिल्ली की चार फ्लाइट्स हैं. यहां से मुनस्यारी 250 किलोमीटर है.

यहां से आप टैक्सी और बस के ज़रिये मुनस्यारी पहुंच सकते हैं. रेल से सफ़र करने वालों को काठगोदाम स्टेशन पर उतरना होगा. यहां से भी आपको टैक्सी मिल जाएंगी. काठगोदाम से मुनस्यारी 275 किलोमीटर दूर है.

सिर्फ 1 चीज से साफ कर सकते हैं काले हो चुके गैस के बर्नर, आसान है प्रॉसेस

गैस के काले हो चुके बर्नर को साफ करना मुश्किल लगता है। लेकिन एक सिंपल सी ट्रिक से आप इसे आसानी से साफ कर सकते हैं।

इसके लिए न तो आपको ज्यादा मेहनत करनी होगी ना ही किसी महंगे क्लीनर की जरूरत होगी। आइए जान लेते हैं इसकी सिंपल प्रॉसेस। इस प्रॉसेस से आप बर्नर के साथ ही ऊपर के हेंडल भी साफ कर सकते हैं।

  • 1 Step

इसके लिए आपको सिर्फ एक चीज की जरूरत होगी वो है सिरका या व्हाइट विनेगर। इसके लिए आपको एक इतना बड़ा बर्तन लेना है जिसमें बर्नर आसानी से डूब जाएं। अब इस बर्तन में आधा कप विनेगर डाल दें। इसके ऊपर से आधा कप पानी भी डाल दें। अब इस सॉल्यूशन में बर्नर को डुबोकर रात भर के लिए छोड़ दें। रात में गैस का काम नहीं होने के कारण बर्नर का यूज भी नहीं करना होगा।

  • 2 Step

बर्नर को पानी से निकाल लें। अब स्टील के स्क्रबर से इसको साफ करें। आपको ज्यादा रगड़ना नहीं होगा। हल्के हाथ से साफ करने पर भी ये आसानी से साफ हो जाएगा। बर्नर में गंदगी भरने से गैस का फ्लो कम हो जाता है। इसकी सफाई होने से गैस का फ्लो भी ठीक हो जाएगा।

धूल की चादर में लिपटा उत्‍तर भारत, मुश्किल भरे हो सकते हैं आने वाले 48 घंटे

उत्‍तर भारत में इस समय धूल ही धूल नजर आ रही है। राजस्थान और ब्लूचिस्तान (पाकिस्तान) की ओर से चलीं धूलभरी गर्म हवाओं की वजह से उत्तर भारत के आसमान पर धूल की एक परत-सी बन गई है। धूलभरी हवा से राजस्थान, दिल्ली-एनसीआर, हरियाणा, चंडीगढ़ और पश्चिमी उत्तर प्रदेश सर्वाधिक प्रभावित रहे।

धूलभरी हवाएं चलने का कारण पश्चिमी विक्षोभ माना जा रहा है। ऐसे में लोगों को जहां सांस लेने में दिक्कत हो रही है, वहीं हवाई परिचालन प्रभावित हुआ है। विशेषज्ञों का कहना है कि ऐसे ही हालात रहे तो उत्तर भारत के लिए आने वाले 48 घंटे मुश्किलों भरे हो सकते हैं।

40 किमी. प्रति घंटे की रफ्तार से आ रही है धूल बढ़ते तापमान से परेशान उत्तर भारत के लोगों की मुश्किल तब और बढ़ गई, जब हवाएं चलने से वातावरण में धूल की मात्रा और बढ़ गई। स्काईमेट वेदर के मुख्य मौसम विज्ञानी महेश पलावत का कहना है कि राजस्थान और ब्लूचिस्तान की ओर से चल रही गर्म हवाओं के साथ धूल करीब 40 किमी. प्रति घंटे की रफ्तार से दिल्ली की ओर आ रही है।

