इस गांव में पंचायत के सामने कर दिया जाता है दूल्हे दुल्हन को कमरे में बंद, बाद में पुछा जाता है दूल्हे से इस चीज का जवाब

भारत में आज भी कई जगहो पर खुलकर कुप्रथा को अंजाम दिया जाता है. लेकिन जब उच्च शिक्षित होने के बाद भी ऐसे कुप्रथा को अंजाम दिया जाए तो और भी शर्म की बात है, कंजारभाट समुदाय में शादी के बाद पंचायत द्वारा दुल्हन का वर्जिनिटी टेस्ट (virginity test) कराने का एक सनसनीखेज मामला सामने आया है।

शर्मनाक बात यह है कि लड़की और लड़का दोनों उच्च शिक्षित हैं। उनकी फैमिली भी पढ़ी-लिखी है। लड़का इंग्लैंड से उच्च शिक्षा लेकर इंडिया लौटा है। पंचायत 31 दिसंबर को बुलाई गई थी। इसका वीडियो सोशल मीडिया पर सामने आया है। डिप्टी चैरिटी कमिश्नर कृष्णा इंद्रेकर ने इस शर्मनाक घटना का खुलासा किया।

  • ऐसा बताया जा रहा है कि पुणे के कोरेगांव पार्क में इस कपल की शादी हुई थी। इसके बाद दूल्हे ने दुल्हन का वर्जिनिटी टेस्ट कराया। पंचायत के दौरान दूल्हा-दुल्हन को अकेले कमरे में बंद कर दिया गया। जबकि बाहर पंचायत बैठी रही।
  • उल्लेखनीय है कि कंजारभाट समाज में रिवाज है कि अगर दूल्हा चाहे तो दुल्हन को पंचायत के आदेश पर अपना वर्जिनिटी टेस्ट देना पड़ता है। अगर लड़की इसमें फेल हो जाती है, तो शादी टूट जाती है।
  • कंजारभाट समुदाय में वर्जिनिटी टेस्ट की कुप्रथा लंबे समय से चली आ रही है। इसका विरोध भी लगातार जारी है। इस नए मामले ने विरोध को और मुखर कर दिया है।
  • हैरान करने वाली बात यह है कि लड़के के पिता पुणे के पूर्व नगरसेवक रह चुके हैं। वहीं लड़की का पिता रिटायर पुलिस इंस्पेक्टर है। दूल्हे ने पंचायत के सामने लड़की के वर्जिनिटी टेस्ट की बात रखी थी।

वैज्ञानियों ने बनाया एक ऐसा कमाल का हीटर, माइनस 20 डिग्री में भी देगा गर्मी, सिर्फ 2 घंटे में कमरे का तापमान हो जाएगा 30 डिग्री

वैज्ञानियों ने एक ऐसा कमाल का हीटर बनाया है जो बर्फीले हालत और कितनी भी ठंड हो यह हीटर सिर्फ 2 घंटे में कमरे का तापमान 30 डिग्री  हो जाएगा, अगर आप भी सर्द भरी ठंड से राहत पाना चाहते हैं या बर्फिस्तान में घूमने जाने का प्लान कर रहे हैं तो आपके लिए आ गया है बुखारी हीटर। यह हीटर माइनस 20 डिग्री तापमान में भी गर्मी का एहसास कराएगा। ।

इस हीटर की खासियत यह है कि इससे न तो किसी तरह की जहरीली व नुकसानदायक गैस निकलेगी और न ही इसके फटने का खतरा होगा।

कमरा 30 डिग्री तापमान तक गर्म

यह बर्फीले इलाकों में ड्यूटी करने वाले सेना के जवानों के लिए लाभदायक होगा। इसके जरिए 2 घंटे में उनका बंकर या कमरा 30 डिग्री तापमान तक गर्म हो जाएगा। इसे दिल्‍ली के डिफेंस इंस्टीट्यूट ऑफ फिजियोलॉजी एंड अलाइड साइसेंस के अनुसंधान में तैयार किया गया है।

