ये है खेतीबाड़ी कचरे और गोबर से खाद बनाने वाली मशीन

रैपिड कॉम्पोस्ट एरिएटर ट्रैक्टर में लगाई जा सकने वाली वो मशीन है, जो कचरे को खाद बनाने का काम करती है। गुरमेल सिंह धोंसी ने 2008 में किसानो की मज़बूरी देख कर यह मशीन त्यार की ,इस से पहले जब कोई किसान कम्पोस्ट खाद बनाता था तो उसे ज्यादा लेबर की जरूरत होती थी

इस लिए किसान को एक किल्लो के मगर 5-6 रुपये तक का खर्चा आता था ।जिस कारण कम्पोस्ट खाद बनाना काफी महंगा और मेहनत भरा काम था । इस मशीन को बनाने से पहले सिर्फ गोबर के इस्तमाल से ही कम्पोस्ट खाद त्यार करते थे । लेकिन अब खेतीबाड़ी कचरे से भी खाद त्यार की जा सकती है ।

इस से पहले जिस बायोमास को कुदरती तरीके से खाद बनने में 90 से 120 दिन लगते हैं, वो काम ये मशीन 25 से 35 दिनों में कर देती है। इस मशीन से एक घंटे में 400 टन तक खाद बनाई जा सकती है। यही वजह है कि गुरमेल सिंह धोंसी को राष्ट्रपति ने सम्मानित किया है।

गुरमेल सिंह धोंसी ने ऑर्गेनिक खाद बनाने वाली इस भारी-भरकम मशीन का ईजाद किया तो उन्हें इस बात की पूरी उम्मीद थी कि धीरे-धीरे ही सही, लोगों को इस मशीन की अहमियत समझ में आने लगेगी। और क्यों न हो? एक ऐसी मशीन जो खेत के कचरे को बेहद कम लागत में खाद में तब्दील कर दे, वो किस किसान के काम नहीं आएगी?

उन्हें 2012 में तत्कालीन राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल ने सम्मानित किया। किसान गुरमेल सिंह धोंसी खेती में अपने नए आइडियाज से मिसाल कायम की। छोटे-से गांव से आए धोंसी ने अब तक 24 ऐसे उपकरण बना दिए जो किसानों के रोजमर्रा काम में आते हैं। जिनकी डिमांड अब पाकिस्तान से भी आती है।

यह मशीन कैसे काम करती है उसके लिए वीडियो देखें

मशीन को खरीदने जा और कोई जानकारी के लिए इस पते पर संपर्क करें

Address (Factory) : H-56, Industrial Area, Padampur,
Dist- Shriganganagar (Raj.)
Tel. No : 01505-223570 , 222570