यहां एक डॉलर 1.25 लाख के बराबर, बोरे में भर कर ले जाते हैं पैसे

तुर्की आर्थ‍िक संकट के चलते रुपया डॉलर के मुकाबले 70 के पार पहुंच गया है. तुर्की की मुद्रा लिरा में कमजोरी से डॉलर लगातार मजबूत हो रहा है. भले ही भारत के रुपये में डॉलर के मुकाबले काफी ज्यादा गिरावट देखी जा रही है. लेक‍िन एक ऐसा देश भी है, जहां 1 डॉलर की वैल्यू वहां की मुद्रा में 1.25 लाख है.

हम बात कर रहे हैं वेनेजुएला की. अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) के मुताबिक यहां हालात बद से बदतर हो गए हैं. आईएमएफ का अनुमान है कि इस साल वेनेजुएला में महंगाई दर 10 लाख फीसदी के रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच जाएगी.

यहां महंगाई इतनी ज्यादा बढ़ गई है कि लोगों को रोजमर्रा की राशन खरीदने के लिए कार भर कर और बोरों में पैसे ले जाने पड़ते हैं. यहां की मुद्रा डॉलर के मुकाबले इतनी ज्यादा गिर गई है कि यहां के केंद्रीय बैंक ने लाखों रुपये के नोट भी छाप लिए हैं.

यहां पर एक दर्जन अंडों के लिए 12 हजार तक चुकाने पड़ रहे हैं. एक दूध का पैकेट खरीदने के लिए हजारों खर्च करने पड़ते हैं. अति महंगाई की वजह से यहां पर भुखमरी के हालात पैदा हो गए हैं.

आईएमएफ ने कहा है कि यहां लोगों के हाल दिन-प्रतिदिन बहुत खराब होते जा रहे हैं. आलम यह है कि लोग गटरों और सीवरों में उतर रहे हैं. ये लोग ऐसा इसलिए कर रहे हैं ताकि कोई सोने का टुकड़ा या कुछ रत्न हाथ लगे, तो एक दिन का खाना खाया जाए.

सीएनएन की एक रिपोर्ट के मुताबिक नवंबर, 2017 में यहां एक हफ्ते का गुजारा करने के लिए लोगों को 7 लाख बॉलिवर खर्च करने पड़ रहे थे. अब ज‍ब यहां महंगाई की दर लगातार बढ़ रही है, तो इसमें भी बढ़ोत्तरी हो गई है.

आ गई समोसा बनाने वाली आटोमेटिक मशीन, एक घंटे में बनाती है 3000 समोसा , वीडियो देखें

समोसा भारत में खाया जाना सब से लोकप्रिय स्नैक्स है । इसकी वजह से इसकी मांग बहुत ज्यादा है । आप समोसा बनाने का बिज़नेस शुरू करके अच्छा खासा मुनाफा कमा सकते है । लेकिन इस बिज़नेस को शुरू करने के लिए सबसे ज्यादा जरूरत लेबर की होती है । लेकिन लेबर महंगी होने की वजह से इसको बनाने का खर्च काफी बढ़ जाता है ।

ऐसे में अब एक ऐसी मशीन त्यार हो गई है जिसमे आपको सिर्फ मैदा और मसाला डालना है और यह मशीन अपने आप ही समोसे त्यार कर देती है । और सिर्फ एक आदमी ही समोसा बनाने का सारा काम कर सकता है ।

भारत में बहुत सारी कंपनी यह मशीन त्यार करती है जिनकी कीमत 3.75 से 5 लाख के करीब है । यह मशीन एक घंटे में 2000 से 3000 समोसे त्यार कर सकती है जो उनके आकार पर निर्भर करता है। इसको सिर्फ 220 वोल्ट की सिंगल फेस(1.5 hp) मोटर के साथ चला सकते है । यह मशीन स्टेनलेस स्टील से त्यार की जाती और इसका वजन 150-180 किलो के बीच होता है।

अगर आप इस मशीन को खरीदना चाहते है तो निचे दिए हुए नंबर पर संपर्क कर सकते है इसके इलवा भी बहुत सारी कंपनी यह मशीन बनाती है आप कहीं से भी खरीद सकते है ।

Address:Om Shree Sai Enterprises
B-80,Station Plaza, Near Railway Station Bhandup West, Mumbai -400078, Call Us:08048016241
Send SMS Mobile:+91-7506241888 ,+91-8425026151

यह मशीन कैसे काम करती है उसके लिए वीडियो भी देखें

सावधान! 2 से ज्यादा बच्चे पैदा करने पर हो सकती है कड़ी कार्रवाई,जल्दी आएगा नया कानून

