टाटा स्काई,डिश टीवी और सन टीवी के ग्राहकों के लिए बड़ी खुशखबरी,अब इतने रुपए सस्ता हो जाएगा रिचार्ज

टाटा स्काय, सन डायरेक्ट टीवी और डिश टीवी के ग्राहकों के लिए खुशखबरी है। रिपोर्ट के मुताबिक, इन तीनों ही कंपनियों ने एक्स्ट्रा नेटवर्क कैपेसिटी फीस यानी NCF को हटा दिया है। इसका मतलब अब इन तीनों कंपनियों के ग्राहकों को 100 से अतिरिक्त चैनल लेने पर भी एनसीएफ नहीं देना होगा।

नए नियमों के अनुसार अब टीवी बिल दो चीजों से जुड़कर बनेगा। एक इसमें नेटवर्क कैपेसिटी फीस है, यह 100 चैनलों के लिए 130 रुपए निर्धारित की गई है। इसके अलावा पेड चैनल्स या बुके का पैसा ग्राहकों को अलग से देना होगा।

100 चैनलों में एनएफसी के अलावा 18 प्रतिशत जीएसटी भी देना पड़ेगा, जिससे कुल मिलाकर यह अमाउंट 153 रुपए हो गया है। वहीं 100 से ज्यादा चैनलों को चुनने पर हर 25 चैनल के स्लैब के 20 रुपए एनएफसी के तौर पर ग्राहकों को देना होंगे। इसी चार्ज को इन तीनों कंपनियों ने खत्म किया है।

100 चैनलों के बाद भी चार्ज नहीं

  •  यह कंपनियां 130 रुपए प्लस जीएसटी यानी 154 रुपए एनएफसी में ही 100 से अतिरिक्त चैनल ऑफर कर रही हैं।
  • डिश टीवी और टाटा स्काय ने कुछ चैनलों से एनएफसी को हटाया है। सभी चैनलों को एनएफसी से मुक्त नहीं किया गया।
  •  टाटा स्काय ने 7 रुपए प्रतिमाह से शुरू होने वाले रीजनल पैक भी ऑफर किए हैं। कंपनी कई एफटीए रीजनल पैक फ्री ऑफर कर रही है। इनमें तमिल, तेलगू,कन्नड़, बंगाली, पंजाबी आदि भाषाओं के चैनल ऑफर किए जा रहे हैं।
  • इसी तरह डिश टीवी भी करीब 189 एफटीए चैनल्स बिना किसी अतिरिक्त एनसीएफ के ऑफर कर रहा है।

ऐसे समझें एनसीएफ का गणित

  • मान लीजिए आपने कुल 150 चैनल चुनें तो आपको 130 रुपए तो बेस पैक के देना ही है, इसके अलावा 25-25 चैनलों के दो स्लैब के 20-20 रुपए नेटवर्क कैपेसिटी फीस के भी देना होंगे। इस तरह यह अमाउंट 170 रुपए हो जाएगा। इसके बाद इस पर 18 परसेंट जीएसटी यानी यह अमाउंट 200 रुपए के करीब हो जाएगा।
  • इसमें भी पेड चैनल्स का अमाउंट आपको अलग से देना होगा।

इस ट्रेक्टर की खूबियां जान कर रह जाएंगे हैरान, 4 लग्जरी कारों की कीमत का है ये ट्रैक्टर

लोगों के शौक भी अजीबोगरीब होते हैं। कोई बीएमडब्ल्यू और मर्सीडिज में लग्जरी ड्राइविंग खोजता है तो कोई टैक्टर में। 1 करोड़ 69 लाख रुपए का यह टैक्टर इसी सपने से जन्मा है। यह साइंस और इनोवेशन के साथ लग्जरी और शौक का अनोखा मिश्रण है।

किसी टॉप एसयूवी और इस टैक्टर में कई सारी समानताएं हैं। 24,200 पाउंड वजन के इस टैक्टर की टॉप स्पीड लगभग 50 किलोमीटर प्रति घंटा है, जो लग्जरी के मामले में कारों को भी मात देती है।

