अब घर बैठे बनेगा पासपोर्ट, यह है तरीका

नरेंद्र मोदी की डिजिटल इंडिया मुहिम के तहत भारत सरकार ने एक मोबाइल एप Passport Seva एप पेश की है। इससे व्यक्ति पासपोर्ट एप्लीकेशन का प्रोसेस आसानी से कर पाएंगे।

यूजर्स इस एप के जरिए अपने स्मार्टफोन से ही पासपोर्ट के लिए अप्लाई कर पाएंगे। इस एप को एप्पल एप स्टोर और गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड किया जा सकता है।

जानें कैसे इस्तेमाल करें Passport Seva एप?

  • सबसे पहले आपको अपने फोन में Passport Seva एप डाउनलोड कर इंस्टॉल करनी होगी। इसके बाद आपको अपना पासपोर्ट ऑफिस सेलेक्ट कर निजी जानकारी भरनी होगी।
  • इसके बाद पासपोर्ट एप्लीकेशन फॉर्म को भरकर सबमिट करना होगा।
  • इसके बाद आपने जो एड्रेस दिया है उस पर पुलिस वैरिफिकेशन होगी। सफलतापूर्वक वैरिफिकेशन होने के बाद आपका पासपोर्ट आपके पते पर पहुंच जाएगा।

Passport Seva एप के अलावा भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने 289 पासपोर्ट रजिस्ट्रेशन सेंटर्स की भी घोषणा की है। इससे कोई भी व्यक्ति भारत के किसी भी कोने सो पासपोर्ट एप्लाई कर सकता है। सुषमा स्वराज ने कहा, “पासपोर्ट आवेदन के लिए कई पुराने और दुविधा भरे नियमों को खत्म कर दिया गया है।

नियमों का सरलीकरण किया गया है। आम नागरिक को सुविधा देने वाले नियम बनाए गए हैं।” इसके साथ ही यह भी बताया कि पासपोर्ट बनाने के लिए मैरेज सर्टिफिकेट देने की भी जरूरत नहीं है। वही, तलाकशुदा महिलाओं को अपने पूर्व पति का नाम देना भी जरूरी नहीं है।

सुषमा स्वराज ने बताया, “हज तीर्थयात्रा के लिए दो चीजें जो सीधे भारतीय नागरिकों से जुड़ी थीं वो पासपोर्ट और वीजा थे। इस एप के जरिए अब भारतीयों को हज यात्रा शुरू करने में मदद मिलेगी।”

दिवाली पर हर साल इस राज्य में एक लाख से अधिक लोग बन जाते हैं करोड़पति एवं लखपति

अगर आप भी इस दिवाली पर कुछ बड़ा करना चाहते हैं तो यह मौका आपके लिए सबसे अच्छा है। आप भी अगर इस दिवाली करोड़पति बनना चाहते हैं तो भारत के इस राज्य की दिवाली बंपर स्कीम में हिस्सा ले सकते हैं। इस राज्य में वर्षों से दिवाली पर इसका आयोजन किया जाता है।

हम बात कर रहे हैं पंजाब की जहां सबसे बड़ी बंपर लॉटरी स्कीम निकाली जाती है। पंजाब में 1968 से लॉटरी सिस्टम संचालित किया जा रहा है। इस लॉटरी सिस्टम को पंजाब सरकार के वित्त विभाग की ओर से संचालित किया जाता है।

पंजाब सरकार सप्ताह, मासिक, और बंपर लॉटरी ड्रॉ का आयोजन करती है और जीतने वाले लोगों को बंपर इनाम दिए जाते हैं।

दिवाली के मौके पर होता है लॉटरी का आयोजन

इस स्कीम को ‘पंजाब स्टेट दिवाली बंपर’ कहा जाता है। यह बंपर ड्रॉ एक साल में केवल एक ही बार दिवाली के मौके पर निकाले जाते हैं। बंपर ड्रॉ में जीतने वाले लोगों को पुरस्कार दिए जाते हैं। यह राशि 1.5 करोड़ रुपए तक होती है।

