दुकानदार बेच रहा था 20 रूपये किलो केले पर एक औरत को सिर्फ 5 रूपये किलो लगाए, पास खड़े हुए ग्राहक ने पूछा तो दूकानदार का उत्तर सुन के उसकी आखों में आंसू आ गए

फलों की दुकान पर एक ग्राहक को दुकानदार ने केले 20 रु. दर्जन और सेवफल 100 रु. किलो का भाव बताया। तभी वहां एक गरीब महिला आ गई। उसने भी केले और सेवफल का भाव पूछा। दुकानदार ने उसे केले 5 रु. दर्जन और सेवफल 25 रु. किलो का भाव बताया।

ये भाव सुनकर वहां खड़ा ग्राहक चौंक गया। दुकानदार ने उसे कुछ देर चुप रहने का इशारा किया। महिला ने केले और सेवफल खरीद लिए। महिला धीरे-धीरे बोल रही थी कि हे भगवान, तेरा लाख लाख-लाख शुक्र है, मेरे बच्चे ये फल खाकर बहुत खुश होंगे।

जब महिला वहां से निकल गई तब ग्राहक ने दुकानदार से बोला कि मैंने तुम्हारा कभी कोई नुकसान नहीं किया, फिर मुझे इतना महंगा क्यों दे रहे हो? दुकानदार ने ग्राहक से कहा कि भाई साहब मैं आपको धोखा नहीं दे रहा हूं। केले और सेवफल का यही भाव है जो आपको बताया है। वह महिला विधवा है और बहुत गरीब है। उसके चार छोटे-छोटे बच्चे हैं।

मैंने कई बार उसे फ्री में फल देने की कोशिश की, लेकिन वह फ्री में कुछ भी नहीं लेती है। उसकी मदद करने की कोशिश कई बार की, लेकिन सभी नाकाम रहीं। इसके बाद मैंने उसकी मदद करने का ये तरीका निकाला कि उसे कम से कम भाव में फल दे देता हूं। इस तरह उसे भी बुरा नहीं लगता है और उसकी मदद भी हो जाती है।

महिला सप्ताह में एक बार ही आती और जिस दिन आती है, उस दिन मेरा धंधा बहुत अच्छा चलता है। मैं इसकी मदद करता हूं तो भगवान की विशेष कृपा मुझ पर बनी रहती है। ये बातें सुनकर वहां खड़े ग्राहक की आंखों में आंसू आ गए। उसने दुकानदार को गले लगाया।

सही भाव में केले और सेवफल लेकर वहां चले गया। कथा की सीख यही है जब हम दूसरों की मदद करते हैं तो किस न किस रूप में भगवान भी हमारी मदद करता है, हम पर कृपा बरसाता है।

अब अगर मोबाइल फोन पर देखा पॉर्न तो सीधे जाएंगे जेल!

देश की अधिकतर टेलीकॉम कंपनियों ने कई लोकप्रिय पॉर्न साइट्स को बंद कर दिया है। इनमें Jio, airtel और vodafone जैसी कंपनियां शामिल हैं। ऐसा साइबर क्राइम और चाइल्ड पॉर्नोग्राफी को खत्म करने के लिए किया गया है। लेकिन देश में पॉर्न देखने पर कोई पाबंदी नहीं लगाई गई है। ऐसे में कई यूजर्स बैन किए गए पॉर्न साइट्स को भी वीपीएन और प्रॉक्सी जैसी तरकीबों से देख ले रहे हैं।

अगर आप भी कुछ ऐसा ही कर रहे हैं तो आप एक बड़ी मुसीबत में पड़ सकते हैं। बता दें देश में पॉर्न देखना गैरकानूनी तो नहीं है लेकिन चाइल्ड पॉर्नोग्रफी देखना अपराध है और ऐसा करने पर निश्चित तौर पर सख्त कार्रवाई होगी।