चूंकि मौसम में नमी नहीं है, इस कारण धूल की इस चादर का असर कई दिन तक बना रहेगा। दिल्ली में कई गुना बढ़ा प्रदूषण का स्तर धूलभरी हवाओं ने दिल्ली में वायु प्रदूषण का स्तर खतरनाक स्थिति में पहुंचा दिया है।

पर्टिकुलेट मैटर (पीएम) 2.5 बुधवार को दिल्ली में तीन गुना से भी अधिक 200 माइक्रोग्राम प्रति घन मीटर दर्ज किया गया, जबकि इसका सामान्य स्तर 60 माइक्रोग्राम प्रति घन मीटर होता है। इसी तरह पीएम 10 का सामान्य स्तर 100 माइक्रोग्राम प्रति घन मीटर होता है, जबकि बुधवार को यह 981 माइक्रोग्राम प्रति घन मीटर रिकॉर्ड किया गया।

घर व दफ्तर के दरवाजे-खिड़कियां बंद रखने की सलाह मौसम विशेषज्ञों ने ऐसे हालात में बुजुर्गों, महिलाओं और बच्चों को घर के भीतर ही रहने की सलाह दी है। घर व दफ्तर की खिड़कियां-दरवाजे बंद रखने को कहा है। साथ ही कचरा न जलाने की सलाह दी है। इस दौरान निर्माण कार्य भी बंद रखने की भी बात कही है।

बठिंडा-जम्मू फ्लाइट रद

आसमान में धूल के कारण बठिंडा-जम्मू फ्लाइट रद आसमान में धूल होने के कारण बुधवार को बठिंडा से जम्मू और जम्मू से बठिंडा की फ्लाइट को रद कर दिया गया। जम्मू से सुबह 9:10 की फ्लाइट को बठिंडा 10:20 बजे पहुंचना था, लेकिन आसमान में धूल के कारण जम्मू से फ्लाइट उड़ान नहीं भर सकी।

यूपी में आंधी के बाद बरसे बदरा

उत्तर प्रदेश में आंधी के बाद बरसे बदरा, 10 की मौत भीषण तपन के बीच मौसम के प्रतिदिन अलग-अलग तेवर बेहाल कर रहे हैं। पश्चिमी उप्र के अधिकांश जिलों में बुधवार को आसमान में धुंध छायी रही। गर्म हवाएं और उमस ने झुलसाया तो कहीं आंधी-पानी ने तबाही मचाई। खासकर पूर्व और मध्य उप्र में। इस दौरान 10 लोगों की मौत हो गई, जबकि दर्जनों लोग घायल हो गए। पेड़, बिजली खंभे उखड़े, जिससे जनजीवन अस्तव्यस्त हो गया।

हरियाणा में दो दिन और मुसीबत

हरियाणा में दो दिन और रहेगी मुसीबत हरियाणा के आसमान में भी बुधवार को धूल का गुबार छाया रहा। इससे दृश्यता कम हो गई। ऐसे हालात हो दिन और रह सकते हैं। धूल की वजह से सांस के मरीजों की तकलीफ भी बढ़ गई। वहीं, गर्मी के कारण हांसी में दो लोगों की मौत हो गई।

कोलकाता में मिली राहत

कोलकाता में बारिश से मिली राहत कोलकाता समेत पश्चिम बंगाल के विभिन्ना जिलों में मानसून की हुई बारिश से तापमान सामान्य रहा। हालांकि, कोलकाता व आसपोड़स के जिलों में दोपहर तक तेज धूप थी। बाद में बादल छा जाने से मौसम अच्छा हो गया।

छत्‍तीसगढ़ में उमस

छत्तीसगढ़ में उमस ने लोगों को किया परेशान छत्तीसगढ़ में बुधवार को दिन में उमस ने लोगों को परेशान किया। पूर्वानुमान है कि आने वाले 24 से 36 घंटों के बीच दक्षिण छत्तीसगढ़ से लेकर उत्तर छत्तीसगढ़ के अधिकांश हिस्सों में मध्यम से तेज बारिश होगी। छत्तीसगढ़ में आठ जून को मानसून पहुंच चुका है, लेकिन बारिश अपेक्षाकृत कम में हो रही है।