इस स्कीम के तहत 20 लाख लॉटरी टिकट बेचे जाते हैं जो ए और बी सीरीज में होते हैं। लॉटरी टिकट का नंबर 000000 से 999999 के बीच होता हैं। मालामाल बनने के लिए आपको 200 रुपए का लॉटरी टिकट खरीदना होगा। पंजाब में साप्ताहिक लॉटरी स्कीम एक हफ्ते में एक बार आयोजित की जाती है।

5,100,000 रुपये का जैकपॉट जीतने का मौका

लुधियाना में हर बुधवार को ड्रा होता है टिकट की कीमत 20 रुपए होती है। टिकट में 10000 और 49999 के बीच पांच अंकों की संख्या होती है, जिसे पुरस्कार जीतने के लिए बनाई गई किसी एक ड्रा के साथ मिलान किया जाना चाहिए। जीते गए कोड के मिलान वाले भाग के लिए भी पुरस्कार हैं।

पंजाब में निकलने वाले मासिक लॉटरी ड्रॉ में 5,100,000 रुपये का जैकपॉट जीतने का मौका मिलता है। इसके अलावा, इसमें सात अन्य पुरस्कार उपलब्ध हैं जो कि 50 रुपए से लेकर 500,000 के बीच होते हैं।

टिकट की कीमत 50 रुपए होती है। यह ड्रॉ महीने के पहले या दूसरे सप्ताह में आयोजित होते है। खिलाड़ियों को 000000 और 99 99 99 के बीच एक छह अंकों की संख्या वाला टिकट मिलता है।

PrizeNo            No. of Prize             Amount
1                                  2                           15000000
2                                 5                           1000000
3                                20                         250000
4                                20                         100000
5                                40                         50000
6                                40                         20000
7                               1000                     5000
8                                4000                   1000
9                               10000                  200

अगर आप भी वेस्टर्न टॉयलेट को समझते हैं बेहतर, तो बदल दें सोच! नहीं तो पड़ जाएंगे लेने के देने

वर्तमान समय में खान-पान से लेकर पहनावे तक हर किसी में हम पाश्चात्य सभ्यता को ज्यादा प्राथमिकता देते हैं। बोलचाल में भी लोग अंग्रेजी भाषा के उपयोग को ही बेहतर मानते हैं। यहां तक कि घर को डिजाइन करने में भी वेस्टर्न कल्चर को ही ज्यादातर अपनाया जाता है।

ड्रॉइंग रूम हो या बेड रूम, बालकनी हो या बाथरूम हर जगह को मॉडर्न आउटलुक दिया जाता है।हालांकि आज भी ज्यादातर लोग बाथरूम बनवाते वक्त इस बारे में अनिश्चित रहते हैं कि वे इंडियन टॉयलेट का चुनाव करें या वेस्‍टर्न टॉयलेट फिट करवाएं।

अधिकतर लोग आज अपने घरों में वेस्टर्न टॉयलेट लगवाते हैं, लेकिन आज हम आपको जो बताने जा रहे हैं उस बारे में जानने के बाद आप ऐसा करने से पहले एक बार जरुर सोचेंगे।

दैनिक जीवन में व्‍यायाम के महत्‍व से हम सभी वाकिफ है। हालांकि समय के अभाव के चलते इसके लिए वक्त निकाल पाना हर किसी के लिए संभव नहीं हो पाता है। ऐसे में इंडियन टॉयलेट का इस्तेमाल कर आप रोजाना व्‍यायाम कर सकते हैं।

इंडियन टॉयलेट आयु-संभाव्यता (Life Expectancy) को बढ़ाने में सहायक है। इस तरह के शौचालय का इस्तेमाल करते वक्त हाथ से लेकर पैरों तक की मांसपेशियों का इस्तेमाल होता है जो कि स्वास्थ्य के लिए अच्छा होता है। इससे बॉडी में ब्लड सर्कुलेशन भी अच्छे से होता है।