देश की बढ़ती हुई आबादी के मद्देनजर जनसंख्या नियंत्रण की एक कारगार नीति की जरूरत शिद्दत से महसूस की जा रही है। हालांकि, अभी तक देश में लोकतंत्र का हवाला देकर हम कोई सख्त जनसंख्या कंट्रोल नीति नहीं बना पाएं हैं। लेकिन लगता है कि अब मामला बदल रहा है और जनसंख्या पर हमको जल्द ही एक सख्त कानून देखने को मिल सकता है।

देश में जनसंख्या नियंत्रण को लेकर 125 सांसदों ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मुलाकात कर एक सख्त कानून बनाने की मांग की है। भाजपा समेत टीडीपी, शिवसेना और अन्य दलों के सांसदों ने राष्ट्रपति को एक ज्ञापन भी सौंपा है। सांसदों ने शुक्रवार को राष्ट्रपति से मुलाकात कर जनसंख्या नियंत्रण पर कानून के मुद्दे पर चर्चा की थी।

ज्ञापन के मुताबिक, अगर कोई भी माता-पिता तीसरा बच्चा पैदा करते हैं तो उनपर दंडात्मक कार्रवाई की जाए। इसके साथ ही उन्हें सरकारी नौकरी भी न दी जाए। इसके साथ ही तीसरे बच्चे को पैदा करने वाले अभिभावक से वोटिंग का अधिकार छीन लिया जाए। जाति धर्म से ऊपर उठकर यह कानून सभी देशवासियों पर लागू हो।

एक ऐसे समय में, जब साल 2050 तक भारत की आबादी लगभग 56% तक बढ़ जाने की सरकारी रिपोर्ट आई है, देश को वास्तव में इस तरह के कानून की जरूरत है। हालांकि लोकतंत्र में ऐसे कानून बनाए जाने अासान नहीं होते। इसलिए ये कानून बनता है या नहीं ये भविष्य में देखने वाली बात होगी। इसमें कोई शक नहीं की अब जनसंख्या नियंत्रण पर सख्त कानून बनाने का समय आ चुका है।

अगर बिना नौकरी के कमाना चाहते हैं पैसे, तो आजमाएं ये 4 आसान तरीके

डिजिटल वर्ल्ड की दुनिया सिर्फ चैटिंग, वीडियो शेयरिंग और पेमेंट ट्रांसफर तक ही सीमित नहीं है, बल्कि इसने आसान इंटरनेट उपलब्धता के दौर में कमाई के भी कई विकल्प उपलब्ध करवा दिए हैं। अगर ऐसे में आपके पास कोई निश्चित रोजगार नहीं है, फिर भी आप कमाई करना चाहते हैं, तो सोशल मीडिया आपके लिए काम की चीज है। सोशल मीडिया से तौबा करने वालों को हैरानी हो सकती है इससे जुड़े तमाम प्लेटफॉर्म आपको कई तरीकों से अच्छी खासी कमाई करवा सकते हैं और वो भी घर बैठे।

जानें सोशल मीडिया पर आप क्या कुछ कर कमा सकते हैं पैसे:

ब्लॉंगिंग: लिखने का हुनर जानने वाले और भाषायी व्याकरण पर अच्छी पकड़ रखने वालों के लिए ब्लॉगिंग कमाल की चीज है। यानी अगर आपको लिखना पसंद है तो आप इसके जरिए कमाई कर सकते हैं। इसके लिए आपको गूगल की ब्लॉ गिंग साइट ‘ब्लॉ गर’ पर अकाउंट बनाना होगा और इसके बाद आप वहां लिखना शुरू कर दीजिए। बेहतर होगा कि आप अपने ब्लॉग पर जो कुछ भी लिखते हैं उसे सोशल मीडिया प्लेटफार्म जैसे फेसबुक या ट्विटर पर शेयर करें,

ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगों तक आपका लिखा पहुंचे सके। इससे एक फायदा यह होगा कि आप अपनी बात ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचा पाएंगे, आपकी प्रसिद्धी बढ़ेगी साथ ही आपके ब्लॉग को कई लोग जान पाएंगे। जब आपके पेज व्यूदज का काउंट काफी ज्या दा बढ़ जाएगा, तब आप गूगल एडसेंस के लिए अप्लाजई कर दें और अप्रूवल मिलते ही आपकी कमाई शुरू हो जाएगी।