संस्थान ने केरोसिन से चलने वाला हीटर (बुखारी) तैयार किया है। इस बुखारी में तकनीक को अपग्रेड किया गया है। पहले जहरीली गैसें भी स्ट्रक्चर के जरिए अंदर निकलती थीं और फटने का भी डर रहता था।अब इसमें कनवेक्शन मैथड से रेडिएशन जेनरेट कर जामुनी रंग की फ्लेम के जरिए गर्माहट निकलती है। बुखारी की लौ से निकलने वाली जहरीली गैसों को बाहर निकालने के लिए छत के साथ अलग पाइप लगी है,जिससे कार्बन डाइऑक्साइड, कार्बन मोनो ऑक्साइड व हाईड्रोजन सल्फाइड जैसी गैसें सीधे बाहर निकल जाएंगी

जालंधर की लवली प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी (एलपीयू) में चल रही 106वीं इंडियन साइंस कांग्रेस में इसे प्रदर्शित किया गया है। नॉर्थ सिक्किम में कामयाब ट्रायल के बाद अब आर्मी से एक लाख बुखारी की डिमांड आ चुकी है। खास बात यह भी है कि छत पर निकली पाइप को इस तरीके से डिजाइन किया गया है कि चारों दिशाओं से कहीं से भी हवा चले तो वो पाइप के अंदर नहीं आ पाएगी। इसमें एग्जॉस्ट फैन भी दिया गया है।

सर्दियों में हरे चारे के लिए करे इस घास की काश्त, दूध उत्पादन में होगी 30 फीसदी तक बढ़ोतरी

सर्दियों में पशु को अगर संतुलित और सही आहार नहीं मिलता है तो वह बीमार होने लगते हैं जिस वजह से दूध के उत्पादन में भी कमी आनी शुरू हो जाती है क्योंकि पशुपालक भी सर्दियों में पशुओं को हरी बरसीम खिलाते है उससे भी दूध में ज्यादा उत्पादन नहीं हो पाता.

इसलिए पशुपालको को सर्दियों में पशुओं को हरी बरसीम की जगह ‘मक्खन घास’ खिलानी चाहिए. क्योंकि यह पशुओं के लिए काफी पौष्टिक और फायदेमंद है. इसके सेवन से पशुओं के दूध उत्पादन में 25 – 30 फीसदी तक बढ़ोतरी होती है.क्योंकि हरी बरसीम में बहुत जल्दी कीट लगता है, पर मक्खन घास में कीट लगने की समस्या नहीं होती. यह घास सर्दियों में उगाई जाती है.इसकी बुवाई यदि अक्टूबर माह में की जाए तो आप इसकी कटाई 35- 40 दिनों के अंदर कर सकते है.

इसकी दूसरी कटाई भी 20- 25 दिनों के अंदर की जा सकती है. ‘मक्खन घास’ की सालभर में 5-6 बार आसानी से कटाई की जा सकती है. इस घास के बीज एक हेक्टर प्रति किलो की दर से लगते है क्योंकि यह बरसीम की बुवाई के समय बोया जाता है. यह बरसीम की तुलना में काफी अच्छा है. पशुओ के लिए इसका सेवन करना दूध उत्पादन को बढ़ाता है.

इसके अंदर 14-15 फीसदी प्रोटीन होता है. इसके बीज बाजार से खरीदे जा सकते है. इसकी सबसे पहले शुरुआत चार साल पहले पंजाब, हरियाणा में हुई थी. सबसे पहले यह 2 हज़ार किलो से शुरू हुई और आज इसका पूरे पंजाब में 100 मीट्रिक टन से भी ज्यादा बीज लगता है. इसकी बिक्री सबसे ज्यादा पंजाब, हरियाणा में होती है. इसको 150 टन से भी ज्यादा किसानों ने ख़रीदा है. इसका बीज बाजार में 400 रुपये प्रति किलो तक बिकता है.

