सिर्फ 20 दिनों में थायराइड की समस्या से निजात पाने के लिए करें इन चीजों का इस्तेमाल

अगर आपको लगातार थकान, सिर चकराना, वजन बढ़ना और मांसपेशियों की कमजोरी जैसी समस्याओं से जूझना पड़ रहा है तो ये थायराइड के लक्षण हो सकते हैं। ऐसे में फाइबर युक्त आहार का सेवन कर इस बीमारी से बचा जा सकता है।

इन चीजों का करें इस्तेमाल :

गाजर में ऐंटीऑक्सिडेंट्स और बीटा कैरोटीन तत्व होते हैं जो थाइरॉइड के हार्मोंस को नियंत्रित करते हैं। दिनभर में एक गाजर खाना जरूरी है। इसमें आयरन और फाइबर की अधिकता होती है जो थाइरॉइड में फायदेमंद है। अगर आप रोज सुबह खाली पेट एक गाजर को धोकर उसे कच्चा खाएंगे तो 20 दिन के अंदर अंदर आपकी थाइराइड ठीक होने लगेगी।

इसके साथ ही  दिन में एक बार एक कच्चा चुकंदर जरूर खाएं। अनानास भी ऐंटीऑक्सिडेंट्स और एंटी इन्फ्लेमेट्री तत्व भरपूर मात्रा में होते हैं। ऐपल में फाइबर और पेक्टिन होता है। यह शरीर के जहरीले पदार्थों को बाहर निकालता है। इसमें थाइरॉइड को नियंत्रित करने के गुण मौजूद हैं। इससे इम्यून सिस्टम बेहतर होता है और थाइरॉइड हार्मोन नियंत्रित रहता है।

इन चीजों के इस्तेमाल से बचें :

जिन लोगों का थाइरॉइड बढ़ा हो उन्हें गन्ना, डेक्सट्रोस, हाई फ्रूटस कॉर्न सिरप आदि का सेवन नहीं करना चाहिए। इनमें मौजूद कैलरी और शुगर से ब्लड शुगर लेवल बढ़ सकता है। सॉफ्ट ड्रिंक, पैन केक, जैम/जेली, कुकीज़, केक, पेस्ट्री, कैंडी, दही, इन सबका भी सेवन नहीं करना चाहिए।

ज्यादा नमक वाले आहार :

नमक से थाइरॉइड ग्रंथि ज्यादा प्रभावित होती है इसलिए हाइपोथाइरॉडिज्म से ग्रसित लोगों को ज्यादा नमक का खाना नहीं खाना चाहिए। समुद्री शैवाल, कैल्प और ऐसा कोई भी सी-फूड न लें जिसमें आयोडीन ज्यादा होता है। हाइपोथाइरॉडिज्म में शुद्ध दूध नहीं लेना चाहिए।

मलाई या क्रीम निकला हुआ दूध लें जो पचाने में आसान और फायदेमंद होता है। अगर आप पहले से ही हाइपोथाइरॉडिज्म से पीड़ित हैं तो आपको कॉफी, शुगर और अन्य उत्तेजक पदार्थों को नहीं लेना चाहिए क्योंकि इनसे थाइरॉक्सिन ज्यादा पैदा होता है।