यह हैं जर्मनी से जुड़े 10 अजीबो गरीब रोचक तथ्य, जो आप नहीं जानते होंगे

जर्मनी विश्व के ताकतवर देशों में से एक है। जिसने विश्वयुद्ध के बाद कंगाल होने पर भी हार नहीं मानी और आज वह सफलता प्राप्त कर ली है जिस पर विश्वास करना भी मुमकिन नहीं है। आइए जानते हैं जर्मनी से जुड़े कुछ रोचक तथ्य…

जर्मनी की जनसँख्या

जर्मनी की जनसंख्या लगभग भारत के देश आंध्र प्रदेश के बराबर ही है। जर्मनी की जनसंख्या मात्र 8 करोड़ है।

इस देश की ताकत के पीछे ताकत के देश के नागरिकों की देशभक्ति और मेहनत है जो मुश्किलों में भी मुस्कुराना जानते हैं.

कईं राज्यों से मिलकर बना है यह देश

यहां की राजधानी एक राज्य नहीं बल्कि कई राज्य रह चुके हैं जिनमें Aachen , Regensburg , Frankfun-am-main , Bonn and berlin शामिल है।

जेल से फरार होने पर नही मिलती सज़ा

जर्मनी में माना जाता है कि लोगों को अपनी आजादी से जीने का हक है इसलिए जेल से भागने पर भी उन्हें सजा नहीं दी जाती।

अटपटे देश के चटपटे लोग

जर्मनी के लोगों का अंदाज बड़ा अटपटा है वहां के लोग फोन पर बात शुरू करने पर ‘हेलो’ नहीं बल्कि अपना नाम लेकर बातचीत शुरू करते हैं।

नही है स्पीड लिमिट

जर्मनी के 70 परसेंट हाईवे पर वाहन की कोई स्पीड लिमिट नहीं है लेकिन वहां के वाहनों का रोड पर ही इंधन खत्म हो जाना गैरकानूनी माना जाता है।

किताबें छपने में है अव्वल

जर्मनी की पहली पत्रिका सन 1963 में शुरू की गई थी जहां पर अब तक दुनिया की सबसे अधिक किताबें छापी जा चुकी हैं।साल 1989 से साल 2009 के बीच Germany में 2 हज़ार से ज्यादा स्कूल बंद करने पड़े थे क्योंकि उनमें बच्चों की कमी थी।

लगातार कम हो रही है जनसंख्या

जर्मनी और जापान की जन्म दर संख्या सबसे कम है जर्मनी में पिछले 10 साल में दो लाख जनसंख्या कम हो चुकी है।

जर्मनी का बजट

जर्मनी का रक्षा बजट मात्र इतना है कि अमेरिका में एक कुत्ते को खाना खिलाया जा सके। यानी यह देश पालतू जानवरों पर इंसानों से अधिक खर्व्ह करता है.

कर्ज़ से उबरा देश

पहले विश्व युद्ध के दौरान जर्मनी बिल्कुल कंगाल हो चुका था उन पर लगभग कितना कर्जा था कि उसकी तुलना 96000 टन सोने की कीमत के बराबर की गई थी।

जन्मदिवस को मानते हैं बुरा

जर्मनी में कभी एडवांस हैप्पी बर्थडे नहीं कहा जाता क्योंकि वह उसे अपना बैड लक मानते हैं।

दुनिया में सबसे अधिक इस्तेमाल किए जाने वाले कारे जर्मनी में बनाई जाती है। जिनमें BMW और AUDi शामिल है।

Flipkart पर 1 रुपये में बहुत कुछ खरीदने का मौका, जानें कैसे उठाएं ऑफर का लाभ

Flipkart पर 1 रुपये में बहुत कुछ खरीदने का मौका..कुछ समय पहले ही WallMart के साथ समझौता के बाद से Flipkart ने कई शानदार और आकर्षक डील्स उपलब्ध कराई हैं। इस बार Flipkart ने घरेलू सामान को 1 रुपये में देने की पहल की है।