इसी तरह, रिवेंज पॉर्न देखना, सर्कुलेट करना भी आपको बड़ी मुश्किलों में ला सकता है। ऐसे में इस तरह का कोई काम आप ना ही करें।डिपार्टमेंट ऑफ टेलिकॉम (DOT) ने साल 2015 में इंटरनेट सर्विस प्रवाइडरों से 857 वेबसाइटों को बैन करने का आदेश दिया था। हालांकि, आलोचनाओं के बाद सरकार ने बाद में पॉर्न बैन पर ढील दी।

इसके बाद जिन वेबसाइटों पर चाइल्ड पॉर्नोग्रफी की सामग्री नहीं थीं, उनसे प्रतिबंध हटा लिया गया था। सरकार ने पॉर्न वेबसाइटों पर प्रतिबंध का यह फैसला तब लिया जब एक वकील ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर कहा था कि ऑनलाइन पॉर्न की वजह से सेक्स क्राइम को बढ़ावा मिल रहा है।

कई लोकप्रिय पॉर्न साइट्स को बैन करने के बाद भी लोग इस तक पहुंच बनाने में कामयाब इस लिए भी हो पा रहें हैं। क्योंकि, एक तरह JIO, Vodafone और Airtel जैसे बड़ी कंपनियां सरकार के फैसले को मानते हुए अपने नेटवर्क पर इन साइट्स को बंद कर दिया है तो वहीं कई साइट्स अभी भी चाइनीज मोबाइल इंटरनेट कंपनी UCWeb’s UC ब्राउजर पर एक्सेसबल हैं।

हर एक एलपीजी ग्राहक को मिलता है 50 लाख का इंश्योरेंस, ऐसे कर सकते हैं इंश्योरेंस का क्लेम

एलपीजी लाइफ इंश्योरेंस के दायरे में आता है, जो एलीपीजी सिलेंडर सरकारी लाइसेंस प्राप्त एजेंसी से खरीदता है। इसके लिए कस्टमर को कोई प्रीमियम नहीं देना होता है। यह एक थर्ड पार्टी इंश्योरेंस है। जिसे सभी ऑयल कंपनियां जैसे इंडियन गैस, भारत गैस आदि लेती है।

यह पब्लिक लायबिलिटी पॉलिसी के तहत आता है।रिपोर्ट के मुताबिक एलपीजी इंश्योरेंस को पिछले 25 सालों में किसी ने क्लेम नहीं किया है। इसकी वजह लोगों को इंश्योंरेस के बारे में पता नहीं होना है।

कितना कवरेज मिलता है और कैसे करते हैं क्लेम

एलपीजी सिलेंडर से ब्लास्ट होने के आकलन की तीन कैटेगरी होती है। इन्हीं कैटेगरी के आधार पर गैस कंपनियां इंश्योरेंस देती हैं।

पर्सनल एक्सीडेंट यानी की मौत

एलपीजी सिलेंडर के ब्लास्ट होने से किसी की मौत होने पर गैस कंपनी एक फिक्स्ड अमाउंट अदा करती हैं। इसमें प्रति व्यक्ति की डेथ पर 5 लाख रुपए दिए जाते हैं।

मेडिकल एक्सपेंस

अगर सिलेंडर ब्लास्ट में कोई घायल हो जाता है, तो उसके इलाज पर जो खर्च आता है उसके लिए अधिकतम 15 लाख दिए जाते हैं। इसमें प्रति व्यक्ति नुकसान 1 लाख रुपए होता है।

प्रॉपर्टी डैमेज

अगर ब्लास्ट में किसी की प्रॉपर्टी को नुकसान पहुंचना है, तो प्रॉपर्टी के नुकसान के आकलन के बाद उसका भुगतान किया जाता है। अगर आपकी रजिस्टर्ड प्रॉपर्टी है, तो आपकी प्रॉपर्टी के आकलन के बाद 1 लाख रुपए तक का भुगतान किया जाता है।