ऐसे करें बुवाई

इसकी खेती सभी तरह की मिट्टी में की जा सकती है, जिसका पीएच 6.5 से 7 तक हो। मक्खन ग्रास शीतकालीन चारा फसल है, जिसे घर-घर काटा जा सकता है। यह मैदानी एवं पहाड़ी इलाकों में बुवाई के लिए उपयुक्त है। सभी तरह की मिट्टी में इसकी शीतकालीन बुवाई नवंबर से दिसंबर में की जा सकती है।

ग्रीष्मकालीन चारा फसल के लिए इसे मार्च से अप्रैल के बीच बोया जा सकता है। बुवाई के समय खेत में नमी रहनी चाहिए। 10 से 15 दिनों में अंकूरण होना शुरू हो जाता है। मक्खन ग्रास के बीज वजन में हल्के होते है। वहीं बरसीम के साथ मिलाकर भी इसे बोया जा सकता है। बीजों के अंकुरण के बाद दो-तीन सप्ताह में एक सिंचाई की जरूरत होती है। इसके बाद 20 दिनों के बाद जरूरत के अनुसार पानी दिया जाना जरूरी है।

इन शहरों से होगी Jio Gigafiber की शुरुआत, पूरे 3 महीने तक फ्री मिलेगी सर्विस

हाल में ही गीगा फाइबर को लेकर ख़बर आई थी की इस सर्विस की शुरुआत सबसे पहले देशभर के 30 शहर में की जाएगी। Reliance Jio ने साल 2018 में Jio GigaFiber के साथ खुद की ब्रॉडबैंड सर्विस की शुरुआत की थी।

लेकिन साल खत्म हो चूका है और इसके लॉन्चिंग का इंतजार काफी दिनों से देशभर के लोग कर रहे हैं। उम्मीद है कि इस सर्विस इस साल 2019 में शुरू किया जा सकता है। कंपनी पिछले कई दिनों से इसके लिए प्री-व्यू ऑफर भी जारी कर रही है। आइए जानते हैं जियो गीगा फाइबर के प्लान के बारे में…

कंपनी के प्री-व्यू ऑफर की माने तो इस सर्विस को लेने वाले यूजर्स को 90 दिनों तक हाई-स्पीड इंटरनेट मिलेगा। इसके अलावा हर महीने 100 जीबी डाटा भी दिया जाएगा। साथ ही खबर है कि कंपनी अपने यूजर्स को शुरुआत के तीन महीने 100Mbps की स्पीड से 100GB मंथली डेटा फ्री में देगी।

यानी तीन महीने आपको फ्री में सर्विस मिलेगी। इसके बाद आपको रकम चुकानी होगी।बता दें कि यूजर्स को शुरुआत में सिक्योरिटी डिपोजिट के तौर पर 4,500 रुपये चुकाने होंगे। इतना ही नहीं इस सर्विस को लेने के दौरान आपको गीगा फाइबर और जियो टीवी रॉउटर फ्री में मिलेगा।

इसके अलावा कंपनी 750, 999 और 1,299 रुपये का प्लान भी पेश कर सकती है।कंपनी के आने वाले ये सभी प्लान्स 1 महीने की वैधता वाले होंगे।जियो गीगा फाइबर को जिन 30 शहरों में सबसे पहले शुरू किया जाएगा इनमें बेंगलुरू, चेन्नई, पुणे, लखनऊ, कानपुर, रायपुर, नागपुर, इंदौर, ठाणे, भोपाल, गाजियाबाद,

लुधियाना, कोयंबटूर, आगरा, मदुरई, नासिक, फरीदाबाद, मेरठ, राजकोट, श्रीनगर, अमृतसर, पटना, इलाहाबाद, रांची, जोधपुर, कोटा, गुवाहाटी, चंडीगढ़, सोलापुर और नई दिल्ली शामिल हैं। मतलब इन शहरों के यूजर्स को जियो की यह सर्विस सबसे पहले मिलेगी।

सरकार के साथ मिलकर मेडिकल स्टोर खोल सकते हैं आप, 40 फीसदी तक मिलेगा कमीशन, ऐसे करें अप्लाई

अब आप सरकार के साथ मिलकर मेडिकल स्टोर खोल सकते हैं, अगर आप मेडिकल के क्षेत्र में अपना बिजनेस शुरू करना चाहते हैं तो यह आपके लिए अच्छा मौका साबित हो सकता है। केंद्र की मोदी सरकार आपको बिजनेस करने का एक सुनहरा मौका दे रही है। मोदी सरकार ने अमृत मेडिकल्स की फ्रेंचाईजी उन लोगों को बांटने का फैसला किया है जो यह बिजनेस करना चाहते हैं।