जम्‍मू-कश्‍मीर में पारा सामान्‍य से ऊपर

जम्मू-कश्मीर में सामान्य से ऊपर है पारा जम्मू-कश्मीर में तापमान सामान्य से ऊपर चल रहा है। जम्मू में बुधवार को दिन का अधिकतम तापमान 43.3 डिग्री सेल्सियस रहा। इससे पहले मई में तापामान 43.5 डिग्री रह चुका है। कश्मीर में भी तापमान सामान्य से करीब पांच डिग्री सेल्सियस ऊपर चल रहा है।

हिमाचल में धूप से बढ़ा तापमान

हिमाचल प्रदेश में पिछले तीन दिन से धूप खिलने के कारण तापमान में वृद्धि दर्ज की गई है। प्रदेश में सबसे अधिक तापमान ऊना में 43.4 डिर्ग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। शिमला में सामान्य से अधिक गर्मी दर्ज की जा रही है।

उत्तराखंड के पहाड़ों में बारिश, मैदान में तपिश

उत्तराखंड के पहाड़ी जिलों में जहां बुधवार को बारिश से लोगों को चढ़ते पारे से राहत मिली है, वहीं मैदानी जिलों में गर्मी व उमस ने लोगों को परेशान किया। मौसम विभाग के अनुसार अगले तीन दिन चढ़ते पारे से राहत मिलने के आसार कम ही हैं।

पॉकेट में आसानी से आ जाता है ये पोर्टेबल प्रिंटर, कीमत इतनी कम जानकार उड़ जाएंगे होश

आजकल स्मार्टफोन का जमाना है और ऐसे में क्या बूढ़े और क्या बड़े सभी स्मार्टफोन चलाते हैं। दुनिया के ज्यादातर लोग स्मार्टफोन से ही इंटरनेट पर सर्फिंग करते हैं। इसके साथ ही अपनी तस्वीरों को सोशल मीडिया पर अपलोड करते हैं जिससे लंबे समय तक उनकी तस्वीरें सुरक्षित रह सकें।

लेकिन ये कभी-कभार हमसे डिलीट हो जाती हैं, लेकिन अब हम आपको एक ऐसे गैजेट के बारे में बताने जा रहे हैं जिससे आप एक मिनट से भी कम समय में अपनी तस्वीरों की हार्ड कॉपी ले सकते हैं।जिस गैजेट के बारे हम बताने जा रहे हैं वो दरअसल में एक पोर्टेबल प्रिंटर है जिसकी मदद से आप कभी और कहीं भी अच्छी क्वालिटी की तस्वीरों को हार्ड कॉपी में निकाल सकते हैं।

यह प्रिंटर ऐसे लोगों को ध्यान में रखकर बनाया गया है जो सेल्फी खींचने के शौक़ीन होते हैं और उन्हें तस्वीरों को अपने घर के एल्बम में लगाना अच्छा लगता है। यह गैजेट आपको बिना तार लगाए प्रिंट आउट लेने की सहूलियत देता है।

जानिए क्या हैं फीचर्स

आपको बता दें कि इस गैजेट के साथ यूज़र्स बॉर्डर, टेक्स्ट, इमोजी जैसे फीचर भी इमेज में एड कर सकते हैं और फिर इनका प्रिंट आउट निकाल सकते हैं। प्रिंटर का वजन 170 ग्राम होता है और इसे आप आसानी से अपने फोन, लैपटॉप या टैबलेट से कनेक्ट करके इससे तस्वीरें निकाल सकते हैं।

बता दें कि यह गैजेट किसी स्मार्टफोन से भी सस्ता है और आप इसे महज 8499 रुपए में खरीद सकते हैं। अगर आप भी ये प्रिंटर खरीदते हैं तो ये आपके बड़े काम आ सकता है।