कैसे करें इस इंश्योरेंस का क्लेम

एक्सीडेंट की सबसे पहले स्थानीय पुलिस में रिपोर्ट दर्ज करानी होती है। इसके बाद गैस डिस्ट्रीब्यूटर को एक्सीडेंट के बारे में लिखित सूचना देनी होती है। इसके साथ पुलिस रिपोर्ट की कॉपी लगानी होगी। इसके बाद गैस डिस्ट्रीब्यूटर वो एक्सीडेंट की सूचना गैस कंपनी तक पहुंचाती है। प्रॉपर्टी डैमेज की स्थिति में ऑयल कंपनी से एक टीम आती है, वो प्रॉपर्टी एसेस करती है। और इंश्योंरेस तय करेगी।

मृत्यु की स्थिति में डेथ सर्टिफिकेट, पोस्ट मॉर्टम सर्टिफिकेट देना होता है, तभी आपको इंश्योरेस मिल पाएगा। वहीं एक्सीडेंट की स्थिति में मेडिकल बिल और प्रेसक्रिप्शन बिल देना होता है। उसके बाद ही इंश्योरेंस बिल मिलता है। डिस्चार्ज बिल ऑयल कंपनी को देना होगा।

किन हालात में नहीं मिलेगा इंश्योरेंस

हमेशा सीलबंद एलपीजी गैस सिलेंडर ही लेना चाहिए। साथ ही सिलेंडर लेते वक्त ध्यान रखना चाहिए कि जो सिलेंडर आपको दिया जा रहा है, क्या वो आईएसआई मार्क वाला है। अगर ऐसा सीलबंद या फिर आईएसआई मार्क वाला सिलेंडर नहीं है, तो आपको क्लेम नही मिलेगा।

ये रोटी क़ब्ज़ से लेकर बवासीर, ज़ुकाम और पौरुष शक्ति तक करती है ज़बरदस्त फ़ायदे,

चने की रोटी बनाने की विधि :

छिलके सहित चने को पीसकर आटा बनाकर रोटी तैयार की जा सकती है। यदि इस आटे में थोड़ा सा गेहूं का आटा मिला दें तो यह मिस्सी रोटी कहलाती है। इसे पानी की सहायता से गूंथकर 3 घंटे बाद दुबारा गूंथकर रोटी बनाएं।

चने की रोटी के अद्भुत फ़ायदे :

जुकाम : 50 ग्राम भुने हुए चनों को एक कपड़े में बांधकर पोटली बना लें। इस पोटली को हल्का सा गर्म करके नाक पर लगाकर सूंघने से बंद नाक खुल जाती है और सांस लेने में परेशानी नहीं होती है। गर्म-गर्म चने को किसी रूमाल में बांधकर सूंघने से जुकाम ठीक हो जाता है।

पौरुष शक्ति : 1 मुट्ठी सेंके हुए चने या भीगे हुए चने और 5 बादाम खाकर दूध पीने से पौरुष शक्ति बढ़ती है, जिससे वैवाहिक जीवन ख़ुशियों से भर जाता है।

कब्ज : 1 या 2 मुट्ठी चनों को धोकर रात को भिगो दें। सुबह जीरा और सोंठ को पीसकर चनों पर डालकर खाएं। घंटे भर बाद चने भिगोये हुए पानी को भी पीने से कब्ज दूर होती है। अंकुरित चना, अंजीर और शहद को मिलाकर या गेहूं के आटे में चने को मिलाकर इसकी रोटी खाने से कब्ज मिट जाती हैं। रात को लगभग 50 ग्राम चने भिगो दें। सुबह इन चनों को जीरा तथा नमक के साथ खाने से कब्ज दूर हो जाती है।

रूसी : 4 बड़े चम्मच चने का बेसन एक बड़े गिलास पानी में घोलकर बालों पर लगायें। इसके बाद सिर को धो लें। इससे सिर की फरास या रूसी दूर हो जाती है।

