सिर्फ 2 लाख में शुरू करें LED बल्ब बनाने का बिज़नेस ,हर महीने होगी 50000 की कमाई

एलईडी का पूरा नाम लाइट एमिटिंग डायोड है. इससे बने इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों से बिजली की खूब बचत होती है. इसी वजह से भारत सरकार देश में एलईडी को बढ़ावा देना चाह रही है. गत वर्ष सरकार ने देश भर में डोमेस्टिक एफिसिएंट लाइटिंग प्रोग्राम (DEPL) की शुरुआत की थी.

इस समय इसी योजना का नाम भारत सरकार द्वारा बदल कर उजाला कर दिया गया है. अब तक देश के कई हिस्सों में इस योजना का पालन हुआ और यह योजना काफ़ी सफल रही. उजाला के सफ़ल होने से देश में एलईडी के व्यापार की संभावनाएं बढती जा रही हैं. एलईडी व्यापार को आसानी से बेहद कम पैसे में शुरू किया जा सकता है. यहाँ पर इस व्यापार से सम्बंधित विशेष कड़ियों का वर्णन किया जा रहा है.

एलईडी लाइट का व्यापार करने के लिए स्थान

एलईडी लाइट का व्यापार कई तरह से किया जा सकता है. इसकी ट्रेडिंग से भी अच्छा ख़ासा लाभ कमाया जा सकता है. इसके लिए आपको सबसे पहले किसी इलेक्ट्रोनिक अथवा जनरल मार्केट में एक दूकान किराए पर लेना पड़ेगा. यदि आपके पास कोई ऐसी जगह है, जो दूकान बन सकती है, तो किराए का पैसा बचाने के लिए उस जगह पर ही दूकान कर लें. इस स्थान की आवश्यक फर्निशिंग के बाद आप यहाँ पर एलईडी बेचने का काम शुरू कर सकते हैं. यहाँ पर एलईडी बेचने के लिए आप किसी होलसेलर या सप्लायर से एलईडी प्राप्त कर सकते हैं.

न्यूनतम लागत पर एलईडी लाइट के व्यापार का आरम्भ

इस तरह के व्यापार को शुरू करने के लिए कम से कम 1.5 से 2 लाख रुपए की आवश्यकता पड़ती है. हालाँकि दूकान अच्छे से चलने पर इससे प्रति महीने 20,000 से 3,00,000 का मुनाफा प्राप्त हो सकता है, अतः 2 लाख के निवेश से प्रति महीने कम से कम 20,000 कमाने का ये एक उत्तम व्यापार है.

एलईडी सप्लायर के रूप में करें व्यापार

यदि आप एलईडी की दूकान नहीं करना चाहते तो, आपके पास एलईडी सप्लायर बनने का भी विकल्प है. विभिन्न दुकानों के लिए सप्लायर का काम करते हुए भी आप एलईडी की सहायता से अच्छा लाभ उठा सकते हैं. हालाँकि सप्लायर बनने के लिए आपको रिटेल से अधिक पैसा निवेश करना पड़ेगा. सप्लायर बनने के लिए कम से कम 2 से 3 लाख रूपए की लागत आती है. हालाँकि इसके लिए भी आपको गोडाउन अथवा किसी बड़े स्टोर के लिए जगह किराए पर लेने की आवश्यकता पड़ेगी.

स्थान की व्यवस्था हो जाने के बाद आपको लाइट असेम्बल करने वाले व्यापारी तथा विभिन्न मैन्युफैकचर्स कंपनियों से संपर्क करना होगा. चूँकि यहाँ से रिटेलर एलईडी उठाएंगे, अतः एक सप्लायर के रूप में आपको विभिन्न तरह के एलईडी लाइट अपने स्टोर में रखना होगा, ताकि रिटेल की मांग के अनुसार एलईडी दे सकें. एक सप्लायर के रूप में काम करने के लिए आपको एक सुरक्षित ट्रांसपोर्ट व्यवस्था की आवश्यकता होती है.