वीडियो ब्लॉागिंग: फोटोग्राफी का शगल रखने वाले और इसे जज्बे के साथ अंजाम देने वालों के लिए इससे कमाल की कोई चीज नहीं हो सकती है। वीडियो ब्लॉकगिंग से भी आप अच्छी कमाई कर सकते हैं। आप किसी एक टॉपिक को चुन लें और उस पर वीडियो बनाना शुरू कर दें। मान लीजिए आपको बाइक पसंद है तो आप उसके किसी खास टॉपिक पर रिव्यू देकर उसे हाईलाइट कर सकते हैं।

इसके लिए आपको फेसबुक और यू ट्यूब पर लगातार सक्रिय रहना होगा। आप जो भी वीडियो बनाएं उसे फेसबुक और यू ट्यूब पर शेयर करें। इससे आपके वीडियो को देखने वाले लोगों की संख्या बढ़ेगी और लोग आपके यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करेंगे। जब आपके सब्सक्राइबर की संख्या बढ़ जाएगी फिर आपके पास पैसे आने लगेंगे। इतना ही नहीं इसके अलावा जो कंपनियां अपने प्रोडक्ट को प्रमोट करना चाहती हैं वह आपके वीडियो का सहारा ले सकती हैं। इससे भी आपकी कमाई बढ़ जाएगी।

फ्रीलांसिंग: अगर आप किसी प्राइवेट कंपनी में काम करते हैं लेकिन आपको मिलने वाली सैलरी आपके खर्चों को पूरा करने के लिए काफी नहीं है तो यह भी पैसे कमाने का अच्छा जरिया है। यदि आपके भीतर हुनर है तो आप फ्रीलांसिंग का काम करके अच्छा पैसा कमा सकते हैं। बहुत सारी ऐसी वेबसाइट हैं जो फ्रीलांस का काम करने का मौका देती हैं। इनके टास्क अलग अलग कैटिगरी के हिसाब से लिस्ट होते हैं। आप जो काम बेहतर कर सकते हैं उनके लिए अप्लाई कर दें। फ्रीलांसिंग से प्रति असाइनमेंट 5 डॉलर से 100 डॉलर तक की कमाई की जा सकती है।

ऑनलाइन सर्वे: ऑनलाइन वर्ल्ड में यह कमाई के लिए एक नए तरीके का आसान काम है। इसमें बस आपको कंपनियों की तरफ से ऑनलाइन सर्वे आयोजित कराना होता है। दैनिक आधार पर जिन सर्वे को आप पढ़ते हैं वे बाजार अनुसंधान फर्मों और मेगा-कॉरपोरेशन द्वारा तैयार नहीं किए जाते हैं। दरअसल सर्वे वाले ऐसे व्यक्तियों की तलाश करते हैं जो अच्छे पैसे के बदले उत्पादों और सेवाओं पर सर्वे करने के लिए ज्यादा इच्छुक हैं।

अगर SBI में है आप का खाता तो बैंक लाया है आपके लिए ख़ुशख़बरी

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई) ने अपने लाखों खाताधारकों को बड़ी राहत दी है। अब 50 हजार से अधिक कैश जमा करने पर बार-बार पैन (स्थायी खाता संख्या) की कॉपी या विवरण नहीं देना पड़ेगा। इसके अलावा यदि किसी खाताधारक के खाते में कोई दूसरा व्यक्ति (थर्ड पार्टी) कैश जमा कर रहा है और उसका पैन नहीं है तो उसकी खाता संख्या को आधार मानकर कैश जमा कर लिया जाएगा।

हालांकि इसके लिए उसका खाता एसबीआई की किसी भी शाखा में होना और खाताधारक का नो योर कस्टमर (केवाईसी) पूरा होना जरूरी है। इस संबंध में एसबीआई मुख्यालय ने बैंक शाखाओं को निर्देश जारी कर दिए हैं। शहर में एसबीआई के करीब 12 लाख से अधिक खाताधारक हैं।

जुलाई के अंतिम सप्ताह में एसबीआई के एमडी रिटेल और डिजिटल बैंकिंग की ओर से जारी निर्देश में कहा गया है कि मौजूदा समय में 50 हजार रुपये (एक दिन में) कैश जमा करने पर खाताधारक को अपने पैन की कॉपी बैंक में जमा करनी होती थी। पैन न होने पर फार्म 60 (एक प्रकार का घोषणा पत्र) जमा करना पड़ता था। इसके बाद ही कैश जमा किया जाता था।