एसयूवी से कई समानताएं

महंगी लग्जरी एसयूवी और इस टैक्टर में कई सारी समानताएं हैं। इसमें 6.7 लीटर टर्बो-डीजल इंजन, डूअल-क्लच गीयर-सेट और ऑटोमैटेड लॉकिंग डिफरेंशियल्स लगे हुए हैं। वास्तव में इस ट्रैक्टर को कार जैसा बनाने की कोशिश की गई है।

वैसे भी यूरोप के रईस किसान हाई-होर्सपावर की मशीन के साथ टाइटर टर्निंग रेडियस और प्रीमियम डिजाइन के शौकीन हैं। उनका मानना है कि किसानी बेहद कठिन और 24 घंटे तथा सातों दिन होने वाला काम है। ऐसे में टै्रक्टर को थोड़ा लग्जरी होना चाहिए।

धुंआ नहीं निकलता

केस आईएच का नया ऑप्टिम 4 इनटू 4 ट्रैक्टर एक यूरोपीय लग्जरी सामान की तरह है, जो अमीरों के लिए प्राइज्ड पजेशन जैसा है। इसमें यूरोपीय यूनियन के प्रदूषण, कोलाहल और उत्सर्जन संबंधी सभी मानकों और प्रतिबंधों का पूरी तरह से पालन किया गया है।

ऑटोमैटेड सिस्टम्स के कारण इससे धुआं न्यूनतम निकलता है। इससे जुड़े बेलर, सीडर, डिस्क कल्टीवेटर, बकेट्स जैसी चीजों का संचालन बेहद स्मूथ है। इसमें कई सारे पावर हाइड्रॉलिक्स लगे हुए हैं।

ये बातें भी हैं खास

  • 24,200 पाउंड वजन का यह खूबसूरत ट्रैक्टर चमचमाती लग्जरी कार को भी देता है मात
  • 50 किलोमीटर प्रति घंटा की गति से भागती है यह शानदार मशीन
  • 2017 केस आईएच ऑप्टिम को मिला ट्रैक्टर ऑफ द ईयर का खिताब

टैक्टर ऑफ द ईयर

देखने में विशालकाय और डीजल से चलने वाला यह टैक्टर बाहर से बुलडोजर की तरह दिखता है। हालांकि इसका इंटीरियर इतना खूबसूरत और आरामदायक है कि इससे सवारी करना लड़कियों को भी पसंद है। क्योंकि एक तरफ जहां इसकी चारों ओर धूल होती है,

वहीं इसके अंदर बैठा आदमी किसी लग्जरी कार में बैठे होने के अहसास में खोया रहता है। इस टैक्टर का नाम है- 2017 केस आईएच ऑप्टिम 270 सीवीएक्स। अपनी खासियतों के कारण ही ट्रैक्शन और आइरिश फार्मर्स जैसी मासिक मैग्जीन के पत्रकारों के एक समूह ने इसे टैक्टर ऑफ द ईयर का खिताब दिया।

इस महिला ने 5 सगे भाइयों से रचाई है शादी, वजह जानकार ठनक जाएगा माथा

महाभारत हिंदू धर्म का एक बहुत ही प्रमुख काव्य ग्रंथ है। भारत सहित दुनिया के तमाम हिस्सों में ऐसे लोगों की संख्या की संख्या कम ही होगी जिन्हें महाभारत के बारे में पता न हो। महाभारत में उपस्थित सभी पात्रों की अपनी-अपनी खासियत है लेकिन इसमें द्रौपदी का चरित्र बेहद अहम है।

हम सभी जानते हैं कि द्रौपदी की पांच शादियां हुई थी। हालांकि ऐसा होने के पीछे कई कारण थे जिसके बारे में हम सभी ने पढ़ा या देखा है। लेकिन आज के जमाने में यदि किसी औरत को ऐसा करना पड़े तो ये वाकई में काफी हैरान कर देने वाली बात है। आज हम आपको एक ऐसी लड़की के बारे में बताने जा रहे हैं जिसने एक ही परिवार के पांच भाइयों के साथ शादी की।