इन तरीकों को अपना कर खराब आर्थिक स्थिति में भी आसानी से चुका पाएंगे लोन

आज, दुनिया की सरकारों, अर्थशास्त्रियों और पॉलिसी मेकर के सामने विशेषकर 2008 के फाइनेंशियल क्राइसिस के बाद, पिछले कुछ वर्षों में एकॉनामिक ग्रोथ का कम होना चिंता का विषय बना हुआ है। न केवल सरकारें, बल्कि आम जनता भी लोन चुकाने के लिए परेशानी झेल रहे हैं लेकिन बेहतर विकल्प और पॉज़िटिव माइंडसेट वाले लोग भी हैं जो ऐसे क्राइसिस के समय भी अपने लोन को चुकाने में सफल हो रहे हैं।

ऐसे लोग अपनी ज़रूरतों की प्राथमिकता तय करते हैं, बजट बनाते हैं और अपनी आमदनी और खर्चों के बीच मॉडरेट करने के संसाधनों को मैनेज करते हैं और अंत में फाइनेंशियल जिम्मेदारियों से खुद को आज़ाद करते हैं। यह काम मुश्किल तो है लेकिन संभव है लेकिन उपाय करने में आपको बहुत सावधानी बरतनी होगी।

आपको यह कभी नहीं भूलना चाहिए कि अपना मासिक, तिमाही और वार्षिक बजट बनाना और उसका सख्ती से पालन करना फाइनेंशियल जिम्मेदारियों को पूरा करने का सबसे चतुर और बेहतरीन तरीका है। इसके बाद का बड़ा उपाय ऐसे क्राइसिस के समय में लोन को चुकाने का फीज़िबल ऑप्शन चुनना है। फिनवे कैपिटल प्रा. लि. के सीईओ रचित चावला के अनुसार, कुछ प्रैक्टिकल साल्यूशन बताए गए हैं जो इसके लिए सचमुच काम के साबित होंगे।

प्लान्ड स्कीन अपनाना

आम तौर पर, होम और एजुकेशन जैसे लोन मे 6 महीने या उससे अधिक का रीपेमेंट हालीडे होता है। इसलिए, अपने पास पर्याप्त राशि रखनी चाहिए ताकि नियत तारीख से ही प्रीमियम का पेमेंट करना शुरु किया जा सके।

इस बारे में यदि सावधानी नहीं बरती गई तो आपका क्रेडिट स्कोर खराब हो सकता है। यदि आप स्टुडेंट हैं और आपने एजुकेशन ऋण लिया है जिसे आप समय पर रोजगार न मिलने के कारण चुका नहीं पा रहे हैं तो आपको तुरंत बैंक से संपर्क करना चाहिए और नौकरी पाने में मदद मांगने का अनुरोध करना चाहिए।

पेमेंट की अवधि बढ़ाने के बारे में सोचें

सही सूचना देने से कई जोखिम और समस्याओं को दूर किया जा सकता है। बैंक के स्टाफ़ से दोबारा चर्चा करने और उन्हें अपनी मौजूदा एकॉनामिक कंडीशन के बारे में बताने से पेमेंट की अवधि बढ़ाने में मदद मिल सकती है। इस तरह, आप ई.एम.आई. का दबाव कम कर सकते हैं और कम की गई ई.एम.आई. की रकम मौजूदा आय से चुका सकते हैं।

एकोमोडेटिव टर्म के साथ रीफाइनेंसिंग बेहतर विकल्प होगा

कर्जदार रिफाइनेंसिंग करा सकते हैं यानी अधिक एकोमोडेटिव या सुविधाजनक कंडीसन के साथ नए प्लान के अनुसार लोन लेना । जैसे, अनेक मामलों में, लेंडर आर्थिक रूप से वीक को-एप्लीकेंट को आर्थिक रूप से स्ट्रांग को-एप्लीकेंट से बदलने का मौका दे सकते हैं।