अब इस व्यवस्था में परिवर्तन कर दिया गया है। अब पैन या फार्म 60 के बिना भी कैश जमा किया जा सकता है। हालांकि उसकी सभी केवाईसी पूरी होना जरूरी है। सूत्रों ने बताया कि यह देखने में आया कि तमाम लोग बैंक में 50 हजार से अधिक कैश जमा तो करने आते हैं लेकिन पैन साथ में नहीं लाते हैं या फिर उनके पास पैन होता नहीं है। इसके बाद फार्म 60 के लिए भी संबंधित खाताधारक को परेशानी होती है। इसी को देखते हुए नई व्यवस्था की गई है।

थर्ड पार्टी कैश जमा करने के लिए खाता संख्या ही काफी

सूत्रों ने बताया कि थर्ड पार्टी कैश जमा करने मामले में एसबीआई ने बड़ा कदम उठाया है। नई व्यवस्था में खाता ही पैन का काम करेगा। ऐसा होने से कैश लेनदेन करने वालों को आसानी होगी। पैन का नंबर भूल जाने पर उन्हें कोई दिक्कत नहीं होगी। उसी दिन कैश जमा हो सकेगा।

अगर बिज़नेस शुरू करने से पहले नहीं किये यह 7 काम तो हो जाओगे फेल

अगर आप बिजनेस शुरू करने की सोच रहे हैं, लेकिन बिजनेस फेल होने का डर सता रहा है तो इन 7 टिप्‍स के बारे में अवश्‍य जान लें। इन्हें फॉलो करने के बाद आपका बिजनेस फेल नहीं होगा।

छोटे कारोबारियों की सहूलियत के लिए केंद्र सरकार द्वारा गठित स्‍मॉल इंडस्‍ट्रीज डेवलपमेंट बैंक ऑफ इंडिया ( SIBDI) ने येे टिप्‍स तैयार किए हैं। यदि आप बिजनेस शुरू करने की सोच रहे हैं तो इन टिप्‍स का ख्‍याल रखें और बिजनेस शुरू करने से पहले ये काम अवश्‍य कर लें।

बिजनेस प्‍लान बनाएं

SIBDI के मुताबिक, अगर आपने बिजनेस तो शुरू कर दिया है, लेकिन बिजनेस प्‍लान नहीं बनाया है तो आपका बिजनेस ज्‍यादा दिन नहीं चलने वाला। आप यह तो प्‍लान कर लेते हैं कि फंड कहां से आएगा और क्‍या बिजनेस करेंगे, लेकिन यह प्‍लान नहीं करते हैं कि बिजनेस आगे चलेगा कैसे।

प्‍लान करने से पहले आपको मार्केट सर्वे से लेकर उन लोगों से बातचीत करनी चाहिए, जो यह बिजनेस छोड़ चुके हैं या उनका बिजनेस फेल हो चुका है। बिजनेस के भविष्‍य पर गहनता से विचार करना चाहिए।

पहले करें ऑपरेटिंग फंड का इंतजाम

SIBDI के मुताबिक, जब भी हम बिजनेस शुरू करते हैं तो सबसे पहले यह प्‍लान करते हैं कि पैसा कहां से आएगा। लेकिन उस वक्‍त हम कैपिटल मनी के बारे में ही सोचते हैं, लेकिन ऑपरेटिंग फंड के बारे में नहीं सोचते। ऑपरेटिंग फंड से आशय बिजनेस को चलाने के लिए जरूरी फंड से है।

इसलिए हमें कैपिटल मनी के साथ साथ ऑपरेटिंग फंड का इंतजाम अवश्‍य करना चाहिए। जैसे कि हमें इतना पैसे का इंतजाम जरूर करना चाहिए, जिससे बिना किसी रिफंड के भी हम अपना प्रोडक्‍शन या सर्विसेज को चालू रख सकें।

जानें, कॉम्पिटीटर की ताकत

अगर आप बिजनेस शुरू करते हैं तो आप अपने हिसाब से प्‍लानिंग कर लेते हैं, लेकिन आप यह नहीं देखते कि जिस ट्रेड में आप जाना चाहते हैं, उस ट्रेड में पहले से काम करने वाले कॉम्पिटीटर्स की ताकत क्‍या है। उनकी संख्‍या कितनी है।

आपके बिजनेस उन्‍हें क्‍या प्रभाव पड़ेगा और वे आपका बिजनेस फेल करने के लिए क्‍या कदम उठा सकते हैं। SIBDI के मुताबिक, सबसे पहले अपने कॉम्पिटीटर की ताकत को पहचानें, जिसके बाद ही अपनी प्‍लानिंग तैयार करें, ताकि आप कपने कॉम्पिटीटर से मजबूत होकर अपना बिजनेस शुरू कर सकें।