सामान्य इंसान के साथ गर्भवती महिलाओं के लिए यह काफी लाभदायक है। जब कोई गर्भवती महिला इंडियन टॉयलेट सीट पर बैठती है तो इससे उनके गर्भाशय पर दबाव नहीं बनाता है। इसके साथ ही इंडियन टॉयलेट के उपयोग से नॉर्मल डिलीवरी होने की संभावना ज्यादा रहती है।

यह पेट से संब‍ंधित कोलन कैंसर और अन्‍य बीमारियों को रोकने में भी मददगार है।आपको बता दें कि इंडियन टॉयलेट सीट पर बैठना से हमारे शरीर में कोलन से मल पूरी तरह से निकल पाता है। इतना ही नहीं यह कब्‍ज, एपेंडिसाइटिस और अन्‍य कई प्रकार की बीमारियों से भी शरीर की रक्षा करता है।

शरीर में पाचन क्षमता को बढ़ाने में भी यह सहायक है। यह भोजन को पचाने में आपकी मदद करता है। ऐसा इसलिए क्योंकि जब आप इस पर बैठते हैं तो इससे पेट पर दबाव पड़ता है। बॉडी पॉश्चर को सुधारने में भी इंडियन टॉयलेट का कोई जवाब नहीं है।

भले ही वक्त के साथ-साथ हम अन्य सभ्यताओं को अपना रहे हैं, लेकिन अपने देश में कुछ-कुछ चीजें ऐसी है जिनका उपयोग आज भी अगर आप करें तो यह आपके ही लिए बेहतर है।

भूलकर भी फ्रिज में न रखें ये चीजें, खतरे में पड़ सकती है जिंदगी

हम सभी लोग फलों और सब्जियों को लंबे समय तक फ्रैश रखने के लिए फ्रिज में रख देते हैं, लेकिन शायद आप इस बात से अंजान होंगे कि कुछ चीजों को फ्रिज में नही रखना चाहिए। इन्हें फ्रिज में रखने से आपकी सेहत पर बुरा असर पड़ता है। आइए जानते हैं उन चीजों के बारे में जिन्हें फ्रिज में रखना एवॉइड करना चाहिए।

कॉफी

कॉफी को फ्रिज में नहीं रखना चाहिए। फ्रिज में रखने से ये उसमें रखी दूसरी चीजों का महक सोख लेती है और जल्दी खराब हो जाती है।

ब्रेड

आप यह पढ़कर हैरान हो रहे होंगे, लेकिन ब्रेड को कभी भी फ्रिज में नहीं रखना चाहिए, क्योंकि फ्रिज में रखने से इसका स्वाद तो बदलता ही है साथ ही ये आपकी सेहत को भी भारी नुकसान पहुंचाती है।

टमाटर

टमाटर को कभी फ्रिज में नहीं रखना चाहिए, क्योंकि फ्रिज में रखने से इनके अंदर की झिल्ली टूट जाती है। जिस वजह से टमाटर जल्दी गलने लगता है। इतना ही नहीं फ्रिज में रखें टमाटर हमारी सेहत को भी नुकसान पहुंचाते हैं।

केला

केले को फ्रिज में रखने से ये काला पड़ने लगता है। इससे ईथाइलीन नाम की गैस निकलती है जिससे ये अपने आसपास रखे फलों को भी खराब कर देता है।

शहद

शहद को कभी फ्रिज में नहीं रखना चाहिए। शहद तो पहले से ही प्रिजर्व रहता है। इसे आप सामान्य तौर पर ही जार में बंद करके रख देंगे तो वो भी वो सालो-साल चलेगा। फ्रिज में रखने से वो क्रिस्टल बन जाता है और उसे जार से निकालना मुश्किल हो जाता है।

आलू

आलू को फ्रिज में रखने से इसका स्टार्च शुगर में बदलने लगता है, जो सेहत को नुकसान पहुंचाता है। इससे उसके स्वाद पर भी असर पड़ता है।

तरबूज

तरबूज को भी फ्रिज में नहीं रखना चाहिए। फ्रिज में तरबूज रखने से इसमें मौजूद पौष्टिक गुण खत्म हो जाते हैं।