जी, हां हम यहां रजो नाम की एक लड़की के बारे में बात कर रहे हैं जो कि उत्तराखंड में रहती है। रजो को वहां स्थित एक परिवार के पांच भाइयों के साथ शादी करनी पड़ी।रजो को इन पांच भाइयों के साथ एक ही जैसा बर्ताव करना पड़ता है।

पत्नी होने के नाते रजो का अपने हर पति के साथ शारीरिक संबंध भी है। रजो का एक बेटा भी है लेकिन किसी को भी ये पता कि आखिर पांच भाइयों में उस बच्चे का पिता कौन है। हालांकि इन पांच भाइयों में इस बात को लेकर कभी तनाव की स्थिति नहीं रही। पांचों मिलकर रजो और उसके बच्चे की देखभाल करते हैं।

रजो से इस बारे में पूछने पर उसका कहना है कि उसे कभी इस बात से कोई परेशानी नहीं हुई कि उसके पांच पति है बल्कि वो खुद को खुशकिस्मत मानती है। रजो का ये भी कहना है कि उसके पांचों पति उससे बहुत प्यार करते हैं।

रजो आगे कहती है कि मुझे पता है कि इस तरह की शादी कानूनन अपराध है लेकिन यहां लड़कियों की संख्या में कमी के चलते ऐसा करना पड़ता है।बता दें उत्तराखंड और तिब्बत के कई इलाकों में लड़कियों की संख्या पुरूषों की तुलना में काफी कम है। इस वजह से उन्हें शादी के लिए इस अजीबोगरीब प्रथा का पालन करना पड़ता है।

पत्थर समझकर सालों से मछुआरा कर रहा था अनदेखी

कहते हैं देने वाला जब भी देता है छप्पड़ फाड़ कर देता है। इंसान के किस्मत को बदलने में देर नहीं लगती। वक्त अच्छा हो तो पत्थर भी सोना बन जाता है।अब आप इस शख्स को ही ले लीजिए जिसकी किस्मत रातोंरात ऐसी पल्टी कि देखते ही देखते वो करोड़पति बन गया। ये बात है फिलीपींस के पवाना आइलैंड के मछुआरे की।

अपनी रोजमर्रा की जिंदगी को चलाने के लिए ये मछुआरा रोज मछली पकड़ने के लिए समंदर में जाता था। एकदिन मछली पकड़ने के दौरान वो समुद्री तूफान में फंस गया। खूद को उस तूफान से बचाने के लिए मछुआरे ने एक पत्थर का सहारा लिया और तूफान के जाने का इंतजार करने लगा।

थोड़ी देर बाद जब तूफान थम गई तो उसकी जान बचाने के लिए वो उस पत्थर को अपना लकी चार्म मानने लगा और उसे अपने साथ अपने घर ले आया। घर आकर उसने इस पत्थर को एक मामूली पत्थ्र समझकर पलंग के नीचे रख दिया।

लेकिन किस्मत को शायद उस पत्थर का पलंग के नीचे बेकार पड़े रहना रास नहीं आया। एक दिन मछुआरे के घर पर आग लगी। उस दौरान एक टूरिस्ट ऑफिसर एलीन सिंथिया मगैय की नजर पलंग के नीचे रखे इस पत्थर पर पड़ी। पत्थर को देखते ही वो समझ गया कि ये कोई साधारण पत्थर नहीं है।

एलीन ने बिना देर किए तुरंत ये बात मछुआरे को बताई। एलिन ने मछुआरे को बताया कि ये कोई साधारण पत्थर नहीं है बल्कि ये एक विशालकाय मोती है जिसकी बाजार में कीमत करीब 6 अरब 53 करोड़ रुपए आंकी गई। बता दें इस मोती का वजन 34 किलोग्राम है। देखते ही देखते गरीब मछुआरे की किस्मत बदल गई और वो सड़क से महल पर आ गया।