एक्‍सपर्ट का अभाव

जब भी अपना नया बिजनेस शुरू करने जा रहे थे तो आप सबसे पहले यह जानने की कोशिश करते हैं कि आजकल कौन सा बिजनेस चल रहा है और किस बिजनेस में प्रॉफिट अधिक है। इसके बाद आप उस बिजनेस को करने की योजना तैयार करते हैं, लेकिन आपको ऐसा नहीं करना चाहिए।

बल्कि सबसे पहले आपको अपनी कैपेसिटी का अंदाजा लगाना चाहिए। आपको वह बिजनेस शुरू करना चाहिए, जिसमें आपका एक्‍सपर्टाइज हो, जैसे कि आप किसी सेक्‍टर में जॉब कर रहे हैं तो आपको उसी सेक्‍टर में बिजनेस करना चाहिए, इसे जॉब के दौरान का आपका एक्‍सपीरियंस काफी काम आएगा।

लोकेशन की पहचान

कई सरकारी व गैर सरकारी आंकड़े बताते हैं कि बिजनेस फेल होने का एक बड़ा कारण बिजनेस का लोकेशन होता है। यह बेहद जरूरी है कि आप जहां अपना बिजनेस शुरू कर रहे हैं, वहां का लोकेशन कैसा है। लोकेशन आपके बिजनेस के नेचर के हिसाब से सही है या नहीं।

सरकार कई इलाकों में बिजनेस का प्रमोट करने के लिए टैक्‍स बेनिफिट सहित कई इन्‍सेंटिव देती है। आप भी इन इन्‍सेंटिव का फायदा उठा सकते हैं। वहीं, यह भी जानना जरूरी है कि आपके बिजनेस लोकेशन के आसपास का बेसिक इन्‍फ्रास्‍ट्रक्‍चर जैसे बिजली, पानी, सड़क, सीवर की क्‍या स्थिति है।

जांच लें आगे बढ़ने की संभावना

कई बिजनेस इसलिए फेल हो जाते हैं, क्‍योंकि उनके पास बिजनेस एक्‍सपेंशन की कैपेसिटी नहीं होती। आपको भी यह बात ध्‍यान रखनी चाहिए कि पहले ही यह पड़ताल कर लें कि बिजनेस चलने के बाद उसके एक्‍सपेंशन की कैपेसिटी आपमें है या नहीं।

आप समय रहते अपने बिजनेस को एक्‍सपेंड नहीं करते हैं या उसे अपडेट नहीं रखते, जैसे कि उसे टेक्‍नोलॉजी या आईटी बेस्‍ड नहीं बनाते हैं तो आप दूसरों से पिछड़ सकते हैं और एक दिन आपका बिजनेस फेल हो सकता है।

फ्री में करें पब्लिसिटी

कई लोग बिजनेस शुरू तो कर देते हैं, लेकिन उसका प्रचार सही तरीके से नहीं कर पाते। पहले के जमाने में प्रचार करना काफी महंगा होता था, लेकिन आज के दौर में प्रचार करना काफी आसान है। डिजिटल के इस जमाने में लगभग हर घर में स्‍मार्ट फोन पहुंच चुका है और ज्‍यादातर लोग सोशल साइट्स पर हैं।

आप फेसबुक, व्‍हाट्स एप जैसे माध्‍यमों से अपना बिजनेस का प्रचार कर सकते हैं। आप अपनी वेबसाइट भी बना सकते हैं, जिससे आपके लिए अपने प्रोडक्‍ट्स और सर्विसेज के बारे में लोगों को बताना बहुत आसान हो जाएगा।

खुशखबरी ! आजादी दिवस पर Maruti सहित ये कारों पर 1.50 लाख तक का डिस्काउंट

ऑटोमोबाइल कंपनि‍यों की ओर से 15 अगस्‍त के मौके पर कस्‍टमर्स को हैवी डि‍स्‍काउंट दि‍या जा रहा है। कार कंपनि‍यां – Maruti, Honda से लेकर टाटा मोटर्स तक के वि‍भि‍न्‍न मॉडल्‍स पर 1 लाख से ज्‍यादा का डि‍स्‍काउंट दि‍या जा रहा है।

इसके अलावा, कंपनि‍यों की ओर से एक्‍सचेंज बोनस, लो कॉस्‍ट ईएमआई और सस्‍ते इंश्‍योरेंस का भी ऑफर दि‍या जा रहा है। ऐसे में अगर आप इस महीने नई कार खरीदने की प्‍लानिंग कर रहे हैं तो आपके पास एक अच्‍छा मौका है।