जी हां, ग्राहक अपने घर का सामान 1 रुपये में खरीद सकते हैं। यहां जानें कैसेFlipkart पर 1 रुपये में सेल के तहत ग्राहक घर का सामान खरीद सकते हैं। इस दौरान ग्राहक आटा, शैंपू, दाल-तेल आदि चीजें को बेहद कम कीमत में खरीद पाएंगे।

Flipkart पर ग्रॉसरी स्टोर SuperMart के नाम से दर्ज है। Flipkart पर आपको Today’s Steal Deals नजर आएगा। इसके तहत रोजाना ग्राहकों को तीन घर के सामान को एक रुपये में खरीद पाएंगे। हालांकि, इसके लिए एक शर्त है।

क्या है शर्त?

इस ऑफर का लाभ लेने के लिए ग्राहकों को एक शर्त पूरी करनी होगी। इसके तहत ग्राहकों को 1 रुपये में तीन चीजें खरीदने के लिए कम से कम 599 रुपये की खरीदारी करनी होगी। ऐसा करने के बाद ग्राहक 1 रुपये में एक किलो दाल, 1 किलो चीनी और 1 लीटर सरसों तेल खरीद पाएंगे। इस सेल के दौरान अगर ग्राहक एक्सिस बैंक का कार्ड इस्तेमाल करते हैं तो उन्हें कैशबैक ऑफर भी दिया जाएगा।

जानें क्या है कैशबैक ऑफर?

Flipkart की साईट या ऐप से एक्सिस बैंक के क्रेडिट या डेबिट कार्ड के जरिए खरीदारी करने पर ग्राहकों को 15 फीसद की छूट दी जाएगी। इस कैशबैक ऑफर का लाभ लेने के लिए ग्राहकों को न्यूनतम 1,500 रुपये की खरीदारी करनी होगी।

2019 में बंद हो सकती हैं ये 6 पॉपुलर कारें, जानें कारण

आज हम आपके लिए अपनी खबर में ऐसी गाड़ियां लेकर आए हैं, जो 2019 के दौरान बंद की जा सकती हैं। हमने इन कारों को आगामी बीएस-6 उत्सर्जन मानक, क्रैश टेस्ट मानदंडों और कम बिक्री के चलते चुना है।

Maruti Suzuki Gipsy

  • कीमत – 5.70 लाख रुपये से 6.40 लाख रुपये (एक्स शोरूम दिल्ली)
  • औसत मासिक बिक्री – 500 से कम यूनिट

मारुति सुजुकी जिप्सी ने 1980 के दशक में भारतीय कार बाजार में कदम रखा था और अब माना जा रहा है कि 2019 में कंपनी इसे बंद कर देगी। इसे बंद करने की मुख्य वजह इस साल से लागू होने वाले भारत न्यू व्हीकल सेफ्टी एसेस्मेंट प्रोग्राम (BNVSAP) माना जा रहा है।

Maruti Suzuki Omni

  • कीमत – 2.76 लाख रुपये
  • औसतन मासिक बिक्री – 6000 से 8000 यूनिट्स

मारुति ओम्नी भी जिप्सी की तरह देश में लंबे समय से बिकने वाली मारुति कारों में से एक है। मौजूदा ओमनी ना तो क्रैश टेस्ट को पूरा कर सकेगी और ना ही इसका पुराना 796cc कार्बोरेटेड इंजन कड़े BS-6 उत्सर्जन मानदंड़ों को पूरा करने में सक्षम है, ऐसे में कंपनी ओमनी को बंद कर सकती है।

Mahindra Xylo

  • कीमत – 9.17 लाख रुपये से 12 लाख रुपये (एक्स शोरूम दिल्ली)
  • औसतन मासिक बिक्री – 500 यूनिट्स