एक्ज़िस्टिंग असेट्स क्राइसिस से निकलने में मदद कर सकती हैं

असेट्स हमेशा फाइनेंशियल क्राइसिस से निकलने में आदमी की मदद करती हैं और लोन चुकाने में ऐसे असेट्स सचमुच बहुत कारगर होते हैं। कर्जदार अपनी असेट को गिरवी रख सकता है और यदि उसके पास किसी कंपनी के शेयर हैं तो लोन से मुक्ति पाने के लिए ऐसे शेयरों से लोन लेना एक और बेहतर विकल्प हो सकता है।

स्मार्ट बनें और लोन निपटाने की कोशिश करें

यदि आपमें अच्छे निगोसिएशन स्किल हैं तो आपके लिए लोन का बोझ कम करने का एक दूसरा उपयोगी विकल्प है लेंडर से कुल राशि में राहत पाने के लिए कम अवधि में एकमुश्त राशि का पेमेंट करना। फाइनेंस में, इस उपाय को लोन निपटाना कहते हैं और कर्जदार अपने लेंडर को समझाने के बाद इसे अंतिम विकल्प के रूप में इस्तेमाल कर सकते हैं। लेकिन इस विकल्प का लाभ लेने के लिए, आपके पास लोन खत्म करने की पर्याप्त और एकमुश्त राशि होनी चाहिए।

तुलसी का ये उपाय बना देगा आपको मालामाल, ऐसे करें प्रयोग

तुलसी के पत्ते को हिंदू धर्म में बहुत शुद्ध माना जाता है। कोई भी पूजा इसके बिना पूरी नहीं होती है। ऐसे में तुलसी के पत्ते के कुछ खास उपाय आपकी किस्मत चमका सकते हैं। तो कौन-से हैं वो टोटके और कैसे करें इनका प्रयोग आइए जानते हैं।

1.अगर आपके पर्स में पैसे नहीं टिकते हैं और हमेशा जेब खाली रहती है तो विष्णु जी के चरणों में रखी गई दो तुलसी दल अपने वॉलेट में रख लें। इससे आपके पास हमेशा पैसा बना रहेगा।
2.कहते हैं तुलसी का पत्ता पैसे को आकर्षित करता है, इसलिए इसे मां लक्ष्मी के मंत्रों से अभिमंत्रित करके अपनी तिजोरी में रख लेना चाहिए। इससे आपके घर में हमेशा धन-धान्य बना रहेगा।


3.अगर किसी व्यक्ति को व्यापार में नुकसान हो रहा हो तो गणेश जी के चरणों में रखी गई तुलसी को सफेद या लाल कपड़े में बांधकर अपनी दुकान व फैक्टरी के मेन गेट पर टांग दें। इससे बिजनेस में आ रही दिक्कतें दूर हो जाएंगी।
4.अगर घर में बरक्कत नहीं हो रही है तो तांबे के कलश में जल भरकर उसमें पांच तुलसी के पत्ते डालें। अब बजरंगबली या विष्णु जी का कोई मत्र 108 बार पढ़ें। अब इस जल को लगातार तीन दिनों तक पूरे घर में छिड़कें। ऐसा करने से नजर दोष दूर हो जाएगा।
5.जिन लोगों की किस्मत उनका साथ नहीं दे रही है तो उन्हें रोजाना सुबह नहाने के बाद तुलसी के पौधे में जल चढ़ाना चाहिए। इससे मां लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं।
6.यदि आपका कोई काम काफी समय से अटका हुआ हो और आप घर से बाहर जा रहे हैं तो अपनी जेब में तुलसी का पत्ता रख लें। इससे आपको काम में सफलता मिलेगी।

7.अगर आपके प्रेम संबंध या वैवाहिक जीवन में दिक्कतें आ रहीं हैं तो आप तुलसी के वृक्ष पर श्रृंगार का सामान चढ़ाएं। साथ ही रोजाना शाम को देसी घी का दीपक जलाएं।
8.जिन लोगों को मान-सम्मान चाहिए उन्हें तुलसी की जड़ को पीले कपड़े में लपेटकर दाएं भुजा पर बांधना चाहिए। ये प्रक्रिया आपको पुष्य नक्षत्र के दिन करनी चाहिए।
9.अगर आपका बच्चा जिद्दी है और आपकी बात नहीं मानता है तो अपने बच्चे को रोजाना तुलसी पत्ता खिलाएं। हालांकि रविवार को ये काम न करें।