सरकार की इस योजना के तहत बिजनेस करने वाले लोगों को ब्रांडेड दवाएं और इंप्लांट्स सस्ते दामों में मिल सकेंगे। सरकार की इस योजना के चलते देश के कई शहरों में अमृत मेडिकल स्टोर खोले जाएंगे।

9 जनवरी को निकलेगा टेंडर

स्वास्थ्य मंत्रालय ने हाल ही में बोर्ड की मीटिंग में यह फैसला लिया है। इसके चलते HLL की रिटेल बिजनेस चेन अमृत मेडिकल्स की फ्रेंचाइजी बांटी जाएगी। इन दुकानों में ब्रांडेड दवाएं और इंप्लांट 35 से 75 पर्सेंट तक कम कीमतों में मिलेंगी।

इसके साथ ही दुकानों की फ्रेंचाइजी लेने वाले लोगों को दवाईयों पर 5 से 40 पर्सेंट तक का कमीशन भी मिलेगा। इस फ्रेंचाइजी के लिए 9 जनवरी को टेंडर निकाला जाएगा। यदि आप भी सरकार के साथ बिजनेस करना चाहते हैं और पैसे कमाना चाहते हैं तो यह मौका आपके लिए काफी खास है।

कैसे मिलेगी फ्रेंचाइजी

यदि आप भी इसके लिए फ्रैंचाइजी लेना चाहते हैं तो इसकी शहर के हिसाब से अलग फीस है। इस फीस 7.5 लाख रुपए तक हो सकती है। जिसके बाद ही कोई इसकी फ्रेंचाइजी ले सकता है। इसके बाद फ्रेंचाइजी ओनर दवाओं और इंप्लाट सप्लाई का जिम्मदार होगा। लोगों को इस फ्रैंचाईजी को लेने के लिए सरकार की शैक्षणिक योग्यता, अनुभव, लोकेशन पर खरा उतरना होगा।

बैंक कर रहे हैं नीलामी, सिर्फ 1.35 लाख में मिलेगी Maruti Ritz और 2.10 लाख में बस

बैंक उन गाडियों की नीलामी कर रहे हैं जो लोग बैंक का लोन नहीं लौटा पाते। आप भी इस नीलामी में हिस्सा लेकर अपनी पसंद की गाड़ी खरीद सकते हैं। कई गाड़ियां काफी सस्ते में नीलाम हो रही हैं। हम आपको ऐसी ही कुछ गाड़ियों की जानकारी देने जा रहा है। आइए, जानते हैं इन गाड़ियों की डिटेल और कैसे आप इस नीलामी में हिस्सा ले सकते हैं।

1.35 लाख में मिलेगी  Maruti Ritz

कॉरपोरेशन बैंक, महिपालपुर, दिल्ली की ब्रांच द्वारा Maruti Ritz की नीलामी की जा रही है। दिल्ली नंबर की इस गाड़ी का मॉडल मई 2016 का है। इसका रिजर्व प्राइस 1.30 लाख रुपए है और यदि आप बोली लगाना चाहते हैं तो आपको 5 हजार अधिक यानी कि 1.35 लाख रुपए से बोली शुरू करनी होगी।

22 जनवरी 2019 को 11.45 से दोपहर 1.15 बजे तक बोली होगी और इसके लिए आपको 21 जनवरी शाम पांच बजे तक अप्लाई करना होगा। यही बैंक एक और मारुति Ritz की नीलामी कर रहा है, जिसका रिजर्व प्राइस 2.10 लाख है और बिड इंक्रीमेंट 5 हजार रुपए है।

कॉमर्शियल व्हीकल 2.60 लाख में

अगर आप कॉमर्शियल व्हीकल लेना चाहते हैं तो कॉरपोरेशन बैंक द्वारा SML isuzu का sartaj CNGE truck की नीलामी की जा रही है। इसका रिजर्व प्राइस 2.60 लाख रुपए है और आपको 5 हजार रुपए बढ़ा कर बोली की शुरुआत करनी होगी।