मारुति सुजुकी की कारों पर छूट

देश की सबसे बड़ी कार कंपनी मारुति सुजुकी इंडि‍या की ओर से सेडान सेगमेंट की शि‍आज से लेकर प्रीमि‍यम हैचबैक स्‍वि‍फ्ट पर डि‍स्‍काउंट ऑफर दि‍या जा रहा है। इसके अलावा, कंपनी कारों पर एक्‍सचेंज बोनस भी दे रही है।

किस कार पर कितनी छूट

  • मारुति शि‍आज: 1 लाख रुपए तक का डि‍स्‍काउंट, 50 हजार रुपए का एक्‍सचेंज बोनस।
  • ऑल्‍टो के10: 27 हजार तक का कैश डि‍स्‍काउंट। 35 हजार रुपए का एक्‍सचेंज बोनस।
  • मारुति ऑल्‍टो 800: 30 हजार का कैश डि‍स्‍काउंट। 30 हजार रुपए का एक्‍सचेंज बोनस।
  • मारुति डीजायर:25 हजार का कैश डि‍स्‍काउंट। 30 हजार का एक्‍सचेंज बोनस।
  • मारुति वैगनआर: 35 हजार की छूट।
  • मारुति स्‍वि‍फ्ट:25 हजार रुपए की छूट। 25 हजार का एक्‍सचेंज बोनस।
  • मारुति इग्‍निस: 30 हजार का डि‍स्‍काउंट। 25 हजार रुपए का एक्‍सचेंज बोनस।
  • सेलेरि‍ओ:30 हजार की छूट। 10 हजार रुपए का बोनस।
  • मारुति अर्टि‍गा: 15 हजार रुपए की छूट।

होंडा की कारों पर डि‍स्‍काउंट ऑफर्स

होंडा कार्स इंडि‍या भी अपनी सभी कारों पर कैश डि‍स्‍काउंट से लेकर 1 रुपए में इंश्‍योरेंस जैसे ऑफर्स दे रही है। यह ऑफर्स 2018 मॉडल के साथ-साथ पुराने मॉडल्‍स पर दि‍या जा रहा है।

  • ब्रि‍ओ:19 हजार रुपए का बेनेफि‍ट।
  • पुरानी अमेज:40 हजार रुपए का बेनेफि‍ट।
  • पुरानी जैज:75 हजार रुपए का बेनेफि‍ट।
  • सि‍टी:52 हजार रुपए की छूट।
  • डब्‍ल्‍यूआर-वी: 32 हजार रुपए का बेनेफि‍ट।
  • बीआर-वी:1 लाख रुपए का बेनेफि‍ट।

महिंद्रा की कारों पर डि‍स्‍काउंट

अपनी स्‍पोर्ट्स यूटि‍लि‍टी व्‍हीकल्‍स (एसयूवी) के लि‍ए फेमस महिंद्रा की ओर से भी कस्‍टमर्स को ऑफर्स दि‍ए जा रहे हैं। कंपनी की ओर से वि‍भि‍न्‍न मॉडल्‍स पर कैश डि‍स्‍काउंट के साथ-साथ एक्‍सचेंज बोनस भी दि‍या जा रहा है।

किस कार पर कितनी छूट

  • महिंद्रा स्‍कॉर्पि‍यो:40 हजार रुपए का डि‍स्‍काउंट, 15 हजार रुपए का एक्‍सचेंज बोनस।
  • महिंद्रा XUV 500:20 हजार रुपए की छूट।
  • महिंद्रा बोलेरो:20 हजार रुपए का डि‍स्‍काउंट।
  • KUV 100:40 हजार रुपए तक का डि‍स्‍काउंट।
  • TUV 300: 50 हजार रुपए तक का डि‍स्‍काउंट

टाटा की कारों पर छूट

टाटा मोटर्स की कारों पर डि‍स्‍काउंट दि‍या जा रहा है।

किस कार पर कितनी छूट

  • टाटा हैक्‍सा:93 हजार रुपए तक का बेनेफि‍ट।
  • टि‍गोर:53 हजार रुपए का बेनेफि‍ट।
  • टि‍आगो: 37 हजार रुपए का बेनेफि‍ट।
  • नेक्‍सॉन: 57 हजार रुपए का बेनेफि‍ट।

आ गया है जियो गीगाटीवीः मिलेंगे 600 एचडी चैनल्स, 3 महीने फ्री में देख सकेंगे टीवी