नई दुल्हन हर बार पति को कर देती थी मना ,एक दिन अचानक होने लगी उल्टियां और फिर…

हरियाणा के पानीपत में एक हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है। यहां शादी के बाद एक पत्नी ने पति से संबंध बनाने से इनकार कर दिया। पति को पहले लगा कि वह शर्म की वजह से ऐसा कर रही है, लेकिन जब हकीकत सामने आई तो उसके पैरों तले जमीन खिसक गई।

सुहागरात से पहले पत्नी का इनकार…

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, अंबाला शहर में रहने वाले लड़की की शादी हरजीत से हुई थी। शादी के बाद सुहागरात का समय आया, लेकिन पत्नी ने कमरे में जाने से माना कर दिया। पति के पूछने पर उसने कहा कि वह अभी एडजेस्ट नहीं हो पा रही है, उसे कुछ दिन का समय चाहिए। इसपर हरजीत ने सहमति जता दी।

पति ने बनाया मनाली जाने का प्लान

हरजीत ने पत्नी के साथ वक्त बिताने के लिए मनाली की हनीमून ट्रिप प्लान किया, लेकिन वह यहां भी जाने को तैयार नहीं हुई। पत्नी ने कहा कि उसकी तबीयत खराब है और वह नहीं जा सकती।

पत्नी को उल्टियां, सामने आइ चौंकाने वाली हकीकत

हरजीत को ये बात हजम नहीं हुई और उसे अपनी पत्नी पर शक होने लगा। इसी दौरान पत्नी की तबीयत ज्यादा खराब हो गई और उसे उल्टियां होने लगीं। हरजीत उसे अस्पताल ले गया। यहां उसका प्रेग्नेंसी टेस्ट करवाया गया, जो पॉजिटिव निकला।

हरजीत को लगा कि रिपोर्ट सही नहीं है तो उसने शहर में अल्ट्रासाउंड करवाया। इसमें पत्नी को सात सप्ताह चार दिन की गर्भवती बताया गया। इसके बाद भी जब उसे यकीन नहीं हुआ तो उसने अगले दिन रिपोर्ट को क्रॉस चेक के लिए डॉ. जसपाल स्कैन सेंटर से अल्ट्रसाउंड करवाया। यहां भी वही रिपोर्ट सामने आई तो हरजीत के होश उड़ गए।

युवक से करती थी प्यार, लेकिन नहीं हो सकी शादी

हकीकत सामने आने के बाद पत्नी ने बताया कि वह एक युवक से प्यार करती थी। उसी से शादी भी करना चाहती थी, जो हो नहीं सका। हरजीत ने इस मामले में अपने ससुरालवालों पर 16 जुलाई 2018 को लीगल नोटिस दिया, लेकिन ससुरालवालों ने अनदेखी कर दी। इसके बाद उल्टा शिकायत का अंजाम भुगतने की धमकी दी। अब पुलिस ने पत्नी सहित उसके परिवार पर केस दर्ज कर लिया है।

नवंबर में इन 13 दिनों के लिए बंद रहेंगे बैंक, पहले से ही कर लें पूरी तैयारी

त्योहारों का मौसम शुरू हो चुका है। इसके साथ ही छुट्टीयों का समय भी है। लेकिन यदि इस महीने आप बैंक में अपना काम निपटाने का प्लान बना रहे हैं तो अापको बैंकों की छुट्टी के बारे में पता कर लेना चाहिए।

नवंबर माह में फेस्टिव सीजन के उपलक्ष्य पर देशभर के अलग-अलग राज्यों के कर्इ दिनों के लिए बैंकों में काम बंद रहेंगे। एेसे में आपके लिए जरूरी है कि आपके राज्य में किस दिन बैंक बंद रहेंगे ताकि अाप समय रहते अपने काम को निपटा लें। आइए जानते हैं किन-किन राज्यों में इस माह बैंक बंद रहेंगे।