साल 2009 में लॉन्च हुई महिंद्रा जायलो को भी कंपनी इस साल बंद कर सकती है। बता दें, 2009 के बाद कंपनी ने इसका अभी तक नया जनरेशन मॉडल लॉन्च नहीं किया है। महिंद्रा जायलो को पहली जनरेशन स्कॉर्पियो के प्लेटफॉर्म पर बनाया गया है, जो आगामी क्रैश टेस्ट को पास करने में असमर्थ है। ऐसे में उम्मीद की जा रही है कि कंपनी जायलो को भारत में बंद कर देगी

Tata Nano

  • कीमत – 2.36 लाख रुपए से 3.34 लाख रुपये
  • औसतन मासिक बिक्री – 50 यूनिट्स

टाटा नैनो 2008 में लॉन्च होने के बाद सबसे सस्ती कार के रूप में सामने आई। हालांकि, कम कीमत होने के बावजूद भी यह कार कंपनी की उम्मीदों पर खड़ी नहीं उतरी और आगामी मानदंड़ो के चलते इसे बंद किया जा सकता है।

Fiat Punto, Linea

  • पुंटो कीमत – 5.35 लाख रुपये से 7.47 लाख रुपये (एक्स शोरूम दिल्ली)
  • लीनिया कीमत – 7.15 लाख रुपये से 9.97 लाख रुपये (एक्स शोरूम दिल्ली)
  • औसतन मासिक बिक्री – 100 यूनिट्स से भी कम

इन दोनों कारों की बिक्री अन्य कारों की तुलना में काफी लंबे समय से खराब चल रही है। इतना ही नहीं ये दोनों कारें अपने सेगमेंट में सबसे पुरानी कारें भी हैं। लीनिया की सालाना औसतन बिक्री 100 यूनिट्स से भी कम है। वहीं, पुंटो रेंज की मासिक बिक्री लगभग 50 यूनिट्स तक ही है । कंपनी इन दोनों कारों को खराब सेल्स के चलते बंद कर सकती है।

आप भी पतंजलि स्टोर खोलकर कर सकते है कमाई, बाबा रामदेव खोलने जा रहे है पतंजलि परिधान के 500 शोरूम, ऐसे करें अप्लाई

बाबा रामदेव ने आने वाले दिनों में देश के 50 शहरों में पतंजलि परिधान के 500 स्टोर खोलने की घोषणा की है, ऐसे में आपके पास भी बाबा रामदेव का पतंजलि परिधान स्टोर खोलकर कमाई कर सकते हैं।

एफएमसीजी सेक्टर में धाक जमाने के बाद योग गुरु बाबा रामदेव गारमेंट सेक्टर में भी धूम मचाने की तैयारी में जुट गए हैं। इसके लिए बाबा रामदेव ने पतंजलि परिधान लॉन्च किया है। पतंजलि परिधान ने उत्तराखंड में अपना पहला स्टोर हरिद्वार में शुरू कर दिया है। इस स्टोर का शनिवार को बाबा रामदेव ने उद्घाटन किया।यह पतंजलि का देशभर में छठा परिधान स्टोर है।

आइए बताते हैं कि आप कैसे पतंजलि परिधान स्टोर खोल सकते हैं।

परिधान स्टोर खोलने के लिए पतंजलि की ओर से आवेदन मांगे गए हैं। इसके अनुसार इच्छुक लोगों के पास स्टोर खोलने के लिए 2000 वर्गफुट की कॉमर्शियल प्रॉपर्टी होनी चाहिए। यह प्रॉपर्ट चहल-पहल वाली जगह पर होनी चाहिए। जिन लोगों के पास अपनी प्रॉपर्टी है, उनको प्राथमिकता दी जाएगी।

आप लीज की प्रॉपर्टी पर भी स्टोर खोल सकते हैं। आपको बता दें कि बाबा रामदेव ने आस्था, संस्कार और लिवफिट ब्रांड से परिधान तैयार किए हैं। आस्था के तहत महिलाओं के परिधान, संस्कार में पुरुष और लिवफिट में स्पोर्टस और योगा वियर शामिल हैं।

