तांबे के जग में पानी पीने से मिलेगा कैंसर से छुटकारा छुटकारा, पेट की दिक्क्तों के लिए है रामबाण

तांबे के जग में पानी पीने से पेट को फायदा होता है। इससे पेट फूलना एवं गैस्ट्रिक आदि परेशानियों से छुटकारा मिलता है। मगर क्या आपको पता है इससे कैंसर की रोकथाम भी हो सकती है। ये अन्य बीमारियों से लड़ने में भी सक्षम है।

  • तांबे के बर्तन में रातभर पानी भरकर रखें और उसे सुबह पीने से पेट को सबसे ज्यादा फायदा होता है। क्योंकि तांबा पानी में मौजूद बैक्टीरिया, कीटाणु और फंगस को नष्ट कर देता है। इसे पीने से पाचन तंत्र ठीक रहता है।
  • हिंदू धर्म में भी तांबे को बहुत महत्वपूर्ण माना गया है। पुराणों के अनुसार तांबे के कलश से सूर्य को जल चढ़ाने से भाग्य मजबूत होता है। वहीं इसमें पानी पीने से इम्यूनिटी बढ़ती है।

  • तांबे में एंटी इंफलामेटरी तत्व होते हैं। ये शरीर को मजबूत बनाने में मदद करते हैं। इसमें रखा पानी पीने से गैस, कब्ज, पेट साफ न होना आदि की दिक्कतें दूर होती है।
  • कुछ रिसर्च के मुताबिक तांबे के जग में रखा पानी पीने से कैंसर की रोकथाम में भी मदद मिलती है। क्योंकि ये इसके जीवाणुओं को खत्म कर देता है। जिसके चलते बैक्टीरिया फैल नहीं पाते हैं।
  • तांबे में एंटी-इन्फ्लेमेटरी गुण होने के कारण शरीर में दर्द, ऐंठन और सूजन की समस्या से छुटकारा मिलता है। इससे हड्डियों की दिक्कत भी दूर होती है।
  • तांबे में एंटी-बैक्‍टीरियल, एंटीवायरल और एंटी इंफ्लेमेट्री गुण होते हैं। ये चोट लग जाने पर इसे ठीक करने में भी मदद करता है।
  • तांबे में मौजूद रसायन बैक्टीरिया को दूर करते हैं। जिससे किडनी और लीवर की दिक्कत नहीं होती है।
  • तांबे में भरपूर मात्रा में मौजूद मिनरल्स थॉयराइड ग्रंथि में आई दिक्कत को दूर करता है। इससे सूजन और दर्द से भी छुटकारा मिलता है।

  • तांबे में मौजूद एंटी आॅक्सिडेंट्स बुढ़ापे के असर को रोकने में भी मदद करता है। इससे झुर्रियां, दाग-धब्बे और कील-मुंहासे आदि दूर होते हैं।
  • तांबे में मौजूद गुणकारी तत्व त्वचा में मौजूद मेलेनिन की संख्या को कम करके रंगत को निखारने का भी काम करता है। इससे स्किन चमकदार और गोरी बनती है।