इंडिया के ऐसे कानून, जिसे लोग फॉलो करना तो दूर जानते तक नहीं होंगे

आपने कई लोगों को कानून तोड़ते देखा और सुना होगा. फिर वो चाहे ट्रैफिक से जुड़े कानून हों या किसी क्राइम से जुड़े. आज हम आपको इंडिया के कुछ अटपटे और मजेदार कानूनों के बारे में बताएंगे जो आपके काम के भी हो सकते हैं और आपके अधिकार से भी जुड़े हो सकते हैं.

1.2011 में मिनिस्ट्री ऑफ़ वीमेन एंड चाइल्ड डेवलप्मेंट ने ये कानून बनाया कि एक अकेला आदमी किसी लड़की को गोद नहीं ले सकता.
2.क्या आपको पता है कि अगर आपके वाहन का दिन में एक बार किसी वजह के चलते चालान कट गया हो तो पूरे दिन दोबारा चालान नहीं होगा.


3.एक कानून के हिसाब से आपकी मर्जी हो या ना हो सरकार आपकी जमीन खरीद सकती है.
4.इंडियन लॉ की बात करें तो इंडिया में कोठों पर संबंध बनाना क़ानूनी है लेकिन इस काम के लिए दलाल बनाना गैर क़ानूनी है.
5.क्या आप जानते हैं कि फैक्ट्रीज एक्ट 1948 के तहत इंडिया में महिलाओं का रात में फैक्ट्री में काम करना कानून के खिलाफ है.


6.इंडिया में सड़क के किनारे दांत निकालना और कान साफ़ करना क़ानूनी जुर्म है.
7. सूर्य अस्त होने के बाद और सुबह सूर्योदय से पहले पुलिस किसी भी महिला को गिरफ्तार नहीं कर सकती.

फैमिली के साथ वर्ल्ड टूर करने पर मिलेंगे 72.6 लाख, 10 घंटे करना होगा यह काम

अगर आप एक प्रोफेशनल फोटोग्राफर हैं और फ्री में दुनिया घूमना चाहते हैं तो ये खबर आपके लिए है। क्योंकि, यूके का एक अमीर परिवार पूरे साल का फैमिली वेकेशन प्लान कर रहा है। इसके लिए उन्हें एक प्रोफेशनल फोटोग्राफर की जरूरत है। उस लकी फोटोग्राफर को फैमिली की ओर से बतौर सैलरी 72.6 लाख रुपए दिए जाएंगे। इसके बदले में फोटोग्राफर को फैमिली की कुछ यादगार तस्वीरें क्लिक करनी होगी।

लाडबिबल द्वारा जारी एक खबर के अनुसार, यह परिवार यूके का है। फरवरी 2019 से फोटोग्राफर की जॉब शुरू होगी, जो साल खत्म होने तक जारी रहेगी। इसके लिए फैमिली की ओर से बकायदा एक कॉन्ट्रैक्ट भी बनवाया गया है। वेकेशन के दौरान फोटोग्राफर को खाने और रहने सहित अन्य जरूरी सुविधाएं दी जाएगी।

इस तरह का फोटोग्राफर चाहती है फैमिली

अपने इस लॉन्ग वेकेशन के लिए फैमिली को एक ऐसे फोटोग्राफर की तलाश है, जो उनके साथ अबू धाबी, मोनाको, न्यू ऑरलियन्स स्थित मार्डी ग्रास और मालदीव सहित अन्य जगहों पर जा सके। इस पूरी यात्रा के दौरान फोटोग्राफर को सिर्फ परिवार की शानदार तस्वीरें लेनी होगी।