पतंजलि की ओर से दी गई जानकारी के अनुसार, परिधान स्टोर खोलने के इच्छुक लोग उनसे संपर्क कर सकते हैं। स्टोर खोलने के इच्छुक लोग ई-मेल और फोन दोनों के माध्यम से संपर्क कर सकते हैं।

स्टोर के बारे में जानकारी ईमेल आईडी enquiry@patanjaliparidhan.org पर मेल भेजकर ली जा सकती है। इसके अलावा आप पतंजलि के फोन नंबर्स पर संपर्क करके भी जानकारी ले सकते हैं।
मकर संक्रांति तक मिलेगी 25 फीसदी की छूट

बाबा रामदेव ने पतंजलि परिधानों पर मकर संक्रांति तक 25 फीसदी छूट देने की घोषणा की है। बाबा रामदेव ने कहा है कि पतंजलि के पास परिधान में 1100 से अधिक विकल्प उपलब्ध हैं। इनमें पुरुष, महिला और बच्चों की पसंद पर विशेष ध्यान दिया गया है।

वहीं पतंजलि योगपीठ के महामंत्री आचार्य बालकृष्ण ने कहा है कि पतंजलि परिधानों की गुणवत्ता, रंग और डिजाइन विश्वस्तरीय है और ये परिधान विदेशी ब्रांड से दो से तीन गुना सस्ते हैं।

भारतीय छात्रों ने बनाई दुनिया की पहली ड्राइवरलेस बस, लग्जरी कार से भी कम है कीमत

पंजाब की लवली प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी के छात्रों ने दुनिया की पहली सोलर पावर से चलने वाली ड्राइवरलेस बस तैयार की है। यह बस एक बार चार्ज करने पर 60 से 70 किलोमीटर तक चलेगी और मोबाइल से ऑपरेट होगी। बस की स्पीड 30 किलोमीटर प्रति घंटा होगी।

बस सौर ऊर्जा से चलती है। ये खास बस पूरी तरह से बनकर तैयार हो चुकी है।इंडियन साइंस कांग्रेस के 106वें एडिशन में इस बस को प्रदर्शित किया गया। ऐसा दावा किया जा रहा है कि इस बस को साल 2019 के अंत तक कार्मिशिलय यूज में लाया जा सकेगा। इस बस को 10 मीटर के रेडियस में कंट्रोल किया जा सकता है।

इस बस की कीमत की बात करें, तो इसे बनाने में करीब 6 लाख रुपए की लागत आई है। बस को तैयार करने में एलपीयू के सीएसई व मैकेनिकल इंजीनियरिंग के विद्यार्थियों को एक साल लगे। सेफ्टी फीचर्स के मामले में यह बस अब तक सबसे सुरक्षित मानी जाती है,क्योंकि बस में लगे आधुनिक सेंसर बस को दुर्घटनाग्रस्त नहीं होने देंगे।

वहीं दुर्घटना होने की स्थिति में बस अपना रास्ता खुद बदल लेगी। इसके अलावा यह बस पूरी तरह से प्रदूषण मुक्त होगी। इसे मोबाइल फोन से भी चलाया जा सकेगा। यह बस आइपी एड्रेस की आधुनिक तकनीक के साथ कनेक्ट रहेगी। जीपीएस व ब्लूटूथ के साथ भी बस को कनेक्ट किया जा सकता है।

एलपीयू के चांसलर अशोक मित्तल का कहना है कि बस का निर्माण करके उनके युवा विद्यार्थियों ने देश को कुछ नया देने की कोशिश की है। बस में आगे और फीचर्स दिए जाएंगे, जिससे यह आम लोगों के लिए पूरी तरह से पर्यावरण फ्रेंडली बनकर प्रदूषण मुक्त भारत के निर्माण में सार्थक पहल साबित हो सके। 1500 किलो भार वाली इस बस की ऊंचाई आठ फीट है, जबकि लंबाई 12 फीट है।