बस की नीलामी

कॉरपोरेशन बैंक, कोडूनगलूर ब्रांच द्वारा एक अशोक लेलेंड पीसीवी बस की नीलामी की जा रही है। केरल नंबर की इस बस का रिजर्व प्राइस 2 लाख रुपए है और आपको अर्नेस्ट मनी के रूप में 50 हजार रुपए जमा कराने होंगे।

आपको 10 हजार रुपए यानी कि 2 लाख 10 हजार रुपए से बोली की शुरुआत करनी होगी। बस का मॉडल 2013 का है। आप इस बोली में शामिल होना चाहते हैं तो आपको 27 दिसंबर पांच बजे तक अप्लाई करना होगा और आप 28 दिसंबर दोपहर 11.45 से 1.15 बजे तक बोली में हिस्सा ले सकते हैं।

टाटा नैनो

चैन्नई की अक्षय इमेजिंग सिस्टम प्राइवेट लिमिटेड द्वारा टाटा नैनो की नीलामी की जा रही है। 2014 मॉडल की इस कार का रिजर्व प्राइस 1 लाख रुपए है और आपको 5 हजार रुपए अधिक से बोली की प्रक्रिया शुरू करनी होगी। नीलामी 28 दिसंबर 2018 को शाम 3 से 4 बजे के बीच होगी। इसके लिए आपको 27 दिसंबर शाम चार बजे तक अप्लाई करना होगा।

अगर आप इन बोली में शामिल होना चाहते हैं तो आपको bankauctions.in पर व्हीकल कैटेगिरी में सर्च करके इन नीलामी के लिए अप्लाई कर सकते हैं।

अपने आप आने लगे किसानों के बैंक खातों में पैसे, देख कर किसानों के चेहरों पर आई खुशी

किसानों के बैंक खातों में अपने आप पैसे आने लगे है, अपने खाते में पैसा जमा होने से किसानों के चेहरों पर खुशी छा गई, महाराष्ट्र के बीड में एक अजीब मामला सामने आया है. वहां के लोगों के बैंक अकाउंट में अचानक से पैसे जमा होने लगे.

किसानों के बैंक अकाउंट में 500 से 2000 रुपये अचानक जमा हुए। ये बात अलग है कि अभी तक तक ये पता नहीं चल सका है कि खातों में पैसा किसने जमा कराए। बीड जिले के दासखेड गांव के किसानों के बैंक खाते में 500 रुपये,1000 और 2000 रुपये जमा कराने की खबर आई।

किसानों ने पहले सोचा की यह पैसा किसी सरकारी स्कीम का होगा या फिर फसल बीमा का है, लेकिन अब यह पैसा उस व्यक्ति के बैंक खाते में भी जमा किया जा रहा है जिसके पास कोई खेत नहीं है। अचानक अपने खाते में पैसा जमा होने से किसानों के चेहरों पर खुशी छा गई तो इससे साथ ही उनके दिल और दिमाग में तरह तरह की बातें आने लगी कि आखिर वो दिलदार शख्स या संस्था कौन जो उनके लिए मेहरबान हो गई।

कुछ दिन पहले केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने बयान दिया था कि, “मोदी सरकार हर एक व्यक्ति के बैंक खाते में 15 लाख रुपये जमा करेंगें | पैसे आने के बाद लोगों के बीच इस बात की अफवाह भी फैल गई कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पैसे खाते में भेजकर अपना चुनावी वादा पूरा कर रहे हैं. जिन लोगों के खाते में पैसे आए हैं वह काफी खुश दिखाई दे रहैं हैं.

मुफ्त में 25000 रुपए का पेट्रोल जीतने का मौका, बस करना होगा यह काम

 

अगर आप पेट्रोल के बढ़ते दामों से परेशान हैं तो अपको अब बिल्कुल भी चिंता करने की जरूरत नहीं है, क्योंकि देश की सबसे बड़ी तेल कंपनी आईओसीएल आपके लिए एक खास ऑफर लेकर आ रही है। देश की सबसे बड़ी सरकारी तेल कंपनी इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन लिमिटेड (IOCL) देशभर के लोगों के लिए एक नया कांटेस्ट लेकर आई है। इस कांटेस्ट में हिस्सा लेकर देश का कोई भी व्यक्ति मुफ्त में 25 हजार रुपए का पेट्रोल जीत सकता है।

