ये है देश का सबसे बड़ा चोर बाजार, यहां कौड़ियों के दाम मिलता है ब्रांडेड सामान

हम बात कर रहे हैं देश के सबसे बड़े चोर बाजार के रूप में फेमस कमाठीपुरा इलाके की डेढ़ गली में लगने वाले सीक्रेट मार्केट की।अब मुंबई में आप आधी रात को भी किराने का सामान खरीद पाएंगे और अपने मनपसंद रेस्तरां में खाना खा सकेंगे। राज्य सरकार ने मुंबई सहित पूरे महाराष्ट्र में दुकानों और मॉल्स को 24 घंटे खुले रखने की अनुमति दे दी है।

सरकार ने रात में शॉप खोलने का फैसला भले ही आज लिया हो, लेकिन मुंबई में एक ऐसा मार्केट पिछले कई दशकों से लगता आ रहा है जो तड़के 4 बजे लगता है और सुबह 8 बजे तक बंद हो जाता है। हम बात कर रहे हैं देश के सबसे बड़े चोर बाजार के रूप में फेमस कमाठीपुरा इलाके के डेढ़ गली में लगने वाले सीक्रेट मार्केट की।

सरकार ने जारी किया नोटिफिकेशन…

राज्य सरकार ने इससे संबंधित नोटिफिकेशन जारी किया है। इसके बाद से महाराष्ट्र में कई तरह के शॉप्स एंड रिटेल इस्टैब्लिशमेंट्स को 24×7 खुले रखने का रास्ता साफ हो गया है। हांलाकि, इसमें वाइन शॉप और बार को फिलहाल शामिल नहीं किया गया है।इसका सीधा फायदा ग्राहकों को मिलेगा। वे अब निश्चिंत होकर रात में भी शॉपिंग के लिए बाहर निकल सकेंगे।

होटल, मॉल्स, मल्टीप्लेक्स, रेस्तरां, सलून और ऐसी कई सारी सर्विसेस ग्राहकों के लिए रातभर खुली रहेंगी। वहीं साड़ियों, कपड़ों, जूते-चप्पल जैसी कई तरह की अलग-अलग दुकानों और बाज़ारों से भी रात भर शॉपिंग की जा सकेगी।

सुबह 4-8 बजे तक चलता है ये बाजार

ये मार्केट मुंबई के कमाठीपुरा इलाके की डेढ़ गली में लगता है। तड़के 4 बजे शुरू होने वाला ये मार्केट सुबह 8 बजे बंद हो जाता है। ऐसा कहा जाता है कि इस मार्केट की शुरुआत 1950 में हुई थी। शुरुआती दौर में मार्केट सिर्फ शुक्रवार के दिन लगा करता था, लेकिन अब मार्केट शुक्रवार और गुरुवार को लगता है।

किस वजह से सीक्रेट है ये मार्केट

कुछ मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, यहां मुंबई के आसपास की छोटी फैक्ट्रियों से थोक में सामान आता है। इसे यहां कम दाम में बेचा जाता है। कुछ ब्रांडेड कंपनियों से डिफेक्टिव सामान व्यापारी खरीदते हैं, जिन्हें रिपेयर कर यहां आधी कीमत में बेचा जाता है।

8 हजार का जूता सिर्फ 1500 में

मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो नाइक का एयर मैक्स 2014 स्पोर्ट्स रनिंग शू की कीमत जहां मार्केट में 8 हजार रुपए है, वहीं डेढ़ गली में यह करीब 1500 रुपए में मिल जाता है।
जबकि, कैट कंपनी का लेदर बूट जिसकी कीमत 8 हजार रुपए है, वह भी यहां करीब 800 रुपए में खरीदा जा सकता है।

बदला ट्रेंड, अब मेड इन चाइना

एक समय इस मार्केट में केवल चोरी का सामान बिकता था, लेकिन वक्त के साथ ये ट्रेंड बदला है। अब यहां कई छोटी कंपनियों और मेड इन चाइना सामान भी कम कीमतों में उपलब्ध है। अन्य समानों की तुलना में यहां जूतों का मार्केट काफी बड़ा है।

करोड़ों का टर्नओवर

मार्केट में सैकड़ों की तादाद में व्यापारी सामान बेचने आते हैं। माना जाता है कि यहां एक दिन में 15 से 20 करोड़ रुपए तक का बिजनेस होता है। छोटे शहरों के बिजनेसमैन यहां से बड़े पैमाने पर कम कीमत में सामान खरीदने आते हैं।