रिलायंस जियो अपने गीगाटीवी को 15 अगस्त से पूरे देश में शुरू करने जा रही है। रजिस्ट्रेशन करने के बाद किसी तरह का कोई शुल्क ग्राहकों को नहीं देना पड़ेगा। कंपनी की यह एक तरह से फाइबर ब्रॉडबैंड आधारित डीटीएच सेवा होगी, जिसमें किसी तरह की छतरी नहीं लगानी पड़ेगी।

फोन के तार से ही लोगों को एचडी क्वालिटी में 600 से अधिक चैनल्स देखने को मिलेंगे। इन चैनल्स को देखने के लिए आपको रिलांयस द्वारा उपलब्ध कराए गए सेट टॉप बॉक्स से जोड़कर के उठाया जा सकेगा।

इस तरह से होगा रजिस्ट्रेशन

कंपनी ने कहा है कि 15 अगस्त से इस नई सेवा के लिए ग्राहकों को माईजियो एप या फिर जियो.कॉम पर जाकर के रजिस्ट्रेशन करना होगा। रजिस्ट्रेशन फिलहाल 1100 शहरों के लिए होगा। इसमें भी जिस शहर से सबसे ज्यादा रजिस्ट्रेशन होंगे, वहां पर पहले कनेक्शन दिया जाएगा।

500 रुपये से शुरू होगा प्लान

कंपनी ग्राहकों के लिए 5 प्लान लांच करने वाली है। इसकी शुरुआती कीमत 500 रुपये और अधिकतम 1500 रुपये होगी। सभी प्लान में डीटीएच कनेक्शन के लिए किसी तरह का कोई पैसा नहीं देना पड़ेगा। हालांकि चैनल्स की संख्या में कमी या फिर बढ़ोतरी हो सकती है।

500 रुपये का प्लान

500 रुपये वाले प्लान में लोगों को हर महीने 300 जीबी डाटा व 50 एमबीपीएस की स्पीड मिलेगी।

750 का प्लान

इसके बाद 750 रुपये का प्लान होगा, जिसमें लोगों को 450 जीबी का डाटा मिलेगा। इसमें भी स्पीड 50 एमबीपीएस की मिलेगी।

999 का प्लान

999 रुपये के मासिक प्लान में लोगों को 600 जीबी डाटा और 100 एमबीपीएस की स्पीड मिलेगी।

1299 का प्लान

1299 रुपये के प्लान में ग्राहकों को 30 दिनों के लिए 750 जीबी डाटा और 100 एमबीपीएस की स्पीड मिलेगी। सभी प्लान में ग्राहकों को डीटीएच और लैंडलाइन फोन की सुविधा भी कंपनी की तरफ से दी जाएगी।

1500 रुपये प्लान

1500 रुपये वाले प्लान में ग्राहकों को 30 दिनों के लिए 900जीबी डाटा और 150 एमबीपीएस की स्पीड मिलेगी।

अन्य कंपनियों पर पड़ेगा असर

अभी टाटा स्काई डीटीएच कंपनियों में मार्केट शेयर के हिसाब से सबसे बड़ी कंपनी है। अगर आप टाटा स्काई के ग्राहक हैं और सभी चैनल्स (एचडी सहित) देखना चाहते हैं तो महीने में कम से कम 800 रुपये जाते हैं।

अमूमन बाजार में मौजूद अन्य डीटीएच कंपनियां जैसे कि एयरटेल, डिश टीवी, वीडियोकॉन डी2एच, रिलायंस बिग टीवी और सन डायरेक्ट के प्लान भी कुछ इसी तरह के हैं। ऐसे में इन कंपनियों को प्रतिस्पर्धा में बने रहने के लिए अपने प्लान और रेट में बदलाव करना पड़ेगा, ताकि बाजार में प्रतिस्पर्धा बनी रहे।

अंबानी के नौकरों के बच्चे विदेश में करते हैं पढ़ाई, सैलरी जानकार उड़ जाएंगे होश

दुनिया में ऐसा कोई व्यक्ति नहीं है जो भारत के सबसे अमीर उद्योगपति मुकेश अंबानी को ना जानता हो! मुकेश अंबानी को नाम और शोहरत के साथ उनके लाइफस्टाइल के लिये भी जाना जाता है। जब मुकेश अंबानी ने अपना घर बनवाया तो पूरी दुनिया जानना चाहती थी कि उनका घर कैसा दिखता होगा।