उत्तर प्रदेश में दिवाली के अवसर पर पांच दिनों के लिए बैंक बंद रहेंगे। यूपी में 7 नवंबर से बैंक बंद रहेंगे। दरअसल दिवाली, भार्इदूज, गुरू नानक जयंती, छठ पूजा, र्इद-ए-मिलाद जैसे कर्इ त्याेहारों के उपलक्ष्य में नवंबर माह में बैंक बंद रहेंगे।

इसके साथ ही रविवार को भी बंद रहते हैं। हर माह के दूसरे आैर चौथे शनिवार को बैंक बंद रहते हैं। इसका मतलब है कि त्योहारों के अलावा 11 व 25 नवंबर को भी बैंक बंद रहेंगे।

  • 01 नवंबर- इस दिन पुड्डूचेरी, हरियाणा, कर्नाटक वा मणिपुर में बैंक बंद रहेंगे।
  • 06 नवंबर- आंध्र प्रदेश, गोवा, कर्नाटक, केरल, पुड्डूचेरी, तेलंगाना, आैर तमिल नाडु
  • 07 नवंबर- आंध्र प्रदेश, गोवा कर्नाटक, केरल, पुड्डूचेरी, तेलंगाना आैर तमिल नाडु के अलावा पूरे देश में बंद रहेंगे बैंक
  • 08 नवंबर- गुजरात, राजस्थान, सिक्किम, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश
  • 09- मेघालय, उत्तर प्रदेश
  • 10 नवंबर – दूसरा शनिवार
  • 11 नवंबर – रविवार

  • 13 नवंबर – बिहार आैर झारखंड
  • 14 नवंबर – बिहार
  • 16 नवंबर – पंजाब
  • 21 नवंबर – अंडमान आैर निकोबार, अरूणांचल प्रदेश, असम, बिहार, गोवा, हिमाचल प्रदेश, मणिपुर, मेघालय, पंजाब, सिक्किम व पश्चिम बंगाल के अलावा पूरे देश में बैंक बंद रहेंगे।
  • 23 नवंबर – आंध्र प्रदेश, बिहार, दमन आैर दिउ, गोवा, कर्नाटक, केरल, मणिपुर, मेघालय, आेड़िशा, पुड्डूचेरी, सिक्किम, तमिल नाडु व त्रिपुरा के अलावा पूरे देश में बैंक बंद रहेंगे।
  • 24 नवंबर – पंजाब
  • 26 नवंबर – कर्नाटक

इसके साथ ही आपको याद दिला दें कि 7 नवंबर को दिवाली मनाया जाएगा। बैंकों ने पहले ही साफ कर दिया है कि त्योहारों के दौरान एटीएम में नकदी की कोर्इ कमी नहीं होगी।

कोर्ट का आदेश: मां-बाप की संपत्ति पर बेटे-बहू का कोई अधिकार नहीं, जाने पूरा फैसला

दिल्ली हाईकोर्ट बड़ा फैसला देते हुए कहा है कि सास-ससुर की चल या अचल संपत्ति में बहू का कोई अधिकार नहीं है। फिर चाहे वह संपत्ति पैतृक हो या खुद से अर्जित की गई हो। दिल्ली हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस राजेंद्र मेनन और जस्टिस वी कामेश्वर राव की पीठ ने अपने फैसले में कहा कि ऐसी कोई भी चल, अचल, मूर्त, अमूर्त या ऐसी कोई भी संपत्ति जिसमें सास-ससुर का हित जुड़ा हुआ हो, उस पर बहू का कोई अधिकार नहीं है।

वरिष्ठ नागरिकों को अपने घर में शांति से रहने का अधिकार है। सास-ससुर को अपने घर में बेटा-बेटी या कानूनी वारिस ही नहीं बल्कि बहू से भी घर खाली कराने का अधिकार है। मौजूदा मामले में बहु ने माता-पिता और वरिष्ठ नागरिक के देखरेख व कल्याण के लिए बने नियमों का हवाला देते हुए कहा था कि वह ससुर से गुजाराभत्ता नहीं मांग ले रही है, इसलिए वह उससे घर खाली नहीं करा सकते।