असेम्बलिंग यूनिट स्थापित करके एलईडी लाइट का व्यापार करें

आप एक असेम्बलिंग यूनिट की स्थापना करके भी एलईडी से पैसा कमा सकते हैं. एक छोटे से असेम्बलिंग यूनिट की स्थापना करने के लिए 5 से 7 लाख रूपए की लागत आती है. हालाँकि इसके लिए सरकार ऋण देती है और प्रधानमन्त्री रोज़गार योजना के अंतर्गत यह ऋण प्राप्त किया जा सकता है.

ऐसे त्यार किआ जाता है लेम्प

यहाँ पर एक असेम्बलिंग यूनिट स्थापित करने के लिए मशीनरी, रॉ मटेरियल आदि का वर्णन किया जा रहा है.

मशीनरी : एलईडी असेम्बलिंग यूनिट के लिए आवश्यक मशीनरी उसकी कीमत और उसे ऑनलाइन खरीदने के बारे में नीचे दर्शाया जा रहा है.

  • कॉम्पोनेन्ट फोर्मिंग : क़ीमत : रू 85,000
  • सोल्डरिंग मशीन : क़ीमत : रू 300
  • डिजिटल मल्टीमीटर : क़ीमत : रू 551
  • टेस्टर : क़ीमत : रू 565
  • सीलिंग मशीन : क़ीमत : रू 1350
  • एलसीआर मीटर : क़ीमत : रू 2400
  • स्माल ड्रिलिंग मशीन : क़ीमत : रू 1800
  • लक्स मीटर : क़ीमत : रू 1200

रॉ मटेरियल : इसके लिए आवश्यक रॉ मटेरियल उसकी कीमत और उसे ऑनलाइन खरीदने के बारे में नीचे दर्शाया जा रहा है.

  • लेड चिप्स : क़ीमत : रू 1200
  • रेक्टिफिएर मशीन : क़ीमत : रू 9/ प्रति इकाई
  • हीट सिंक डिवाइस : क़ीमत : रू 400
  • मेटलिक कैप होल्डर
  • प्लास्टिक बॉडी : क़ीमत : रू 50 प्रति इकाई
  • रिफ्लेक्टर प्लास्टिक ग्लास : क़ीमत : रू 3 प्रति इकाई
  • कनेक्टिंग वायर : क़ीमत : रू 480
  • सोल्डरिंग फ्लक्स : क़ीमत : 80 रू

इन सभी मशीनों एवं सामग्रियों को आप निम्न वेबसाईट से ऑनलाइन माध्यम से खरीद सकते हैं :

कॉम्पोनेन्ट बना कर एलईडी लाइट का व्यापार करें

एलईडी की मांग बढ़ने से कई बड़ी कम्पनियों ने एलईडी बनानी शुरू कर दी है. अतः कम लागत के व्यापारी लैंप कॉम्पोनेन्ट बनाने का व्यापार कर सकते है. एक छोटे से वर्कशॉप तैयार करने के लिए कम से कम 5 लाख की लागत आती है. इसके लिए सबसे पहले एमएसएमई द्वारा भारत सरकार के अधीन अपने वर्कशॉप का पंजीकरण कराना होता है. इस पंजीकरण के बाद सरकार द्वारा ऋण भी प्राप्त किया जा सकता है. एक अनुमान के तहत इसके अंतर्गत प्रति महीने रू 50,000 से 70,000 तक कमाया जा सकता है.

एलईडी लाइट का व्यापार शुरू करने के लिए भारत सरकार द्वारा प्रशिक्षण

भारत सरकार देश में एलईडी का प्रसार करने के लिए विभिन्न तरह की एलईडी सम्बंधित ट्रेनिंग भी दे रही है. यह प्रशिक्षण कौशल विकास योजना तथा एमएसएमई मंत्रालय की तरफ़ से दिया जा रहा है. कौशल विकास योजना के अंतर्गत निसबड और खादी ग्रामोद्योग आयोग की तरह से समय समय पर विभिन्न स्थानों में ट्रेनिंग प्रोग्राम चलाये जाते हैं. इस प्रशिक्षण के अंतर्गत प्रशिक्षण लेने वाले को एलईडी सम्बंधित सारी जानकारियाँ दी जाती हैं. विशेष जानकारी के लिए नीचे दिए गये लिंक पर विजिट कर सकते हैं.

http://niesbud.nic.in/training.htm

http://msme.gov.in