750 किलो प्याज के लिए मिले महज 1064 रुपये, नाराज किसान ने पैसो से किया यह काम

महाराष्ट्र के प्याज उपजाने वाले एक किसान को अपनी उपज एक रूपये प्रति किलोग्राम से कुछ अधिक की दर पर बेचनी पड़ी. इसके बाद उसने अपना विरोध दर्ज कराने के लिए अपनी कमाई प्रधानमंत्री को भेज दी.

नासिक जिले के निफाड तहसील के निवासी संजय साठे उन कुछ चुनिंदा प्रगतिशील किसानों में से एक हैं जिन्हें केंद्रीय कृषि मंत्रालय ने अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा से साल 2010 में उनकी भारत यात्रा के दौरान संवाद के लिए चुना था.

साठे ने रविवार को मीडिया से कहा, “मैंने इस मौसम में 750 किलोग्राम प्याज उपजाई लेकिन बीते हफ्ते निफाड थोक बाजार में एक रूपये प्रति किलोग्राम की दर की पेशकश की गई.” उन्होंने आगे कहा, “आखिर मैं 1.40 रूपये प्रति किलोग्राम का सौदा तय कर पाया और मुझे 750 किलोग्राम के लिए 1064 रूपये प्राप्त हुए.”

फिर गुस्से से भरपूर साठे ने कहा, “चार महीने के परिश्रम की मामूली वापसी प्राप्त होना दुखद है. इसलिए मैंने 1064 रूपये पीएमओ के आपदा राहत कोष में दान कर दिये. मुझे वह राशि मनीऑर्डर से भेजने के लिए 54 रूपये अलग से देने पड़े.

” उन्होंने कहा, “मैं किसी राजनीतिक पार्टी का प्रतिनिधित्व नहीं करता. लेकिन, मैं अपनी दिक्कतों के प्रति सरकार की उदासीनता के कारण नाराज हूं.”

मनीऑर्डर 29 नवंबर को भारतीय डाक के निफाड कार्यालय से भेजा गया. यह डाक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम भेजा गया है. पूरे भारत में जितनी प्याज होती है उसमें से 50 फीसद उत्तर महाराष्ट्र के नासिक जिले से जाती है.