इसमें 12 लोगों के बैठने की व्यवस्था होगी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एलपीयू कैंपस में पांच दिवसीय विशाल इंडियन साइंस कांग्रेस-2019 का शुभारंभ किया। इस अवसर पर भारत और अन्य देशों के टॉप शैक्षणिक संस्थानों, इंडस्ट्री और साइंस समुदाय के क्षेत्रों से 15,000 प्रतिनिधि और अन्य लोगों ने शिरकत की।

वैज्ञानियों ने बनाया एक ऐसा कमाल का हीटर, माइनस 20 डिग्री में भी देगा गर्मी, सिर्फ 2 घंटे में कमरे का तापमान हो जाएगा 30 डिग्री

वैज्ञानियों ने एक ऐसा कमाल का हीटर बनाया है जो बर्फीले हालत और कितनी भी ठंड हो यह हीटर सिर्फ 2 घंटे में कमरे का तापमान 30 डिग्री  हो जाएगा, अगर आप भी सर्द भरी ठंड से राहत पाना चाहते हैं या बर्फिस्तान में घूमने जाने का प्लान कर रहे हैं तो आपके लिए आ गया है बुखारी हीटर। यह हीटर माइनस 20 डिग्री तापमान में भी गर्मी का एहसास कराएगा। ।

इस हीटर की खासियत यह है कि इससे न तो किसी तरह की जहरीली व नुकसानदायक गैस निकलेगी और न ही इसके फटने का खतरा होगा।

कमरा 30 डिग्री तापमान तक गर्म

यह बर्फीले इलाकों में ड्यूटी करने वाले सेना के जवानों के लिए लाभदायक होगा। इसके जरिए 2 घंटे में उनका बंकर या कमरा 30 डिग्री तापमान तक गर्म हो जाएगा। इसे दिल्‍ली के डिफेंस इंस्टीट्यूट ऑफ फिजियोलॉजी एंड अलाइड साइसेंस के अनुसंधान में तैयार किया गया है।

संस्थान ने केरोसिन से चलने वाला हीटर (बुखारी) तैयार किया है। इस बुखारी में तकनीक को अपग्रेड किया गया है। पहले जहरीली गैसें भी स्ट्रक्चर के जरिए अंदर निकलती थीं और फटने का भी डर रहता था।अब इसमें कनवेक्शन मैथड से रेडिएशन जेनरेट कर जामुनी रंग की फ्लेम के जरिए गर्माहट निकलती है। बुखारी की लौ से निकलने वाली जहरीली गैसों को बाहर निकालने के लिए छत के साथ अलग पाइप लगी है,जिससे कार्बन डाइऑक्साइड, कार्बन मोनो ऑक्साइड व हाईड्रोजन सल्फाइड जैसी गैसें सीधे बाहर निकल जाएंगी

जालंधर की लवली प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी (एलपीयू) में चल रही 106वीं इंडियन साइंस कांग्रेस में इसे प्रदर्शित किया गया है। नॉर्थ सिक्किम में कामयाब ट्रायल के बाद अब आर्मी से एक लाख बुखारी की डिमांड आ चुकी है। खास बात यह भी है कि छत पर निकली पाइप को इस तरीके से डिजाइन किया गया है कि चारों दिशाओं से कहीं से भी हवा चले तो वो पाइप के अंदर नहीं आ पाएगी। इसमें एग्जॉस्ट फैन भी दिया गया है।

सर्दियों में हरे चारे के लिए करे इस घास की काश्त, दूध उत्पादन में होगी 30 फीसदी तक बढ़ोतरी

सर्दियों में पशु को अगर संतुलित और सही आहार नहीं मिलता है तो वह बीमार होने लगते हैं जिस वजह से दूध के उत्पादन में भी कमी आनी शुरू हो जाती है क्योंकि पशुपालक भी सर्दियों में पशुओं को हरी बरसीम खिलाते है उससे भी दूध में ज्यादा उत्पादन नहीं हो पाता.