शायद इसी वजह से कहा जाता है कि कभी भी किसी को छोटा नहीं समझना चाहिए या किसी के साथ भेदभाव की नीति नहीं अपनानी चाहिए क्योंकि किस्मत बदलते देर नहीं लगती। इंसान का भाग्य उसे राजा से रंक और रंक से राजा बनाने की क्षमता रखता है।

इस ब्राण्ड का पानी पीते हैं कोहली

भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली अपनी मेहनत और फिटनेस की वजह से आज इस मुकाम को हासिल कर पाए हैं. खुद को फिट रखने के लिए विराट कोहली काफी मेहनत करते हैं.

अपनी फिटनेस के लिए वो सुबह-शाम जिम तो जाते ही हैं साथ ही अपने खाने-पीने का बहुत ध्यान रखते हैं. विराट खाने-पीने में कोई लापरवाही नहीं करते और हमेशा संतुलित आहार लेते हैं. विराट जंक फूड खाना पसंद नहीं करते. उन्हें घर का हेल्दी खाना बहुत अच्छा लगता है.

विराट अपनी फिटनेस के लिए सिर्फ बाहर के खाने से ही नहीं, बल्कि पानी से भी परहेज करते हैं. वो अच्छी कम्पनी का पानी पीते हैं. ऐसा बताया जाता है कि वो एवियन ब्राण्ड का पानी पीते हैं. यह एक खास तरह का पानी है जो काफी महंगा है और इसे फ्रांस से मंगवाया जाता है.

इस पानी की कीमत 600 रुपए प्रति लीटर है. कोहली दुनिया में जहां भी जाते हैं, मात्र यही पानी पीते हैं. जबकि दुनिया में जहां भी इस पानी के मिलने की संभावना नहीं होती, वहां इस पानी को अपने साथ ले जाते हैं.

हम आपको बता दें कि इस तरह का पानी एक विशेष प्रकार का पानी होता है जो वजन घटाने और तनाव दूर रखने आदि में मददगार साबित होता है.यह अकेले ही नहीं है और भी ऐसे कई सेलिब्रिटी हैं जो कि एक लीटर पानी की बोतल पर लगभग 36 हजार रुपए तक का खर्च कर देते हैं.

कोहली खुद भी हेल्दी फूड खाते हैं और दूसरों को भी खाने के लिए कहते हैं. इसके अलावा दूसरों को जंक फूड से दूर रहने की सलाह देते हैं. विराट फ्राइड चिप्स की जगह वीट क्रैकर्स या इसी तरह की हेल्दी चीजें खाना पसंद करते हैं. उन्हें फ्राइड चिकन बिलकुल पसंद नहीं है. लेकिन उन्हें चॉकलेट ब्राउनी बहुत पसंद है इसे देखकर विराट अपने आपको खाने से रोक नहीं पाते.

कार को धूप से बचाता है ये हाईटेक टैंट

गर्मी के मौसम में कार अंदर से कूल रहे इसके लिए उसे ऐसी जगह पर खड़ी करना जरूरी है जहां धूप नहीं आती हो। घर पर तो इसका इंतजार हो जाता है, लेकिन बाहर कार के लिए ऐसी पार्किंग ढूंढना मुश्किल काम होता है।

ऐसी स्थित के लिए lanmodo कंपनी ने एक ऐसा टैंट तैयार किया है जिससे पूरी कार कवर हो जाती है। इसे कार का छाता भी कहा जा सकता है। ये दुनिया का पहला ऐसा ऑटोमैटिक टैंट हैं जो एक बटन दबाते ही पूरी कार को कवर कर लेता है।

