अपने बैंक खाते में कभी ना रखें 5 लाख से ज्यादा रुपए, वरना हो जायेगा ये भारी नुकसान

आज के समय में सभी का बैंक में बचत खाता होता है। लेकिन ज्यादातर लोगों को ये नहीं पता कि इस बचत खाते में कितनी राशि रखना सेफ है। यानि कि किसी कारण अगर बैंक डूब जाता है तो आपको कितनी रकम वापस मिलेगी। बता दें कि इस नियम को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बजट 2020 में बदला था। इसके अनुसार आपकी बैंक में रखी 5 लाख रुपए तक की रकम सुरक्षित है।

दरअसल नियम के बदलने से पहले बैंक गारंटी सिर्फ 1 लाख रुपए थी। लेकिन अब 4 फरवरी 2020 से इस नियम को लागू कर दिया गया है। अब किसी बैंक के डूबने पर आपके खाते में जमा 5 लाख रुपए तक सुरक्षित हैं। यानि आपके खाते में कितने भी पैसे हों कुल रकम सिर्फ 5 लाख रुपए तक ही सुरक्षित होगी।

Advertisement

मसलन अगर किसी के अकाउंट में 10 लाख रुपए और अलग से FD भी कराई हुई है। ऐसे में बैंक डूबने या दिवालिया होने पर आपको सिर्फ 5 लाख रुपए की रकम इंश्योयर्ड होगी। SBI के एक अधिकारी का कहना है कि आपके द्वारा बैंक में जमा किये गए पैसे की सुरक्षा की जिम्मेदारी सरकार की होती है।सरकार किसी बैंक को डूबने नहीं दे सकती, क्योंकि इसकी बड़ी राजनीतिक कीमत उसे चुकानी पड़ सकती है।

किसी भी बैंक या फाइनेंशियल सर्विस देने वाली कंपनी के क्रिटिकल कैटिगरी में आने की स्थिति में उसे संभालने के लिए प्लान एक तैयार किया जाता है। इसके तहत बैंक की लायबिलिटी को कैंसिल करने जैसे कदम भी उठाए जा सकते हैं। माहिरों के अनुसार पिछले 50 साल में देश में शायद ही कोई बैंक दिवालिया हुआ है।

लेकिन फिर भी आप अलग अलग बैंक में अपना पैसा रखकर जोखिम घटा सकते हैं। जमा बीमा कवर को 1 लाख रुपए से 5 लाख रुपए तक बढ़ाने का यह बदलाव करीब 27 साल यानी 1993 के बाद पहली बार किया गया है। इसी तरह इसे आने वाले समय में और भी बढ़ाया जा सकता है।