जाने ड्रम ब्रेक और डिस्क ब्रेक के बीच क्या अंतर है…

आज कल लगभग हर कंपनी बाइक्स में drum ब्रेक या disc और ड्रम ब्रेक के कॉम्बीनेशन देती हैं। हालांकि अभी भी कुछ ऐसी बाइक्स हैं दो केवल ड्रम ब्रेक के साथ आती हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि इन दोनो में से कौन सा ब्रेक बेहतर है या फिर इनके क्या फायदे और नुकसान हैं? अगर आप अभी तक इस जानकारी से अंजान है तो पढ़े ये आर्टिकल

disc ब्रेक व्हील के बाहर लगे रहते हैं और फ्रेश एयर मिलते रहने से ये जल्दी कुल हो जाते हैं। वहीं ड्रम ब्रेक व्हील के अंदर प्लेस्ड होते हैं जिससे वे ज्यादा गर्म हो जाते हैं और गर्मी में उतने असरदार नहीं होते। इसलिए गर्मियों में disc ब्रेक ज्यादा जरूरी हो जाते हैं।

disc ब्रेक को मेंटेन करना काफी आसान होता है क्योंकि ये व्हील के बाहर ही लगा होता है। वहीं ड्रम ब्रेक व्हील के अंदर लगा होता है इसलिए इसमें कुछ भी काम करने के लिए पूरा व्हील खोलना पड़ता है।
मजबूती के मामले में ड्रम ब्रेक बाजी मार ले जाता है। ड्रम ब्रेक पर मजबूत कोटिंग की जाती है। जिससे उनके टूटने का खतरा कम रहता है। वहीं disc ब्रेक पूरी तरह से खुले रहते हैं। इसलिए इनके टूटने की आशंका बनी रहती है।

ड्रम ब्रेक के साथ एबीएस फिट नहीं किया जा सकता। वहीं disc ब्रेक के साथ एबीएस लगाने पर बाइक की सुरक्षा और भी बढ़ जाती है। disc ब्रेक का कोई पार्ट या फिर disc ब्रेक खराब हो जाता है तो उसे बदलवाया जा सकता है। वहीं ड्रम ब्रेक व्हील कें अंदर से कनेक्टेड होते हैं और वे कई बार अंदर ही अंदर व्हील को बड़ा नुकसान पहुंचा सकते हैं जो कि ज्यादा महंगा पड़ सकता है।

बारिश में जब बाइक के व्हील पूरी तरह से गीले हो जाते हैं, उस समय ब्रेकिंग का विशेष ख्याल रखना पड़ता है। ऐसे में ड्रम ब्रेक जब लगाए जाते हैं, तब ब्रेक शू और लाइनिंग के बीच सही पकड़ नहीं बन पाती और ब्रेक अधिक कारगर तरीके से नहीं लगते। वहीं पर बारिश का कोई खास प्रभाव नहीं पड़ता। जैसे ही disc ब्रेक लगाए जाते हैं, वे बाइक को रोकने में कारगर साबित होते हैं।