ऑटोमैटिक कार टैंट

  • ये ऑटोमैटिक टैंट है जो वायरलेस कनेक्टिविटी पर काम करता है। यानी एक बटन दबाते ही ये पूरी कार कवर कर लेता है।
  • कंपनी ने इस टैंट को 2 अलग-अलग साइज में तैयार किया है। आप अपनी कार के साइज के हिसाब से इसे सिलेक्ट कर सकते हैं।
  • एक साइज 3.5M x 2.1M और दूसरा 4.8M x 2.3M है। इसे ब्लू, ब्लैक और सिल्वर कलर में खरीद सकते हैं।
  • इस टैंट की छोटे साइज की कीमत करीब 16 हजार रुपए है। कंपनी इस टैंट की दुनिया के किसी भी कौने में फ्री डिलिवरी देगी।
  • इस टैंट के अंदर एक चार्जेबल बैटरी दी है जिसे एक बार चार्ज करके टैंट 45 दिन तक यूज कर सकते हैं।
  • इसे पूरा ओपन होने में 30 सेकंड का वक्त लगता है।
  • कंपनी का दावा है कि इस टैंट की मदद से कार के अंदर का तापमान आधा हो जाता है।

7 लोगों का टैंट

  • इसकी दूसरी खास बात है कि इसे कार के साथ लोगों के रुकने वाला टैंट के तौर पर भी यूज कर सकते हैं।
  • यदि आप कहीं पिकनिक पर जाते हैं या फिर नाइट स्टे करना चाहते हैं तब इसमें 7 लोग आसानी से ठहर सकते हैं।
  • इसके लिए कंपनी टैंट से जुड़ी फुल एक्सेसरीज देती है। साथ ही, इसमें लगी बैटरी से टैंट के अंदर LED बल्ब भी ऑन कर सकते हैं।

सस्ते में साफ करें टैंक का पानी, मिनटों की है ये ट्रिक

पानी के टैंक में बैक्टीरिया और वायरस बहुत जल्दी ग्रोथ करते हैं। पेट की बीमारियों के लिए जिम्मेदार ई कोलाई वायरस भी बहुत जल्दी पनपता है। इसलिए इस को समय- समय पर साफ करना बहुत जरूरी होता है।

लेकिन इतने बड़े टैंक को और उसके पानी को साफ करना जरा मुश्किल लगता है।यहां बताई जा रही ट्रिक से आप पानी के टैंक को मिनटो में साफ कर सकते हैं। इसके लिए आपको सिर्फ एक चीज की जरूरत होगी वो है ब्लीचिंग पाउडर।

डॉ गीतांजलि शर्मा कहती हैं कि ब्लीचिंग पाउडर पानी में पनपने वाले हर प्रकार के वायरस को मार देता है। यहां तक कि इससे टैंक में जमी काई भी नीचे बैठ जाती है। लेकिन इसको बताई गई मात्रा में ही यूज करना है। आइए जानते हैं इसका यूज।

ब्लीचिंग पाउडर को मार्केट में आसानी से मिल जाएगा। यह काफी सस्ता आता है। लगभग 30 रुपए में इसका 100 से 150 ग्राम का पैकेट आ जाता हैै। एक लीटर पानी में आपको 5 मिलीग्राम ब्लीचिंग पाउडर डालना होगा।

अगर आपका टैंक 1000 लीटर का है तो आपको 4 ग्राम ब्लीचिंग पाउडर लगेगा।
ब्लीचिंग पाउडर में क्लोरीन होता है जो पानी में पनपने वाले बैक्टीरिया वायरस को खत्म कर देता है।
इसे पानी में डालकर 15 मिनट के डालकर छोड़ दें। ये टैंक में जमने वाली काई को भी साफ कर देगा।

यहां पर है इंडिया का सबसे सस्ता मार्केट, 150 रुपए में जींस और 100 रुपए से कम में मिल रही है शर्ट

इंडिया के कई शहरों में कपड़ों का थोक मार्केट होता है। इन मार्केट कपड़े खरीदने पर 50 से 100 रुपए तक का मार्जिन मिल जाता है। ऐसा ही एक मार्केट दिल्ली की सुभाष रोड पर गांधी नगर में है।

