अगर परमाणु हमला हो तो क्या हम सब मर जाएंगे ? जानिये ये रोचक सच्चाई

परमाणु युद्ध के बारे में अक्सर लोगों के बीच में अनेकों भ्रम देखे जाते हैं. परमाणु युद्ध से जुड़े दुनियाभर में फैले हुए भ्रम और उनकी सच्चाई के बारे में जानिये

अमेरिका पूरी दुनिया को अपने हथियारों से सात बार उड़ा सकता है

अक्सर लोगों के बीच में बातें होती हैं कि अमेरिका के पास इतनी अधिक मात्रा में परमाणु हथियार उपलब्ध हैं कि वह पूरी दुनिया को 7 बार उड़ा सकता है. ऐसा बिल्कुल भी नहीं है. अमेरिका खुद को कभी भी नहीं खत्म करेगा और सभी लोग केवल तभी मर सकते हैं जब सभी को एक जगह पर एकत्र करके उनके हमला कर दिया जाए.

रेडिएशन के कारण बच्चे विकलांग ही पैदा होंगे

जापान में हुए एक अध्ययन के अनुसार रेडिएशन के कारण प्रभावित हुए कुछ लोगों के कुछ बच्चे दिव्यांग पैदा हुए थे सभी नहीं. जो लोग रेडिएशन से बच गये थे उनके भी उतने ही बच्चे दिव्यांग पैदा हुए थे. रेडिएशन से जेनेटिक डैमेज या फिर आनुवंशिक नुकसान तो जरूर होता है लेकिन उतना नहीं होता जितना फैलाया जाता है.

 लोग भूखे-प्यासे मरने लगेंगे

लोगों के मन में भ्रम रहता है कि परमाणु हमले के बाद पानी और अन्न इतना प्रभावित हो जाएगा कि लोग भूख और प्यास से मरने लगेंगे लेकिन अगर रेडियोएक्टिव पार्टिकल खाने के सामान में नहीं मिलेंगे तो फिर कुछ नहीं होगा. वैसे एक वेबसाइट की खबर के अनुसार रेडियो एक्टिव पानी को फिल्टर करके भी पिया जा सकता है.

हाइड्रोजन बम, परमाणु बम से हजार गुना ज्यादा नुकसान करेगा

ऐसा होना जरूरी नहीं है. बम किसी भी जगह पर गिरने के बाद अपनी एक निश्चित क्षमता के अंदर ही नुकसान कर सकता है. ज्यादा ताकतवर होने पर किसी जगह पर वह अधिक लोगों को नुकसान पहुंचा सकता है लेकिन ज्यादा दूर तक नहीं.

हिरोशिमा और नागासाकी में सारे लोग मारे गये थे

लड़ाई पहले से चल रही थी इसलिए लोगों के छुपने के लिए जमीन के नीचे शेल्टर जोन भी बनाये गये थे. जो लोग नालों या टनल में छुप गये थे, वे सभी बच गये थे.

हवा प्रदूषित होने से सारे लोग मारे जाएंगे

परमाणु बम फटने के बाद इससे रेडियोएक्टिव पार्टिकल निकलते हैं. बड़े पार्टिकल पास में ही गिर जाते हैं जबकि में छोटे-छोटे पार्टिकल्स मिट्टी में मिल जाते हैं. ये ही शरीर के फेफड़ों में घुसकर नुकसान पहुंचाते हैं.