दिन में 10 घंटे करना होगा काम

फैमिली के साथ वेकेशन पर गए फोटोग्राफर को एक दिन में 10 घंटे ही काम करना होगा। इस दौरान उसे फैमिली मेंबर्स की अलग-अलग लोकेशन पर कैंडिड सहित सभी तरह की फोटो क्लिक करनी होगी।

फैमिली रखेगी आपका ध्यान

जानकारी के अनुसार, ये परिवार महीनों तक वेकेशन मनाने की प्लानिंग कर रहा है। फैमिली का हर मेंबर अपने इस वेकेशन का यादगार बनाना चाह रहा है। इसलिए इस फैमिली ने अपने साथ एक प्रोफेशनल कैमरा पर्सन ले जाने की योजना बनाई है। फैमिली के साथ ट्रैवल करने को तैयार फोटोग्राफर आवेदन कर सकते हैं।

स्पेशल पैकेज भी है शामिल

ऐसा नहीं है कि फैमिली ने साथ ले जाने वाले फोटोग्राफर के बारे में कुछ सोचा या प्लान न किया हो। फैमिली की ओर से एक कॉन्ट्रैक्ट बनवाया जाएगा। इसमें आपकी बीमारी, छुट्टियां और 12 महीने साथ रहने सहित अन्य अनुबंधों को भी विस्तार से लिखा गया है।

गौशाला से भी आप कमा सकते हैं लाखों रुपए, जाने क्या है पूरी प्रक्रिया

एक गौशाला से भी आप लाखों रुपए कमा सकते हैं और इसे सच कर दिखाया है राजस्थान के श्री गोपाल गौशाला ने। श्री गोपाल गौशाला झुंझुनू शेखावाटी क्षेत्र की प्राचीनतम गौशाला है। यह गौशाला राजस्थान के शेखावाटी अंचल की राणी सती दादी की नगरी झुंझुन मे स्थित है, जिसकी स्थापना लगभग 110 वर्ष पहले हुई थी।

वर्तमान में गौशाला में 1258 गायें हैं। गौशाला में 25 कर्मचारी है जो सेवा भाव से कार्य मे लगे रहते हैं। चौंकाने वाली बात यह है कि इस गौशाला ने साल 2017-18 में 3.5 करोड़ रुपए के राजस्व के साथ 50 लाख रुपए की कमाई की।

गौशाला में गायों के लिए खरीदा जाता है 20 मिलियन रुपए का चारा

आपको बता दें कि इसमें से 110 लाख राजस्व सिर्फ दूध बेचने और खाद से आता है। इसके साथ ही केंद्र सरकार से इस गौशला को 83 लाख रुपए का अनुदान दिया जाता है। इसके साथ ही गौशाला में गायों के लिए 200 लाख रुपए का चारा खरीदा जाता है जबकि हर साल गायों के लिए नया घर बनाने के लिए 20 लाख रुपए खर्च किए जाते हैं।

गायों के लिए खरीदा जाता है 11 किलो चारा

बात की जाए तो गौशाला के अंदर सभी काम अपने समय से किए जाते हैं ताकि गायों की सेहत अच्छी बने रहे। गौशाला के अंदर 2 किलोमीटर तक फैले 2 वेयरहाउस हैं। यह इतने बड़े हैं कि इसमें कोई एयरक्राफ्ट आसानी से आ सकता है। इस वेयरहाउस में गायों का चारा नरखा हुआ है। गौशाला के ही एक कर्मी ने बताया कि हम गायों के लिए चारा काफी देख-परख कर खरीदते हैं और ध्यान रखते हैं कि उसमें कोई धूल और मिट्‌टी ना हो।

उन्होंने यह भी बताया कि वह किसानों से 11 किलो चारा खरीदते हैं जिससे 3 महीनों तक गायों का पेट भरा जा सकता है। चारे के अलावा गायों को भुट्‌टा और सरसों भी खिलाया जाता है जिससे उनका पोषण होता है। यह उन्हें खाना खिलाने के बाद खिलाया जाता है।