उनके घर का नाम एंटिलिया है और यह 27 मंज़िला इमारत है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि इस घर को संभालने और इसकी देखरेख करने वाले कर्मचारियों की सैलेरी कितनी है, शायद नहीं। तो आज हम आपको बताने जा रहे हैं इस घर के कर्मचारियों की सैलेरी के बारे में, जिसे सुनकर आप भी हैरान रह जाएंगे।

आज हम आपको मुकेश अंबानी के घर में काम करने वाले कर्मचारियों के वेतन के बारे में बताने जा रहे हैं। लेकिन वेतन पैकेज के बारे में पता लगाने से पहले, एंटीलिया के बारे में जानना ज़रूरी है, वह घर जहां मुकेश अंबानी और उनका परिवार रहता है।

यह बकिंघम महल के बाद दुनिया में सबसे महंगी आवासीय संपत्तियों में से एक है। आपको बता दें कि एंटिलिया की कीमत 1 मिलियन डॉलर से अधिक है, जो इसे दुनिया की सबसे महंगी निजी संपत्ति बनाता है। एंटीलिया मुंबई में अल्टामाउंट रोड, कुम्बाला हिल पर स्थित है।

एंटिलिया की खासियत है कि यह घर रिक्टर स्केल पर 8 रेटेड भूकंप से बच सकता है। गौरतलब है कि अंबानी का घर विवादों का हिस्सा रहा है। इस तरह के शानदार घर के साथ उसके रखरखाव की देखभाल करने के लिये निश्चित रूप से एक विशाल टीम की ज़रूरत पड़ती है।

मुकेश अंबानी अपने कर्मचारियों को नौकर नहीं समझते बल्कि वह उन्हें अपने परिवार का ही सदस्य मानते हैं और उनसे उसी आदर के साथ बात करते हैं, जैसे किसी परिवार के सदस्य के साथ किया जाता है। जब उनके 600 कर्मचारियों के भुगतान की बात आती है तो इस मामले में वह काफी उदार हैं।

एक रिपोर्ट के मुताबिक पहले कर्मचारियों की शुरूआती आय 6 हजार रुपये थी और अब वे हर महीने 2 लाख रुपये कमाते हैं। इसमें शिक्षा और जीवन बीमा भत्ता भी शामिल है। साथ ही एम्प्लॉई के दो बच्चों को अमेरिका में जाकर पढ़ाई करने का मौका भी मिलता है।

जैसा कि आप जानते हैं अंबानी के घर को जेड सुरक्षा दी गई है इसके लिये वे 15 लाख रुपये महीने भुगतान करते हैं। बिजनेस टायकून के लिये सीआरपीएफ एक जेड सुरक्षा के रूप में अपने संसाधन को तैनात किये हुए हैं।

अगर आप बचना चाहते हैं मिन‍िमम बैलेंस के चार्ज से , तो आपके पास ये है विकल्प

जब भी आप किसी बैंक में रेग्युलेटर सेविंग्स अकाउंट खुलवाते हैं, तो आपके सामने मिनिमम बैलेंस की शर्त भी होती है. लेकिन अगर आप मिन‍िमम बैलेंस के चार्ज से बचना चाहते हैं, तो इसका एक विकल्प है.

भारतीय स्टेट बैंक ने कहा है कि अगर आप एवरेज मंथली बैलेंस के झंझट से बचना चाहते हैं, तो आप अपने मौजूदा खाते को बेसिक सेविंग बैंक डिपाजिट अकाउंट (बीएसबीडीए) में कनवर्ट करा सकते हैं.

बीएसबीडए एक ऐसा अकाउंट है, जिसमें आपको कोई भी मिनिमम बैलेंस नहीं रखना पड़ता है. रेग्युलर सेविंग्स अकाउंट को कनवर्ट करने के लिए आपको कोई चार्ज नहीं देना होगा.

बेसिक सेविंग्स अकाउंट की तरह ही आप जन-धन खाता भी खुलवा सकते हैं. इसमें भी आपको किसी भी तरह के मिनिमम बैलेंस की जरूरत नहीं होती है. कई बैंक अपने स्तर पर ऐसे खाते मुहैया करते हैं, जिनमें आपको कोई बैलेंस मेंटेंन करने की शर्त नहीं होती है.

बता दें कि भारतीय स्टेट बैंक समेत अन्य बैंक ग्राहकों से मिन‍िमम बैलेंस मेंटेंन न करने पर चार्ज वसूलते हैं. बैंकों ने वित्त वर्ष 2017-18 में इन चार्जेस की बदौलत 5 हजार करोड़ रुपये की कमाई की है.