इस बार चार दिन की देरी से आएगा मानसून, सामान्य से कम होगी बारिश

देश में इस बार मानसून की दस्तक चार दिन की देरी से होगी। वहीं अनुमान है कि इस बार सामान्य से कम बारिश होगी। मौसम की जानकारी देनी वाली निजी संस्था स्काईमेट ने यह जानकारी दी है। केरल में हर साल 1 जून को मानसून दस्तक देता है।

इन जगह कम बारिश का अनुमान

स्काईमेट के सीईओ जतिन सिंह ने कहा है कि देश के पूर्व, उत्तर पूर्व और मध्य भारत में इस बार बहुत कम बारिश होने की संभावना है। वहीं उत्तर-पश्चिम और दक्षिण भारत के इलाकों में सामान्य बारिश होगी। वहीं दस्तक देने के बाद भी मानसून की चाल धीमी रहेगी।

22 मई को अंडमान पहुंचेगा मानसून

स्काईमेट का कहना है कि इस बार अंडमान-निकोबार द्वीप समूह पर मानसून 22 मई को पहुंचेगा। पिछले महीने स्काईमेट ने संभावना जताई थी कि इस बार मानसून सामान्य से कम रहेगा और देश भर में केवल 93 फीसदी बारिश होगी, जिसमें ऐरर मार्जिन पांच फीसदी का होगा।

मानसून के लिए स्काईमेट का यह है पूर्वानुमान

  • 15% आशंका सूखा पड़ने की (यानी 90% से कम बारिश)
  • 55% आशंका सामान्य से कम बारिश होने की (यानी 90 से 95%)
  • इस बार इन चार महीनों में अधिक बारिश (यानी 105-110%) आैर अत्यधिक बारिश (यानी 110%)
  • होने की संभावना शून्य है।
  • 30% संभावना है सामान्य
  • बारिश होने की इस बार (यानी 96 से 104% के बीच)
  • स्काईमेट चार साल में सिर्फ एक बार ही सही

मौसम विभाग भी कह रहा इस बार गर्मी बढ़ेगी

मौसम विभाग के महानिदेशक केजे रमेश ने कहा कि अप्रैल से जून के बीच मध्य भारत के मौसम संबंधी उपखंडों (मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, गोवा, गुजरात) और उत्तर पश्चिम भारत (जम्मू-कश्मीर, उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, पंजाब, हरियाणा, दिल्ली व राजस्थान) के कुछ उपखंडों में औसत तापमान सामान्य से 0.5 डिग्री सेल्सियस से एक डिग्री ज्यादा रहने की आशंका है। औसत तापमान किसी दिन विशेष पर पिछले 50 वर्ष में दर्ज हुए तापमान का औसत होता है।