अब पेट्रोल, डीजल या CNG से नहीं चलेंगी कारें! जल्द ही बदलेगा ये बड़ा नियम

2022 में हर सेक्टर में काफी बड़े बदलाव देखने को मिलने वाले हैं और ऐसा ही एक बदलाव ऑटो सेक्टर में भी आने वाला है। इस बदलाव के बाद अब पेट्रोल, डीजल या CNG कारें भारतीय सड़कों पर नहीं चलेंगी। आपको बता दें कि सरकार भारतीय कार बाजार में BS6 कंम्पलाइट इंजन को चलन में लाने के बाद, अब फ्लेक्सिबल-फ्यूल इंजन पर जोर दे रही है।

केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी द्वारा हाल ही में कार निर्माताओं को सलाह दी है कि अगले 6 महीने के अंदर वाहनों में फ्लेक्सिबल-फ्यूल इंजन लगाए जाएं। कुछ समय पहले ही गडकारी द्वारा सुचना दी गई थी कि अगले छह महीनों में सरकार भारत में फ्लेक्स-फ्यूल इंजन को शुरू करने के लिए आदेश जारी कर सकती है।

Advertisement

और अब उन्होंने हाल ही में फ्लेक्स-फ्यूल इंजन की एक फाइल पर हस्ताक्षर करके कार निर्माताओं को ऐसे इंजन पेश करने की सलाह दी है जो 100% इथेनॉल या पेट्रोल पर चल सकते हैं। कर कंपनियों को ऐसा करने के लिए छह महीने का समय दिया गया है।

आपको बता दें कि ‘फ्लेक्स-फ्यूल इंजन’ एक ऐसा इंजन है जो ज्यादा प्रकार के ईंधन और मिश्रण पर भी चल सकता है। इस इंजन को आमतौर पर, पेट्रोल और इथेनॉल या मेथनॉल के मिश्रण से चलाया जाता है। यानि कि इस इंजन को बिना किसी दिक्कत के दूसरे ईधन से भी चलाया जा सकता है। इस समय ऐसे इंजन्स का सबसे ज्यादा इस्तेमाल ब्राजील में किया जा रहा है।

फ़िलहाल सरकार द्वारा एडवाइजरी जारी कर दी गई है और वाहन निर्माता कंपनियों को ऐसे इंजन बनाने के लिए 6 महीने का समय दिया गया है। यानि अगर 6 महीने में कंपनियां ऐसे इंजन बना लेती हैं तो जून 2022 तक हमें इन फ्लेक्सिबल इंजन वाली गाड़ियां भारतीय मार्किट में देखने को मिलेंगी।