इस किसान से सीखें खेती के गुर, इस तरह एक एकड़ से कमा रहा है तीन लाख रुपए

54 साल के रामसरन महज आठवीं पढ़े हैं। कभी उनके पास महज छह एकड़ जमीन थी। आज वे उत्तर प्रदेश के बाराबंकी के छोटे से गांव दौलतपुर में 300 एकड़ जमीन पर खेती करते हैं। करीब 50 हजार किसान उनसे जुड़े हैं जिन्हें वह हाईटेक खेती के गुर सिखाते हैं।

उनकी कमाई इतनी है कि सालाना 30 लाख का इनकम टैक्स रिटर्न भरना पड़ता है। यही नहीं, आप उन्हें देखकर अंदाजा ही नहीं लगा सकते हैं कि वे किसान हैं। उनकी संपन्नता उनके व्हाइट हाउस जैसे दिखने वाले घर से ही नजर आ जाती है। ब्रांडेड चीजों का ही वह उपयोग करते हैं।

एक एकड़ में करीब तीन लाख रुपए का मुनाफा

रामसरन वर्मा ने खेती-किसानी से जुड़ी धारणा बदल दी है। इसकी वजह है खेती-किसानी से जोरदार कमाई। वे कई चीजों की खेती करते हैं। उनका दावा है कि एक एकड़ टमाटर की खेती से करीब 3 लाख रुपये कमाएं जा सकते हैं। इसी तरह से आलू से 80 हजार और मेंथा से 60 हजार प्रति एकड़ की कमाई जा सकती है।

सरकार ने पद्मश्री से नवाजा

रामसरन वर्मा 1986 से खेती कर रहे हैं। अंग्रेजी अखबार ईटी को उन्होंने बताया कि हमने 6 एकड़ से खेती की शुरुआत की थी। अभी वे 300 एकड़ जमीन पर खेती कर रहे हैं। आज करीब 50 हजार किसान उनसे जुड़े है। उनकी इस कोशिश को सरकार ने भी सराहा है। उन्हें इस साल पदमश्री पुरस्कार से नवाजा गया है।

आत्महत्या कर रहे किसानों को वर्मा की सलाह है कि किसानों को परंपरागत खेती (गेहूं और तिलहन दलहन बगैरह ) की जगह कैश क्राप यानी मेंथा, आलू, केला, स्ट्रॉबेरी और एलोवेरा जैसी फसलों का रुख करना चाहिए। उन्होंने बताया कि किसान उनकी बेवसाइट www.vermaagri.com के जरिये खेती की नई तकनीक के बारे में जानकारी ले सकते हैं।