महिला ने दलील दी थी कि ससुर सिर्फ अपने बेटा-बेटी या कानूनी वारिस से ही घर खाली करा सकते हैं। हाईकोर्ट ने महिला की इन सभी दलीलों को खारिज कर दिया। याचिका दायर करने वाली महिला अपने पति और सास-ससुर के खिलाफ दहेज उत्पीड़न और अन्य आरोपों में मुकदमा दर्ज करा चुकी है। महिला का उसके पति से भी तलाक का मुकदमा चल रहा है। सुसर ने महिला पर प्रताड़ना का आरोप लगाया था।

जानिए क्या हैं वरिष्ठ माता-पिता के अधिकार

मप्र हाई कोर्ट के सीनियर एडवोकेट संजय मेहरा ने बताया कि बुजुर्ग माता-पिता को कानून ने कई अधिकार दिए हैं। कोई भी बच्चा अपने पेरेंट्स को परेशान नहीं कर सकता। कोई भी बेटा अपने पेरेंट्स को उनके घर से नहीं निकाल सकता। यदि घर की रजिस्ट्री बेटे के नाम है तो उस केस में बेटे को पिता को हर माह गुजाराभत्ता देना जरूरी होता है। जानिए इसमें क्या कहता है कानून।

बुजुर्ग माता-पिता को अपने बच्चों से भरण-पोषण पाने का अधिकार है। जिस घर में वे रह रहें, उसकी रजिस्ट्री उन्हीं के नाम पर है तो बच्चा उन्हें घर से बाहर नहीं कर सकता। बच्चे अपने घर में उन्हें नहीं रखना चाहता तो उसे पेरेंट्स को हर माह गुजाराभत्ता देना होगा। गुजाराभत्ता पेरेंट्स की जरूरतों और बेटे की कमाई के हिसाब से तय होता है।

वरिष्ठ नागरिक संरक्षण अधिनियम, 2005 के तहत पेरेंट्स ऐसे में कार्रवाई की मांग कर सकते हैं। सीआरपीसी की धारा 125 के तहत गुजारा-भत्ते की मांग कर सकते हैं। कलेक्टर को शिकायत की जा सकती है। बच्चे ने मारपीट की या धमकी है तो पुलिस में भी शिकायत की जा सकती है। पुलिस मामले को न सुने तो मजिस्ट्रेट या फैमिली कोर्ट में अपील कर सकते हैं।

मौसम अपडेटः अगले 24 घंटों में देश के इन राज्यों में भारी बारिश

पूर्वोत्तर मानसून कीसी भी वक्त यहां दस्तक दे सकता है. इस वजह से देश के दक्षिणी हिस्सों में बारिश की शुरुआत हो चुकी है और आने वाले समय में बारिश की बूंदे तेज़ हो सकती हैं.

इस समय देश के कई हिस्सों में चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र बना हुआ है जिसकी वजह से कई राज्यों में हल्की से मध्यम बारिश दर्ज की जा सकती है. दक्षिण की बात करें तो दक्षिण कर्नाटक के कुछ हिस्सों में बारिश होने की संभावना है जबकि रायलसीमा और तटीय आंध्र प्रदेश के कुछ हिस्सों में बारिश होने की संभावना है.

एत चक्रवात पूर्वी बांग्लादेश और आसपास के क्षेत्रों में बना हुआ है इस वजह से मणिपुर, मिज़ोरम, और त्रिपुरा में हल्की से मध्यम बारिश होने की संभावना है. इसके साथ ही नागालैंड में भी बारिश से इन्कार नहीं किया जा सकता है.

आगे आने वाले समय में गंगीय पश्चिम बंगाल और ओडिशा में बारिश का प्रभाव कम हो जाएगा लेकिन कुछ स्थानों पर हल्की बारिश होने की संभावना है. पूर्वी उत्तर प्रदेश, बिहार और झारखंड में मौसम शुष्क और गर्म बना रहेगा.

आगे कृषि प्रधान राज्यों की बात करें तो गुजरात, दक्षिण राजस्थान, और मध्य प्रदेश समेत पूरे मध्य भारत में भी मौसम शुष्क और गर्म बना रहेगा. और पूर्वी मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ के न्यूनतम तापमान में गिरावट देखी जा सकती है.