दिल्ली से बुलाया जाता है जानवरों के डॉक्टर को

उन्होंने यह भी बताया कि जब भी कोई गाय बीमार पड़ती है तो उसे देखने के लिए दिल्ली से जानवरों के डॉक्टर को बुलाया जाता है जिसे हर दौरे के 6 हजार रुपए दिए जाते हैं। इसके साथ ही गायों के बच्चों के लिए एक अलग जगह बनाई गई है। राय ने बताया कि हर साल गौशाला में 120 नए बच्चे जन्म लेते हैं।

इसी के साथ ही राय ने यह भी बताया कि सभी गायों का दूध स्टाफ द्वारा ही निकाला जाता है इसके लए किसी मशीन का इस्तेमाल नहीं किया जाता। प्रतिदिन गायों से 600 लीटर दूध निकाला जाता है जिसके बाद इस दूध को शहरों के पास मौजूद सभी डेयरी में भेजा जाता है।

यहां 3 घंटे हुर्इ पैसे की बारिश, लोगों ने लूट लिए 1 लाख 20 हजार रुपए

अगर आप एटीएम में पैसे निकालने जाएं और आपके द्वारा भरा गया अमाउंट से डबल-ट्रिपल होकर पैसे निकलने लगें तो आप मारे खुशी के फूले नहीं समाएंगे। जिस भी व्यक्ति ने इस एटीएम में 100 या 500 रुपए निकालने के लिए बटन दबाया, उसके डबल-ट्रिपल रुपए निकलने लगे। यह सूचना जैसे ही फैली लोग एटीएम से पैसे निकालने दौड़ पड़े।

दरअसल, ये पूरा मामला मध्यप्रदेश के अलीराजपुर जिले के आमला लाइन स्थित बैंक ऑफ इंडिया के एटीएम का है। जहां कैश डालने में हुई गड़बड़ी का लोगों ने जमकर फायदा उठाया। हालांकि इसकी सूचना जैसे ही कैश डालने वाली एजेंसी को मिली उसने मशीन बंद करवा दी। देखते ही देखते एटीएम से 98 लोगों ने लगभग 1 लाख 20 हजार से ज्यादा रुपए निकला लिए।

कैश डालने में हुई गड़बड़ी के चलते मशीन से 100 की जगह 500 के नोट निकलने लगे। वहीं एजेंसी के अफसरों ने अब ज्यादा कैश निकालने वाले लोगों से व्यक्तिगत तौर पर संपर्क करना शुरू किया और पैसे लौटाने का आग्रह कर रहे हैं। वहीं कई लोगों से फोन के जरिए संपर्क करने की कोशिश की जा रही है।

बैंक ऑफ इंडिया के एटीएम में 100 की कैसेट में 500 के नोट डालने में हुई गड़बड़ी को लेकर इंदौर की लॉजी केयर कंपनी कस्टडीयन एजेंसी के कर्मचारी विशान ने बताया कि 7 दिसंबर की दोपहर 12.30 बजे हमने एटीएम में कैश लोड किया था, लेकिन इस दौरान गलती से 100 की कैसेट में 500 के नोट लोड हो गए। जिसके चलते एटीएम से 100 की जगह पर 500 के नोट निकलने लगे।

इस मामले की जानकारी हमें दोपहर 3.30 पर मिली। जिसके बाद हमने मशीन बंद कर दी और कैसेट से नोट बदले। हमने ऐसे 6-7 लोगों से संपर्क करने की कोशिश की है, जिन्होंने एटीएम से सबसे ज्यादा पैसे निकाले हैं।

हालांकि इस घटना के बाद बैंक की तरफ से अभी कोई बयान नहीं आया है। साथ ही एक बात भी साफ कही जा सकती है कि तकनीक पर आंख मूंदकर भरोसा पूरे मनोयोग से ही करना चाहिए। वरना मशीनें भी धोखा देने लगती हैं।