ये इंडिया के सबसे सस्ते मार्केट में से एक है। यहां पर जींस, शर्ट और टी-शर्ट को थोक में सेल किया जाता है। इतना ही नहीं, जो जींस किसी शॉप या शोरूम में 1000 रुपए के करीब मिलती है, वो यहां सिर्फ 150 रुपए में मिल जाती है।

शॉपकीपर्स खुद बनाते हैं कपड़े

  • यहां पर ज्यादातर शॉपकीपर्स ऐसे हैं जिन्होंने जींस और शर्ट बनाने की फैक्ट्री लगा रखी है।
  • ये कपड़ा लेकर अलग-अलग साइज और डिजाइन के जींस तैयार करते हैं। इसमें भी बहुत सारी वैराइटी होती है।
  • क्योंकि शॉपकीपर्स खुद कपड़े बनाते हैं इस वजह से ये सस्ती जींस, शर्ट को सेल कर पाते हैं।
  • भगत जी गारमेंट्स नाम के शॉपकीपर्स के यहां 150 रुपए से जींस शुरू हो जाती है, जो दूसरी मार्केट में दोगुनी कीमत पर सेल होती है।
  • इनके यहां पर सबसे अच्छी क्वालिटी वाले फैब्रिक की जींस 250 रुपए में ही मिल जाती है।
  • इस मार्केट से कम से कम एक जैसी कीमत वाले 5 या फिर ज्यादा जींस खरीदने होते हैं।
  • ठीक इसी तरह, शर्ट की कीमत 90 रुपए से शुरू हो जाती है। इसके भी 5 पीस लेना जरूरी होता है।

इन बातों के ध्यान रखें

  • इस मार्केट से आप जींस, शर्ट या टी-शर्ट खरीद रहे हैं, तब कुछ बातों का ध्यान रखना बेहद जरूरी है।
  • सभी तरह के कपड़े पैक होने के साथ बंधे होते हैं। ऐसे में जरूरी है कि आप इन्हें एक बार खोलकर जरूर देखें।
  • कई बार एक जींस लेने पर इनके साइज में अंतर निकल आता है। ठीक इसी तरह कलर में डिफेक्ट हो सकता है।
  • ये फिक्स प्राइस का मार्केट नहीं है, ऐसे में आप थोक रेट पर भी बारगेनिंग कर सकते हैं।

इस होटल में एक रात बिताने पर मिलेंगे पूरे 67 लाख, लेकिन यह है शर्त

शादी के बाद आमतौर पर हर कपल हनीमून मनाने के लिए जाता है. ऐसे में नया जोड़ा पैसे से ज्यादा सुविधाओं पर ध्यान देता है. इसके अलावा भी अगर आप छुट्टियों में घूमने का प्लान करते हैं तो ऐसे होटल में समय बिताना पसंद करते हैं जिसमें लग्जरी सुविधाओं के साथ ही समय बिताना यादगार साबित हो.

लेकिन लग्जरी होटल में जाना हर किसी के लिए मुमकिन नहीं. ऐसे में एक होटल शानदार स्कीम लेकर आया है, इस ऑफर को जानने के बाद आप भी उस होटल में जाने से खुद को रोक नहीं पाएंगे.

तमाम होटल देते हैं धांसू ऑफर

लेकिन आप जब भी किसी लग्जरी होटल का प्लान करते हैं तो सबसे पहले हमारे दिमाग में उसके किराये और उसमें ठहरने पर मिलने वाली सुविधाओं को लेकर आती है. अगर आपको किसी होटल में क्वॉलिटी टाइम बिताने पर पैसे मिले तो है न अच्छा ऑफर. शायद ही आप इस ऑफर से इंकार कर पाएं. दुनियाभर के तमाम होटल कपल्स को आकर्षित करने के लिए धांसू ऑफर देते हैं.