पहाड़ी इलाकों की बात करें तो जम्मू- कश्मीर में बारिश की तीव्रता में तेज़ी देखी जा सकती है और उसके कुछ ऊचें इलाकों में बर्फबारी भी हो सकती है. इसके साथ ही हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड के कुछ स्थानों पर हल्की बारिश हो सकती है. हालांकि, दिल्ली-एनसीआर समेत उत्तर पश्चिमी मैदानी इलाकों में मौसम शुष्क बना रहेगा.

आख़िरी में देश की राजधानी दिल्ली की बात करें तो यहां की स्थिति काफी चिंताजनक बनी हुई है और कई स्थानों पर वायु गुणवत्ता बहुत खराब बनी हुई है.

अगले 24 घंटों के दौरान जम्मू- कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, तमिलनाडु, केरल, उत्तरी तटीय आंध्र प्रदेश, दक्षिणी आंतरिक कर्नाटक और तटीय कर्नाटक, गंगीय पश्चिम बंगाल, ओड़ीशा, मिज़ोरम, मणिपुर, नागालैंड, असम और त्रिपुरा इन सभी राज्यों हल्की से भारी बारिश होने की संभावना है.

SBI की चेतावनी! त्योहारों में की ये 4 गलतियां तो खाली हो जाएगा बैंक खाता! रहें सतर्क

पैसों के लेन-देन को लेकर होने वाली फ्रॉड की घटनाएं बढ़ती जा रही हैं. ये फ्रॉड सिर्फ ऑनलाइन ही नहीं, बल्क‍ि एटीएम सेंटर से भी होते हैं. इसे देखते हुए देश के सबसे बड़े सरकारी बैंक भारतीय स्‍टेट बैंक (SBI) ने अपने ग्राहकों के अकाउंट को सेफ रखने के लिए 4 ऐसी बातें बताई हैं, जिन्हें भूलकर भी इस फेस्टिव सीजन में नहीं करना है.

अगर ऐसे करते हैं तो आपके बैंक खाते में जालसाज सेंध लगाकर आपकी कमाई को उड़ा ले जाएंगे. लिहाजा आपको इस फेस्टिव सीजन में इन गलतियों को करने से बचना है.

बैंक कभी नहीं मांगता ये 6 जानकारी- एसबीआई ने अपने ट्विटर अकाउंट पर बयान जारी कर कहा है, ‘प्रिय ग्राहक, कृपया ध्यान दें कि एसबीआई कभी भी आपके द्वारा यूजर आईडी, पिन, पासवर्ड, सीवीवी, ओटीपी, वीपीए (यूपीआई) जैसी संवेदनशील जानकारी नहीं लेगा.

अगर आप जब भी पैसों का लेन-देन करते है तो हमेशा कुछ चीजों का ध्यान रखना चाहिए. बैंक ने इस पर एक वीडियो भी जारी किया है. ग्राहक को क्या करना है और क्या नहीं करना!

पब्लिक में ऑनलाइन अकाउंट यूज न करें-

बैंक की ओर से जारी वीडियो में बताया गया है कि पब्लिक इंटरनेट यानी रेलवे स्टेशन, बस स्टैंड या फिर किसी भी अन्य जगह जहां पर ओपन वाई-फाई के जरिए इंटरनेट सर्विस मिलती है. वहां पर डिजिटल बैंकिंग का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए. ऐसे में आपकी बैंकिंग इन्फॉर्मेशन लीक होने का खतरा है.

OTP, PINs, CVV, UPI पिन शेयर न करें

बैंक का कहना है कि कभी भी आपको अपने अपना OTP (वन टाइम पासवर्ड), पिन नंबर, एटीएम कार्ड के पीछे लिखा सीवीवी नंबर किसी के साथ भी शेयर नहीं करना चाहिए. आजकल इस तरह के फोन आते हैं कि हम बैंक से बोल रहे हैं और आप हमे अपने कार्ड पर लिखा नंबर बता दीजिए. आपके फोन पर आया ओटीपी बता दीजिए. ये लोग जालसाज होते हैं.