इसलिए पशुपालको को सर्दियों में पशुओं को हरी बरसीम की जगह ‘मक्खन घास’ खिलानी चाहिए. क्योंकि यह पशुओं के लिए काफी पौष्टिक और फायदेमंद है. इसके सेवन से पशुओं के दूध उत्पादन में 25 – 30 फीसदी तक बढ़ोतरी होती है.क्योंकि हरी बरसीम में बहुत जल्दी कीट लगता है, पर मक्खन घास में कीट लगने की समस्या नहीं होती. यह घास सर्दियों में उगाई जाती है.इसकी बुवाई यदि अक्टूबर माह में की जाए तो आप इसकी कटाई 35- 40 दिनों के अंदर कर सकते है.

इसकी दूसरी कटाई भी 20- 25 दिनों के अंदर की जा सकती है. ‘मक्खन घास’ की सालभर में 5-6 बार आसानी से कटाई की जा सकती है. इस घास के बीज एक हेक्टर प्रति किलो की दर से लगते है क्योंकि यह बरसीम की बुवाई के समय बोया जाता है. यह बरसीम की तुलना में काफी अच्छा है. पशुओ के लिए इसका सेवन करना दूध उत्पादन को बढ़ाता है.

इसके अंदर 14-15 फीसदी प्रोटीन होता है. इसके बीज बाजार से खरीदे जा सकते है. इसकी सबसे पहले शुरुआत चार साल पहले पंजाब, हरियाणा में हुई थी. सबसे पहले यह 2 हज़ार किलो से शुरू हुई और आज इसका पूरे पंजाब में 100 मीट्रिक टन से भी ज्यादा बीज लगता है. इसकी बिक्री सबसे ज्यादा पंजाब, हरियाणा में होती है. इसको 150 टन से भी ज्यादा किसानों ने ख़रीदा है. इसका बीज बाजार में 400 रुपये प्रति किलो तक बिकता है.

ऐसे करें बुवाई

इसकी खेती सभी तरह की मिट्टी में की जा सकती है, जिसका पीएच 6.5 से 7 तक हो। मक्खन ग्रास शीतकालीन चारा फसल है, जिसे घर-घर काटा जा सकता है। यह मैदानी एवं पहाड़ी इलाकों में बुवाई के लिए उपयुक्त है। सभी तरह की मिट्टी में इसकी शीतकालीन बुवाई नवंबर से दिसंबर में की जा सकती है।

ग्रीष्मकालीन चारा फसल के लिए इसे मार्च से अप्रैल के बीच बोया जा सकता है। बुवाई के समय खेत में नमी रहनी चाहिए। 10 से 15 दिनों में अंकूरण होना शुरू हो जाता है। मक्खन ग्रास के बीज वजन में हल्के होते है। वहीं बरसीम के साथ मिलाकर भी इसे बोया जा सकता है। बीजों के अंकुरण के बाद दो-तीन सप्ताह में एक सिंचाई की जरूरत होती है। इसके बाद 20 दिनों के बाद जरूरत के अनुसार पानी दिया जाना जरूरी है।

इन शहरों से होगी Jio Gigafiber की शुरुआत, पूरे 3 महीने तक फ्री मिलेगी सर्विस

हाल में ही गीगा फाइबर को लेकर ख़बर आई थी की इस सर्विस की शुरुआत सबसे पहले देशभर के 30 शहर में की जाएगी। Reliance Jio ने साल 2018 में Jio GigaFiber के साथ खुद की ब्रॉडबैंड सर्विस की शुरुआत की थी।

लेकिन साल खत्म हो चूका है और इसके लॉन्चिंग का इंतजार काफी दिनों से देशभर के लोग कर रहे हैं। उम्मीद है कि इस सर्विस इस साल 2019 में शुरू किया जा सकता है। कंपनी पिछले कई दिनों से इसके लिए प्री-व्यू ऑफर भी जारी कर रही है। आइए जानते हैं जियो गीगा फाइबर के प्लान के बारे में…

कंपनी के प्री-व्यू ऑफर की माने तो इस सर्विस को लेने वाले यूजर्स को 90 दिनों तक हाई-स्पीड इंटरनेट मिलेगा। इसके अलावा हर महीने 100 जीबी डाटा भी दिया जाएगा। साथ ही खबर है कि कंपनी अपने यूजर्स को शुरुआत के तीन महीने 100Mbps की स्पीड से 100GB मंथली डेटा फ्री में देगी।

