दुनिया का सबसे ऊंचा पेड़, दिल्ली का कुतुब मीनार भी इसके आगे लगेगा बौना

पेड़-पौधों के बिना इंसान के जीवन की कल्पना नहीं की जा सकती. हमें इनसे न सिर्फ ऑक्सीजन मिलती है, बल्कि हमारे जीवन चक्र में भी इनका काफी योगदान है. आइए इसी कड़ी में आपको पेड़ों से जुड़े कुछ रोचक तथ्यों के बारे में बताते हैं.क्या आप जानते हैं कि दुनिया का सबसे ऊंचा जीवित पेड़ रेडवुड नेशनल पार्क, कैलिफोर्निया में स्थित है.

इसकी ऊंचाई करीब 115.85 मीटर है. दिल्ली में स्थित कुतुब मीनार से भी ऊंचे इस पेड़ की तुलना कुछ और चीजों से करें तो पाएंगे कि यह अमेरिकी संसद भवन और स्टेच्यू ऑफ लिबर्टी से भी कहीं ज्यादा ऊंचा है.

इस पेड़ का नाम हाइपर्शन है. इस पेड़ की खोज साल 2006 में हुई थी. दुनिया का सबसे लंबा पेड़ होने की वजह से इसका नाम गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज है. रेडवुड नेशनल पार्क में खड़ा यह पेड़ काफी दूरी से साफ नजर आता है.

क्यों जरूरी हैं पेड़-

एक पेड़ सालभर में करीब 20 किलो धूल और 20 टन कार्बन डायऑक्साइड सोखता है. पेड़ हर साल 700 किलोग्राम ऑक्सीजन उत्सर्जित करता है. गर्मियों के वक्त पेड़ के नीचे तापमान सामन्या से 4 डिग्री कम रहता है. इसके अलावा एक पेड़ हर साल करीब एक लाख वर्ग मीटर दूषित हवा फिल्टर करता है.

7 वर्ष तक बढ़ा सकता है आयु-

विस्कॉन्सिन विश्वविद्यालय द्वारा किए गए एक शोध में पता चला है कि जिन लोगों के घर के बाहर पेड़ होते हैं उनमें मानसिक अवसाद की शिकायत कम देखने को मिलती है. कनाडा के जर्नल साइंटिफिक रिपोर्ट्स के मुताबिक घर के आस-पास यदि 10 पेड़ हों तो आयु में 7 साल तक की वृद्धि हो सकती है.