अकाउंट डिटेल फोन में सेव न करें-

आपको अपने फोन में कभी भी अपना बैंक अकाउंट नंबर, पासवर्ड, एटीएम कार्ड का नंबर या फिर इसकी फोटो खींचकर नहीं रखनी चाहिए, क्योंकि ये सभी डिटेल आपके फोन से लीक हो सकती हैं.

अपना ATM कार्ड किसी के साथ शेयर न करें

अपना एटीएम, क्रेडिट कार्ड कभी भी किसी को नहीं देना चाहिए. साथ ही, आपको इससे जुड़ी डिटेल भी किसी के साथ शेयर नहीं करनी चाहिए. ऐसे में अकाउंट से आपकी जानकारी के बिना ट्रांजेक्शन (लेन-देन) हो सकता हैं.

दिल्ली में हो रहे प्रदूषण का कारण पंजाब हरियाणा नहीं बल्कि राजस्थान है, जानें कैसे ?

राजस्थान में स्थित अरावली पहाड़ी क्षेत्र के साथ की गई छेड़छाड़ का खामियाजा पूरा एनसीआर भुगत रहा है। वायु प्रदूषण का स्तर दिन प्रतिदिन बढ़ने के पीछे एक मुख्य कारण अरावली पहाड़ी की हरियाली में कमी है।

वैध और अवैध खनन की वजह से क्षेत्र की 10 से अधिक पहाड़ियां गायब हो गईं। इनमें से कुछ पहाड़ियों का नामोनिशान तक नहीं बचा है। सुप्रीम कोर्ट की सख्ती के बाद भी अवैध खनन किए जा रहे हैं।

बता दें कि अस्सी के दशक तक अरावली पहाड़ी क्षेत्र हरियाली का प्रतीक था। हर तरफ वन्य जीव दिखाई देते थे। कभी इलाके में बाघ भी थे। अब तेंदुआ, लकड़बग्घा, हिरण, नील गाय, खरगोश सहित कुछ प्रकार के वन्य जीव ही रह गए हैं।

शहरीकरण की आंधी तेज होने का सबसे अधिक खामियाजा अरावली पहाड़ी क्षेत्र को भुगतना पड़ा। भू-माफियाओं से लेकर खनन माफियाओं ने जमकर क्षेत्र का दोहन किया। अरावली पहाड़ी क्षेत्र वन क्षेत्र घोषित है, इसके बाद भी अनुमान के मुताबिक 15 हजार एकड़ से अधिक भूमि पर गैर वानिकी कार्य कर दिए गए।

न केवल सैंकड़ों फार्म हाउस बन चुके हैं बल्कि स्कूल, गोशाला आदि काफी संख्या में बन चुके हैं। यही नहीं कई सोसायटी तक विकसित कर दी गईं। इसकी वजह से हरियाली काफी कम हो गई। वैध एवं अवैध खनन की वजह से भी काफी हरियाली खत्म हो गई। साथ ही भूमिगत जल स्तर पर भी पाताल में चला गया।

होडल से लेकर नारनौल तक कई पहाड़ी गायब

अरावली की 10 से अधिक छोटी पहाड़ियां गायब हो चुकी हैं। होडल के पास पूरी पहाड़ी खनन की वजह से गायब हो गई। नारनौल में नांगल दरगु के नजदीक पहाड़ी खत्म हो गई। सोहना से आगे तीन पहाड़ियां गायब हो गईं।

महेंद्र के ख्वासपुर की पहाड़ी काफी हद तक गायब हो चुकी है। इसी तरह कई जगह वैध व अवैध खनन की वजह से पहाड़ी गायब हो गई। इस वजह से जो अरावली पहाड़ी क्षेत्र धूल मिट्टी को अवशोषित करता था वह क्षेत्र अब वायू प्रदूषण का स्तर बढ़ाने में भूमिका निभाता है। हरियाली की वजह से धूल मिट्टी ऊपर नहीं जा पाती थी।