कंपनी की ओर से दी गई जानकारी के अनुसार, लोगों के भरोसे, निष्ठा और विश्वास को धन्यवाद देने के लिए यह कांटेस्ट शुरू किया गया है। कंपनी के अनुसार, इस कांटेस्ट में हिस्सा लेने वाले लोगों को 5 लाख रुपए तक के फ्यूल वाउचर दिए जाएंगे।

3 जनवरी से शुरू हो रही प्रतियोगिता

IOCL की ओर से इस कांटेस्ट को ‘आई लव इंडियन ऑयल’ नाम दिया गया है। इसमें भाग लेने वालों को #ILoveIndianOil को साथ जवाब देने होंगे। इस कांटेस्ट में 3 से 9 जनवरी तक हिस्सा लिया जा सकता है। हालांकि, इसके लिए इंडियन ऑयल की शर्तों का पालन करना होगा।

इस कांटेस्ट में ट्वीटर और फेसबुक के सभी यूजर हिस्सा ले सकते हैं। इस कांटेस्ट में इंडियन ऑयल कर्मचारी और कंपनी से जुड़े एजेंट और कर्मचारियों के परिवार भी हिस्सा ले सकते हैं। सही जवाबों को कांटेस्ट में शामिल किया जाएगा। फेसबुक, ट्वीटर और अन्य सभी प्लेटफॉर्म पर विनर की घोषणा की जाएगी।

सभी को मिलेगा स्पेशल गिफ्ट कूपन

इस कॉन्टेस्ट में फर्स्ट प्राइज के लिए 5 विजेताओं का चयान किया जाएगा। फर्स्ट प्राइज वाले विजेताओं को 25 हजार रुपए का इंडियन ऑयल फ्यूल वाउचर दिया जाएगा। सेकेंड प्राइज के लिए 10 लोगों का चयन किया जाएगा और उनको इनाम के रुप में 10-10 हजार के फ्यूल वाउचर दिए जाएंगे। साथ ही थर्ड प्राइज के रुप में 30 विजेताओं को 5-5 हजार रुपए का वाउचर दिया जाएंगे। इसके साथ ही इस प्रतियोगिता में हिस्सा लेने वाले 60 प्रतिभागियों को 2-2 हजार रुपए के सांत्वना पुरस्कार भी दिए जाएंगे।

सभी विजेताओं को पहले कंपनी की ओर से मैसेज भेजा जाएगा। बाद में ट्वीटर और फेसबुक पर विजेताओं के नाम की घोषणा की जाएगी। इस कांटेस्ट के बारे में अधिक जानकारी https://www.facebook.com/notes/indian-oil-corporation-ltd/i-love-indianoil-contest-terms-conditions/2249355335089423/ से ली जा सकती है।

मोदी सरकार देगी किसानों को ये बड़ा तोहफा, हर किसान को प्रति एकड़ मिलेगी 4000 रुपए की मदद और इतने लाख का ब्याज मुक्त कर्ज

2019 साल मोदी सरकार के लिए काफी अहम माना जा रहा है. दरअसल, कुछ ही महीनों में  लोकसभा चुनाव होने वाले हैं और यह मोदी सरकार के लिए किसी अग्‍निपरीक्षा से कम नहीं है. ऐसे में लोकसभा चुनाव से पहले केंद्र सरकार अन्नदाताओं को बड़ा तोहफा देने की विचार कर रही है। सरकार किसानों को बड़ी राहत की योजना रही है। मोदी सरकार किसानों को 4, 000 प्रति एकड़ रुपए आर्थिक सहायदा देने जा रही है।

मोदी सरकार खेती के लिए हर सीजन में 4000 रुपए प्रति एकड़ की दर से आर्थिक मदद करेगी। यह पैसा सीधे किसानों के बैंक अकाउंट में भेजा जाएगा। जानकारी के मुताबिक सरकार किसानों का एक लाख तक ब्याज मुक्त करने की भी घोषणा करेगी। इसी हफ्ते इसका ऐलान किया जाएगा। योजना पर सालाना खर्च 2.3 लाख करोड़ का होगा।