यानी तीन महीने आपको फ्री में सर्विस मिलेगी। इसके बाद आपको रकम चुकानी होगी।बता दें कि यूजर्स को शुरुआत में सिक्योरिटी डिपोजिट के तौर पर 4,500 रुपये चुकाने होंगे। इतना ही नहीं इस सर्विस को लेने के दौरान आपको गीगा फाइबर और जियो टीवी रॉउटर फ्री में मिलेगा।

इसके अलावा कंपनी 750, 999 और 1,299 रुपये का प्लान भी पेश कर सकती है।कंपनी के आने वाले ये सभी प्लान्स 1 महीने की वैधता वाले होंगे।जियो गीगा फाइबर को जिन 30 शहरों में सबसे पहले शुरू किया जाएगा इनमें बेंगलुरू, चेन्नई, पुणे, लखनऊ, कानपुर, रायपुर, नागपुर, इंदौर, ठाणे, भोपाल, गाजियाबाद,

लुधियाना, कोयंबटूर, आगरा, मदुरई, नासिक, फरीदाबाद, मेरठ, राजकोट, श्रीनगर, अमृतसर, पटना, इलाहाबाद, रांची, जोधपुर, कोटा, गुवाहाटी, चंडीगढ़, सोलापुर और नई दिल्ली शामिल हैं। मतलब इन शहरों के यूजर्स को जियो की यह सर्विस सबसे पहले मिलेगी।

सरकार के साथ मिलकर मेडिकल स्टोर खोल सकते हैं आप, 40 फीसदी तक मिलेगा कमीशन, ऐसे करें अप्लाई

अब आप सरकार के साथ मिलकर मेडिकल स्टोर खोल सकते हैं, अगर आप मेडिकल के क्षेत्र में अपना बिजनेस शुरू करना चाहते हैं तो यह आपके लिए अच्छा मौका साबित हो सकता है। केंद्र की मोदी सरकार आपको बिजनेस करने का एक सुनहरा मौका दे रही है। मोदी सरकार ने अमृत मेडिकल्स की फ्रेंचाईजी उन लोगों को बांटने का फैसला किया है जो यह बिजनेस करना चाहते हैं।

सरकार की इस योजना के तहत बिजनेस करने वाले लोगों को ब्रांडेड दवाएं और इंप्लांट्स सस्ते दामों में मिल सकेंगे। सरकार की इस योजना के चलते देश के कई शहरों में अमृत मेडिकल स्टोर खोले जाएंगे।

9 जनवरी को निकलेगा टेंडर

स्वास्थ्य मंत्रालय ने हाल ही में बोर्ड की मीटिंग में यह फैसला लिया है। इसके चलते HLL की रिटेल बिजनेस चेन अमृत मेडिकल्स की फ्रेंचाइजी बांटी जाएगी। इन दुकानों में ब्रांडेड दवाएं और इंप्लांट 35 से 75 पर्सेंट तक कम कीमतों में मिलेंगी।

इसके साथ ही दुकानों की फ्रेंचाइजी लेने वाले लोगों को दवाईयों पर 5 से 40 पर्सेंट तक का कमीशन भी मिलेगा। इस फ्रेंचाइजी के लिए 9 जनवरी को टेंडर निकाला जाएगा। यदि आप भी सरकार के साथ बिजनेस करना चाहते हैं और पैसे कमाना चाहते हैं तो यह मौका आपके लिए काफी खास है।

कैसे मिलेगी फ्रेंचाइजी

यदि आप भी इसके लिए फ्रैंचाइजी लेना चाहते हैं तो इसकी शहर के हिसाब से अलग फीस है। इस फीस 7.5 लाख रुपए तक हो सकती है। जिसके बाद ही कोई इसकी फ्रेंचाइजी ले सकता है। इसके बाद फ्रेंचाइजी ओनर दवाओं और इंप्लाट सप्लाई का जिम्मदार होगा। लोगों को इस फ्रैंचाईजी को लेने के लिए सरकार की शैक्षणिक योग्यता, अनुभव, लोकेशन पर खरा उतरना होगा।