पूरी करनी होगी होटल की कंडीशन

इसी तरह का एक ऑफर इजरायल के होटल ने तैयार किया है. इस ऑफर में दी गई कंडीशन को अगर आप पूरा करते हैं तो आपको इनाम में 67 लाख रुपये मिल सकते हैं. इसके लिए होटल की तरफ से एक शर्त रखी गई है. इजरायल की राजधानी जेरुशलेम में स्थित येहूदा नाम के इस होटल में हनीमून या क्वॉलिटी टाइम बिताने के लिए आए कपल्स को स्पेशल ऑफर दिया जा रहा है.

इस तारीख पर होना होगा गर्भवती

इस ऑफर में हनीमून पर आई महिला को होटल की तरफ से बताई गई तारीख पर गर्भवती होना होगा. अगर आप भी ऐसा करने में कामयाब होते हैं तो आपको इनाम में 67 लाख रुपये मिलेंगे. होटल के स्टॉफ में एक डॉक्टर भी है जो यह पुष्टि करता है कि आप पहले से तो गर्भवती नहीं है. साथ ही वह यह भी पुष्टि करता है कि आप होटल की तरफ से तय की गई तिथि पर ही गर्भवती हुई हैं.

होटल ही उठाएगा ट्रिप का खर्चा

होटल के ऑफर के तहत महिला को 29 फरवरी को कंसीव करना होगा. 29 फरवरी को गर्भवती होने वाली महिला को 67 लाख रुपये का इनाम मिलेगा. इतना ही नहीं डॉक्टर की तरफ से अगर यह पुष्टि हो जाती है कि महिला 29 फरवरी को गर्भवती हुई है तो आपकी ट्रिप का खर्चा भी होटल की तरफ से ही उठाया जाता है.

येहूदा होटल की तरफ से यह ऑफर चार साल में एक बार दिया जाता है. यहां फरवरी में मेहमानों का आना शुरू होता है. होटल के मुताबिक ऐसे समय में हमारी बुकिंग 50 फीसदी तक फुल रहती है. भले ही इस डील को जीतने वाले कपल एक या दो ही होते हों, लेकिन अधिकांश रूम बुक होने से होटल को अच्छी कमाई होती है

राष्ट्रपति की कार पर नहीं होती नंबर प्लेट, वजह जानकर चक्कर आने लगेगा, खुल जाएगा राज

भारत में आपको प्रत्येक कार पर नंबर प्लेट नजर आएगी सिवाए कुछ गाड़ियों के। इसके बावजूद भारत सरकार ने इन्हें मान्यता दे रखी है। क्या आप जानते हैं कि ये कार किन लोगों के पास है..? चलिए जानते हैं इस रोचक सवाल का रोचक जवाब…

आपकी जानकारी के लिए बताना चाहेंगे कि भारत में देश के राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, राज्यों के राज्यपाल और कई अन्य वीवीआईपी की कारों पर नंबर प्लेट नहीं होती है।

मीडिया रिपोर्टों के मुताबिकविदेश मंत्रालय के पास भी ऐसी कारें हैं, जो बिना रजिस्ट्रेशन प्लेट के चलाई जाती हैं। पता हो कार पर नंबर प्लेट रजिस्टर्ड होती है जिससे कार के मालिक की पहचान आसानी से की जा सकती है।

आमतौर पर इन कारों का इस्तेमाल विदेशी महमानों को लाने और ले जाने के लिए होता है और उन्हें इन्हीं कारों में बैठाकर घुमाया भी जाता है। भारत में एक ओर जहां वीवीआईपी कल्चर खत्म करने के लिए गाड़ियों से लालबत्ती को हटाया गया तो वहीं भारत में अब भी ब्रिटिशों द्वारा बनाया गया यह नियम मान्य हैं।

यही वजह है कि राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, राज्यों के राज्यपाल और कई वीवीआईपी कारों पर रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट नहीं होती। वैसे माना ये भी जाता रहा है कि सुरक्षा के लिहाज से वीवीआईपी की कारों पर नंबर प्लेट नहीं होती है।