किसानों के लिए योजनाएं लाने पर विचार

पिछले महीने केंद्र सरकार देश के किसानों को राहत देने पर विचार करने वाली खबरें आई थी । सरकार सही समय पर कर्ज भुगतान करने वाले किसानों की ब्याज माफ कर सकती है। इसके लिए सरकार लगातार उच्चस्तरीय बैठकें कर रही हैं।

अगर ऐसा होता है तो ये किसानों के लिए बड़ी राहत होगी। दरअसल तीन राज्यों में हार के बाद मोदी सरकार किसानों को लेकर ज्यादा चिंतित दिख रही है। लगातार किसानों के लिए की योजनाएं लाने पर विचार कर रही है। साथ ही मोदी सरकार 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने की दिशा में काम कर रही है। 2018 में सरकार ने किसानों को रबी फसल पर एमएसपी बढ़ा दी थी।

पश्चिम बंगाल सरकार ने भी की घोषणा

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी प्रदेश के किसानों के लिए बड़ा पिटारा खोला था। किसानों को ऋण मुक्त और 5 हजार रुपए प्रति एकड़ देने की घोषणा की थी। इससे पहले कांग्रेस ने तीन राज्यों में जीत के बाद किसानों का कर्ज माफ कर दिया है।

कांग्रेस ने चुनावी घोषणापत्र में कहा था कि सरकार अगर आएगी तो पार्टी किसनों का कर्जमाफ कर देगी। इससे पहले यूपी में योगी सरकार ने भी किसानों की कर्जमाफी की थी।

कंपनियों में कार सर्विस के नाम पे इस तरह ठगे जाते हैं कस्टमर्स से हजारों रूपए

कार सर्विस के नाम पर कंपनियों द्वारा आजकल कस्टमर्स से हजारों रूपए ठगे जाते हैं, आइए जानते हैं कैसे आप इस ठगी का पता लगा सकते हैं..कार के मालिकों को कार की सर्विस तो कभी न कभी करानी पड़ती है, लेकिन अक्सर आपने लोगों को लोकल सर्विसिंग सेंटर की जगह ऑथराइज्ड सर्विस सेंटर पर जाते देखा होगा।

दरअसल लोगों को भरोसा होता है कि ऑथराइज्ड सर्विस सेंटर में उनकी गाड़ी सेफ होगी और उसकी ठीक तरह से सर्विसिंग होगी लेकिन आपको बता दें कि आपका ये सोचना भी गलत है।अक्सर ऑथराइज्ड सर्विस सेंटर लोगों से पैसा ऐंठने के लिए तरह के तरह के फ्रॉड करते हैं जिनका पता आम आदमी को नहीं चल पाता लेकिन उनकी जेब पर इसका असर जरूर दिखता है।

तो चलिए आज हम आपको बताते हैं उन धोखों के बारे में जो ये सर्विस सेंटर पर दिये जाते हैं। सर्विसिंग में कम से कम 1 पूरा दिन लग जाता है और आजकल इतना वक्त किसी के पास नहीं होता।इसी बात का सर्विस सेंटर वाले फायदा उठाते हैं।

इंजन ऑइल बदलने में करते हैं कोताही- इंजन ऑइल को सर्विस सेंटर पर सही तरीके से बदला नहीं जाता या तो टॉप कर दिया जाता है या बिना सफाई के भर दिया जाता है इसके अलावा ऑइल फ़िल्टर को न बदलना, जरूरत के हिसाब से टायर्स को रोटेशन न करना।

इससे कार के इंजन पर बुरा असर पड़ता है और इंजन खराब होने का मतलब होता है भारी नुकसान।सही पार्ट्स को बताते हैं खराब- ये लोग जिस पार्ट की जरूरत भी नहीं होती उसको भी खराब बता देते हैं,

हममें से काफी लोग इन पर भरोसा कर अपनी कार सर्विस सेंटर छोड़ कर अपने घर या दफ्तर चले जाते हैं, ज्यादातर मामलों में सर्विस के नाम पर गाड़ियों को धो कर, साफ़ करके पकड़ा दी जाती है और बेचारा ग्राहक ठगा जाता है।बिना बदले ही ये लोग पार्ट्स के पैसे ले लेते हैं।यानि कस्टमर्स को चूना लगाते हैं।