आखिर अंडा मांसाहारी है या शाकाहारी? साइंस के मुताबिक ये रहा जवाब

दुनिया में ऐसे कई सवाल हैं, जिन्हें हम बचपन से सुनते तो आ रहे हैं लेकिन उनके जवाब हमें अभी तक नहीं पता। जैसे, दुनिया में पहले मुर्गी आई या अंडा? लेकिन आज हम आपको एक ऐसे सवाल का जवाब देने जा रहे हैं, जिसके ऊपर लंबे समय से बहस चल रही है।

अंडा शाकाहारी है या मांसाहारी…

कई शाकाहारी लोग अंडे को मांसाहारी समझकर नहीं खाते। उनका लॉजिक होता है कि चूंकि अंडे मुर्गी देती है, इस कारण वो नॉन-वेज है। लेकिन अगर ऐसी बात है तो दूध भी जानवर से ही निकलता है, तो वो शाकाहारी कैसे है?

अगर आपको ऐसा लगता है कि अंडे से बच्चा निकल सकता था, इस कारण वो मांसाहारी है, तो आपको बता दें कि बाजार में मिलने वाले ज्यादातर अंडे अनफर्टिलाइज्ड होते हैं। इसका मतलब, उनसे कभी चूजे बाहर नहीं आ सकते। इस गलतफहमी को दूर करने के लिए वैज्ञानिकों ने भी साइंस के जरिए इस सवाल का जवाब देने की कोशिश की है। उनके मुताबिक, अंडा शाकाहारी होता है।

यह तो हर किसी को पता है कि अंडे के तीन हिस्से होते हैं- छिलका, अंडे की जर्दी और सफेदी। रिसर्च के मुताबिक, अंडे की सफेदी में सिर्फ प्रोटीन मैजूद होता है। उसमें जानवर का कोई हिस्सा मौजूद नहीं होता। ता कारण,तकनीकी रूप से एग वाइटशाकाहारी होता है।

अंडे की जर्दी

एग वाइट की ही तरह एग योक में भी सबसे ज्यादा प्रोटीन, कोलेस्ट्रोल और फैट मौजूद होता है। लेकिन जो अंडे मुर्गी और मुर्गे के संपर्क में आने के बाद दिए जाते हैं, उनमें गैमीट सेल्स मौजूद होता है, जो उसे मांसाहारी बना देता है।

आगे पढ़ें, मुर्गी कैसे देती है अंडा?

आपको बता दें, कि 6 महीने की होने के बाद मुर्गी हर 1 या डेढ़ दिन में अंडे देती ही है, भले ही वो किसी मुर्गे के संपर्क में आए चाहे ना आए। इन अंडों को ही अनफर्टिलाइज्ड एग कहा जाता है। इनसे कभी चूजे नहीं निकल सकते। तो अगर आपने अभी तक मांसाहारी समझ अंडे नहीं खाए, तो इसे अभी से खाना शुरू कर दीजिए।