बैंक कर रहे हैं नीलामी, सिर्फ 1.35 लाख में मिलेगी Maruti Ritz और 2.10 लाख में बस

बैंक उन गाडियों की नीलामी कर रहे हैं जो लोग बैंक का लोन नहीं लौटा पाते। आप भी इस नीलामी में हिस्सा लेकर अपनी पसंद की गाड़ी खरीद सकते हैं। कई गाड़ियां काफी सस्ते में नीलाम हो रही हैं। हम आपको ऐसी ही कुछ गाड़ियों की जानकारी देने जा रहा है। आइए, जानते हैं इन गाड़ियों की डिटेल और कैसे आप इस नीलामी में हिस्सा ले सकते हैं।

1.35 लाख में मिलेगी  Maruti Ritz

कॉरपोरेशन बैंक, महिपालपुर, दिल्ली की ब्रांच द्वारा Maruti Ritz की नीलामी की जा रही है। दिल्ली नंबर की इस गाड़ी का मॉडल मई 2016 का है। इसका रिजर्व प्राइस 1.30 लाख रुपए है और यदि आप बोली लगाना चाहते हैं तो आपको 5 हजार अधिक यानी कि 1.35 लाख रुपए से बोली शुरू करनी होगी।

22 जनवरी 2019 को 11.45 से दोपहर 1.15 बजे तक बोली होगी और इसके लिए आपको 21 जनवरी शाम पांच बजे तक अप्लाई करना होगा। यही बैंक एक और मारुति Ritz की नीलामी कर रहा है, जिसका रिजर्व प्राइस 2.10 लाख है और बिड इंक्रीमेंट 5 हजार रुपए है।

कॉमर्शियल व्हीकल 2.60 लाख में

अगर आप कॉमर्शियल व्हीकल लेना चाहते हैं तो कॉरपोरेशन बैंक द्वारा SML isuzu का sartaj CNGE truck की नीलामी की जा रही है। इसका रिजर्व प्राइस 2.60 लाख रुपए है और आपको 5 हजार रुपए बढ़ा कर बोली की शुरुआत करनी होगी।

बस की नीलामी

कॉरपोरेशन बैंक, कोडूनगलूर ब्रांच द्वारा एक अशोक लेलेंड पीसीवी बस की नीलामी की जा रही है। केरल नंबर की इस बस का रिजर्व प्राइस 2 लाख रुपए है और आपको अर्नेस्ट मनी के रूप में 50 हजार रुपए जमा कराने होंगे।

आपको 10 हजार रुपए यानी कि 2 लाख 10 हजार रुपए से बोली की शुरुआत करनी होगी। बस का मॉडल 2013 का है। आप इस बोली में शामिल होना चाहते हैं तो आपको 27 दिसंबर पांच बजे तक अप्लाई करना होगा और आप 28 दिसंबर दोपहर 11.45 से 1.15 बजे तक बोली में हिस्सा ले सकते हैं।

टाटा नैनो

चैन्नई की अक्षय इमेजिंग सिस्टम प्राइवेट लिमिटेड द्वारा टाटा नैनो की नीलामी की जा रही है। 2014 मॉडल की इस कार का रिजर्व प्राइस 1 लाख रुपए है और आपको 5 हजार रुपए अधिक से बोली की प्रक्रिया शुरू करनी होगी। नीलामी 28 दिसंबर 2018 को शाम 3 से 4 बजे के बीच होगी। इसके लिए आपको 27 दिसंबर शाम चार बजे तक अप्लाई करना होगा।

अगर आप इन बोली में शामिल होना चाहते हैं तो आपको bankauctions.in पर व्हीकल कैटेगिरी में सर्च करके इन नीलामी के लिए अप्लाई कर सकते हैं।